Hindi remedies for brittle / easily broken nails – नाज़ुक / आसानी से टूटने वाले नाखूनों के लिये घरेलू उपाय

सामान्यतया बहुत सारे लोग नाखूनों के फटने और टूटने की शिकायत करते हैं। हमारा नाखून कैरेटीन नामक प्रोटीन से बना है, और इसमें अन्य पदार्थ भी युक्त हैं। नाखूनों के फटने और टूटने के कारण भिन्न भिन्न है लेकिन नाखून प्राय: कमज़ोर इस कारण से होते है कि वे बहुत सूखे और कोमल होते हैं। स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के अनुसार, दो बेहतरीन सलाह हैं: नाखूनों पर प्रतिदिन मॉइस्चराइज़र लगाना और नुकसानदायक रसायनों से बचना।

जब हम नाखूनों पर मॉइस्चराइज़र लगाते हैं, तो वे उसे नम बनाये रखते हैं और नाखून पर पानी की मात्रा उपस्थित रहती है, निकलती नहीं है, जो नाखूनों को मजबूत और स्वस्थ बनाये रखने के लिये आवश्यक है।

मॉइस्चराइज़ उपचार का सार, नाखूनों से नुकसानदायक रसायनों से अवश्य दूर रखना चाहिये है। आपको अम्लीय खाद्य पदार्थों जैसे सिट्रस फल: संतरा, नींबू और सफाई उत्पादों आदि से दूर रहना चाहिये। अगर सफाई उत्पादों का उपयोग आवश्यक हो तो उन रसायनों से हाथों और नाखूनों की सुरक्षा के लिये दस्तानों को पहनें। अगर गीला कार्य कर रहे है तो विनायल दस्ताने जबकि सूखे कार्य के लिये सूती दस्ताने प्रयोग में लायें।

नाखून में दर्द – नाखून अभिघात (Nail trauma)

ख़राब, टूटते हुए नाखूनों के इलाज के लिए घरेलू उपचार

हमारे हाथों और पैरों के नाखून कई सारी चोटों से हमारी सुरक्षा करते हैं, इन संदर्भों में वे कार्य के समय चोटिल हो जाते हैं। इन नाखून चोटों के परिणाम से संक्रमण, चोट और कुछ मामलों में अविकसित नाखून वृद्धि होता है।

नाखून टूटने, इन नाखून चोटों से बचने के लिये नाखूनों को छोटा रखें और उन चीज़ों से सतर्क रहे हैं जो आप कर रहे हैं जिससे चोटों से बचने में सहायता मिलेगी जैसे दरवाज़े और दराज़ों को बंद करना। कार्य करने वाले औज़ारों के साथ नाखूनों का उपयोग न करें।

नाखूनों की परेशानी – फफूंद (Fungu)

नाखूनों के नष्ट होने की सूची में, किण्व और फफूंद सक्रिय प्रतिभागी हैं। नाखून टूटने, किसी को बजाय उंगलियों के नाखून के, पैरों के अंगूठे में संक्रमण (nakhun ke rog) हो सकता है। यह समस्या एथलीट फुट के समान हो सकती है क्योंकि जो फफूंद पैरों के अंगूठे के नाखून के संक्रमण के लिये कारक है वही एथलीट फुट का कारक है। एथलीट फुट सामान्य संक्रमण है जो नम और गर्म क्षेत्रों जैसे मोजों के अंदर पैदा हो सकता है।

नाखूनों की देखभाल, फफूंद संक्रमण से नाखूनों को बचाने के लिये, सुनिश्चित करें कि आपके नाखून साफ और सूखे हों। आप उन्हें साफ बनाये रखने के लिये बेकिंग सोडा स्क्रब का प्रयोग कर सकते हैं और संक्रमण मुक्त बनाने के लिये नमक के पानी में भिगोयें। एक अन्य सावधानी है, अपने नाखूनों को दांत से न काटें।

