Hindi tips to treat Winter dry cracked feet – सर्दियों में सूखे और फटे पैरों के इलाज के लिए नुस्ख़े और युक्तियाँ

फटी एड़ियां ठण्ड के मौसम में एक सामान्य समस्या मानी जाती हैं। ठण्ड के मौसम के दस्तक देते ही अगर आप अपने पैरों की अच्छे से देखभाल नहीं कर पाते तो इससे पैरों और एड़ियों में दरारें पड़ने लगती हैं। इनसे कई बार खून भी निकलने लगता है और पैरों की ये दरारें जीवाणुओं और गन्दगी का घर भी बन सकती हैं। ठण्ड कई लोगों के लिए एक बुरे सपने के समान होती है, क्योंकि इस मौसम में उन्हें एड़ियों के बुरी तरह फटने की समस्या का सामना करना पड़ता है। पैरों के दरारों को प्रदर्शित करना काफी शर्मनाक होता है। अतः यह काफी आवश्यक है कि आप अपने पैरों को नरम और मुलायम बनाने के उपायों को अपनाएं। इससे आप अपने पैरों को ठण्ड की इस अनचाही समस्या से बचाकर रख सकते हैं।

फटे पैर, पैरों की त्वचा आम तौर पर शुष्क होती है क्योकि पैरों में तेल ग्रंथियाँ नहीं होती। दरअसल यह कई हजारों पसीने की ग्रंथियों पर निर्भर करता है और, उन लोगों के लिये यह परिस्थिति और भी गंभीर होती है, जो लोग मधुमेह की दवा लेते हैं या जिनके एथलीट फुट – जिसमे सूखे पैर होते हैं या जो अपने पैरों की उचित देखभाल नहीं करते हैं।

सूखे पैरों के लक्षण (Symptoms of dry feet)

फटे पैर एक समस्या है। जिस व्यक्ति के सूखे पैर होते हैं वे ये लक्षण अनुभव कर सकते हैं, जैसे परतदार त्वचा, पैर में दरारें, खुजली, चकत्ते, त्वचा में लालिमा, चकत्ते में दरारें।

सूखे पैरों का कारण (Causes of dry feet)

जब पैरों में उचित नमी ना हो, तब भारी सूखापन हो जाता है। सूखे पैरों (dry feet / ड्राइ फीट) के कुछ और आम कारणो में शामिल हैं।
  • फटी एड़ियों का इलाज, कठोर साबुन का प्रयोग
  • गर्म पानी में भिगोना या लंबे समय के लिए पैरों को उसमें रखना
  • अतिरिक्त गर्म फुहारे से नहाना
  • फटी एड़ियों का इलाज, ठंड का मौसम
  • कुछ त्वचा रोग जैसे सोरायसिस, एक्जिमा आदि
  • चिकित्सकीय दशा जैसे थायराइड की बीमारी या मधुमेह का रोग।
  • फटी एड़ियों का इलाज, धूप में ज्यादा रहना।
  • बुढ़ापे में उम्र बढ़ने के साथ पैरों में सूखापन होता है, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ हमारी त्वचा में मॉइस्चर कम होता जाता है।

फटी एड़ियों के उपचार कैसे करे?

सूखे फटे पैरों के लिए घरेलू उपचार (Homemade remedies for dry cracked feet)

फटी एड़ियां ठण्ड के मौसम में एक सामान्य समस्या मानी जाती हैं। ठण्ड के मौसम के दस्तक देते ही अगर आप अपने पैरों की अच्छे से देखभाल नहीं कर पाते तो इससे पैरों और एड़ियों में दरारें पड़ने लगती हैं। इनसे कई बार खून भी निकलने लगता है और पैरों की ये दरारें जीवाणुओं और गन्दगी का घर भी बन सकती हैं। ठण्ड कई लोगों के लिए एक बुरे सपने के समान होती है, क्योंकि इस मौसम में उन्हें एड़ियों के बुरी तरह फटने की समस्या का सामना करना पड़ता है। पैरों के दरारों को प्रदर्शित करना काफी शर्मनाक होता है। अतः यह काफी आवश्यक है कि आप अपने पैरों को नरम और मुलायम बनाने के उपायों को अपनाएं। इससे आप अपने पैरों को ठण्ड की इस अनचाही समस्या से बचाकर रख सकते हैं।

पैरों को डुबोये रखना ज़रूरी है (Soaking the feet is important)

सबसे पहले पैरों को सही प्रकार से डुबोये रखना काफी ज़रूरी है। इसके लिए लंबे समय तक पैरों को गर्म पानी में डुबोकर रखें। हालांकि ज़रुरत से ज़्यादा समय तक पैरों को डुबोकर रखने से पैरों के रूखे होने का ख़तरा रहता है। अतः आपको पैरों की सही सुरक्षा के लिए कारगर कदम उठाने की आवश्यकता है। गर्म पानी में एक चौथाई कप सेब का सिरका मिश्रित करना ना भूलें। यह एक अलग मिश्रण होना चाहिए। एक बार जब आप सामान्य गर्म पानी से अपने पैरों को बाहर निकाल लें तो इस बात को सुनिश्चित करें कि दोनों पैरों को सिरके के मिश्रण में 10 मिनट तक डुबोये रखें। हफ्ते में कम से कम 3 दिन इस विधि का प्रयोग करें और फिर अगले कदम की ओर बढ़ें।

फटी बिवाई के लिए प्यूमिस पत्थर एक अच्छा उपाय है (Pumice rock is a good solution for fati edi)

पैरों की सारी रूखी त्वचा को साफ़ करने के लिए आप प्यूमिस पत्थर का प्रयोग कर सकते हैं। यह वोल्कानिक (volcanic) पत्थरों का एक प्रकार है, जिसका प्रयोग एड़ियों की रूखी त्वचा को निकालने के लिए किया जाता है। लेकिन आप प्यूमिस पत्थर का प्रयोग तभी कर सकते है जब आपके पैर गीले और नरम हों। इस तरह आप अपने पेअर की एड़ियों को श्रेष्ठ रूप से नरम मुलायम बना सकते हैं। आपको पैरों की एड़ियों के उन भागों पर ज़ोर से पत्थर घिसना पड़ेगा, जहां की त्वचा कुछ ज़्यादा ही रूखी और धारीदार है। आप पैरों को गर्म पानी में डुबोये रखने के बाद सप्ताह में कम से कम एक दिन इस कार्य को ज़रूर अंजाम दे सकते हैं। अगर दरारें बड़ी और पीड़ादायक हैं और अगर इनमें से खून भी आता है तो ये प्रक्रिया काफी दर्दभरी हो सकती है। अतः स्थिति को गंभीर ना बनाने के लिए किसी विशेषज्ञ से बात करें। वह आपको सही प्रकार से बचाव उपायों के बारे में बता देगा। इससे आप अपने पैरों को किसी बड़े नुकसान से बचा सकते हैं। इस तरह से पैरों के ठीक होने में समय लगेगा, पर आपको इन निर्देशों का अच्छे से पालन करना होगा।

प्राकृतिक मॉइस्चराइजर का प्रभाव (The effects of natural moisturizer)

जब पैरों की स्क्रबिंग (scrubbing) हो जाय तो यह समय है कि आप अपने पैरों को नमी दें और उनकी देखभाल करें। आप रात को सोने से पहले प्राकृतिक मोइस्चराइसिंग तत्व लगा सकते हैं। सुबह उठने पर आप पाएंगे कि आपकी एड़ियां नरम और मुलायम हो गयी हैं। इसके लिए किसी भी प्राकृतिक मॉइस्चराइजर का प्रयोग करें और इसका प्रयोग अपनी एड़ियों पर अच्छे से करें। इसका प्रभाव निश्चित तौर पर काफी अच्छा होगा।

शे मक्खन से पैरों के स्वरुप में बदलाव लाएं (Shea butter can change the nature of your feet)

आप नारियल शे मक्खन से भी अपने पैरों का इलाज कर सकते हैं। यह फ़टी एड़ियों को ठीक करने का काफी प्रभावशाली उपचार साबित होता है। अफ्रीका में कुछ ख़ास नट्स (nuts) पाए जाते हैं। इन नट्स से एक रंगीन मलाईदार और वसायुक्त तत्व निकलता है, जिसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन ए और विटामिन इ (Vitamin A and Vitamin E) होते हैं। इनमें आवश्यक तेल और फैटी एसिड्स (fatty acids) की मात्रा भी मौजूद होती है। इसका पैरों पर प्रयोग करने से आपको काफी अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। अतः आप बिना किसी चिंता के अपने पैरों के प्रभावित भाग पर शे मक्खन का प्रयोग कर सकते हैं।

नारियल के तेल से फ़टी एड़ियों को ठीक करें (Coconut oil can greatly heal the cracked feet or fati adiya)

नारियल तेल एक ऐसा तत्व है जिसका प्रयोग पैरों के क्षतिग्रस्त भाग को ठीक करने के लिए किया जाता है। इसमें कोई दो राय नहीं कि नारियल का तेल लगाने के लिए काफी अच्छा होता है और इससे तुरंत प्रभाव पड़ना शुरू हो जाता है। यह तेल एक प्रकार का सैचुरेटेड (saturated) वसा होता है और यह आपके पैरों को समय पर ठीक करने की भी क्षमता रखता है। ठण्ड के दिनों में आपके पैरों के लिए यह एक बेहतरीन उपचार साबित होता है। यह तेल पैरों को अच्छे से नमी प्रदान करके पोषण देता है और ठण्ड के आने से पहले से ही इसका प्रयोग शुरू कर देने पर आपको काफी अच्छे परिणाम दिखाई देंगे।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday