How to get rid of inner thighs rashes – जांघों के भीतरी हिस्सों में रैश की समस्या

कई पुरुष और महिलाओं में समस्या आम तौर पर देखी जा सकती है, जिसमें जांघों के भीतरी हिस्सों में रैश होने लगते हैं जिनमें काफी जलन और दर्द होता है। इस भीतरी त्वचा में खुजली और लालिमा भी दिखाई देती है। कभी कभी यह स्थिति इतनी भयानक हो जाती है की इनसे रक्त निकलने लगता है और साथ ही त्वचा की बाहरी परत भी छिल कर निकल जाती है।

लोगों को यह समस्या शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है पर भीतरी जांघों पर होने वाले ये रैश बहुत ही गंभीर रूप ले लेते हैं। इस स्थिति में चलने फिरने और खुद को संभालने में बहुत तकलीफ होती है। जांघों पर रैश के कई कारण हो सकते हैं सही कारण का पता कर उचित उपचार लेना ज़रूरी होता है।

गर्मी के मौसम में आंतरिक जांघाओं में रैश होना एक आम बात, चर्म रोग है। पसीने की वजह ये ये हिस्से गीले बने रहते हैं और उनके बीच लगातार घर्षण से त्वचा छिल जाती है और ये रैश का रूप ले लेते हैं। कई लोगों को जांघों के भीतरी हिस्से में रैश होने के सही कारणों के बारे में पता नहीं होता। कई लोगों को आंतरिक हिस्से में लाल चकत्ते दिखाई देते है जो बार बार त्वचा को खुजाने की वजह से उत्पन्न होते हैं।

बार बार खुजलाने के कारण ये दाग बड़े होकर लाल हो जाते हैं और बाद में पीड़ादायी बन जाते हैं इनमें जलन और दर्द होता है। शरीर के किसी भी अंग में ऐसे रैश हो सकते हैं पर जांघों के बीच होने वाले ये रैश बहुत कष्टकारी होते हैं। इसकी वजह से चलने फिरने में बहुत तकलीफ होती है। इसके साथ इनमें खुजली और जलन का आभास भी होता है।

भीतरी जांघों में रैश के प्रमुख लक्षण (Symptoms of inner thigh rashes)

  • जलन
  • खुजली
  • दर्द
  • एलर्जी के साथ सांस लेने में परेशानी
  • चलने फिरने में दर्द व परेशानी
  • आंतरिक हिस्सों में लालिमा
  • त्वचा में जलन का आभास
  • कुछ स्थितियों में त्वचा पर फफोले

ज़्यादातर लोग इस परेशानी के उपचार के लिए प्राकृतिक या घरेलू उपचार की सहायता लेते हैं। ऐसे बहुत से उपचार आपके घर पर ही मौजूद होते हैं जिनकी मदद से आप इस शारीरिक समस्या को दूर कर सकते हैं।

वैक्सिंग के बाद होने वाले पिंपल्स से ऐसे पाएं राहत

जांघों पर रैश या चकत्तों से राहत के उपाय (Tips for getting relief)

  • पसीने की वजह से होने वाली खुजली में ज़्यादातर लोग खुजलाने की वजह से त्वचा को क्षति पहुंचाते हैं। बार बार खुजली करने वाली जगह पर टेल्कम पाउडर का इस्तेमाल करें। इससे पसीना भी कम होगा और खुजली में भी राहत मिलेगी।
  • जब तक इस आंतरिक अंगों के घाव न ठीक हो जाएँ तब तक अंतर्वस्त्र कुछ दिनों तक न पहनें।
  • महिलाओं को ट्राउजर आदि की जगह लॉन्ग स्कर्ट पहनना चाहिए ताकि हवा इन हिस्सों से आसानी से गमन कर सके और रेशेज़ जल्दी ठीक सकें।
  • त्वचा रोग का इलाज, प्रभावित हिस्सों में हाइड्रोकॉर्टिसन क्रीम का इस्तेमाल करें। ये दर्द और जलन को कम करने में सहायक होता है।
  • ढीले ढाले और आरामदायक कपड़े पहने।
  • अधिक आराम के लिए सूती के कपड़ों को प्राथमिकता दें।
  • प्रभावित हिस्सों पर कूल पैड की ठंडक से आराम मिलता है।

जांघों में होने वाले स्किन रैशेस को कम करने के घरेलू उपाय (Home remedies to reduce thigh rashes / twacha par chatke)

  • रैश से होने वाली जलन में आराम के लिए एलोवेरा जेल बहुत लाभकारी होता है। प्रभावित हिस्सों पर एलोवेरा जेल को सीधे लगाया जा सकता है।
  • आंतरिक हिस्सों पर जहां रैश होने की संभवन होती है उस जगह पर टेल्कम पाउडर लगाएँ। त्वचा के सूखा रहने पर रैश और ज़्यादा नहीं बढ़ पाते।
  • रैश पर आराम के लिए हर दो घंटे के अंतर में बर्फ के टुकड़ें लगा के रखें।
  • प्राकृतिक तरीके से रैश को कम करने के लिए कैमोमिला की चाय का इस्तेमाल करें। जांघों के भीतरी हिस्सों में रैश को कम करने के लिए यह चाय जलन और दर्द को कम करने में सहायक होती है। इस टी बैग को प्रभावित हिस्से में लगा कर रखना चाहिए।
  • त्वचा की एलर्जी, कॉड लीवर ऑइल और विटामिन ई का मिश्रण रैश को प्रभावी तरीके से ठीक करने में मदद करता है।
  • त्वचा पर चकत्ते, अगर आपको किसी एलर्जी की वजह से रैश हो रहे हैं तो इसे कम करने के लिए एप्पल साइडर विनिगर का इस्तेमाल करें।

कैसे पाएँ गुप्तांगों के बालों से छुटकारा

जांघों के भीतरी भागों में होने वाले रैश को दूर करने के प्राकृतिक उपाय (Way to get rid of inner thigh rashes)

जांघ पर चकत्ते के लिए नारियल तेल (Coconut oil treatment for rashes on thigh , rashes ka ilaaj)

नारियल तेल रैश पर बहुत ही प्रभावी ढंग से काम करता है। एक चम्मच नारियल का तेल लेकर उसे प्रभावित हिस्सों में लगा लें। अधिक लाभ के लिए इसे रात में सोने के पहले लगाएँ।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

भीतरी जांघ पर चकत्ते के लिए पुदीने की चाय (Natural way to get rid of rashes with Mint tea)

पुदीने की चाय त्वचा के किसी भी हिस्से पर होने वाले रैश आदि में बहुत लाभकारी होती है। यह त्वचा में होने वाली जलन को कम करने में बेहतर रूप से काम करती है। इसके लिए पुदीने के टी बैग को पानी में भिगोकर त्वचा पर इस्तेमाल करना चाहिए।

रैश को कम करने के लिए धनिये का प्रयोग (Coriander for skin pe rash hona)

धनिया (Coriander) भोजन के स्वाद और खुशबू को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। पर सेहत को लाभ पहुंचाने की दृष्टि से यह और भी कई तरीकों से इस्तेमाल किया जाता है। ताज़ा हरे धनिये की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें। इसे 20 मिनट तक प्रभावित हिस्सों , त्वचा के चकत्ते में लगाकर रखें। फिर इसे ठंडे पानी से धोकर साफ कर लें।

जैतून के तेल से रैश का घरेलू उपाय (Skin pe rashes ke liye olive oil)

जैतून का तेल (olive oil) त्वचा को ठीक करने के लिए नहीं बल्कि उसे बेहतर करने के लिए उपयोगी समझा जाता है। यह त्वचा की बनावट को भी ठीक करने में मदद करता है। इसे सिर्फ अपनी त्वचा या प्रभावित हिस्सों में एक परत के रूप में लगा लें।

loading...