Skin care tips for teenage girls – टीनएज लड़कियों के लिए स्किन केयर टिप्स

किशोरावस्था लड़कियों के लिए बहुत ही मुश्किल दौर होता है। जहां उनके शरीर के अंदर हॉर्मोनल बदलाव होते रहते हैं वहीं शरीर में कुछ  बाहरी परिवर्तन भी होते हैं। इन सब बदलावों में सबसे मुश्किल होता है चेहरे पर पिंपल या मुंहासों का सामना करना जिसे नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता। पर एक सही तरीके और उपयुक्त उपायों द्वारा आप इन समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

चेहरे पर किसी प्रकार का प्रयोग करने से पहले ये जानना बहुत ज़रूरी है कि, आपकी त्वचा किस तरह कि है या आपका स्किन टाइप क्या है? इस सवाल के जवाब के बाद ऐसे कई घरेलू और प्राकृतिक उपाय हैं जिनकी मदद से आप बेहतर स्किन केयर के द्वारा स्वस्थ दमकती त्वचा और खूबसूरत निखार पा सकती हैं।

त्वचा के प्रकार और उनकी देखभाल के लिए स्किन केयर टिप्स (Main type of skin and their care)

सामान्य त्वचा के लिए स्किन केयर टिप्स (Normal skin care)

सामान्य त्वचा मुलायम और साफ होती है। इस पर किसी तरह के दाग धब्बे या निशान आदि नहीं होते। इसमें किसी प्रकार कि महीन रेखाएँ या खुले हुये पोर आदि दिखाई नहीं देते हैं। ये न तो रूखी होती है और न ही ज़्यादा तैलीय। ये स्वस्थ त्वचा कहलाती है जिसमें पानी कि उपयुक्त मात्रा होती है और त्वचा पर ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर रहता है। ऐसी त्वचा की देखभाल भी बहुत आसान होती है। सामान्य त्वचा वाली किशोरियों को दिन में दो बार किसी सौम्य क्लिंजर और पानी से चेहरा साफ करना चाहिए।

स्किन टिप्स – ड्राई स्किन के लिए घरेलू उपाय (Dry skin care)

ड्राई स्किन रूखी सूखी और बेजान होती है। इसका मुख्य कारण त्वचा के ऊपर कोशिकाओं की परत का जमा होना है। ऐसे त्वचा को रोज़ किसी सॉफ्ट क्लिंजर की मदद से साफ करना चाहिए। उसके बाद नमी के लिए किसी अच्छे क्रीम या लोशन का प्रयोग करना चाहिए। इससे आपकी त्वचा में नमी बनी रहती है और चेहरे की शुष्कता कम होती है। चेहरे को धोने के लिए हमेशा सॉफ्ट साबुन या फेस वॉश का उपयोग करना चाहिए उसके बाद चेहरे की त्वचा को मॉश्चराइज़ करें। इस नमी की वजह से आपकी त्वचा की भीतरी परत को भी पर्याप्त हाइड्रेशन मिलता रहता है जिसके बाद त्वचा सॉफ्ट, मुलायम और तरोताजा दिखाई देती है। चेहरे पर अल्कोहलरहित (without alcohol) उत्पादों का इस्तेमाल करना बेहतर होता है। गर्म पनि या शावर के प्रयोग से बचना चाहिए साथ ही ज़्यादा गर्म और आर्द्र वातावरण में नहीं रहना चाहिए।

ऑयली त्वचा के लिए बेहतरीन स्क्रब

स्किन केयर टिप्स – तैलीय त्वचा के लिए प्राकृतिक उपाय (Oily skin care)

तैलीय त्वचा मुंहासों की मुख्य वजह होती है। इसमें पोर खुले हुये साफ़ नज़र आते हैं। ब्लैकहेड्स और पिंपल से ऐसे चेहरे को बहुत नुकसान होता है। शरीर में होर्मोंस के बदलाव की वजह से अत्यधिक तेल का त्वचा से रिसाव होता है। ऐसी त्वचा को दिन में कम से कम 3 बार पानी और क्लिंजर (cleanser) से धोना चाहिए। चेहरे से अत्यधिक तेल को हटाने के लिए आप क्लिंजर पैड का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। ये आपके चेहरे की त्वचा को साफ रखता है और अतिरिक्त तेल को चेहरे से दूर भी करता है।

मिली जुली त्वचा के लिए स्किन केयर टिप्स (Combination skin care)

