How to delay your periods naturally in Hindi? – नैचुरल तरीके से करें पीरियड्स में देरी, मासिक धर्म को टालने के घरेलू उपाय

मासिक धर्म (menstruation) एक प्राकृतिक घटना है जिसका अनुभव 12 से 50 वर्ष की महिलाओं को प्रत्येक माह होता है। मासिक धर्म की यह अवस्था महिलाओं को पुरुषों से भिन्न बनाती है पर पीरियड्स के इस मासिक चक्र के दौरान प्रत्येक महिला भिन्न भिन्न तरह अहसासों, दर्द और अनेक तरह की अलग अलग परेशानियों से गुज़रती हैं।

यहाँ तक की इस दौरान महिलाओं को धार्मिक स्थलों में प्रवेश करने की मनाही होती है और ऐसे ही कुछ मौकों पर महिलाएं अपने पीरियड्स में देरी (periods me deri) चाहतीं हैं और मासिक धर्म देरी के लिए दवाओं तथा हॉर्मोनल गोलियों का सहारा लेती हैं। सिंथेटिक पील्स और हॉर्मोनल गोलियां असर तो करती हैं पर इनका शरीर पर दुष्प्रभाव भी होता है इसीलिए मासिक धर्म को देर से लाने के लिए प्राकृतिक उपचारों का प्रयोग ही बेहतर होता है।

हर महिला में मासिक धर्म देरी  या जल्दी आने के विभिन्न कारण हो सकते हैं। मासिक धर्म के दौरान किसी महिला को किसी धार्मिक उत्सव में उपस्थित होन की अनुमति नहीं मिलती, यहाँ तक किसी महिला की अपनी ही शादी के दौरान पीरियड्स के दिनों से गुजर रही हो तो उसे कुछ खास रस्मों के लिए अयोग्य मान लिया जाता है।

मासिक धर्म को देर से लाने के लिए कुछ प्राकृतिक और कृत्रिम उपाय भी हैं, पर ये कृत्रिम उपाय सुरक्षित नहीं होते और शरीर के होर्मोंस पर उसका बुरा प्रभव पड़ता है, इसीलिए इस आर्टिकल में हम ने मासिक धर्म में देरी के लिए प्राकृतिक उपायों के बारे में जानकारी दी है।

प्राकृतिक तरीके से पीरियड्स में देरी करने के उपाय (Natural remedies for postpone menstruation)

मुलैठी की जड़ (Licorice Root)

योनी की शुष्कता के लिए घरेलू उपचार

लेट पीरियड करवाने के लिए एक और घरेलू नुस्खा है। पारम्परिक रूप से इसका प्रयोग मुंह के छालों को ठीक करने के लिए किया जाता है, परन्तु अब इसे मासिक धर्म में देरी करवाने के बेहतरीन उपाय के रूप में भी जाना जाता है। इसमें कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो गर्भाशय में मरोड़ पैदा करते हैं जिसके फलस्वरूप मासिक धर्म देरी से होता है। इस उपचार के लिए मुलैठी की सम्पूर्ण जड़ या पाउडर का प्रयोग करें। पाउडर का प्रयोग करते समय इसे एक गिलास गर्म पानी में मिश्रित करके पी  लें। यदि आप जड़ का प्रयोग कर रहे हैं तो इसे  2 कप पानी में उबाल लें। इसे 15 मिनट तक उबालते रहें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए। अब इस पानी को छानकर इसका सेवन कर लें। इस विधि का पालन अपने मासिक धर्म की तिथि से ठीक 5 दिन पहले करें।

धनिया (Coriander Seed)

यह बीज हर भारतीय घर में पाया जाता है। यह ना सिर्फ सब्ज़ियों को नया स्वाद प्रदान करता है, बल्कि आपके पीरियड्स में देरी करवाता हे है। धनिये में हॉर्मोन्स (hormones) को नियंत्रित करने के गुण होते हैं जिसके फलस्वरूप आपके मासिक धर्म में देरी होती है। इस विधि का प्रयोग करने के लिए 2 कप पानी में करीब 20 ग्राम धनिये के बीज लें। इसे 10 मिनट तक उबालते रहें जिससे पानी की मात्रा आधी रह जाए। अपनी मासिक धर्म की तिथि को टालने के लिए इस पानी का सेवन अपने मासिक धर्म शुरू होने से दो हफ्ते पहले तक हर दिन करें।

अंजीर (Fig)

अंजीर आपके शरीर के हॉर्मोन के स्तर को नियंत्रित कर सकता है और कुछ दिनों के लिए आपका मासिक धर्म देरी करता है। इस विधि के प्रयोग के लिए एक मुट्ठीभर अंजीर की पत्तियां एवं 2 कप पानी लें। पत्तियों को पानी में डालकर 10 मिनट के लिए उबाल लें एवं और 10 अतिरिक्त मिनट तक इसे भिगोये रखें। इस पानी को छानकर अपनी मासिक धर्म की असल तिथि से कुछ दिनों पहले तक दिन में तीन बार पिएं।

 मसालेदार भोजन का इस्तेमाल ना करें (Remove spicy food)

मसाले शरीर में जाकर रक्त के प्रवाह को तेज़ कर देते हैं जिससे मासिक धर्म और भी जल्दी आ जाते हैं। तो अगर आप पीरियड्स में देरी करता चाहती हैं तो मसालेदार चीजों को अपने आहार से हटा दें साथ ही मिर्च या तीखी चीजों जैसे मिर्च, अदरक, लहसुन, कालीमिर्च आदि का प्रयोग बंद कर दें।

 जड़ी बूटियाँ (Herbs)

मिसकैरेज के लिए क्या कारण हैं? गर्भपात से कैसे बचा जाए?

अगर आप कुछ दिनों पीरियड्स में देरी चाहती हैं या कुछ दिनों के लिए माहवारी रोकने के उपाय (Maahvari rokne ke upay) खोज रही हैं तो आपको जड़ी बूटियों के सुरक्षित तरीके का प्रयोग करना चाहिए। यारो टिंचर (yarrow tinctures) इसे हिन्दी में गंडना (gandana) भी कहते हैं कि प्रयोग हमारे आयुर्वेद के अनुसार मासिक धर्म को टालने के लिए किया जाता है। इसके अलावा शेफ़र्ड्स पार्स (shepherd’s purse) भी पीरियड्स में देरी के लिए फायदेमंद है, इसका हिन्दी नाम पत्थर सुवा (patthar suva) है। आयुर्वेद में पिछले कई वर्षों से रक्त स्त्राव को कम करने के लिए इन जड़ी बूटियों का प्रयोग किया जाता रहा है। बवासीर (Piles) के उपचार के लिए भी गंडना का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा इन औषधियों का प्रयोग सर्दी, बुखार और मासिक धर्म से संबन्धित परेशानियों के इलाज में भी किया जाता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,883 other subscribers

व्यायाम  (exercise)

तनाव (stress) और भावनात्मक पक्ष भी मासिक धर्म के समय से पहले आने के लिए जिम्मेदार होता है। इन मानसिक तनावों को नियमित एक्सरसाइज़ (exercise) द्वारा कम किया जा सकता है। रोज़ नियमित रूप से की जाने वाली एक्सरसाइज़ शरीर के साथ आपके दिमाग को भी स्वस्थ रखती है।इससे मासिक धर्म देरी होता हे।

चने की दाल (Gram lentils)

लेट पीरियड के लिए कुछ खास तरह के भोजन और आहार से महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बाज़ार से चने की दाल लेकर आयें और इसे अपने आहार में रोज़ इस्तेमाल करें, तब तक, जब तक की आपको अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाना चाहती हैं। चने की दाल का सेवन आपके मासिक धर्म चक्र को और कुछ दिन आगे बढ़ा देता है।

 नियमित रूप से पर्याप्त पानी पीना (Drinking adequate water regular)

आप पर्याप्त पानी पीती होगी, पर क्या आप इसे नियमित रूप से लेती हैं? कुछ महिलाओं की यह आदत होती है की वे पानी पीने से बचती रहती हैं पर यह एक बहुत ही बुरी आदत है जो मासिक धर्म में परेशानियों के साथ शरीर में अन्य तरह की बीमारियों को भी बढ़ावा देती है। अपने पीरियड्स को नियमित रखने के लिए उचित मात्रा में नियमित रूप से पानी पियें।

 अत्यधिक तनाव से बचें (Control over stress)

मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं और शरीर पर तनाव का बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। अक्सर अत्यधिक तनाव की अवस्था में भी मासिक धर्म जल्दी जल्दी होने लगते हैं, तनाव से बचाने के लिए आँखें बंद कर लंबी गहरी साँसे लीजिये, और शांति महसूस करते हुये साँसे बाहर छोड़िए। अपने तनाव पर नियंत्रण रख कर भी आप अपने मासिक धर्म चक्र में देरी कर सकती हैं।

 विनेगर (Vinegar )

