Hindi home remedies & tips for Sinus problem – साइनस के घरेलू उपचार, सुझाव और नुस्खे

साइनसाइटिस, सता रोग, साइनस के लिए वैज्ञानिक लगातार काम कर रहे है। साइनस के लक्षण, इस रोग से आपका जीवन तो ख़त्म नहीं होता लेकिन इनसे आपके जीवन में कुछ समस्याग्रस्त स्थिति उत्त्पन्न हो जाती है। साइनस के कारण, बहुत से लोगो में साइनस की समस्या सालो के लिए बन जाती है। यहाँ तक की दवाओ के सेवन के बाद भी व्यक्ति को साइनस की समस्या से छुटकारा नहीं मिल पाता, अगर आप भी साइनसाइटिस / साइनस की समस्या से पीड़ित है। तो घर पर कुछ आसन सी आदते बड़ी राहते प्रदान कर सकती है। डॉक्टर आपके लिए एक जैविक दवाई निर्धारित कर सकते है एक एंटीबायोटिक लेने से व्यक्ति का स्वास्थ्य हमेशा के लिए अनुकूल नहीं होता।

साइनोसाइटिस / साइनस के लिए महत्वपूर्ण सुझाव (Valuable tips for sinus)

साइनस का घरेलू उपचार के लिए नम गर्मी (Moist heat)

आप विशेष रूप से अपने चेहरे और नाक के आसपास की त्वचा को नम रख सकते है। उसके लिए आप अपने चेहरे पर गर्म पानी की भाप ले सकते हो, गर्म पानी में तौलिया डुबोकर उससे अपने चेहरे को ढक ले। आपको एक दिन में 5 से 10 मिनिट के लिए यह प्रयोग नियमित रूप से करना होगा।

तरल पधार्थो का अधिक सेवन (Fluid maximization)

अगर आप साइनस की समस्या से पीड़ित है तो इसका मतलब यह है की आपके शरीर में पानी की कमी है। आपको जल्दी ही इसे दूर करना होगा, वरना आपके सामने एक खतरनाक स्थिति होगी। इसके लिए आपको पर्याप्त पानी रोज पीना चाहिए नहीं, तो एक बड़ी मुसीबत हो सकती है। साथ ही साथ साँस लेने की मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है।

दाद क्या और कैसे होती हैं ?

साइनस का घरेलू उपचार के लिए भाप स्नान (Steam bath)

आपके शरीर का भाग कठोर होने की वजह से साइनस की समस्या बन गई है। इसकी मदद के लिए एक ही रास्ता है, कि आप उस वातावरण को नम रखे आप एक गर्म भाप स्नान कर सकते है। आपको अच्छा लाभ होगा आप पार्लर में स्पा के लिए जा सकते है या घर पर ही भाप स्नान कर सकते है।

साइनोसाइटिस का इलाज के लिए नमक का पानी (Salt water)

आमतौर पर नमक का उपयोग घर पर होता है, तो साइनस की समस्या के समाधान के लिए आप नमक और पानी से अपनी नाक धो सकते है। नमक नासिका से बेक्टीरिया और वायरस को दूर करने में सहायक होता है।

खारे पानी से कुल्ला (Gargling)

घर पर साइनस की समस्या के इलाज के लिए कुल्ला भी एक अच्छा माध्यम है। इसे को हम खारे पानी से कुल्ला करना भी कह सकते है। आपको 10 मिनिट तक गर्म पानी और नमक के साथ कुल्ला शुरू करना है, अगर आपको आम सर्दी के प्रभाव में इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो यह एक अच्छा उपाय है। कुल्ले के माध्यम से यह काफी हद तक  खत्म हो जायेगा। इसके प्रयोग से आप अपनी नाक के साथ अपने गले में भी अच्छी तरह से गर्माहट मिल जायेगी।

नाक में खारी बूँद (Saline nose drops)

छालों का प्राकृतिक उपचार

नमक के पानी में इसे आसानी से इस्तेमाल कर सकते है जो काफी असरदार रहेगा नाक में बस आपको खारे पानी की कुछ बूंदे छोड़ने से साइनस की समस्या से राहत मिल जायेगी। यदि आप चाहते है तो  फार्मेसी में इस तरह की की तरल दवाई मिल सकती है लेकिन यह घर पर भी आसानी से बनाया जा सकता है। खारी बूँद लेने से आपको नाक की रूकावट खोलने और साइनस (sinus ke gharelu nuskhe) को कम करने में मदद मिलेगी।

आपकी कुछ स्वस्थ आदते शारीरिक समस्या के खतरे को दूर कर सकती है कुछ लोगो में नियमित रूप से शराब की लत होती है, लेकिन इस साइनस की हालत में शराब जैसा मादक पदार्थ पीने के बारे में सोचना आप के लिए एक बड़ी समस्या होगी। आपको बाज़ार में उपलब्ध वसा और जंक खाने से अच्छा आपको स्वस्थ भोजन खाना चाहिए।

नाक साफ़ करें (Try blowing nose)

कई लोग शर्म से बचने के लिए नाक के अन्दर से निकलने वाला द्रव्य वापस अन्दर की ओर खींच लेते हैं। पर असल में यह एक खराब आदत है और आपके स्वास्थ्य के लिए भी काफी हानिकारक है। अपने नाक के द्रव्य को जितना हो सके बाहर निकालें, जिससे आपको सांस लेने में कोई तकलीफ ना हो और आपकी नाक बंद ना रहे। क्योंकि आप साइनस की समस्या से जूझ रहे हैं, अतः आपकी नाक में कभी कभी काफी मात्रा में गन्दगी जमा होगी। अतः अपनी नाक को जितनी बार हो सके साफ़ करने की कोशिश करें।

अपनी बुरी आदतों को छोडें क्योंकि ये आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती हैं, तथा अच्छी आदतों को आत्मसात करें। कई लोगों को रोजाना शराब पीने की आदत होती है। पर साइनस की अवस्था में शराब पीने से आपको काफी नुकसान पहुँच सकता है आपकी नाक की कोशिकाओं में सूजन आ सकती है इससे आपको सांस लेने में भी दिक्कतें पेश आ सकती हैं। बाज़ार में मौजूद तमाम अस्वास्थ्यकर भोजनों की अपेक्षा घर का बना स्वास्थ्यकर भोजन ही खाएं।

कुछ और घरेलू उपाय (Some more home treatments)

ऐसे कुछ ख़ास घरेलू नुस्खे हैं, जिनकी मदद से हम साइनस के दर्द और पीड़ा से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। भले ही इन उपायों से आपकी समस्या दूर ना हो, पर आपको काफी राहत ज़रूर पहुँच सकती है।

बच्चों में होंठ चूसने और चबाने की आदत को कैसे रोके

साइनस ठीक करने के लिए हल्दी और अदरक के जड़ की चाय (Turmeric and ginger root tea for treating sinus)

अगर आप साइनस से तुरंत छुटकारा प्राप्त करना चाहते हैं तो हल्दी और अदरक की जड़ से बनी चाय का सेवन करें। हल्दी में कई औषधीय गुण होते हैं और इसमें मौजूद तत्व इसे जलनरोधी भी बनाते हैं, जिससे किसी भी तरह की एलर्जी (allergy) और चिडचिडेपन को दूर किया जा सकता है। अदरक की जड़ें नाक को खोलने में आपकी मदद करती हैं और अन्दर की गन्दगी को साफ़ करती हैं।

इसके लिए 1 इंच हल्दी और 1 इंच अदरक की जड़ लें। इन दोनों को मसलकर एक कप उबलते गर्म पानी में डाल दें तथा ऊपर से ढक्कन लगा लें। इसे 10 मिनट तक आंच पर रखें और फिर छान लें। इस चाय का सेवन करने से आपको साइनस के दर्द से छुटकारा प्राप्त हो जाएगा।

