Best home remedies for lupus in Hindi – चर्मक्षय (लूपस) के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचार

चर्मक्षय के उपचार को जानने से पहले यह जानना आवश्यक है कि चर्मक्षय क्या है? चर्मक्षय त्वचा पर अल्सर रोग है। यह मूल रूप से दीर्घ ऑटो इम्यून रोक का प्रकार है जो व्यक्तियों के संयोजी उत्तकों पर हमला करते दिखायी पड़ते हैं। यह रोग आपकी त्वचा पर सूजन, गंभीर क्षति और अन्य संक्रमणों का कारण बन सकता है।

जो महिलायें 30 साल की उम्र पार कर चुकी है वे इससे अधिक ग्रसित हैं। उम्र के 40 साल पार कर चुकी महिलाओं में यह विशेष प्रकार रोग पाया जाता है। इस बीमारी के पीछे आनुवंशिक कारक भी कारण हो सकते हैं। रोग के अन्य कारणों में विभिन्न दवाओं के साइड इफेक्ट, अल्ट्रा वायलेट किरणों का जोखिम, अव्यक्त वायरल संक्रमण हो सकते हैं।

आपने ऐसे कई रोगों के बारे में सुना होगा जिनमें एक व्यक्ति अपनी रोज़ाना की ज़िन्दगी में कष्ट और पीड़ा से गुज़रता है। चर्मक्षय भी एक ऐसा ही रोग है, जिसका मुख्य उद्देश्य आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाना होता है। इस बीमारी के बाद आप अपने चेहरे पर लालपन और सूजन का अहसास कर सकते हैं।

इस बीमारी के होने से आपके चेहरे पर काफी बुरा असर पड़ता है और जब आप खुद को इस तरह आईने में देखते हैं, तो आपका खुद से नफरत होना और दुखी हो जाना काफी स्वाभाविक है। अगर आप अपने चेहरे की सही तरह से देखभाल नहीं करेंगे, तो इस बीमारी के फलस्वरूप आपका खूबसूरत चेहरा पूरी तरह खराब हो सकता है। आप ऐसे कुछ घरेलू नुस्खों और बचाव उपायों का प्रयोग कर सकते हैं, जिनकी मदद से चर्मक्षय के संक्रमण से आपको काफी मात्रा में राहत मिलती है।

यह मानव शरीर की एक शारीरिक स्थिति जिसमें व्यक्ति की केवल त्वचा शामिल है। एसएलई की तुलना में, चर्मक्षय कम गंभीर है। चर्मक्षय से पीड़ित (Lupus Ke Lakshan) लोगों के जोड़ों, फेफड़े, रक्त वाहिकाओं, नसों, आंखों के साथ ही व्यक्ति के गुर्दे प्रभावित होंगे।

इस रोग के अन्य रूप हैं त्वचा चकत्ते, रक्त गिनती में असामान्यताओं के साथ जोड़ों में दर्द। आप चहचहाट, खुजली के साथ शरीर के विभिन्न अंगों पर सूर्य की रोशनी पड़ने पर लाल हो जाता है। गर्मियों के महीनों के आने पर चकत्ते और अधिक प्रभावी हो जाएगा।

आप कई प्रकार के उपचारों को प्राप्त कर सकते हैं जो व्यक्तियों के चर्मक्षय का उपचार करता है। घरेलू उपचार सभी प्रकार के साइड इफेक्ट से मुक्त है।

जोड़ों के दर्द से छुटकारा कैसे पायें

लूपस के उपचार – चर्मक्षय के इलाज के लिए घरेलू उपचार (Home remedies for treating lupus)

  • आप उन जड़ी बूटियों के अर्क को प्रयोग कर सकते हैं जो सूजन विरोधी है। देवदार की छाल का अर्क एक प्रभावी औषधि है जो चर्मक्षय को रोकता है।
  • अंगूर के बीज के अर्क का 50 मिलीग्राम की मात्रा में सेवन किया जा सकता है। यदि आप एक दिन में इसे दो बार का उपभोग कर सकते हैं, तो चर्मक्षय का इलाज बहुत आसानी से हो जाएगा।
  • घर पर हल्दी आसानी से उपलब्ध होती है यह एक एंटीसेप्टिक तत्व के रूप में प्रयोग किया जाता है और नियमित रूप से विभिन्न भोजन के माध्यम के रूप में उपभोग हो सकता है।
  • प्रकृति में उपलब्ध एक अन्य प्रकार की जड़ी बूटी है जिसे रैशी मशरूम के नाम से जाना जाता है। यह अद्भुत जड़ी है जो एक दिन में तीन बार 1 ग्राम की मात्रा में ली जा सकती है।

लूपस के इलाज – चर्मक्षय के उपचार के लिए आहार (Diets for treating Lupus)

आपको अपने आहर पर भी विशेष ध्यान देना चाहिये, जब आप चर्मक्षय नामक बिमारी से पीड़ित है। आपके लिये आहार उत्पाद जैसे मांस का उपभोग आदर्श नहीं होगा। ऐसे खाद्य पदार्थ जो संतृप्त वसा से भरे है उनसे बचें। कम कैलोरी आहार और बहुत सारी पत्तीदार सब्जियां आपके स्वास्थ्य के लिये लाभकारी हैं।

टिनीटिस के कारण, लक्षण एवं उपचार

वे खाद्य पदार्थ जो आप खा सकते हैं: मछली, हरे रूप में और उबाली हुई हरी पत्तीदार सब्जियां, सामन, सार्डीन आदि। हर समय स्वस्थ और फिट रहने के लिये आवश्यक है कि आप प्रतिदिन 8 गिलास पानी पियें। आप खाद्य संवेदनशीलता की ओर भी ध्यान दे सकते हैं जो रोग को कमजोर करने में उचित होगा। गेंहूं के साथ साथ चॉकलेट जलन को कम करने में उचित होगा।

इस सम्बंध में जिन खाद्यों से बचने की जरूरत है उनमें शामिल हैं अल्फाल्फा अंकुर, बीज। इनसे अवश्य बचना चाहिये क्योंकि इसमें प्रतिरक्षा यौगिक शामिल होते हैं जो सम्भव है कि प्रोटीन चयापचय के साथ हस्तक्षेप करे। ऑर्गॉन हेल्थ साइंस यूनीवर्सिटी में तैनात शोधकर्ताओं के अनुसार, बंदरों के एक समूह को अल्फाल्फा के बीज खाते हुए पाया गया। वे वास्तवकिता में चर्मक्षय जैसे संक्रमण से ग्रसित थे, वो भी सिर्फ 6 महीने की समयावधि में। चूंकि मानव भी एप्स और बंदर परिवार का सदस्य है इसलीये ठीक यही परिणाम मानवों को भी मिलेंगे।

अगर आपको चर्मक्षय संक्रमण होने का जोखिम है तो आपको रात्रि छाया पौधों के परिवार से बचने की जरूरत है। जैसे काली मिर्च, टमाटर आदि आपके की सलाह दी जाती है। आपको अपने आहार में विभिन्न प्रकार के पशु वसा से बचना चाहिये सूरजमुखी का तेल, ओमेगा 6 तेल के साथ कुसुम। चूंकि ये सूजन को प्रोत्साहित करते है, इसलिये इनसे बचना एक अच्छा विचार है।

चर्मक्षय दूर करने के घरेलू नुस्खे (Best home remedies for lupus)

सूरज से बचाव करें (Protection from sun)

अगर आप सूरज की किरणों के अतिरिक्त संपर्क में आते हैं तो इससे चर्मक्षय का रंग काफी गंभीर रूप धारण कर लेता है। यह वह समय है जब आपको अपनी त्वचा पर सुरक्षा कवच का प्रयोग करना चाहिए। आपको ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जो आपके शरीर के ज़्यादातर भागों को ढक सके। अगर आप सूरज की किरणों से बचाव के उपाय करने में सफल हो जाते हैं तो इससे चर्मक्षय का प्रभाव काफी कम हो जाता है। चर्मक्षय के रोग से बचाव करने के लिए सनस्क्रीन लोशन (sunscreen lotion) काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

घरेलू उपचार के साथ जुकाम का इलाज कैसे करें?

चर्मक्षय ठीक करने के लिए अदरक का उपचार (Ginger remedy for lupus)

चर्मक्षय की समस्या से दूर रहने के लिए आपको अदरक नामक काफी उपयोगी तत्व के गुणों को काम में लाना चाहिए। इसमें जलनरोधी गुण और एंटीऑक्सीडेंट (anti oxidants) भी होते हैं, जो आपकी त्वचा के स्वरुप को बेहतर बनाने का कार्य करते हैं। आप अदरक का कई तरह से प्रयोग कर सकते हैं। आप इसका प्रयोग अपने खाद्य पदार्थों में मसाले की तरह कर सकते हैं। दूसरी तरफ आप अदरक को पीसकर इसका रस भी निकाल सकते हैं। अब इस रस में एक चुटकी नमक मिश्रित करके इसका सेवन करें।

विटामिन डी (Vitamin D)

क्योंकि चर्मक्षय की बीमारी आपकी त्वचा से सम्बंधित होती है, अतः विटामिन डी इस लिहाज से आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। आपको विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों जैसे दूध, अनाज, टोफू (tofu) आदि का काफी मात्रा में सेवन करना चाहिए। मशरुम (mushrooms), अंडे का पीला भाग और साल्मन (salmon) ऐसे खाद्य पदार्थ होते हैं, जो इस स्थिति में आपके लिए काफी लाभदायक साबित होते हैं। आप पौधों और जानवरों से प्राप्त विटामिन का सेवन करके भी चर्मक्षय की समस्या से दूर रह सकते हैं। अगर आप नियमित रूप से इन खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करते हैं तो विटामिन डी 3 के पूरक उत्पादों का सेवन करना इस स्थिति में काफी बेहतर साबित होगा।