यह भी प्रस्तावित है कि उष्णकटिबंधीय फफूंदरोधी दवाओं का उपभोग करें जो माइकॉन्ज़ोल और क्लोत्रिमज़ोल को शामिल करता है अगर आप पैर संक्रमण का चिन्ह पाते हैं, लेकिन अगर संक्रमण नाखून के अंदर है, तो आप चिकित्सा निर्देश के अनुसार ताकतवर दवा का उपयोग करें।

नाखूनों पर से सफ़ेद दाग निकालने के तरीके

नाखून की देखभाल – पूरक (Supplements)

कुछ अध्ययनों ने सिद्ध किया है कि विटामिन बायोटीन का उपयोग मोटे नाखूनों के विकास में सहायता करते हैं, या कठोरता को बढ़ाता है और टूटने और फटने के मौकों को कम करता है। पूरकों के साथ अपने बायोटिन उपभोग को बढ़ायें, क्योंकि ज्यादातर जो भोजन हम खाते हैं उसमें केले से लेकर गाजर तक में विटामिन बी होता है। जब आप अन्य खाद्यों कि ओर देखते हैं, तो उसमें कोई ऐसा खाद्य उत्पाद नहीं होता है जो नाखूनों को मजबूत और नाखूनों के स्वास्थ्य की वृद्दि करता हो।

भंगुर नाखूनों के लिए घरेलू नुस्खे (Home remedies for brittle nails)

हॉर्सटेल (Horsetail)

यह नाखूनों के स्वास्थ्य को बनाए रखने का प्रभावी नुस्खा साबित होता है। हॉर्सटेल काफी प्रभावी जड़ीबूटी है जिसे कमज़ोर नाखूनों तथा सफ़ेद धब्बों का उपचार होता है।

  • एक कप गर्म पानी में 2 चम्मच सूखी हॉर्सटेल की जड़ीबूटी मिश्रित करें।
  • इसे आंच पर 10 मिनट तक चढ़ाकर रखें।
  • जब यह मिश्रण ठंडा हो जाए तो इसमें नाखूनों को 15 से 20 मिनट के लिए डुबोकर रखें।
  • नाखूनों को डुबोने की प्रक्रिया पूरी कर लेने के बाद इन्हें अच्छे से पोंछकर सुखा लें तथा इनपर जैतून का तेल (oliive oil) रगडें।
  • रातभर इस तेल को नाखूनों पर रहने दें।
  • रात में सोने जाने से पहले हफ्ते में 3 बार इस विधि का प्रयोग करें।
  • वैकल्पिक तौर पर हॉर्सटेल की चाय बनाकर इसका सेवन हफ्ते में 2 बार कर सकते हैं।

समुद्री नमक (Sea salt)

लंबे नाखूनों के लिए सर्वोत्तम सुझाव

यह नाखूनों की समस्या को दूर करने के लिए खनिज से भरपूर उपाय है। समुद्री नमक काफी प्रभावी होता है, क्योंकि यह आपके नाखूनों को चमक प्रदान करता है, इन्हें मज़बूत बनाता है और क्यूटीकल्स (cuticles) को नर्म बनाता है।

  • एक छोटे पात्र में गर्म पानी लेकर इसमें 2 चम्मच समुद्री नमक मिश्रित करें।
  • इसमें मीर (myrrh), नींबू, वीटजर्म तथा फ्रैन्किनसेन्स (wheat germ and frankincense) के तेल की 2 बूँदें भी मिश्रित करें।
  • इस मिश्रण में अपने नाखूनों को 10 से 15 मिनट के लिए डुबोकर रखें।
  • 10 से 15 मिनट इसे डुबोकर रखने के बाद धो लें और नाखूनों पर हैण्ड क्रीम (hand cream) का प्रयोग करें।
  • इस विधि का प्रयोग कुछ हफ़्तों तक हर दूसरे दिन करें।

नींबू का रस (Lemon juice)

नींबू का रस त्वचा की समस्याओं के लिए काफी अच्छा उपचार साबित होता है और नाखूनों की समस्या का भी यह अच्छे से निदान करता है। यह कमज़ोर नाखूनों को मज़बूत बनाता है, इनमें चमक लाता है और इन्हें सफ़ेद बनाता है।

  • एक छोटा पात्र लें और इसमें 2 चम्मच नींबू का रस तथा 3 चम्मच जैतून का तेल मिश्रित करें।
  • इस मिश्रण को तब तक गर्म होने दें जब तक इसे छूकर गर्म ना लगने लगे।
  • सोने जाने से पहले एक रुई की सहायता से इसका प्रयोग अपने नाखूनों पर करें।
  • अपने नाखूनों को सारी रात इस मिश्रण को अपने में समा लेने दें।
  • आप बराबर मात्रा में ताज़ा नींबू का रस और आर्गन तेल भी मिश्रित कर सकते हैं।
  • इनमें अपने नाखूनों को डुबोएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें।
  • दोनों में से किसी भी प्रक्रिया का पालन 1 हफ्ते तक दिन में 1 बार करें।

काले गुड़ (Blackstrap molasses)

काले गुड़ आयरन (iron) तथा अन्य पोषक तत्वों से भरे होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं। आयरन की कमी से नाखून कमज़ोर हो जाते हैं, अतः काला गुड़ इस समस्या का समाधान है।

महिलाओं के पैर एवं नाखून सुंदर रखने के नुस्खे

  • एक गिलास गर्म दूध या पानी में 2 चम्मच काला गुड़ मिश्रित करें।
  • इसे अच्छे से हिलाएं और बेहतर परिणामों के लिए दिन में 2 बार इसका सेवन करें।
  • अगर आप मधुमेह के मरीज़ हैं तो इस विधि से दूर रहें।

विटामिन इ का तेल (Vitamin E oil)

नाखूनों में नमी का अभाव होने से भी वे कमज़ोर हो जाते हैं। विटामिन इ का तेल नाखूनों को पोषण एवं नमी प्रदान करने का काफी अच्छा ज़रिया है। यह क्यूटीकल्स को भी पोषण देता है।

  • विटामिन इ के कैप्सूल (capsule) को तोड़कर इससे तेल निकाल लें।
  • इस तेल को सोने जाने से पहले अपने नाखूनों पर अच्छे से 5 मिनट तक मालिश कर लें।
  • इस विधि का पालन 2 हफ़्तों तक रोजाना करें।
  • आप विटामिन इ के कैप्सूल का सेवन भी कर सकते हैं।

टी ट्री ऑइल (Tea tree oil)

टी ट्री ऑइल नाखूनों की किसी भी प्रकार की समस्या का निदान करने में सक्षम है, खासकर वे समस्याएं जो किसी प्रकार के फंगल (fungal) संक्रमण की वजह से पैदा हुई हैं। यह जीवाणुओं तथा संक्रमणों से लड़ने का बढ़िया एंटीसेप्टिक साबित होता है। टी ट्री ऑइल ना सिर्फ कमज़ोर नाखूनों को ठीक करता है, बल्कि इनके बेरंग होने की समस्या से भी निपटता है तथा क्यूटीकल्स को नर्म बनाता है।

  • टी ट्री ऑइल की 3 से 4 बूंदों को डेढ़ चम्मच विटामिन इ के तेल के साथ मिश्रित कर लें।
  • इसे अपने नाखूनों पर लगाएं और कुछ देर तक मालिश करें।
  • अपने नाखूनों को करीब आधे घंटे तक इस मिश्रण का लाभ लेने दें।
  • अब नाखूनों को हल्के गर्म पानी से धोकर अच्छे से पोंछ लें।
  • इनपर कोई मोइस्चराइज़िंग लोशन या क्रीम (moisturizing lotion or cream) लगा लें।
  • इस विधि का पालन हफ्ते में 2 या 3 बार करें।
loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday