Home remedies in hindi to cure nasal polyps – नेजल पोलिप का इलाज कैसे करें? – नाक में होने वाली गठिया के लिए घरेलू उपाय

नाक में होने वाली गठिया कई लोगों में पाई जाती है। यह नाक की अंदरूनी जगह में होती है। जो लोग इस नाक के रोग से परेशान होते हैं उनके नाक में हमेशा जेली की तरह कुछ पदार्थ पाया जाता है। इसके कारण नाक में रूकावट, दर्द और सूजन होती है। यह गठिया कर्करोग का लक्षण नहीं होता पर इस समस्या के कारण लोगों के जीवन पर काफी असर होता है।

जिन लोगों को सर्दी की समस्या होती है, वे नाक बंद होने का भी शिकार होते हैं। अगर आप भी उनमें से एक हैं तो आपको नाक के गठिये की समस्या हो सकती है। यह एक जेली (jelly) जैसा तत्व है जो आपकी नाक के अन्दर गाढ़े रूप में जमा हो जाता है। इससे नाक बंद होने और चिडचिडेपन की समस्या उत्पन्न होती है।

जब आप दफ्तर में या किसी कार्यक्रम में लोगों के सामने आते हैं तो नाक का गठिया आपको शर्मसार कर देता है। इस बात की काफी संभावना होती है कि आपके साँस लेते और छोड़ते समय नाक का गठिया बाहर आ जाए। नाक से कोई चीज़ बहारने से शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता। इस स्थिति में आप कुछ घरेलू नुस्खों का प्रयोग कर सकते हैं।

क्या है नेजल पोलिप? (How nasal polyps forms?)

नाक में गठिया / नेजल पोलिप होने का कारण अतिरिक्त श्लेष्मा के रिसाव का परिणाम होता है। यह श्लेष्मा जमकर आकार में बढ़कर तकलीफ देता है। कुछ लोगों को स्टेरॉयड लेकर राहत मिलती है। इसका उपाय न किया जाए तो नाक को नुकसान हो सकता है।

नाक की गठिया पर घरेलू उपाय (Home remedies to cure nasal polyps)

अगर आपको दवाई से राहत न मिलती हो तो कुछ घरेलू पदार्थों का उपाय के रूप में इस्तेमाल करके देखें। कुछ ऐसे उपाय नीचे दिए गए हैं।

अपने शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने का श्रेष्ठ आईडिया

लहसुन (Garlic se sinusitis ka ilaj)

लहसुन प्राकृतिक रूप में मसाले का घटक है जो अनेक रोगों के लिए उपाय के रूप में काम करता है। इसमें सूजनरोधक और कीटाणुरोधक गुण होते हैं। लहसुन के इस्तेमाल से नाक में जमी हुई श्लेष्मा घुल जाती है। लहसुन के एंटीऑक्सीडेंट गुण हर प्रकार के संक्रमण को दूर करते हैं।

डन्डेलिअन – सिंहपर्णी (Dandelion)

नाक की गठिया को रोकने के लिए सिंहपर्णी का हर रोज उपयोग कर सकते हैं। इसमें विटामिन सी की उच्च मात्रा होती है जो बलगम को कम करने में मदद करती है। इसके अन्य पोषक तत्व नाक के गठिया के उपाय में प्रभावी है और नाक के वायुमार्ग को खोलते हैं।

हल्दी (Turmeric se naak ki sabse kharab bimari)

हल्दी प्राकृतिक रूप में पाई जाने वाली औषधी है जिसके अच्छे रोगाणुरोधक गुण हैं। इसमें कई प्रकार के रोगों का उपाय करने के गुण हैं। इसके सूजनरोधक गुण नाक की गठिया का उपाय करने में मदद करते हैं। इसके नाक का मार्ग खोलने के गुणों की वजह से हल्दी प्राकृतिक रूप में अच्छी तरह से काम करता है।

नाक में जो श्लेष्मा बढती है उसका हल्दी के अद्भुत गुणों की वजह से इस्तेमाल करके उपाय किया जाता है। हल्दी के इस्तेमाल का एक सही तरीका होता है। 1 छोटा चम्मच हल्दी को गरम दूध में मिलाकर लें। हर दिन सुबह एक बार और रात में एक बार यह दूध लें। इस उपाय से नाक की गठिया का आकार कम होता है और राहत मिलती है।

टी ट्री का तेल (Tea tree oil)

अगर नाक की गठिया आकार में बढती हो तो टी ट्री का तेल इसका आकार कम करने में मदद करता है। यह तेल इतना असरदार है के इसे इस्तेमाल करने के बाद नाक की गठिया दुबारा नहीं होता है। इस तेल में कीटाणुरोधक और सूजनरोधक गुण होते हैं जिस कारण किसी भी प्रकार के संक्रमण से लड़ना संभव होता है। अगर आपको नाक में गठिया हो तो यह तेल इस्तेमाल करना अद्भुत उपाय है। कपास से थोडा तेल नाक के अंदर उस जगह पर लगाएं जहाँ पर वायुमार्ग अवरोधित होता है।

खारा पानी (Saline water se nasal polyp ka upchar)

नमक इस्तेमाल करके नाक की गठिया का उपाय किया जा सकता है। पानी में नमक घोलकर गठिया की जगह पर लगाएं।इसे इस्तेमाल करने से सूजन कम होती है। खारे पानी से सूजन और अवरोध का अद्भुत रूप में उपाय होता है।

सहजन और शहद (Horse radish and honey)

सहजन साइनस के इलाज में अद्भुत प्राकृतिक औषधी के रूप में इस्तेमाल होता है। इसके कीटाणुरोधक गुण नाक के वायुमार्ग को खोल देते हैं। कुछ लोगों को इसकी तीव्र गंध से तकलीफ हो सकती है। इस गंध को सहन करने के लिए इसमें शहद मिलाकर साइनस का उपाय किया जा सकता है।

पुराने दर्द को रोकने के लिए खाद्य

गर्म पानी से स्नान (Hot bath shower)

नाक का गठिया होने की स्थिति में ज़्यादातर लोग गर्म पानी से स्नान करने के घरेलू नुस्खे का प्रयोग करते हैं। अगर आप इसका नियमित तौर पर पालन कर सकें तो आपके नाक के गठिये की समस्या से आपको काफी हद तक आराम प्राप्त हो जाएगा। पानी की गर्मी आपके चेहरे को स्पर्श करेगी और आपको नाक बंद होने की समस्या से छुटकारा प्राप्त हो जाएगा। इसके अलावा आप गठिये के फलस्वरूप होने वाली सूजन से भी निजात प्राप्त कर सकते हैं।

साइट्रस फल (Citrus fruits se nasal polyp ka ilaj)

नाक के गठिये पर काबू रखने में साइट्रस फल भी काफी लाभदायक साबित होते हैं। इसमें विटामिन सी (vitamin C) की मात्रा होती है जिसकी सहायता से आपको ठण्ड की समस्या से निजात प्राप्त हो जाती है। आमतौर पर जब हमें ठण्ड का दौरा पड़ता है तो विटामिन सी इससे लड़ने का काफी बेहतरीन उपचार साबित होता है। यह तत्व संतरे , नींबू , कीवी , स्ट्रॉबेरी , क्रैनबेरी (kiwi , strawberry , cranberry) आदि में प्रचुर मात्रा में मौजूद रहता है।

प्याज और लहसुन (Onion with garlic)

नाक के गठिये का एक और बेहतरीन इलाज प्याज़ और लहसुन के मिश्रण का प्रयोग करना है। इसके लिए लहसुन का एक फाहा लें और एक पूरी तरह कच्चे प्याज का एक टुकड़ा लें। इस प्रक्रिया का पालन सुबह और शाम के वक्त करें और खुद ही फर्क महसूस करें। क्योंकि ये दोनों ही ऐसे तत्व होते हैं जो खाने में एक तेज़ प्रभाव छोड़ते हैं, अतः यह आपके नाक को गर्म कर देगा और अन्दर के जमी हुई गन्दगी को पिघलाकर बाहर निकाल देगा। इसके प्रयोग से जेल (gel) जैसा उत्पाद भी तरल बन जाएगा और नाक से निकल जाएगा। नाक से इस तरह द्रव्य निकलने की स्थिति में नाक को झाड़कर साफ़ कर लें। इससे आपकी नाक बिल्कुल साफ़ हो जाएगी और आप नाक के गठिये से बिल्कुल दूर रहेंगे।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday