Hindi tips for hormonal imbalance in women – महिलाओं में हार्मोनल असमानता

महिलाओं में हार्मोनल असमानता क्या है एवं इसे किस प्रकार नियंत्रित किया जा सकता है? (What is Hormonal Imbalance in Women & how you can balance it?)

महिलाओं में हार्मोनल असमानता काफी बड़ी समस्या मानी जाती है। स्वस्थ एवं उपयुक्त मात्रा में हॉर्मोन्स वाला शरीर निरंतर खुद को नियंत्रित रखने के लिए हॉर्मोन्स का उत्पादन करता है। आजकल हार्मोनल असमानता की समस्या काफी आम हो गयी है। शरीर में हॉर्मोन्स असमान तब होते हैं जब इन्हें पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलते तथा शरीर पर अतिरिक्त तनाव होता है। एक आदर्श नियमित दिनचर्या आपके शरीर में हॉर्मोन्स को नियंत्रित रखती है। आप कुछ घरेलू नुस्खों की सहायता से अपना स्वास्थ्य एवं हॉर्मोन्स का नियंत्रण वापस प्राप्त कर सकते हैं।

लक्षण (Symptoms)

घरेलू नुस्खे को अपनाएं और हार्मोनल असंतुलन से छुटकारा पाएँ

हार्मोनल असमानता के कई लक्षण होते हैं जिनमें प्रमुख हैं: बेचैनी, निराशा, समय से पीरियड्स (periods) न होना, भूख लगने की प्रक्रिया में बदलाव, पाचन समस्या, कामेच्छा में कमी, वज़न का घटना, नींद ना आना, अनुर्वरता, सूजन एवं कई अन्य लक्षण।

ऐसा होने का कारण शरीर में मौजूद प्रोजेस्टेरोन एवं एस्ट्रोजन का असंतुलन है। ये दोनों हॉर्मोन्स काफी आवश्यक संतुलन में शरीर में मौजूद होते हैं एवं इनमें हुआ किसी भी प्रकार का बदलाव हॉर्मोन असमानता का कारण बनता है। यह महिलाओं में 30 वर्ष की कम उम्र में तथा 60 वर्ष की प्रौढ़ावस्था में भी देखा जाता है। महिलाओं में हार्मोनल असमानता एवं तनाव के कई कारण हैं, जिनमें व्यायाम का अभाव एवं पोषक तत्वों का अपर्याप्त सेवन प्रमुख है।

हॉर्मोन्स को नियंत्रित करने के घरेलू नुस्खे (Home remedies to balance hormones)

मक्के की जड़ (Maca root)

मक्के की जड़ मैग्नीशियम, कैल्शियम, फैटी एसिड्स, फाइबर, आयरन, फॉस्फोरस, जिंक एवं पोटैशियम (magnesium, calcium, fatty acids, fiber, iron, phosphorus, zinc, and potassium) से युक्त होती है जो उर्वरता बढ़ाते हैं एवं शरीर में ऊर्जा का संचार करते हैं।

एक चौथाई चम्मच मक्के की जड़ के पाउडर को एक कप पानी, रस, आयुर्वेदिक चाय, स्मूदी या योगर्ट (smoothie or yogurt) के साथ मिश्रित करें। धीरे धीरे अगले कुछ हफ़्तों में इस मात्रा को एक या 2 चम्मच तक करें एवं कुछ हफ़्तों तक इसका सेवन रोज़ाना करें।

चेस्टबेरी (Chasteberry)

चेस्टबेरी का प्रयोग एस्ट्रोजन एवं प्रोजेस्टेरोन (estrogen and progesterone) को संतुलित करने के लिए किया जाता है। यह प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (premenstrual syndrome) एवं अन्य मासिक धर्म की समस्याओं को कम करने की श्रेष्ठ विधि मानी जाती है। यह प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer) से भी आपकी रक्षा करती है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,129 other subscribers

नारियल तेल (Coconut oil)

मधुमेह के रोगियों के लिए श्रेष्ठ खाद्य पदार्थ

एक्स्ट्रा वर्जिन (Extra-virgin) नारियल का तेल काफी आसानी से प्राप्त हो जाता है एवं हॉर्मोन्स को संतुलित करने का काफी प्रभावी एवं प्राकृतिक घरेलू नुस्खा है। नारियल का तेल रक्त में चीनी की मात्रा संतुलित करने, मेटाबोलिज्म (metabolism) नियंत्रित करने, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने एवं वज़न घटाने में आपकी मदद करता है। यह दिल की बीमारियों से भी आपकी सुरक्षा करता है। कम से कम कुछ महीनों के लिए रोज़ाना 2-3 चम्मच एक्स्ट्रा वर्जिन नारियल तेल का प्रयोग करें।

ओमेगा 3 फैटी एसिड्स (Omega-3 fatty acids)

ओमेगा 3 फैटी एसिड हॉर्मोन्स को बढ़ावा देने एवं संतुलित करने में काफी अहम् भूमिका निभाता है। इसमें मौजूद जलनरोधी एवं एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) के गुणों के कारण यह हमारे शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है।

  1. ओमेगा-3 फैटी एसिड तैलीय मछली, पटसन के बीजों, अखरोट, सोयाबीन, टोफू, जैतून के तेल आदि में पाया जाता है।
  2. आप अपने डॉक्टर से सलाह करने के बाद ओमेगा-3 के पूरक भी ग्रहण कर सकते हैं।

व्यायाम (Exercise)

व्यायाम शरीर के हॉर्मोन्स को संतुलित करने का श्रेष्ठ तरीका है, क्योंकि यह हॉर्मोन के उत्पादन को प्रभावित करके आपके कोलेस्ट्रोल (cholesterol) को कम रखता है। आप 20 से 30 मिनट के लिए चहलकदमी, तैराकी, जॉगिंग (jogging) एवं अन्य हल्के व्यायाम कर सकते हैं। आप योगा एवं अन्य आराम प्रदान करने वाले व्यायाम कर सकते हैं।

विटामिन डी (Vitamin D)

सबसे बेहतरीन प्राकृतिक नुस्खा रोज़ाना कुछ मिनटों तक सूरज के संपर्क में आकर विटामिन डी (vitaminD) ग्रहण करना है। आप विटामिन से भरपूर भोजन का चयन कर सकते हैं। आप अपने डॉक्टर से सलाह करके विटामिन डी का पूरक भी ग्रहण कर सकते हैं।

loading...