How frequently you should visit doctor during pregnancy – गर्भावस्था के दौरान कितनी बार डॉक्टर से जांच करवाएं?

गर्भावस्था के समय बीच बीच में ही डॉक्टर के पास जाना अनिवार्य है क्योंकि इस समय डॉक्टर से सलाह करना स्वस्थ गर्भधारण तथा एक स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए काफी आवश्यक है।

आमतौर पर एक गर्भवती महिला को पहली और दूसरी तिमाही में हर 4 हफ़्तों में, तथा उसके बाद 36 हफ़्तों की गर्भावस्था के रह जाने तक हर दो हफ़्तों में डॉक्टर के पास जांच के लिए जाना चाहिए। इस अवधि के बाद बच्चे के जन्म लेने तक हर हफ्ते डॉक्टर से सलाह लेने उनके पास जाएं। डॉक्टर के पास जाने की अवधि एक महिला के मेडिकल इतिहास (medical history) पर निर्भर करती है। अगर किसी महिला को उच्च ब्लड प्रेशर (high blood pressure) जैसी कोई समस्या हो, तो उसे और भी ज़्यादा बार डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता है।

गर्भावस्था में देखभाल – सामान्य चेकअप के अलावा गर्भावस्था के समय डॉक्टर से मिलने का समय (Beside normal check-ups when should a woman see the doctor during pregnancy – garbhavastha ki dekhbhal)

गर्भावस्था के दौरान त्वचा में होने वाले बदलाव

  • डॉक्टर के पास पहली बार तब जाएं, जब आपको अपनी गर्भावस्था की पुष्टि करनी हो तथा अपने बच्चे का अच्छा स्वास्थ्य सुनिश्चित करना हो। समय समय पर चेक अप के लिए जाने से माँ और बच्चे दोनों को स्वस्थ रहने में काफी मदद मिलती है।
  • अगर गर्भावस्था के किसी भी चरण में खून निकलने या फिर किसी प्रकार की स्पॉटिंग (spotting) का अनुभव हो, तो डॉक्टर की सहायता लें। अगर शरीर में क्रैंप्स (cramps) के साथ काफी ज़्यादा खून निकले तो तुरंत डॉक्टर के पास जाना अनिवार्य है, क्योंकि यह एबॉर्शन (abortion) के लक्षण हो सकते हैं।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, कहीं भी घूमने जाने से पहले एक गर्भवती महिला को अपने डॉक्टर से सलाह करनी चाहिए। अगर एक गर्भवती स्त्री किसी ऐसे देश की यात्रा कर रही है जहां कुछ खतरनाक बीमारियां फैली हुई हैं, तो इससे उसके तथा उसके बच्चे के स्वास्थ्य को काफी नुकसान पहुँच सकता है।
  • किसी भी प्रकार की बीमारी से प्रभावित होने के लक्षण दिखने पर तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर से सलाह किये बिना किसी प्रकार की दवाई का सेवन न करें। निरंतर और समय समय पर चेक अप करवाने से बच्चे का सही विकास सुनिश्चित होता है तथा माँ का स्वास्थ्य भी बिलकुल ठीक रहता है।
  • आखिरी तिमाही में सिकुड़न का अनुभव होने या पानी निकल जाने की स्थिति में डॉक्टर से तुरंत संपर्क किया जाना चाहिए।

एक गर्भवती महिला को किताबें पढ़कर, नेट पर सर्च करके तथा अपने डॉक्टर से सवाल पूछकर गर्भावस्था की विभिन्न स्थितियों से सम्बंधित अपनी जानकारी में इज़ाफ़ा करते रहना चाहिए। कुछ ऐसे सवाल, जिनके जवाब एक गर्भवती स्त्री की जिज्ञासा को संतुष्ट करते हैं, वे हैं

गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य – डॉक्टर से पूछे जाने वाले सवाल (Questions to ask the doctor – pregnancy me dekhbhal)

गर्भावस्था के बाद बाल झड़ने से रोकने के उपाय

  1. मैं बच्चे के पैदा होने की तिथि (due date) की गणना कैसे करूँ ?
  2. गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, किन किन विटामिन्स (vitamins) को लिए जाने की आवश्यकता है, और क्यों ?
  3. गर्भावस्था के समय के दौरान कौन कौन सी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ?
  4. मुझे अपने शरीर में होने वाले ऐसी समस्याओं के बारे में बताएँ, जिनके लिए मुझे तुरंत सावधानी बरतने की ज़रुरत है ?
  5. गर्भावस्था के दौरान मेरे वज़न में कितना इज़ाफ़ा होगा, और क्या बच्चे के जन्म के बाद मैं ये वज़न कम कर सकूंगी ?
  6. मॉर्निंग सिकनेस (morning sickness) की समस्या में कमी लाने के लिए मुझे क्या करना चाहिए ?
  7. ऐसी स्थिति में मुझे कुछ ख़ास भोजन और व्यायाम करने की राय दें।
  8. गर्भावस्था के दौरान सेक्स की प्रक्रिया में लिप्त होना कितना सुरक्षित है ?
  9. क्या जो पेन किलर्स तथा हाज़मे की दवाएं मैं गर्भावस्था के समय के पहले ले रही थी, इस समय भी ले सकती हूँ ?
  10. गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, गर्भावस्था के दौरान शरीर का वज़न बढ़ने (weight gain) के अलावा और कौन से परिवर्तन आते हैं ?
  11. क्या गर्भावस्था के दौरान डेंटिस्ट (dentist) और आँखों के विशेषज्ञ से परामर्श करना आवश्यक है ?
  12. बच्चे को जन्म देने के बाद मैं कितने दिनों में काम दोबारा करना शुरू कर सकती हूँ ?
  13. मुझे यह कैसे पता चलेगा कि मैं बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार हूँ या नहीं ?
  14. एक बार गर्भ में सिकुड़न (contractions)शुरू हो जाने के बाद बच्चे के जन्म में कितना समय लग सकता है ?
loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday