Iron deficiency symptoms, causes and treatments – घर पर आयरन की कमी के लक्षण, कारण और उपचार

अगर किसी व्यक्ति के शरीर में पर्याप्त मात्रा में लोहा नहीं है तो यह एनीमिया या लोहे की कमी को जन्म दे सकता हैं। लोहा आपके शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन को पाने में मह्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है। चूंकी, मानव शरीर लोहे का उपयोग हीमोग्लोबिन बनाने में करता है।

यह लाल रक्त कणिकओं को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है। जिन लोगों के शरीर में पर्याप्त आयरन होता है, वे लोग आसानी से अच्छी संख्या में लाल रक्त कोशिकाओं को बना सकते हैं, जो अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन और सांस लेने की क्षमता को विकसित करेगा।

एनीमिया के लक्षण – लोहे की कमी के लक्षण (Symptoms of iron deficiency)

  • ध्यान में परेशानी
  • पीला दिखना
  • चिड़चिड़ा होना
  • कमजोरी लगना
  • छोटी सांसे महसूस होना
  • सिर दर्द होना
  • चक्कर आना
  • हड़बड़ाहट होना
  • सामान्य लोगों की तुलना में धीमी विकास और वृद्धि होना
  • ज्यादातर बच्चों में मानसिक और व्यवहारिक समस्यायें होना
  • ध्यान का कम समय होना

यूरिक एसिड के स्तर को कम करने के लिए सही खानपान

खून की कमी के कारण – लोहे की कमी के कारण (Causes of iron deficiency)

पुरुषों की तुलना में आयरन की कमी महिलाओं में ज्यादा पायी जाती है। लोहे के स्थानापन्नों या हर महिला के लिये प्राकृतिक स्रोतों से लोहे को लेने की सिफारिश डॉक्टरों द्वारा की जाती है। यह गर्भवती महिला और बुजुर्ग महिलाओं के लिए बहुत अधिक आवश्यक है। कुछ कारण हैं:

  • आयरन की कमी (iron ki kami) के कारण, मासिक धर्म के दौरान भारी खून बह रहा हो।
  • ,आयरन की कमी के लक्षण, रक्त स्राव की स्थितियों के कारण जैसे अल्सर, कैंसर, बवासीर आदि।
  • एस्पिरिन के उपयोग के कारण रक्त स्राव।
  • आयरन की कमी के कारण, मेंनोपॉज़ के बाद अधिक खून के बहने के कारण लोहे की कमी होती है।
  • आयरन की कमी के कारण, अगर आपको सीलिएक रोग है।
  • अगर आपके पेट या आंत से कोई अंग निकाल दिया गया है।

गर्भावस्था के समय महिलाओं को उच्च मात्रा में लोहे की जरूरत होती है।

अगर आपको लोहे की कमी लगती है तो डॉक्टर को दिखाने की सलाह दी जाती है वह आपको कुछ जांच कराने के लिये कहेगा जिससे उपचार प्रक्रिया का पता लगाया जायेगा। इन जांचों में शामिल हो सकता है आयरन जांच, पूर्ण रक्त गणना परीक्षण आदि जो रक्त में पर्याप्त लोहे की सामग्री को दिखायेगा।

आपको अपने आहार में पर्याप्त लोहा लेने के लिए और एनीमिया नामक बीमारी का इलाज करने के क्रम में लोहे से प्रचुर भोजन का उपभोग करने के लिए कहा जा सकता है। लोहे की कमी से पीड़ित द्वारा आयरन की गोली लेने के दो दिन बाद ही रोगी कुछ बेहतर महसूस करने लगता है। लोहे की कमी होने के कारण का मुख्य स्रोत भी पता लगाया जाना महत्वपूर्ण है। शिशुओं और कुछ बड़े बच्चों में लोहे की आवश्यकता वयस्कों की तुलना में अधिक होती है जिससे उनका विकास तेजी से हो सके।

यह चिकित्सकीय रूप से सिद्ध हो चुका है कि लोगों द्वारा तेजी से रक्त खोने के कारण भी लोहे की कमी हो सकती है।

मूत्र मार्ग के संक्रमण हेतु घरेलू नुस्खे

लोहे की कमी के लिए गृह उपचार (Home treatment for iron deficiency)

खून बढ़ाने के तरीके – पालक (Spinach)

जब आप अपने भोजन का उपभोग कर रहे हैं, तो यह सुनिश्चित करे कि पर्याप्त मात्रा में लोहे का अंश प्राप्त हो रहा हो। आप हरे पत्तेदार सब्जियों या पालक का भी उपभोग कर सकते हैं जो आपके शरीर में लोहे के पर्याप्त भण्डारण में सहायता करेगा। साबुत अनाज आपके लोहे की आवश्यकता को पाने के लिये अच्छे रहेंगे।

शरीर मे आयरन की कमी – संतरे का रस (Orange juice)

यदि आपको अपने घर पर कुछ संतरे मिल सके तो इससे जूसर की सहायता से रस बाहर निकाल लें और इसका उपभोग करें। संतरे के रस में एस्कॉर्बिक एसिड के रूप में विटामिन सी होता है यह लोहे की कमी से पीड़ित रोगियों के लिए अच्छा होगा।

आयरन के आहार – विटामिन बी 12 (Vitamin B12)

आयरन की कमी से ज्यादातर उन लोगों में दिखायी पड़ती है जो प्रकृति में शाकाहारी होते हैं। उन्हें विटामिन बी12 से भरपूर आहार को उपभोग करने की आवश्यकता जो गैर शाकाहारियों के व्यंजनों का स्थानापन्न होगा।

आयरन के स्रोत – अंडा और दूध – (Egg and milk)

लोहे या खून की कमी से पीड़ित व्यक्ति को पर्याप्त मात्रा में अण्डा और दूध का उपभोग आवश्यक है जिससे वे पर्याप्त मात्रा में उस लोहे को पुन: प्राप्त कर सकें जिसे उन्होंने खो दिया है जब एक दुर्घटना या किसी अन्य कारण की वजह से उन्होंने अपना बहुतसारक्त खो दिया था।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday