How to cure bruises with Home hindi remedies? – त्वचा पर लगी चोटें ठीक करने के घरेलू नुस्खे

त्वचा पर लगी चोट या खरोंच त्वचा के अंदर की छोटी रक्त वाहिनियों के कटने से उभरती है। ये चोट गिरने से,ठोकर लगने से या किसी बड़े आघात के पश्चात लगती है। घाव का अध्ययन, कुछ समय तक आप अपने शरीर के चोट लगे भाग पर काले या नीले निशान देख पाते हैं जो कि शरीर पर आघात की निशानी है।

ये चोट प्राकृतिक रूप से ठीक हो जाती है पर आप कुछ पद्दतियों का प्रयोग करके चोट को कम करने का तथा प्रक्रिया को तेज़ करने का प्रयास कर सकते हैं। पहले उपचार के तौर पर आप चोट लगे स्थान पर बर्फ लगा सकते हैं। इससे रक्त का संचार कम होता है और त्वचा थोड़ी कम बेरंग होती है। आप शरीर की चोटों पर कोई क्रीम लगाकर भी उसे ठीक करने का प्रयास कर सकते हैं।

त्वचा के छिलने को डॉक्टरी भाषा में कंट्यूशन (contusion) कहते हैं। घाव का अध्ययन, इसके अंतर्गत त्वचा पर एक काला, पर्पल (purple) लिए हुए लाल या पूरी तरह से नीला निशान पड़ जाता है। इसका कारण कोई चोट होती है, जिसके फलस्वरूप रक्त की छोटी धमनियों को नुकसान पहुंचता है। घाव का अध्ययन, ऐसा व्यायाम करते हुए, किसी ठोस सतह पर टकराने से या नर्म त्वचा पर दबाव पड़ने पर हो सकता है।

ये खरोंचें और निशान चेहरे, हाथ, पीठ, पेट, कोहनियों और पैरों पर आ सकती हैं। कैबार इन चोटों की वजह से त्वचा की सतह के नीचे किसी कोशिका से खून रिसने लगता है। आमतौर पर ये चोटें 2 हफ़्तों में ठीक हो जाती हैं, पर कुछ घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करने पर आप इन्हें समय से पहले भी ठीक कर सकते हैं।

त्वचा पर चोट लगने पर क्या करें – त्वचा के घाव कैसे ठीक करें (How to heal bruises)

1. घाव को भरने  के लिए बर्फ लगाएं (Use of Ice for twacha ki chot) – चोट लगी जगह पर बर्फ लगाने से रक्त वाहिकाओं से रक्त का संचार कम होता है। बर्फ के पानी में एक तौलिये को डुबोएं और चोट वाले भाग पर 10 मिनट तक रखें। ध्यान रखें कि ज़्यादा देर तक तौलिये को घाव पर ना रखें क्योंकि इससे आपकी अंदरूनी त्वचा ज़्यादा ठंडी हो जाएगी।

पैरों के दर्द के कारण और उपचार

2. इलास्टिक बैंडेज का प्रयोग करें (Use elastic bandage) – अगर घाव आपके हाथ या पैर पर हुआ है तो आप वहां इलास्टिक बैंडेज लगा सकते हैं। इससे अंदरूनी कोशिकाएं दब जाएंगी जिससे खून का बहना रूक जाएगा।

3. घाव में रक्त का संचार कम करें (Reduce flow of blood to the bruises) – हाथ या पैरों में लगी चोट में रक्त का संचार कम करने के लिए एक सोफे या कुर्सी पर बैठकर अपने पैर या हाथ को एक तकिये पर इतनी ऊंचाई पर रखें कि ये आपके दिल के स्तर से ऊंचा हो।

4. घाव को गर्म करें (Heat up bruises) – 24 घंटे तक घाव को ठंडा होने देने के बाद अपने घाव को गर्म करें जिससे घाव में रक्त संसार बढे। इससे सूजन कम होगी और नयी कोशिकाएं बढ़ने में मदद मिलेगी।

5. घाव को भरने  के लिए कोम्फ्री के पत्ते (Compresses of comfrey) – कोम्फ्री नयी कोशिकाओं के बढ़ने में मदद करती है और रक्त के संचार को बढ़ाती है और सूजन कम करती है। 2 कप उबला पानी लें और उसमें 30 ग्राम सूखी या 60 ग्राम ताज़ी कोम्फ्री की पत्तियां मिलाएं और कुछ देर छोड़ दें। अब पत्तियों को निकालकर इस पानी में एक कपड़ा डुबोएं और अपने शरीर के घाव पर लगाएं।

6. सिरके का मिश्रण (Vinegar solution) – गर्म पानी में सिरका मिलाकर लगाने से भी घाव ठीक होने में सहायता मिलती है। सिरका चोट लगे भाग में रक्त का संचार बढ़ाता है और इससे घाव से अशुद्ध रक्त निकालने में सहायता मिलती है। सिरके में मौजूद हेज़ल दर्द कम करता है और घाव जल्दी भरने में मदद करता ऐ।

7. घाव को भरने  के लिए अर्निका (Arnica) – यह जड़ीबूटी घाव ठीक करने के लिए बरसों से प्रयोग में लाई जाती रही है। इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो जलन और सूजन को कम करते हैं। आप रोज़ाना घाव पर अर्निका जेल या क्रीम लगाकर उसे जल्दी ठीक कर सकते हैं।

8. अजवाइन की पत्तियां (Parsley leaf) – कुछ ताज़ी अजवाइन की पत्तियां लें,उन्हें पीसें और फिर घाव पर लगाएं। आप इलास्टिक बैंडेज के साथ अजवाइन को बांधकर उसे जस का तस रख सकते हैं। यह बैंडेज भी घाव लगी जगह को आराम पहुंचाता है। कहते हैं कि अजवाइन की पत्तियां दर्द कम करने,जलन दूर करने तथा आराम पहुंचाने में काफी असरदार है।

चोट ठीक करने के घरेलू उपचार (Home Remedies for Bruises)

स्पॉन्डलाइसिस के कारण, संकेत, लक्षण, उपचार

चोट का इलाज लैवेंडर का तेल से (Lavender oil twacha ki chot ke liye)

ठन्डे पानी में लैवेंडर के तेल की कुछ बूँदें मिलाएं और इसमें एक कपड़ा डुबोकर प्रभावित भाग के ऊपर दबाकर रखें। इससे सूजन धीरे धीरे कम हो जाएगी और आपको दर्द से भी आसानी से छुटकारा मिल जाएगा।

चोट के निशान के लिए चाय के बैग्स (Tea bags)

सेज टी बैग्स (sage tea bags) या कैमोमिल टी बैग्स (chamomile tea bags) को गर्म पानी में डुबोएं और इन्हें अपनी चोट से प्रभावित भाग पर रखें। इन्हें इस तरह रखने से चोटों के दर्द से काफी आराम मिलता है।

चोट का इलाज एलोवेरा से (Aloe vera se ghaw ka ilaaj)

एलो वेरा की ताज़ा पत्तियों से निकाले गए जेल (gel)की मदद से आपको चोट लगी प्रभावित त्वचा में हो रहे दर्द और सूजन से काफी राहत प्राप्त होती है।

चोट ठीक करने के लिए प्रभावित जगह पर अंडे लगाना (Egg rolling)

चोट की सूजन और दर्द को कम करने का यह एक और प्रभावी और असरदार उपचार है। एक अंडे को उबालें तथा इसकी त्वचा को छील लें। अब इस हलके गर्म अंडे को धीरे धीरे अपनी प्रभावित जगह पर घुमाते रहें।

चोट का निशान गर्म पानी से (Warm water se nishan khatam karne ki tips)

गर्म पानी में सूती का कपड़ा डुबोकर प्रभावित भाग पर सेंक देने से चोट की सूजन काफी कम होती है तथा दर्द से भी पूरी तरह छुटकारा मिल जाता है।

घाव का उपचार के लिए एप्सोम नमक (Epsom salt)

इयर कैण्डल के प्रयोग

यह एक बेहतरीन घरेलू उपचार है, जिसकी मदद से आपको चोट के फलस्वरूप हो रहे दर्द से काफी हद तक राहत मिलती है। घाव का उपचार, गर्म पानी और एप्सोम नमक को अच्छे से मिलाकर एक मिश्रण तैयार करें। अब इस मिश्रण की मदद से चोट वाली जगह को अच्छे से धो लें। अंत में त्वचा के प्रभावित भाग से नमक के क्रिस्टल्स (crystals) धोकर साफ़ कर लें, क्योंकि यह चोट लगी त्वचा को काफी परेशानी प्रदान करता है।

चोट के निशान के लिए थाइम (Thyme se ghaw bharne ke upay)

थाइम की पत्तियाँ भी त्वचा से चोट और खरोंचों को दूर करने में काफी सहायक साबित होती है। पानी में थाइम की पत्तियाँ डालकर इन्हें अच्छे से उबालें और फिर इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए छोड़ दें। घाव का उपचार, अब इस मिश्रण को छान लें तथा थाइम के इस पानी को अपने नहाने के पानी की बाल्टी में मिश्रित करें। इस पानी में काफी लम्बे समय तक स्नान करें।

चोट का निशान के लिए सिरके का कॉम्प्रेस (Vinegar compress)

यह कॉम्प्रेस आपको चोट के लक्षणों से राहत दिलाने में काफी सहायक साबित होता है। सिरका हमारी त्वचा की सतह के नीचे रक्त का प्रवाह बढाने में काफी कारगर सिद्ध होता है। सिरके और गर्म पानी को आपस में मिलाएं। अब इस मिश्रण में सूती का कपड़ा डुबोएं तथा अपने चोट से प्रभावित भाग पर लगाएं।

घाव का इलाज के लिए बंदगोभी की पत्तियाँ (Cabbage leaves se twacha ke chot ke nishan)

आप इन पत्तियों का प्रयोग अपनी चोटों पर करके दर्द और सूजन को काफी कम कर सकते हैं। घाव का इलाज, गर्म पानी से भरे एक पात्र में बंदगोभी की पत्तियों को भिगोकर रखें। इस मिश्रण को सामान्य तापमान पर लाएं तथा इसके बाद अपनी चोट पर 15 मिनट तक लगाकर रखें।

विटिलिगो हेतु घरेलु नुस्खे

चोट का इलाज के लिए सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

सेब के सिरके में कुछ प्राकृतिक तत्व होते हैं, जिनकी मदद से आपको चोटों के लक्षणों से काफी राहत प्राप्त होती है। घाव का इलाज, सेब के सिरके का प्रयोग एक कपड़े के टुकड़े पर करके इसे सीधे अपनी चोट से प्रभावित भाग पर लगा दें। इसे करीब 10 मिनट तक बांधकर रखें। 2 से 3 बार हर 15 मिनट में इस विधि का प्रयोग करें।