Natural bath powder : Sunni Pindi” preparation in Hindi – स्नान के लिए प्राकृतिक घरेलू पाउडर सुन्नी पिंडी

नहाने के लिए प्रयोग में लाया जाने वाला एक जाना माना पाउडर, जो शरीर को सुकून देने के लिए जाना जाता है तथा भारत के दक्षिणी हिस्से में उपलब्ध होता है, सुन्नी पिंडी कहलाता है। यह ख़ास नहाने का पाउडर शरीर के लिए एक बेहतरीन स्क्रब और एक्सफोलिएट (scrub and exfoliate) का काम करता है। एक बार जब आप इसका प्रयोग करने लगें तो आपकी त्वचा काफी नरम और मुलायम हो जाएगी। सुन्नी पिंडी के पाउडर से नहाने की प्रथा भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के लोगों के बीच में काफी लोकप्रिय है। नहाने के इस पाउडर के निर्माण के लिए जिस मुख्य तत्व का प्रयोग किया जाता है, वह है हरे चने का पाउडर। हरे चने का पाउडर चावल के आटे तथा मटर की मदद से निर्मित किया जाता है। सुन्नी पिंडी के इस पाउडर में अन्य तत्व भी मिश्रित होते हैं, जैसे मेथी के पत्ते, तुलसी के पत्ते, हल्दी, आंवला, नीम के पत्ते तथा बादाम के अंश।

स्नान के लिए प्राकृतिक घरेलू पाउडर सुन्नी पिंडी बनाने की विधि (Homemade natural bath powder “Sunni Pindi” making)

बाजार में कई पाउडर उपलब्ध हैं पर सुन्नी पिंडी एक ऐसी पारंपरिक पाउडर है जो आंध्र प्रदेश के लोगों द्वारा इस्तेमाल की जाती है। यह त्वचा से मृत कोशिकाएं हटाकर उसे मुलायम करने में मदद करती है। कई घरों में यह पाउडर साबुन की जगह पर इस्तेमाल की जाती है।

त्वचा की खूबसूरती के लिए 8 प्राकृतिक फेस पैक

सुन्नी पिंडी (Sunni Pindi – The natural Scrub)

सामग्री 

  • हरे चने का आटा – 250 ग्राम
  • चने की दाल – 250 ग्राम
  • काबुली चना –250 ग्राम
  • ताज़ी पीसी हुई हल्दी – 25 ग्राम
  • मुलतानी मिटटी – 200 ग्राम
  • गुलाब की पंखुड़ियों का पाउडर – 30 ग्राम
  • संतरे के छिलके का पाउडर – 30 ग्राम
  • नीम के पत्तों का पाउडर – 30 ग्राम
  • शती – 30 ग्राम
  • चावल का आटा – 30 ग्राम
  • गेहू का आटा – 30 ग्राम
  • तुलसी का पाउडर – 10 ग्राम
  • 4-5 बादाम
  • 1 बड़ा चम्मच मेथी के बीज

ऊपर दी गयी सामग्री में से जितनी उपलब्ध हो वह इस्तेमाल की जा सकती है। इनसे मिश्रण को अच्छी खुशबु मिलती है और यह त्वचा से सभी प्रकार के दाग धब्बे मिटाकर मृत कोशिकाओं को हटाता है। यह सामग्री किसी भी आयुर्वेदिक भंडार या किराने की दूकान पर आसानी से मिल सकती है।

  • हरे चने का आटा, चने की दाल का आटा और काबुली चने का आटा त्वचा से धुल, मिटटी, लगाया हुआ तेल और अतिरिक्त पानी हटाते हैं।

त्वचा की देखभाल करने के तरीके

  • मेथी के बीज मिश्रण के सभी घटकों को बांधे रखते हैं।
  • नींबू से त्वचा पर से गहरे रंग की परत हटती है। तुलसी और नीम त्वचा की कई बिमारियों से रक्षा करते हैं।
  • शती और गुलाब की पंखुड़ियाँ सुन्नी पिंडी के मिश्रण को अच्छी खुशबु देते हैं जिस कारण आप इस फेस पैक को घंटो तक अपने चेहरे पर सहन कर सकें।

सुन्नी पिंडी बनाने की विधि (How to make Sunni Pindi – the traditional scrub)

  • ताजा हरे चने, चना दाल और काबुली चने लेकर उन्हें धुप में 2 दिन के लिए सुखाएं| फिर उन्हें पीसकर आटा बना लें। घर के मिक्सर के ब्लेड को नुकसान से बचाने के लिए बाहर की चक्की में पिसवाने की सलाह है।
  • हरे चने का आटा, चने की दाल का आटा, काबुली चने का आटा, हल्दी और अन्य सामग्री मिलाकर यह मिश्रण कांच के बर्तन में अच्छी तरह से ढक्कन लगाकर संग्रहित करें।

इस्तेमाल करने का तरिका ( How to use Sunni Pindi?)

  • सुन्नी पिंडी को पानी, दूध, नींबू का रस, मसली हुई ककड़ी, टमाटर का रस या दही इनमे से किसी एक में मिलाएं और पेस्ट बनाएं।
  • जिस भाग पर आपको सुन्नी पिंडी लगानी हो उस पर तील का तेल, नारियाल का तेल, जैतून का तेल या सरसों का तेल इनमे से किसी एक तेल से मालिश करें।
  • तेल लगाने से सुन्नी पिंडी त्वचा से अच्छी तरह से चिपक जाती है।
  • सुन्नी पिंडी को त्वचा पर सूखने के लिए छोड़ दें और सूखने पर पानी से धो डालें।
  • सुन्नी पिंडी आपकी त्वचा से धुल, मिटटी हटाकर मृत कोशिकाओं को भी निकालती है। इससे आपकी त्वचा मुलायम, साफ़ और उजली दिखती है।
  • सुन्नी पिंडी त्वचा में खून के बहाव को नियमित करती है।

अगर रोज संभव न हो तो हफ्ते में एक बार सुन्नी पिंडी का उपचार करें और अपनी त्वचा को साफ़ सुथरी और मुलायम पायें।

शुष्क त्वचा के लिए घरेलु फेस पैक/फेशियल

सुन्नी पिंडी के फायदे (Benefits of sunni pindi)

सुन्नी पिंडी शरीर को प्राकृतिक रूप से स्क्रब करता है तथा इसमें वो सारे पोषक पदार्थ और जड़ीबूटियां मौजूद होती हैं जिनसे हमारी त्वचा को पोषण प्राप्त होता है। इसमें प्रयुक्त होने वाली हर एक सामग्री का अपना अलग मूल्य तथा पोषक गुण होता है। इसमें मौजूद मटर, चने के आटे तथा चावल के आटे में त्वचा को एक्सफोलिएट करने के बेहतरीन गुण होते हैं। इसके अलावा हल्दी, तुलसी के पत्तों और नीम के पत्तों में एंटी बैक्टीरियल गुण (anti bacterial properties) होते हैं। अगर आपको त्वचा में किसी तरह की जलन का अनुभव हो रहा है, या फिर किसी तरह का संक्रमण हुआ है तो ये मिश्रण आपके ऊपर काफी कारगर साबित होता है। इसमें मौजूद बादाम की वजह से आपको अपनी त्वचा के लिए पर्याप्त पोषण भी प्राप्त होता है। अगर सुन्नी पिंडी के इस पैक में एसेंशियल ऑयल्स (essential oils) भी मिला दिए जाएं तो त्वचा की बेहतरीन रूप से मॉइस्चराइसिंग (moisturizing) शत प्रतिशत संभव है।

आप अब मेथी के पत्तों की मदद से काफी नरम त्वचा प्राप्त कर सकते हैं। आप गुलाब की पंखुड़ियों की खुशबू की मदद से नहाने का अनूठा अनुभव भी प्राप्त कर सकते हैं। इसमें मौजूद दूध और साइट्रस फलों (citrus fruit) के अंश आपको सनटैन (sun tan) से बचाए रखने में सहायता करते हैं। आपकी त्वचा से अतिरिक्त तेल निकलने की समस्या का समाधान भी इस पैक के द्वारा संभव है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday