Treat urinary tract infections – मूत्र मार्ग के संक्रमण हेतु घरेलू नुस्खे

गुप्त अंग में संक्रमण होना कई पुरुषो और महिलाओं के लिए आम बात है। मूत्राशय में अगर बैक्टीरिया हो तो यह संक्रमण की समस्या( peshab ki problem) होती है। यह दर्द का कारण बन सकती है तथा ध्यान न देने पर बढ़ जाती है। पेशाब का रुक जाना या आते वक़्त जलन महसूस होना इस समस्या के लक्षण है।

इसके कुछ लक्षण ये भी है जैसे: पेशाब में खून का आना या गाढ़ी पेशाब होना। अगर बार बार पेशाब आने के साथ छाती के नीचे दर्द होना, बुखार, बदन दर्द, उलटी इत्यादि जैसी स्थिति हो तो इसका मतलब समस्या अधिक है।

गुप्त अंग की समस्याओं के लिए घरेलू नुस्खे (Home remedies to treat urinary tract problems)

पेशाब के रोग – ब्लूबेरी उपचार (Blueberries treatment)

यूरिन इन्फेक्शन का इलाज, ब्लूबेरी में बैक्टीरिया खत्म करने के गुण मौजूद है इसलिए यह गुप्त अंग में हुए संक्रमण के लिए एकदम उपयक्त है। उन्हें ऐसे ही खाने से, सलाद में मिलकर खाने से या सुबह शाम जूस बनाकर पीने से इस समस्या का समाधान हो सकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट होता है जो बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है जिससे शरीर की प्रतिरक्षा बढ़ती है।

मूत्र रोग – कार्नबेरी जूस (Cranberry juice home remedy for urinary tract infection)

पेशाब में आने वाली पस सेल्स

कार्नबेरी गुप्त अंग के संक्रमण को खत्म करने के लिए अच्छी होती है। दिन में तीन से चार बार यह जूस में शक्कर मिला कर पीए। इससे किडनी में हुए संक्रमण और बीमारियों से बचा जा सकता है।

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन – अनन्नास (Urinary tract infection with pineapple fruit)

यूरिन इन्फेक्शन का इलाज, गुप्त अंग के बैक्टीरिया को अनन्नास खाने से खत्म किया जा सकता है। इसमें एंटी इन्फ़्लैमैटरी गुण होते है जो बैक्टीरिया कम करने में मददगार होते है। इसका रस  पीने पर भी यह उतना ही लाभ प्रदान करता है।

पेशाब के रोग – भरपूर पानी का सेवन (Treat urinary tract infection by drinking lots of water)

भरपूर पानी पीने से व्यक्ति की त्वचा और सेहत दोनों अच्छी रहती है। दिनभर में सात से आठ ग्लास पानी पीने से गुप्त अंग के बैक्टीरिया को मिटाया जा सकता है। धीरे धीरे यह समस्या पानी से खत्म हो सकती है।

मूत्र मार्ग संक्रमण – सेब साइडर सिरका (Prevent UTI’s by apple cider vinegar?)

यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण, इसका सेवन करने से गुप्त अंग की समयाओं से निजात पाया जा सकता है क्योकि इसमें ब्रोमलैन और पोटाशियम होता है। एक ग्लास पानी में दो या तीन चम्मच सिरका और आधा चम्मच शहद मिलाये। अच्छी तरह मिलाने के बाद दिन में तीन से चार बार पियें।

मूत्र रोग – चन्दन (Ways to reduce bladder infections by chandan)

शिलाजीत और पुनर्नवा ऐसे दो तत्व है जिनसे गुप्त अंग की समस्या और उससे हुए संक्रमण को खत्म किया जा सकता है। चन्दन कई सारी गुप्त अंग की परेशानियों में मददगार है।

कमज़ोरी के असरदार घरेलू उपाय

मूत्र विकार – केले की डंडी का रस (Banana stem)

यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण, गुप्त अंग की तकलीफ के लिए केले की डंठल का रस काफी उपयोगी है।

मूत्र विकार – खाने का सोडा (Baking soda on how to treat urinary tract infection)

पेशाब में हुई एसिडिटी को ठीक या होने से रोकने के लिए खाने का सोडा उपयोग में लिया जा सकता है। इस समस्या के लक्षण एवं बीमारी होने से रोकने के लिए एक ग्लास पानी में एक चम्मच खाने का सोडा मिला कर सेवन करे।

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन – फलों के रस (Fruit juices best natural home remedies for UTI’s)

रसों में एंटी ऑक्सीडेंट शामिल होते है जो बाहरी बैक्टीरिया से स्वास्थ को बचाते है। गाजर का रस, कच्चे नारियल का रस, नीबू का रस, गन्ने का रस कुछ ऐसे विकल्प है जिसके सेवन से गुप्त अंग की समस्याएं नहीं होती।

loading...