घरेलू नुस्खे को अपनाएं और हार्मोनल असंतुलन से छुटकारा पाएँ

एक निश्चित समय तक के लिए माहवारी बंद करने के उपाय (mahvari band karne ke upay) में विनेगर की मदद से पीरियड्स को कुछ दिनों के लिए टाला जा सकता है जब तक की आपको अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाना चाहती हैं। इसके लिए आपको एक गिलास में पीने का पानी लेना होगा। अब इसमें 2 से 3 चम्मच विनेगर मिलाकर पिएँ। यह प्रयोग आपके मासिक धर्म के संकेतों को दूर करता है साथ ही पीरियड्स को भी 4 से 5 दिनों के लिए आगे बढ़ा देता है। अगर आप चाहती हैं कि आपके पीरियड्स और भी ज़्यादा दिनों तक ना आयें तो इसके लिए आप इसी प्रयोग को दिन में 3 से 4 बार तक दोहराएँ।

 पार्सले की पत्तियाँ (Parsley leaves)

पार्सले की पत्तियाँ पीरियड्स को देरी से लाने में सहायक होती है। अगर आप अपनी सुविधानुसार पीरियड्स के दिनों को डिले (delay) करना चाहती हैं तो आपको इन सेहतमंद पत्तों की मदद लेनी चाहिए। पार्सले के पत्तों को एक कप पानी में डालकर उबालने रखें। इसे 20 मिनट तक उबालने के बाद बचे हुए पानी का छान कर अलग करें। इस पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार लेने से मासिक धर्म देर से आते हैं, आप जब तक की आपको अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाना चाहती हैं। तो आपको इस प्रयोग को उतने ही दिनों तक नियमित करते रहना होगा।

 जिलेटिन  (Gelatin se)

जिलेटिन पीरियड्स में देरी से लाने के लिए बहुत ही प्रभावी माना गया है। इसे केवल एमर्जेन्सी (emergency) में लेना ही ठीक होता है। यह पीरियड्स को केवल कुछ घंटों के लिए ही टालता है। 2 बड़े चम्मच जेलेटिन को हल्के गरम पानी के साथ अच्छी तरह मिलाकर एक बार में ही पी लेना चाहिए। इन दोनों के प्रभाव से मासिक धर्म चक्र में कुछ समय की देरी हो जाती है।

कम गरम भोजन (Food with low temperature)

जो महिलाएँ अपने पीरियड्स को देर से लाना चाहती हैं, वे अपने भोजन पर विशेष ध्यान देने लगती हैं। ऐसा माना जाता है कि ज़्यादा तापमान वाला भोजन या बहुत गरम भोजन लेने से शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है और इससे पीरियड्स जल्दी आ जाते हैं, तो जब भी आप चाहती हों कि आपके पीरियड्स में कुछ दिनों की देरी हो तो कम गरम भोजन करें या कुछ दिनों तक ठंडे भोजन का सेवन करें।

नींबू  (Lemon)

नींबू एक अन्य प्राकृतिक उपाय है जो आपके मासिक धर्म के दिनों में कुछ दिनों की देरी करने में आपकी मदद कर सकता है। यह सिट्रिक एसिड की उच्च मात्रा के साथ आम्लीय गुणों से भरपूर होता है जो आपके मासिक धर्म के स्त्राव को कम करता है। यह न केवल मासिक धर्म के दिनों में परिवर्तन करता है बल्कि पीरियड्स के दौरान होने वाली परेशानियों जैसे दर्द, सूजन और अन्य तकलीफ़ों को भी कम करने में मदद करता है। पीरियड्स के पहले आप नींबू को ऐसे ही अपने भोजन के साथ ले सकते हैं या फिर पानी में नींबू के रस को निचोड़ कर उस पानी को भी पी सकते हैं।

पर एक बात का विशेष ध्यान रखें कि, पीरियड्स के दौरान नींबू का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे स्त्राव और भी तेज होने लगता है। आप नींबू के प्रयोग को पीरियड्स आने के पहले करें।

रसभरी की पट्टियों  (Raspberry leaves )

आप आमतौर पर गर्मियों में रसभरी (raspberry) के जूस का प्रयोग करते ही होंगे, पर क्या आपको पता है कि इसकी पत्तियाँ भी जड़ी बूटियों की तरह उपयोगी होती है? जी हाँ, रसभरी की पत्तियों से मासिक धर्म को कुछ दिनों के लिए रोका जा सकता है। रसभरी की पत्तियों को सुखाकर रख लें। इसकी चाय बनाकर पीरियड्स के कुछ दिन पहले ही लेना शुरू कर दें। यह एक प्राकृतिक तरीका है जो सुरक्षित ढंग से मासिक धर्म देरी करता है।