साइनस ठीक करने के लिए सेब का सिरका (Apple cider vinegar for treating sinus)

सेब का सिरका भी एक ऐसा उपचार है जो साइनस को ठीक करने में काफी अहम् भूमिका निभाता है। इसके लिए 2 चम्मच सेब के सिरके को आधा कप गर पानी, जो कि उबलता हुआ ना हो, के साथ मिश्रित करें। इसमें 1 चम्मच शहद भी मिलाएं। इस मिश्रण को गर्म रहते हुए पियें और आपको काफी फर्क नज़र आएगा।

आप सेब के सिरके का भरपूर लाभ उठाने के लिए इससे भाप भी ले सकते हैं। इसके लिए पानी और सेब के सिरके को बराबर मात्रा में मिश्रित करें और इससे भाप लें। यह मिश्रण संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया (bacteria) को ख़त्म करता है और आपको काफी आराम पहुंचाता है।

साइनस दूर करने के लिए योग (Yoga for treating sinus)

साइनस की समस्या योग से भी दूर हो सकती है। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि इस उपचार से आपकी समस्या पूरी तरह ठीक भी हो सकती है। अगर आप निरंतर योग करते रहें तो आपको साइनस के भयंकर दर्द से छुटकारा प्राप्त होगा। योग के अंतर्गत आपको अपनी सांस को विभिन्न भावों से नियंत्रित करना पड़ता है। इससे ना सिर्फ आपकी प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है, बल्कि साँसों से जुड़ी सारी समस्याएं भी दूर हो जाती हैं। अगर आप लम्बे समय से साइनस के शिकार हैं और आपके लिए कुछ भी काम नहीं कर रहा तो किसी अच्छे गुरु से योग सीखें और इसका निरंतर अभ्यास करते रहें।

पेट की एसिडिटी को नियंत्रित और शांत करने के लिए घरेलू उपचार

प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करे (Boost your immunity system)

अगर आपकी प्रतिरोधक क्षमता अच्छी हो तो साइनस की समस्या आपसे दूर रह सकती है। नीचे दिए गए तत्व आपकी प्रतिरोधक क्षमता को दुरुस्त रखने का काम करते हैं, अतः इन्हें प्राकृतिक रूप से या पूरक पदार्थ के रूप में लेना सही होता है। अगर आप पूरक पदार्थों के रूप में इनका प्रयोग करना चाहते हैं तो पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए विटामिन सी (Vitamin C for boosting immunity)

विटामिन सी प्रतिरोधक क्षमता की कार्य क्षमता में इजाफा करने की अपनी प्राकृतिक खूबियों की वजह से जाना जाता है। यह विटामिन एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट (anti-oxidant) का काम करता है और इस बात को सुनिश्चित करता है कि आपका शरीर फ्री रेडिकल्स (free radicals) के हानिकारक प्रभावों से बचा रहे। आप फलों से भी विटामिन सी प्राप्त कर सकते हैं। साइट्रस (citrus) फलो के अलावा अमरुद जैसे फल भी विटामिन सी से भरपूर होते हैं। अगर आप विटामिन सी का पूरक लेना चाहते हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह करें।

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कॉड लिवर का तेल (Cod liver oil can give you a good natural immunity)

आप दवाई की दुकानों पर कॉड लिवर के तेल को एक कैप्सूल (capsule) की तरह प्राप्त कर सकते हैं और इसे खरीदने के लिए आपको डॉक्टर के किसी चिट्ठे की ज़रुरत नहीं होती। अगर आपको कोई ख़ास शारीरिक समस्या नहीं है तो ये तेल स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। यह विटामिन ए और डी (vitamin A and D) का काफी अच्छा स्त्रोत होता है और शरीर में काफी मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड्स (omega-3-fatty acids) का संचार करता है। इससे आपकी प्रतिरोधक क्षमता में काफी इजाफा होता है और आप साइनस तथा अन्य संक्रमण से दूर रहते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday