Hindi tips to cure tonsil stones and bad odor – टॉन्सिल स्टोन एवं साँसों की बदबू हटाने के घरेलू उपाय

टॉन्सिल स्टोन (tonsil stone) को टॉन्सिलोइथ्स (tonsilloliths) कहा जाता है और यह बैक्टीरिया (bacteria), भोजन के टुकड़ों, म्यूकस (mucus) और अन्य उत्पादों के टॉन्सिल्स में जमाव की वजह से पैदा होते हैं। ये टॉन्सिल आमतौर पर सफ़ेद या पीले रंग के होते हैं और इनसे साँसों में बदबू भी उत्पन्न होती है।

छोटे से सफ़ेद एवं पीले रंग के उभरे भाग जो कि बैक्टीरिया, खाने के अवशेष तथा टॉन्सिल के आसपास म्यूकस जम जाने की वजह से उत्पन्न होते हैं, उन्हें टॉन्सिल स्टोन कहते हैं। ये स्टोन सल्फर उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया की वजह से होते हैं, अतः ये काफी बदबूदार भी होते हैं और इसे ही साँसों की बदबू भी कहा जाता है। मुँह की दुर्गंध, टॉन्सिल स्टोन एवं साँसों की बदबू से सिर्फ फ्लॉसिंग एवं ब्रश करने से छुटकारा नहीं पाया जा सकता। परन्तु ऐसे कुछ घरेलू नुस्खे हैं जो कि इन टॉन्सिल स्टोन्स एवं साँसों की बदबू से आपको दिला सकते हैं। टॉन्सिल का सरल उपचार :-

लक्षण (Symptoms)

  • साँसों की बदबू जिसे हलिटोसिस (halitosis)
  • धातु जैसा स्वाद
  • अतिरिक्त कफ (cough) आना
  • गले में कुछ अटकना
  • गले में सूजन
  • गले के पिछले हिस्से में सफ़ेद द्रव्य निकलना
  • भोजन निगलने में कठिनाई होना
  • गले में सूजन
  • कान में दर्द।

साँसों की बदबू के घरेलू उपचार

कारण (Causes)

  • गम्भीर रूप से सांसों में बदबू आना
  • सफ़ेद रक्त की कोशिकाओं में काफी वृद्धि होना
  • ओरल बैक्टीरिया (oral bacteria)
  • मुंह में गन्दगी जमना
  • म्यूकस

टॉन्सिल से मुक्ति के लिए घरेलू विधियां (Home remedies to cure tonsil stones and bad odor)

नमक के पानी से गरारा (Salt water gargle for saans ki badboo ke liye)

टॉन्सिल स्टोन को ठीक करने के लिए नमक के पानी से गरारा करने की विधि काफी बेहतरीन होती है। रोज़ाना हल्के गर्म नमक के पानी या नॉन अल्कोहलिक माउथवाश (non-alcoholic mouthwash) से गरारा करने पर टॉन्सिल स्टोन का जमाव दूर हो जाता है। यह उस बदबू को दूर करता है जो स्टोन की वजह से पैदा होती है। अगर आपका गला सूजा हुआ हो तो नमक के पानी से गरारा करने पर ये स्थिति दूर हो जाती है। नमक का पानी म्यूकस, भोजन के अंश और अन्य चीज़ों को मुंह से निकालता है।

मुंह की बदबू के लिए सिरके से गरारा करना (Vinegar gargle)

कैल्शियम को साँसों की बदबू पैदा करने वाले टॉन्सिल का आधार माना जाता है। टॉन्सिल को कम करने तथा धीरे धीरे ख़त्म करने में सिरका काफी बड़ी भूमिका निभाता है। मुंह की बदबू, 1 चम्मच सिरके और एक चौथाई चम्मच पानी को मिलाकर मिश्रण तैयार करें और इस मिश्रण द्वारा कुछ सेकंड तक गरारा करें। यह प्रक्रिया स्टोन हटाने में आपकी मदद करती है तथा इसे दोबारा होने से भी रोकती है। अच्छे परिणामों के लिए इस प्रक्रिया को दिन में 3 से 4 बार दोहराने का प्रयास करें। यह ठण्ड तथा फ्लू के वायरस से भी निपटने में सक्षम है तथा इन बीमारियों को होने से रोकता है।

काफी मात्रा में पानी पिएं (Drink plenty of water)

एथलीट फुट या पैरों का दाद के इलाज के लिए घरेलू उपचार

टॉन्सिल स्टोन को ठीक करने में पानी भी काफी काम आता है। यह शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता और ऐसा माहौल बनाता है, जिसमें बैक्टीरिया पनप नहीं पाते। पानी मुंह की सारी गन्दगी साफ़ करता है और कैविटी (cavity) भी जमने नहीं देता। यह उन तत्वों को टॉन्सिल में जमने से रोकता है, जिनकी वजह से टॉन्सिल के स्टोन्स पनपते हैं। क्योंकि टॉन्सिल हमारी प्रतिरोधक प्रणाली का काफी अहम भाग है, अतः अगर कोई बाहरी तत्व आकर उनमें फंस जाता है तो उसे निकालना काफी आवश्यक है।

नाक से हवा जाने की जगह साफ़ करें (Clean nasal passages)

मुँह की दुर्गन्ध, ऊपरी वायु आधारित कफ सिंड्रोम से टॉन्सिल स्टोन और भी बढ़ जाते हैं, अतः इस स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए हवा जाने की नली का साफ़ रहना काफी आवश्यक है तथा इससे टॉन्सिल स्टोन को पूरी तरह हटाकर उनकी उत्पत्ति भी रोकी जा सकती है। किसी सलाइन मिश्रण द्वारा नाक को बार बार साफ़ करते रहे। अगर आपको ये विधि पसंद नहीं है तो आप नाक की स्प्रे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

मुँह की दुर्गंध के लिए नीम्बू का रस (Lemon juice muh ki smell ke liye)

नीम्बू का रस विटामिन सी (vitamin C) से भरपूर होता है और यह टॉन्सिल के स्टोन्स को भी पूरी तरह दूर करता है। 3 चम्मच नीम्बू का प्रयोग गर्म पानी के साथ करें। अगर आप चाहें तो इसमें कोई फ्लेवर (flavor) भी मिश्रित कर सकते हैं। इन्हें अच्छे से मिलाएं। टॉन्सिल के आसपास अच्छे से गरारा करें और पत्थरों को निकालकर प्रभावित भाग को ठीक करें।

प्रो बायोटिक दही का सेवन करें (Consume probiotic yogurt)

मुंह से बदबू आना, टॉन्सिल्स से दुर्गन्ध मिटाने के लिए प्रो बायोटिक दही काफी लाभदायक होती है। टॉन्सिल स्टोन के बनने में सल्फर पैदा करने वाले बैक्टीरिया की काफी अहम भूमिका होती है। दही में मौजूद लाभदायक बैक्टीरिया खराब बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है तथा साँसों की बदबू को दूर कर देता है। जब आप दही खरीदने जाएं तो चीनी मुक्त दही ही खरीदें, क्योंकि चीनी टॉन्सिल स्टोन्स को बढ़ावा देती है। प्रो बायोटिक दही से आपकी पाचन प्रक्रिया भी सही रहती है।

सांस की दुर्गंध के लिए लहसुन के फाहे (Garlic cloves saans ki smell ke liye)

लहसुन में एंटी बैक्टीरियल (anti-bacterial) गुण होते हैं, जो हर तरह के बैक्टीरिया को निकालने में मदद करते हैं। टॉन्सिल स्टोन एक तरह का बैक्टीरियल संक्रमण होता है और इस स्थिति से निपटने में लहसुन आपकी काफी सहायता करता है। रोज़ाना कई बार लहसुन के फाहों को चबाने से आपको किसी डॉक्टर की ज़रुरत नहीं पड़ती। कच्चा लहसुन उस बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करता है, जिसकी वजह से स्टोन्स की उत्पत्ति होती है।

त्वचा के मस्सों को निकालने के घरेलू उपचार

टॉन्सिल स्टोन की स्थिति में उपयुक्त भोजन (Food to consume)

टॉन्सिल का उपचार, कुरकुरे खाद्य पदार्थों जैसे गाजर, खीरा तथा सेब का सेवन करें जिससे कि टॉन्सिल स्टोन धीरे धीरे ठीक हो जाए तथा वे पाचन प्रणाली में पहुंचकर उसे सही कर दें। कच्चे और कुरकुरे खाद्य पदार्थों में फाइबर होता है जो कि एक ब्रश की तरह काम करता है। ये टॉन्सिल के अंदर के छिपे हुए स्टोन को भी निकाल बाहर करता है।

मुँह की दुर्गन्ध, दिनभर सेब कुछ देर में खाते रहे। यह मुंह और दांतों को साफ़ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तथा बैक्टीरिया की बढ़त को भी रोकता है।

सांस की दुर्गंध, एक कटोरी गाजर और सेलेरी नाश्ते के रूप में खाएं। यह मुंह में लार की मात्रा बढ़ाता है तथा बैक्टीरिया को कम करता है।

अपने भोजन में ज़्यादा से ज़्यादा प्याज को शामिल करें क्योंकि यह साँसों की बदबू तथा मुंह के बैक्टीरिया को पनपने से रोकता है।

खीरे को कच्चा खाएं या फिर इसे सलाद या किसी व्यंजन में इस्तेमाल करें। यह प्राकृतिक डिसइंफेक्टेंट का काम करता है तथा शरीर को राहत पहुंचाता है।

कच्चा प्याज़ (Raw onion muh ki durgand ke liye)

कच्चे प्याज़ में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं और यह मुंह के स्वास्थ्य को दुरुस्त बनाए रखने में सहायता करता है। यह मुंह के संक्रमणों को भी होने से रोकता है। रोज़ाना 3 प्याज़ खाने से टॉन्सिल स्टोन दूर होते हैं और उस बैक्टीरिया का खात्मा होता है, जो स्टोन्स के पैदा होने के ज़िम्मेदार होते हैं। प्याज की मदद से स्टोन्स से आने वाली बुरी महक भी दूर होती है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday