How to treat pink eye? – आँखों के लाल होने की समस्या को ठीक करने के उपाय

आँखों के रोग (aankh ke rog) में आँखों का लाल होना एक ऐसी समस्या है जिसमें आपकी आँखों में जलन (aankhon mein jalan) एवं खुजलाहट होती है। इसे कंजंक्टिवाइटिस कहते हैं और इसके होने के कई कारण होते हैं जैसे एलर्जी, बैक्टीरिया और वायरस और धुल, प्रदूषण, मेकअप, धुएं और आँखों के ड्राप से ये स्थिति और भी गंभीर हो जाती है। इसमें आँखों में दर्द, आँख लाल होना,आँख से पानी आना,खुजली और जलन जैसे लक्षण देखे जाते हैं।

आँख की बीमारी, अगर ये स्थिति वायरस के कारण हुई है तो पहले यह एक आँख में होती है और फिर दुसरे में फैलती है। बैक्टीरिया के संक्रमण की स्थिति में दोनों ही आँखें एक साथ प्रभावित होती हैं। नीचे इस स्थिति के उपचार के कुछ आसान उपाय दिए जा रहे हैं।

आँखों के लाल होने को कंजंक्टिवाइटिस (conjunctivitis) कहते हैं, जिसके अंतर्गत कांजन्क्टिवा (conjunctiva) की लाल होने या सूजने की समस्या उत्पन्न होती है। यह एक प्रकार की म्यूकस मेम्ब्रेन (mucus membrane) होती है, जो आँखों की पलकों और आँखों की सतह के पास होती है। आँखों की बनी हुई रेखा आमतौर पर बिलकुल साफ़ होती है, और अगर चिडचिडापन या जलन की समस्या उत्पन्न हो तो यह रेखा लाल और सूजी हुई हो जाती है।

कारण (Causes)

आँखों की सुरक्षा के आसान और प्राकृतिक तरीके

आँखों का लाल होना काफी सामान्य समस्या है और यह 7 से 10 दिनों में बिना किसी उपचार के खुद ब खुद ठीक हो जाता है। नीचे आँखों के लाल होने के मुख्य कारणों का ज़िक्र किया गया है : –

  • आंसुओं में कमी की वजह से आँखों का सूखना। इसका मुख्य कारण हवा और सूरज से आँखों का अतिरिक्त संपर्क होना है।
  • किसी प्रकार की एलर्जी (allergy) होना।
  • वायरस या बैक्टीरिया (virus or bacteria) से पैदा हुआ संक्रमण।
  • रसायन या धुंए के संपर्क में आना।

वायरल और बैक्टीरियल कारणों से आँखों में आया लालपन संक्रामक होता है और काफी आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फ़ैल सकता है। यह हाथों को ठीक से ना धोने, तौलिये और नहाने के कपड़े आदि बांटने से फैलता है और इसीलिए इन चीज़ों से परहेज़ करना अच्छा होता है। वायरल रूप से आँखों का लाल होना अडेनो वायरस (adenovirus) की वजह से होता है, जो एक सामान्य साँसों में पलने वाला वायरस है। यह गले की सूजन या सांसों के संक्रमण का कारण बनता है।

लक्षण (Symptoms)

  • आँखों की पलकों में सूजन आना
  • कानों के सामने के भाग का सूजना और नर्म पड़ना
  • साफ़, गाढ़ा और हलके सफ़ेद रंग का द्रव्य निकलना
  • आँखों के सफ़ेद भाग में लालपन आना
  • आँखों की पलकों में खुजली और जलन होना
  • काफी ज़्यादा आंसू निकलना।

घरेलू नुस्खे (Homemade remedies to treat pink eye)

आलू (Potato)

आलू का उपयोग सिर्फ स्वादिष्ट व्यंजन बनाने में ही नहीं किया जाता, बल्कि आँखों के लाल होने की स्थिति में यह काफी उपयोगी साबित होता है। कच्चे आलू के पतले पतले टुकड़े करें एवं इन्हें अपनी आँखों के ऊपर रखें। इससे आपकी आँखों की सूजन एवं लालपन में काफी कमी आएगी। एक बार प्रयोग में लाने के बाद टुकड़ों को। दिन में कई बार आलू का इस प्रकार से प्रयोग करें एवं परिणाम देखें।

खीरा (Cucumber)

यह आँखों के लाल होने की समस्या को ठीक करने के सबसे आम एवं प्रभावी तरीकों में से एक है, जो आँखों के चिड़चिड़ेपन एवं जलन का काफी अच्छे तरीके से इलाज करता है। खीरे के दो टुकड़े काटें एवं इन्हें 10 मिनट के लिए बर्फीले ठन्डे पानी में रख दें। समाय पूरा हो जाने के बाद खीरे के टुकड़ों को बंद आँखों की पलकों के ऊपर रख दें।

प्रोबायोटिक (Pro-biotic)

आँखों की खुजली की घरेलू चिकित्सा

आपने प्रोबायोटिक के शरीर के हानिकारक जीवाणु ख़त्म करने की क्षमता के बारे में अवश्य सुना होगा। यही क्षमता आँखों के लाल होने की समस्या को ठीक करने के दौरान भी काम आती है। इस स्थिति में प्राकृतिक योगर्ट या केफिर (yoghurt or kefir) का प्रयोग करें। केफिर या प्राकृतिक योगर्ट में रुई के दो गोले डालकर रखें एवं इन्हें अपनी आँखों पर प्रयोग में लाएं। इसे 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें। आपको इससे आँखें लाल होने के लक्षणों से भी राहत मिलेगी एवं संक्रमण की अवधि में भी काफी कमी आएगी।

सुनहरी सील (Golden Seal)

इस आयुर्वेदिक पौधे में एस्ट्रिंजेंट (astringent), जलनरोधी एवं जीवाणुरोधी गुण होते हैं। इसमें बर्बेरिन (berberine) नामक एक यौगिक होता है जो संक्रमण से लड़ने एवं बैक्टीरिया से मुकाबला करने में आपकी मदद करता है। एक कप उबले पानी में दो चम्मच सुनहरी सील डालकर एक मिश्रण बनाएं। इसमें रुई के दो गोले डालकर अपनी आँखों पर लगाएं। वैकल्पिक रूप से उबले पानी में ये सील डालकर 15 मिनट के लिए छोड़ दें और इसे छानकर इसका प्रयोग आई ड्रॉप्स (eye drops) के रूप में करें।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,899 other subscribers

ठन्डे मौसम की वजह से आँखों का लाल होना (Pink eye treatment in Hindi)

अगर आपको ठंडी हवा या ठंडे मौसम की वजह से आँखे लाल होने की समस्या होती है तो इसके उपचार का सीधा और आसान उपाय है ठण्ड या ठंडी जगह से बचाव. आँखों को सीधे ठंडी हवा के संपर्क में न आने दें, बाइक चलाते समय चश्मे का प्रयोग आवश्यक रूप से करें. ठण्ड के दिनों में ठंडी चीज़ों जैसे आइसक्रीम आदि न खाएं. ठंडा पानी न पीएं. ठंडी हवा या मौसम की वजह से आँखे लाल होने पर गर्म सेंक लेना लाभदायक होता है.

गर्म या ठंडी सेंक (Cold or warm compress)

गुलाबी आँखों की वजह से आँखों में आई सूजन और आँखों का लाल होना ठीक करने के लिए गर्म या ठंडी सेंक का प्रयोग करें। एक साफ़ सूती का कपड़ा लें और उसे ठन्डे या गर्म पानी में डुबोएं। अतिरिक्त पानी को निचोड़ें और कपडे को अपनी बंद आँखों पर रखें। इस प्रक्रिया को दिन में 3 से 4 बार दोहराएं। यह उपचार आँखों में दर्द, आँख से पानी आना निकलने की समस्या का भी निदान करता है। दोनों आँखों में अलग कपड़ों का इस्तेमाल करें।

आँखों की देखभाल काली चाय से (Black tea)

गुलाबी आँखों पर काली चाय एक बढ़िया घरेलू औषधि है। यह अपने टैनिंस से आँखों की जलन और खुजली कम करता है और अपने बायो फ्लेवोनॉयड्स द्वारा वायरल संक्रमणों से लड़ता है।

2 काली चाय के बैग लें और उन्हें कुछ देर तक फ्रिज में रखें। इन्हें बाहर निकालकर अपनी आँखों पर 10 से 15 मिनट तक रखें। इस प्रक्रिया का दिन में 3 से 4 बार इस्तेमाल करें। आप कैमोमाइल टी या ग्रीन टी के बैग्स का भी प्रयोग कर सकते हैं।

खारे पानी का मिश्रण (Saline solution)

सूजी हुई आँखें ठीक करने के घरेलू नुस्खे

यह गुलाबी आँखों को घर बैठे ठीक करने की बेहतरीन विधि है। यह एक प्राकृतिक सफाई यंत्र की तरह काम करता है और समस्या का जल्दी निवारण करता है। एक कप शुद्ध पानी लें और उसमें आधे से एक चम्मच नमक डालें। अब इस मिश्रण को उबालें और ठंडा होने के लिए छोड़ दें। थोड़ी सी मात्रा लें और आँखों पर ड्रॉपर की तरह इस्तेमाल करें। अच्छे परिणामों के लिए दिन में कई बार इस विधि का प्रयोग करें।

आँखों की देखभाल बोरिक एसिड से (Boric acid)

बोरिक एसिड आँखों को ठीक करने का काफी प्रभावी तरीका है। यह एंटी बैक्टीरियल तथा एंटी फंगल गुणों के द्वारा खुजली,आँखों के लाल होने तथा जलन को कम करता है। 1 कप पानी उबालें और उसमें 1 चम्मच बोरिक एसिड डालें। अब सूती के बॉल द्वारा इस मिश्रण को अपनी आँखों पर लगाएं या फिर ड्रॉपर की मदद से इसका आई वाश की तरह प्रयोग करें। इसके बाद इसे गुनगुने पानी से धो दें और एक साफ़ कपडे से पोंछ लें। दिन में इस विधि का 2 से 3 बार उपयोग करें।

आँखों की देखभाल एलोवेरा से (Aloe vera)

एलोवेरा अपने एंटीसेप्टिक एवं एस्ट्रिंजेंट के गुणों से गुलाबी आँखें और उससे जुड़े लक्षणों को हटाता है। एलो वेरा के पौधे से जेल निकालें और इसे ताज़े पानी में डालें। इसे अच्छे से मिलाकर इस मिश्रण को आँख धोने के लिए एक ड्रॉपर की मदद से अपनी आँखों में डालें। आँख से पानी गिरना, इस उपचार का प्रयोग दिन में 3 से 4 बार करें।

शहद (Honey)

शहद आँखों के लाल होने की समस्या को दूर करने का काफी अच्छा उपाय साबित होता है। शहद में एंटी बैक्टीरियल, एंटी वायरल और जलनरोधी (antibacterial, antiviral, and anti-inflammatory) गुण होते हैं। ऐसा मुख्य रूप से इसमें मौजूद कंपाउंड डिहाइड्रोक्सीएसीटोन (compound dihydroxyacetone) की वजह से होता है। एक चौथाई चम्मच कच्चा शहद, एक चौथाई कप शुद्ध पानी और एक चुटकी नमक लें। कच्चे शहद और नमक को शुद्ध पानी में मिश्रित करें और इसे अच्छे से पूरी तरह मिला लें। इस बात को सुनिश्चित करें कि पानी पूरी तरह गर्म ना हो, क्योंकि इससे पानी के उपकारी गुणों का विनाश हो जाता है। इस मिश्रण की एक से दो बूँदें एक साफ़ ड्रॉपर (dropper) की मदद से दोनों आँखों में डालें और हर कुछ घंटों में इस प्रक्रिया को दोहराएं।

दूध और शहद (Milk and honey)

दूध और शहद कंजंक्टिवाइटिस की स्थिति में आँखों को सूकून देते हैं और इनका उपचार करते हैं। शहद में काफी प्रभावी एंटी बैक्टीरियल गुण (anti-bacterial properties) होते हैं। शहद और दूध को बराबर मात्रा में लें और इनका प्रयोग करें। इस बात को सुनिश्चित करें कि दूध गर्म हो। इन दोनों को अच्छे से मिलाएं और तब तक हिलाते रहें, जब तक कि शहद दूध में अच्छी तरह से घुल ना जाए। आँखों की ड्रॉपर की मदद से 2 से 3 बूँदें लें और इन्हें कई बार अपनी आँखों में डालें। इस मिश्रण का प्रयोग एक सेंक की तरह करें। यह उपचार तुरंत काम करना शुरू करता है और 24 घंटों के अन्दर आपकी आँखों का लालपन दूर हो जाता है।

loading...