Homemade remedies to treat oral thrust – मुंह के छालों के लिए घरेलू उपाय

मुंह के छाले (Oral Thrust) जीभ या मुंह के अंदर सफेट रंग की परत जैसे दिखाई देते हैं जो कैंडीडा अल्बिकन (Candida Albicans) नामक फंगस की अधिकता की वजह से उत्पन्न होते हैं। यह मुंह में किसी भी तरफ हो सकता है और इसकी वजह से मुंह के अंदर जीभ और गले के आस पास लालिमा हो सकती है। वयस्कों में एंटीबायोटिक्स की अधिक मात्रा लेने की वजह से अच्छे बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं जिसकी वजह से फंगल इन्फेक्शन बढ़ता है और मुंह में छाले निकल आते हैं।

छाले के घरेलू उपाय हिन्दी में (Chhalo ke upay Hindi me)

एप्पल साइडर वेनेगर (Apple cider vinegar)

एक कप गरम पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनिगर मिला लें। दिन में 3 से 4 बार इस घोल से कुल्ला करें। यह मुंह के छालों को ठीक करने का घरेलू उपचार है।

बोरिक एसिड (Boric Acid)

एक कप पानी में ¼ चम्मच बोरिक एसिड के पाउडर को घोल लें, इस पानी से मुंह धोएँ। यह प्रयोग बच्चों पर नहीं आज़माना चाहिए इससे सेहत को नुकसान हो सकता है। बड़ी उम्र के लोग भी जब इस प्रयोग को करें तो इसे जयद देर मुंह में न रखें और ध्यान रहे कि, यह पेट में नहीं जाना चाहिए।

लहसुन (Garlic)

लहसुन एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुणों से भरपूर होता है जिसकी वजह से शरीर में होने वाले संक्रमणजनित रोगों के उपचार में इसका प्रयोग आसानी से किया जा सकता है। लहसुन की कुछ कलियों को कुचल कर रस निकाल लें और इसे प्रभावित हिस्से में लगा कर रखें।

दही (Yogurt)

दही में भी लहसुन की ही तरह बैक्टीरिया को नष्ट करने का गुण पाया जाता है। इसके लिए घर में बनाए हुये दही का प्रयोग करना बेहतर होता है, जिसमें प्राकृतिक रूप से लेक्टोबेसिलस की मात्रा अधिक होती है।

प्लेंटेन के बीज (Plantain Seeds)

प्लेंटेन सीड्स के नाम से यह बहुत से स्टोर्स में आजकल उपलब्ध होता है जिसके कई तरह के सेहत लाभ हैं। कुछ मात्रा में इसके बीजों को रात भर के लिए पानी में भिगो कर रख दें। सुबह आप देखेंगे कि यह एक गाढ़ा और चिपचिपा जेल की तरह देखने में लगता है। गाढ़ा होने की वजह से इसे छालों पर लेप की तरह लगा कर कुछ समय तक रखें, इसके नियमित प्रयोग से 3 से 4 दिनों में मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

तेल (Oils)

छाले को ठीक करने के लिए कई तरह के औषधिय गुणों से भरपूर प्राकृतिक तेल मौजूद हैं जो छालों पर बहुत अच्छा असर डालते हैं। इनमें लेवेंडर ऑइल और लौंग का तेल प्रमुख हैं। इसका प्रयोग करने के लिए टुथब्रश में तेल की कुछ बूंदे लेकर सामान्य तरीके से ब्रश करने की तरह इसे छालों पर हल्के हाथों से चलाएं।

नमक (Salt)

नमक का घोल भी छालों पर बहुत प्रभावी तरीके से काम करता है। नमक को पानी में मिलाकर इससे कुल्ला किया जा सकता है या गर्म पानी में नमक मिला कर इससे कुछ देर मुंह में रख सकते हैं, गर्म पानी के प्रभाव से छालों को आराम भी मिलता है और इनकी सुधार प्रक्रिया में तेजी आती है.

नारियल का तेल (Coconut oil)

नारियल का तेल एंटीफंगल होने की वजह से छालों के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है. नारियल के तेल को आप मुंह के छालों पर लगा कर कुछ देर रखने से किसी तरह की समस्या नहीं होती. इसके लिए आप एक्स्ट्रा वर्जिन कोकोनट ऑइल का प्रयोग करें.

बेकिंग सोडा (Baking soda)

बेकिंग सोडा को खाने का सोडा भी कहा जाता है जो आसानी से किचन में मिल जाता है. बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर कर गाढ़ा पेस्ट बना लें और इसे छालों पर लगा कर 2 से 3 मिनट तक रखें, इस प्रक्रिया को दिन में 2 बार ज़रूर करें.

दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी हमारे भोजन का एक खास हिस्सा है जो स्वाद और खुशबू के लिए इस्तेमाल किया जाता है. दालचीनी में कुछ ऐसे घटक होते हैं जो मुंह में होने वाले यीस्ट इन्फेक्शन के जिवाणुओं को नष्ट करने में सहायक होते हैं. आप दालचीनी का एक टुकड़ा मुंह में रख कर चूस सकते हैं. इसका प्रयोग दिन में कई बार थोड़े थोड़े अंतराल में करना चाहिए.

loading...