Home remedies for denture pain – How to treat denture pain – नकली दांतों के दर्द को दूर करने के घरेलू नुस्खे

डेन्चर्स या नकली दांत आपके गिर चुके दांतों का एक बेहतरीन विकल्प होते हैं। ये मुंह के आशिक भाग (कुछ दांतों) या पूरे मुंह के लिए हो सकते हैं। डेन्चर का दर्द काफीआम है क्योंकि शुरुआत में इनकी आदत डालना काफी मुश्किल होता है। इसके सामान्य लक्षण हैं मसूड़ों में सूजन, लालपन, मसूड़ों में चिड़चिड़ापन एवं छाले। डेन्चर काफी दर्दभरे होते हैं एवं इन्हें लगाते समय काफी पीड़ा होती है। यह समस्या बूढ़े लोगों में और भी गंभीर होती है क्योंकि उनके जबड़े की हड्डियां एवं मसूड़े सिकुड़ जाते हैं जिससे डेन्चर सही प्रकार से नहीं लग पाते।

नीचे डेन्चर्स की वजह से हुए दर्द को कम करने के कुछ इलाज दिए गए हैं:

लौंग (Cloves)

मुंह सूखने के घरेलू नुस्खे

लौंग स्वभाव से जलनरोधी होता है एवं यह कई तरीकों से डेन्चर के दर्द का इलाज करने में काफी उपयोगी साबित होता है। लौंग के तेल का प्रयोग आपके सूजे हुए मसूड़ों की मालिश के लिए किया जा सकता है। यह सूजन कम करने, छालों का इलाज करने एवं मसूड़ों के क्षेत्र को साफ़ करने में काफी प्रभावी साबित होता है।

अधिक सूजन होने पर लौंग का पेस्ट (paste) भी मसूड़ों पर प्रयोग किया जा सकता है। लौंग के तेल का प्रयोग गुनगुने पानी के साथ किया जा सकता है। उपभोक्ता बेहतर परिणामों के लिए इस मिश्रण के साथ दिन में दो से तीन बार गरारा कर सकते हैं।

नमक (Salt)

नमक से सूजे हुए मसूड़ों की मालिश करने से भी तुरंत राहत प्राप्त होती है। नमक के पानी से गरारा करने से भी छाले एवं सूजे हुए मसूड़े प्रभावी रूप से ठीक होते हैं।

नर्म भोजन करें (Eat soft food)

डेन्चर का प्रयोग करने वाले लोगों को नर्म भोजन करना चाहिए एवं परेशानी होने की स्थिति में छोटे कौर का सेवन करना चाहिए।

ग्लिसरीन (Glycerin)

ग्लिसरीन स्वभाव से जलनरोधी होता है एवं चोटों, घावों एवं छालों का इलाज कर सकता है। जो लोग मसूड़ों एवं जीभ पर छालों एवं सूजन की शिकायत करते हैं, उन्हें ग्लिसरीन से अपने मसूड़ों की मालिश करनी चाहिए। इससे डेन्चर के फलस्वरूप हुए छालों का इलाज आसानी से संभव है।

सिरका (Vinegar)

सिरका डेन्चरों को साफ करने में सहायता करता है। उपभोक्ता अपने डेन्चर सिरके की कुछ बूँदें मिले हुए एक गिलास पानी में भिगोकर रख सकते हैं। यह रातोंरात डेन्चर से धूल एवं अन्य कठोर तत्व आसानी से निकाल सकता है।

लौकी (Bottle gourd)

लौकी का 70 ग्राम अंश लें एवं इसे 17 ग्राम लहसुन के अंश के साथ मिश्रित करें। इसे थोड़े से पानी में उबालें। अब ठन्डे मिश्रण को लेकर गरारा करें। पानी छाले ठीक करने एवं मुंह की परेशानियां दूर करने में सहायता करेगा।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,903 other subscribers

सूखा अदरक (Dry ginger)

मुंह के छाले कम करने के लिए उत्तम घरेलू उपचार

एक गिलास गुनगुने पानी के साथ 3 ग्राम अदरक का पाउडर खाएं। इससे मसूड़ों की तकलीफ एवं चिड़चिड़ापन कम होगा। यह सूजे हुए मसूड़ों के लिए काफी प्रभावी उपचार है।

बादाम का तेल (Almond oil)

अपने मुंह में थोड़ा सा बादाम का तेल डालें एवं कुछ देर तक गरारा करें। अब तेल को बाहर निकालकर बाकी बचे तेल से अपने मसूड़ों एवं जीभ पर मालिश करें। इससे मसूड़ों में रक्त का संचार सामान्य होगा एवं चिड़चिड़ापन दूर होकर छाले ठीक होंगे।

तुलसी (Tulsi)

तुलसी के पत्तों का रस लें एवं इसमें थोड़ा सा कपूर मिश्रित करें। इस मिश्रण का प्रयोग अपने मसूड़ों पर करें। तुलसी एवं कपूर जलनरोधी एवं एंटी फंगल (anti-inflammatory and anti-fungal) होने के कारण दोनों मसूड़ों की समस्या को दूर करते हैं। यह मिश्रण मसूड़ों को हर प्रकार के फंगल संक्रमण से बचाता है।

हल्दी (Turmeric)

हल्दी स्वभाव से जलनरोधी एवं एंटी फंगल होता है। सबसे पहले हल्दी के पाउडर को गुनगुने पानी में मिश्रित करें। इस मिश्रण के साथ दिन में दो बार गरारा करें। इससे छाले एवं मसूड़ों को काफी आराम मिलेगा।

loading...