ड्राय और ऑइली स्किन से मिश्रित त्वचा को इस श्रेणी में रखा गया है। इसमें नाक और माथे का मध्य भाग ऑइली होता है जबकि बाकी हिस्से ड्राई होते हैं। मिली जुली त्वचा को देखभाल की और भी ज़्यादा ज़रूरत होती है। इस तरह के चेहरे का ड्राय हिस्सा नियमित रूप से साफ और हाइड्रेट होना चाहिए, वहीं ऑइली (oily) भाग कि नियमित सफाई के साथ स्क्रबिंग और टोनिंग ज़रूरी होती है। ऐसी टीवीसीएच असरदियों में ड्राइ हो जाती है और गर्मियों के समय तैलीय हो जाती है। मिलीजुली त्वचा को रोज़ दिन में 3 बार क्लिंजर (cleanser) और पानी से धोकर साफ करना चाहिए। चेहरे को साफ करने के बाद मॉश्चराइजर का इस्तेमाल कर पर्याप्त नमी देना चाहिए।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

किशोरावस्था में लड़कियों के लिए त्वचा को स्वस्थ रखने के कुछ खास चरण (Steps to keep the teenage skin healthy)

त्वचा की देखभाल कैसे करें – त्वचा की सफाई (Cleanse se skin ki dekhbhal)

त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने के लिए उसकी क्लिंजिंग आवश्यक है। इससे चेहरे में जमा गंदगी, दूल आदि के कण और डेड स्किन निकलकर साफ हो जाते हैं और स्किन को सांस लेने में सुविधा होती है। किसी अच्छे किस्म के साबुन और पानी से त्वचा को साफ कर अतिरिक्त तेल को बाहर निकाल देने से एक्ने (acne) जैसे समस्याओं की संभावना कम हो जाती है। रोज़ इस्तेमाल किए जाने वाले क्लिंजर में सेलिसिलिक एसिड (salicylic acid) की मौजूदगी होनी चाहिए। यह त्वचा पर तेल के स्त्राव पर नियंत्रण रखता है। इसके अलावा यह डेड स्किन या मृत त्वचा को भी त्वचा से दूर करता है।

मॉश्चुराइज़ और हाइड्रेशन (Moisturize and hydrate se twacha ki dekhbhal)

हमारी त्वचा को केवल नहाते वक़्त पानी के द्वारा हाइड्रेशन मिलता है। पर इतना काफी नहीं है। त्वचा को पानी के साथ तेल द्वारा नमी भी मिलनी ज़रूरी होती है। ज़्यादातर क़िस्मों की त्वचा को दिन में दो बार मॉश्चुराइज़ करने की आवश्यकता पड़ती है। तैलीय त्वचा पर बहुत गाढ़ी या अत्यधिक तेलयुक्त क्रीम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। टेलरहित क्रीम का प्रयोग ऐसी त्वचा के लिए अच्छा होता है।

स्किन की देखभाल – त्वचा का उपचार (Treatment of skin condition)

बाज़ार में उपलब्ध रूखी त्वचा के लिये बॉडी लोशन

त्वचा की पोर में धूल या गंदगी के जमाव से मुँहासे होने लगते हैं। इन पोर के बंद हो जाने से तेल ग्रंथियां अत्यधिक तेल का स्त्राव त्वचा पर करने लगती है। साबुन के इस्तेमाल से तेल का स्त्राव कम नहीं होता। ज़्यादा क्रीम आदि का इस्तेमाल करने से एक्ने आदि की समस्या और भी ज़्यादा बढ़ जाती है। स्क्रबिंग के बाद भी त्वचा पर खुजली जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इसके लिए बेंजोइल पैराऑक्साइड युक्त क्रीम या लोशन का इस्तेमाल करना बेहतर होता है। इसके लिए यह सलाह दी जाती है की केवल प्रभावित हिस्से में ही इस क्रीम या लोशन को लगाना चाहिए ताकि भविष्य में मुंहासों या पिंपल आदि की समस्या जन्म ना ले सके। इसके अलावा त्वचा पर घरेलू उपायों से भी एक्ने को दूर किया जा सकता है। ये प्राकृतिक उपाय त्वचा के लिए ज़्यादा सुरक्षित होते हैं।

टीनएज में त्वचा की सुरक्षा के उपाय (Protection of the skin)

इस उम्र में वातावरण के दुष्प्रभावों से त्वचा की सुरक्षा करना बहुत ही ज़रूर है। क्लिंजिंग के बाद आप त्वचा की सफाई कर सकते हैं। फाउंडेशन के साथ एसपीएफ़ युक्त सनस्क्रीन का इस्तेमाल कर आप हानिकारक अल्ट्रावाइलेट किरणों से त्वचा का बचाव कर सकती हैं। गर्मी के दिनों में पूरी बाहों वाली शर्त या कपड़े, टोपी और पैंट की मदद से भी इन नुकसानदायक किरणों से स्किन की रक्षा की जा सकती है।

