Home remedies in Hindi to treat vitiligo – श्वेत कुष्ठ/सफेद दाग (विटिलिगो) हेतु घरेलू नुस्खे

त्वचा या बालों में सफ़ेद दाग, पैच या लकीरें होने की समस्या को विटिलिगो कहते है। इसमें व्यक्ति अपनी मूल त्वचा का रंग खोने लगता है। यह इसलिए क्यूंकि शरीर में मेलानोसाइट्स नमक पदार्थ जो मेलानिन बनाता है वह कम हो जाता है। सिर्फ 1 प्रतिशत लोगों को यह समस्या होती है। यह ज़्यादातर काली त्वचा वाले लोगों को होता है जिससे उनकी त्वचा पर यह साफ़ दिखता है। अधिकतम 10 से 30 की आयु में ही लोगों को इस समस्या का सामना करना पड़ता है। इससे त्वचा, हाथ, उंगलियां, कलाई, चोट लगी सतह, जोड़ों और बालों में सबसे ज़्यादा प्रभाव पड़ता है। यह एक लम्बी बीमारी है जिसका इलाज प्रत्येक के लिए अलग होता है। 30% मामलों में यह धुप के संपर्क में आने से ठीक हो जाता है। ऐसा इसलिए क्यूंकि धुप में त्वचा मेलानोसाइट्स बनती है जिससे इस समस्या का समाधान होता है। अगर यह ठीक हो जाती है तो भी त्वचा पर बारीक़ दाने रह जाते है।

विटिलिगो के कारण (Causes of vitiligo)

मेकअप के साथ और मेकअप के बिना टांगों के दाग ढकने के उपाय

  • मिलानोसाइट्स (melanocytes) का खात्मा होने से विटिलिगो हो सकता है।
  • एक साथ दूध और मछली का सेवन करना। लौकी और दूध तथा प्याज और दूध का एक साथ सेवन करने से भी ये बीमारी हो सकती है।
  • प्रतिरोधक क्षमता में कमी, आनुवांशिक कारकों, नर्वस सेक्रेशन (nervous secretion) और पोषक तत्वों में कमी, विषैले तत्वों का जमाव आदि।

श्वेत कुष्ठ का इलाज और घरेलू नुस्खे (Home remedies to treat vitiligo)

तुलसी के पत्ते और नीम्बू का रस (Basil leaves and lime juice)

तुलसी के पत्तों में एंटीवायरल और एंटी एजिंग (anti-viral and anti-aging) गुण होते हैं, जो त्वचा की समस्याओं का काफी प्रभावी रूप से इलाज करते हैं। तुलसी के पत्तों और नीम्बू के रस का मिश्रण मेलाटोनिन (melanin) के उत्पादन में वृद्धि करता है और विटिलिगो का काफी प्रभावी उपचार है। विटिलिगो के इस रस का प्रयोग दिन में 3 बार करें और 6 महीने तक इसका लगातार प्रयोग करने के बाद आया फर्क देखें।

सफेद दाग के उपाय विटामिन से (Vitamins se twacha rog upchar)

त्वचा के विशेषज्ञों द्वारा किये गए अध्ययन में यह कहा गया है कि त्वचा वापस अपना वास्तविक रंग लें लेती है जब उसे विटामिन बी 12, फोलिक एसिड और विटामिन सी मिलता है। इसलिए विटामिन बी 12 काम्प्लेक्स का सेवन करने से 100 मी.ग्रा. और इस के साथ 500 ग्रा.फोलिक एसिड लेने से इसका निवारण हो सकता है। तथा एक दिन में 1000 मी.ग्रा. विटामिन बी 12 काम्प्लेक्स और 2000 मी.ग्रा.विटामिन सी लेने से भी लाभ मिल सकता है।

लाल मिट्टी (Red clay se charm rog ka upchar)

नदियों के किनारे पाई जाने वाली लाल मिट्टी इस बीमारी का काफी अच्छा इलाज होती है। यह कॉपर (copper) से भरपूर होती है, जो त्वचा की रंजकता (pigmentation) को नियंत्रित करने में सहायता करते हैं। इस मिट्टी को अदरक के रस के साथ मिश्रित करें और चेहरे के सफ़ेद धब्बों पर दिन में एक बार लगाएं। अदरक का रस प्रभावित भाग पर रक्त के संचार में वृद्धि करता है।

गर्मियों में नाक से खून क्यों आता है ?

सफेद दाग का इलाज कॉस्मेटिक आवरण से (Cover mark for charm rog safed daag)

अगर आपकी त्वचा सामान्य है तो आप कॉस्मेटिक आवरण का उपयोग कर सकते है। यह उत्पाद चेहरे और हाथों की त्वचा के छोटे दागों को छुपाने में कारगर है। सफेद दाग का इलाज, यह दिनभर में साफ़ हो जाता है इसलिए आपको यह रोज़ उपयोग में लाना होगा।

हल्दी (Turmeric se leucoderma safed daag ka ilaaj)

हल्दी को सरसों के तेल के साथ मिलाने से बना हुआ मिश्रण विटिलिगो की समस्या को ठीक करने में काफी कारगर साबित होता है। 500 ग्राम हल्दी लें और इसे रातभर 8 लीटर पानी में भिगोकर रखें। इस मिश्रण को सुबह तब तक उबालें, जब तक कि यह असल मात्रा का 1/8 ना हो जाए। इस मिश्रण को छान लें और इसे 500 ग्राम सरसों के तेल के साथ मिश्रित करें। इसके बाद इस मिश्रण को तब तक गर्म करें, जब तक कि सिर्फ तेल ही रह जाए। विटिलिगो को ठीक करने के लिए इस तेल का प्रयोग अपने सफ़ेद धब्बों पर सुबह और शाम लगाएं।

सफेद दाग का घरेलू उपचार कट और चोटें से (Cut and Injuries)

त्वचा को हमेशा बचाकर रखे क्यूंकि कट और चोटें विटिलिगो का कारण बन सकती है।

सफ़ेद दाग को दूर करने के उपाय होमियोपैथ से (Homeopath se sehua ka gharelu upchar)

सफ़ेद दाग को दूर करने के उपाय, समस्या के बारे में जान कर, उपाय के तौर पर होमियोपैथ का सहारा लें जिसमे अलुम, सल्फर, फॉस्फोरस, नैट्रम, कार्बोनिकम और सिलिका हो।

सफेद दाग के उपाय है धूप से सुरक्षा (SPF)

अगर आपकी त्वचा ठीक हो रही हो तो धुप में आने से पहले सनस्क्रीन का उपयोग करें। एसपीएफ ३० वाला या उस अधिक कोई सनस्क्रीन उपयोग में लाये जिससे प्रभावित त्वचा को बचाया जा सके। जिंक औए टाइटेनियम ऑक्साइड से बना सनस्क्रीन लोशन लें। अगर आप घर में हो तब भी यह लगा कर रखने की कोशिश करें क्यूंकि खिड़की दरवाज़ों से आने वाली धुप भी आपके लिए हानिकारक हो सकती है। त्वचा जो धुप के संपर्क में आ रही हो वह स्किन कैंसर का भी रूप लें सकती है। एसपीएफ 40 वाला उत्पाद जो एंटीऑक्सीडेंट और सुरक्षा कवच से बना है, जिसे एक कॉस्मेटिक उपचार कहा जा सकता है। इसे उपयोग में लेने से समस्या काम हो सकती है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday