Top household products to avoid that causes cancer at home – श्रेष्ठ गृहस्थी उत्पादों से बचे जो कैंसर का कारण है

बहुत से रोजाना घर साफ़ पदार्थ उपयोग करने वाले जैसे की एयर फ्रेशनर (air fresheners), कुकवेयर (cookware) पदार्थ, इन सब में कार्सिनोजेन (carcinogens) जैसे फोर्मल्देह्यदे (formaldehyde), मेथ्लेने क्लोराइड (methylene chloride), नित्रोबेंज़ेने (nitrobenzene) और नेफ़थलीन (naphthalene) है।

इनमे विषाक्त पदार्थ और हॉर्मोन को असंतुलित करने वाले पदार्थ भी होते है। यह सब स्वास्थय के लिए हानिकारक है और कैंसर का कारण है। नीचे दिए गए पदार्थो से बचे क्यूंकि इनके कारण कैंसर बनता है।

  1. कैंसर से बचाव के तरीके – कुकवेयर (Cookware) – हम हमारे घर में ज्यादातर खाना कुकवेयर पदार्थ जैसे तवे और कड़ाई में बनाते है । इन सभी पदार्थो में नॉन स्टिक कोटिंग (nonstick coating) जैसे टेफ़लोन (Teflon) होता है। नॉन स्टिककोटेड पदार्थ में कैंसर उत्पन्न करने वाले केमिकल होते है और यह केमिकल खाना बनते समय खाने में मिल जाते है। इसलिए कोई भी नॉन स्टिक पदार्थो का प्रयोग ना करें जिन्मे आपको 300 डिग्री की आंच में खाना पकाना हो। और इनका प्रयोग बंद कर दें जब इनकी कोटिंग उतरने लगें। कैंसर के उपाय, इनसे अच्छा लाभ ग्लास, सिरेमिक, ताम्बा (copper) और आयरन के पदार्थ उपयोग करने में है।
  2. कैंसर से बचने के उपाय – एयर रेफ्रेश्नेर (Air refreshers) – एयर रेफ्रेश्नेर में नेफ़थलीन (naphthalene) और फोर्मल्देह्यदे (formaldehyde) पदार्थ होते है। एयर रेफ्रेश्नेर से आपको कैंसर जैसे समस्या हो सकती है और आपके चाहने वालो को यह बांझपन, ब्रेन से सम्बंधित समस्या और चिरकाल के लिए बीमार कर सकती है। बेहतर होगा फ्तालातेस (phthalates) सम्बंधित एयर फ्रेशनर से बचे, यह पुरुष होरमोन को भी दिक्कत पहुँचा सकते है। एयर रेफ्रेहेर में कैंसर पैदा करने वाले वोलेटाइल ओरागानिक कंपाउंड्स (volatile organic compounds) होते है जो आपके श्वसन (respiration), प्रजनन (reproduction) और सेलुलर उत्थान (cellular regeneration) को दिक्कत पहुँचा सकते है।
  3. वोलेटाइल ओरागानिक कंपाउंड्स (VOC) – पदार्थ जो वोलेटाइल ओरागानिक कंपाउंड्स से बने होते है वो ज्यादातर कैंसर उत्पन्न करते है। पदार्थ जिन्मे वोलेटाइल ओरागानिक कंपाउंड्स पाए जाते है – पेंट, मोम (waxes), वार्निश (varnishes), कीटनाशक (pesticides), अक्क़ुएर कोटेड (acquer coated), बिल्डिंग के पदार्थ, फर्नीचर और अन्य सफाई के पदार्थ। यह सब पदार्थ कैंसर बनाते है।
  4. कार्सिनोजेन (Carcinogens)– इपोक्सी (Epoxy), अर्क्र्यलिक पेंट (acrylic paints), रबर सीमेंट ग्लू (rubber cement glues), सॉल्वैंट्स (solvents) और परमानेंट मार्कर्स (permanent markers) में कार्सिनोजेन पाए जाते है। यह कार्सिनोजेन सेहत के लिए हानिकारक है।
  5. त्वचा के पाउडर (Skin powders)– कुछ तालक (talc) पाउडर में कार्सिनोजेन होते है, जिन से ओवेरियन कैंसर (ovarian cancer) हो सकता है और इनसे फेफड़ों को भी दिक्कत हो सकती है।
  6. कैंसर से बचने के तरीके – पेंट (Paints) – इस पदार्थ में मेथ्लेने क्लोराइड (methylene chloride) है और यही कैंसर की वजह है। यह ज्यादातर पेंट स्प्रे (paint spray), पेंट स्ट्रिपर्स (paint strippers), पेंट रिमूवर (paint removers) और एयरोसोल (aerosol) में पाए जाते है।
  7. राडोण (Radon) – राडोण एक ऐसी गैस है जिसका कोई रंग, स्वाद और गंध नहीं होता। यह एक रदिअक्तिवे गैस है, जो पत्थर, मिट्टी और अन्य से प्राप्त होती है। यह बहुत ही हानिकारक मानी जाती है क्योंकि इसमें मौजूद राडोण कैंसर बनाता है। पानी जो साफ़ नहीं है, इसमें भी राडोण हो सकता है।
  8. ऑटोमोटिव आपूर्तिकर्ताओं (Automotive suppliers)– ऑटोमोटिव आपूर्तिकर्ताओं विषाक्त पदार्थो से भरपूर है। इन्हें अपने घर से दूर रखें। इनमे मौजूद केमिकल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इनसे बहुत सी बीमारियाँ हो सकती है।
  9. क्रत्रिम शुगर और मिठास (Artificial sugars and sweeteners) – उन खानों से बचे जो क्रत्रिम मिठास के प्रयोग से बनी है। इनसे कैंसर और जनम दोष भी हो सकता है। यह क्रत्रिम शुगा और मिठास (artificial sweeteners and sugars) के पदार्थ हमारे शरीर को असिदिफ़ाइड (acidified) करते है जिन से कैंसर के सेल्स उत्पन्न होते है।
  10. कैसे बचे कैंसर से – क्रत्रिम मोमबत्ती (Artificial candles) – पैराफिन (paraffin) मोमबत्ती से दूर रहे इनमे क्रत्रिम पदार्थ होते है। इनसे अच्छा आप मधुमोम (beeswax) सहित कॉटन बाती का उपयोग करें। ज्यादातर मोम विषाक्त है। खुशबूदार मोम की बाती में लैड वायरिंग होती है, जो की एक केमिकल है जो जलने पर बहार निकलता है। इस केमिकल से स्वास्थ्य सम्बंधित बीमारियाँ हो सकती है जैसे हार्मोनल असंतुलन और अन्य शाररीक विकार। ज्यादातर मोमबत्ती पैराफिन मोम से बनती है, जो जलने पर खतरनाक केमिकल जैसे बेंज़ीन (benzene) और तौलीन (toluene) जैसे पदार्थ फैलाती है। जो दोनों भी कार्सिनोजेनिक (carcinogenic) है। और यह केमिकल हवा में फैलकर हमारे फेफड़ों को नुक्सान पहुँचाती है।
  11. बिना धोएँ फल (Fruits without rinse – cancer se bachne ke upay) – हमे पता है की सेब (apples), सूखे मेवे (dry fruits), स्ट्रोबरी (strawberries), जामुन (blackberries), संतरा (oranges), अंगूर (grapes) और अन्य फल में प्रोटीन और पौष्टिक तत्व भरपूर है। लेकिन यह फल पर लगें कीटनाशक (pesticides) आपके शरीर में कैंसर उत्पन्न कर सकते है।
  12. ड्राई क्लीनिंग (Dry cleaning) – जब आप अपने कपड़ो को ड्राई क्लेअनींग के लिए देते है तो उनसे कहिये की वो पर्क्लोरेथ्य्लीन (perchlorethylene) या वेट क्लीनिंग का प्रयोग ना करें। इनकी बजाय साइट्रस जूस (citrus juice) क्लेंसेर और लिक़ुइदे सीओ 2 (liquid co2) को अपनाए। यह बहुत ही ज्यादा केमिकल से भरपूर पदार्थ है जो कैंसर उत्पन्न करती है।
  13. माइक्रोवेव्स (Microwaves – cancer se kaise bache) – अगर आप माइक्रोवेव का प्रयोग खाने को गरम करने में करते है तो प्लास्टिक पदार्थो का उपयोग ना करें, क्योंकि इनसे कैंसर उत्पन्न करने वाले केमिकल बाहर निकलते है। माइक्रोवेव का खाना सेहत के लिए हानिकारक है इसलिए बेहतर होगा की माइक्रोवेव का खाना अच्छी सेहत के लिए बंद कर दिया जाए।
  14. गृहस्थी क्लेंसेर्स (Household cleaners) – गृहस्थी क्लेंसेर सालो से उपयोग किया जा रहा है, हम सबको यह नहीं पता की इनमे कितने हानिकारक केमिकल होते है जो हमारी सेहत को अस्वस्थ बनाते है। इनसे अस्थमा (asthma), कैंसर और मस्तिष्क संबंधी विकार उपलब्ध होते है। बहुत से क्लेंसेर और ज्यादातर डिटर्जेंट में विषाक्त पदार्थ जैसे की दिएथनोलमाइन (Diethanolamine), एसीटोन (Acetone), मेथ्य्लीन क्लोराइड (methylene chloride), एथोक्स्य्लेतेद नोन्य्ल फिनॉल (ethoxylated nonyl phenol) पाए जाते है। आप गृहस्थी क्लेंसेर को प्राकृतिक पदार्थ से बदल सकती है जैसे की बेकिंग सोडा (baking soda), हाइड्रोजन पेरोक्साइड (hydrogen peroxide) और सफ़ेद विनेगर (white vinegar)।
  15. डिओडोरेंट जो एंटी पेर्स्पिरंत है (Deodrant that is antiperspirant) – बहुत से व्यक्ति डिओडोरेंट का उपयोग करते है अपने शरीर की दुर्गन्ध को दूर करने के लिए और साथ ही कांख (armpit) से पसीने से छुटकारा पाने के लिए। पसीने को ना आने देने वाले डिओडोरेंट हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, इसमें केमिकल जैसे अलुमिनियम कार्बोहायड्रेट (aluminum chlorohydrate) पदार्थ मौजूद है जो त्वचा के अंदर समा जाते है। इनसे आपको स्तन कैंसर (breast cancer) हो सकता है और माना जाता है की ब्रेन (brain) सम्बंधित बिमारी जैसे अल्झाइमर (Alzheimer’s) भी हो सकता है। डिओडोरेंट में परबेंस (parabens) होते है। परबेंस एक क्रत्रिम (artificial) पदार्थ है जो शरीर में एस्ट्रोजन (estrogen) को बढ़ाते है। जिस से कैंसर के सेल्स बढ़ते है। परबेंस से बिमारी जैसे जठरांत्र क्षति (gastrointestinal damage), मिचली (nausea) और केंद्रीय स्नायुतंत्र डिप्रेशन (central nervous system depression) होते है।
  1. शैम्पू और कंडीशनर (Shampoos and conditioners) – ज्यादातर कोस्मेटिक पदार्थ विषाक्त होते है। शैम्पू और कंडीशनर में सोडियम लौर्य्ल सल्फेट (sodium lauryl sulfate) होता है, जो कैंसर उत्पन्न करने योग्य है। इनमे ओर भी कार्सिनोजेनिक पदार्थ होते है जैसे की पोल्येथ्य्लीन ग्लाइकोल (polyethylene glycol) और कोकामाइड (cocamide) DEA। इसलिए बेहतर होगा की पर्यावरण के अनुकूल (eco- friendly) शैम्पू का प्रयोग करें जो मार्किट में उपलब्ध है।
loading...