टीनएज स्किन केयर के लिए खास बातें (Secrets of teenage skin care)

स्वास्थ्यकर तरीके से करें सफाई (Cleanliness with hygienic habits)

टीनएजर्स के लिए यह सबसे पहला और सबसे खास उपाय है। जिसमें आपको यह पता होना चाहिए की आप त्वचा की सफाई जिस तरीके से कर रहे हैं वह आपकी त्वचा के लिए सेहतमंद है या नहीं। इस उम्र में तेल की ग्रंथियां ज़्यादा सक्रिय हो जाती है। इसके साथ जब आप बाहर के वातावरण के संपर्क में आते हैं जैसे जिम, डांस, स्पोर्ट्स आदि। तो यहाँ आपकी त्वचा को बड़ी मात्र में धूल और गंदगी का सामना करना पड़ता है। अपने चेहरे को साफ करने के पहले अपने दांतों को साफ करें ताकि जीवाणु आपके चेहरे पर न रह जाए। चेहरे को अधिक गर्म या ठंडे पानी से धोने की बजाए गुनगुने पानी से साफ करना बेहतर होता है।

त्वचा की देखभाल कैसे करे – चेहरे को ना छूएँ (Touching and picking)

चेहरे को बार बार छुने से बचना चाहिए। हमारे हाथों में कई तरह के जीवाणु बड़ी तादाद में होते हैं जो हाथों के माध्यम से चेहरे तक पहुँच जाते हैं और त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं। बाहर पालतू पशुओं के साथ खेलते हुये या जीवाणु भरे हाथों से त्वचा को खुजाने से जीवाणु आपकी त्वचा में रह जाते हैं और यह पिंपल आदि का कारण बनते हैं।

रोज़ाना स्किन की देखभाल – संतुलित आहार लें (Eat a balanced diet)

ऐसे बहुत से भोजन हैं जो त्वचा में जलन या दर्द आदि बढ़ाने में मदद करते हैं ऐसे भोजन के सेवन से बचना चाहिए। जंक फूड जैसे पिज्जा, हॉटडॉग, प्रोसेस्ड मीट, रिफाइंड शुगर और कुछ खास डेयरी प्रॉडक्ट त्वचा के लिए सेहतमंद नहीं होते हैं। इनका प्रयोग नहीं करना चाहिए।

ब्लैकहेड्स को पहले निकालें (Early treatment of blackheads)

त्वचा को गोरा बनाने के लिए घरेलू उपाय

ब्लैकहेड्स का समय पर उपचार करके आप मुंहासों को होने से पहले खत्म कर सकती हैं। किसी सौम्य स्क्रब की मदद से चेहरे की त्वचा को स्क्रब करें और ब्लैकहेड्स को हटा लें। इसके लिए आपको अपनी उँगलियों की मदद लेनी चाहिए। उँगलियों को त्वचा पर गोल घुमाते हुये स्क्रब करें।

टीनएज किशोरियों के लिए स्किन केयर टिप्स (Teenage girls skin care tips)

खीरे के प्रयोग से स्किन के लिए ब्यूटी टिप्स (Cucumber for face ki dekhbhal)

खीरे का प्रयोग आप सलाद में या कच्चा खाने में तो करते ही होंगे पर क्या आपको पता है यह त्वचा के लिए भी उतना ही गुणकारी होता है। खीरे के पतले स्लाइस काट लें और उसे त्वचा पर हल्के हाथों से रगड़ें। यह त्वचा की बनावट को बेहतर करता है। इसके प्रयोग के बाद आपको अपनी त्वचा पहले से अधिक नर्म और मुलायम महसूस होगी।

एलोवेरा जेल से स्किन केयर (Aloe vera gel for teenage skin care)

एलोवेरा की ताज़ा पत्तियों को तोड़कर उससे जेल निकाल लें, इसे चेहरे पर लगा कर हल्के हाथों से मसाज करें। जब यह स्किन में अच्छी तरह समा जाए तो इसे धोकर साफ कर लें।

हल्दी और चन्दन से करें त्वचा की देखभाल (Sandalwood and turmeric for teenage beauty)

किशोर अवस्था में लड़कियां ज़्यादातर पिंपल का शिकार होती हैं। पिंपल से बचने के लिए हल्दी और चंदन बहुत उपयोगी प्रयोग हैं। इनमें एंटीसेप्टिक गुण होता है। चंदन के पाउडर में एक चुटकी हल्दी पाउडर मिला लें। इसे पानी में पेस्ट बना कर 20 मिनट तक चेहरे पर लगा कर रखें फिर ठंडे पानी से धो लें।

loading...