Hindi tips to boost the estrogen levels – शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ाने के प्राकृतिक नुस्खे

शरीर का स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए हर व्यक्ति के एस्ट्रोजन के स्तर का सही होना काफी आवश्यक है। इसका कम या ज़्यादा होना बिलकुल भी सही नहीं होता। शरीर में एस्ट्रोजन के सही प्रकार से ना बंटने के फलस्वरूप शरीर के कई अंगों की कार्यशीलता में अवरोध उत्पन्न हो जाता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में शारीरिक तौर पर कमज़ोर होती हैं। यहाँ तक कि उनके शरीर में एक निश्चित समय पर एस्ट्रोजन का स्तर भी काफी घट जाता है। जब एक महिला गर्भवती होती है, तब उसके शरीर में हॉर्मोन (hormone) से जुड़े कुछ परिवर्तन होते हैं। इससे भी एस्ट्रोजन के स्तर में गड़बड़ी उत्पन्न होती है। रजोनिवृत्ति (menopause) एक महिला के शरीर में होने वाला ऐसा परिवर्तन है, जिसके बाद उसके मासिक धर्म (periods) होना बंद हो जाते हैं। यहाँ पर महिला कुछ मानसिक परिवर्तनों से गुज़रती है, अतः उसके एस्ट्रोजन के स्तर का बढ़ना काफी आवश्यक है। पुरुषों में भी कई बार एस्ट्रोजन का स्तर घटता हुआ देखा जाता है।

एस्ट्रोजन काफी महत्वपूर्ण प्राकृतिक हॉर्मोन है जो कि पुरूषों एवं महिलाओं दोनों के लिए काफी आवश्यक है। किसी मनुष्य के लिए शरीर में स्वास्थ्यवर्धक मात्रा में एस्ट्रोजन का होना भी काफी ज़रूरी है। पुरूषों के मुकाबले महिलाओं को एस्ट्रोजन की आवश्यकता ज़्यादा होती है। उन्हें इस प्राकृतिक हॉर्मोन की आवश्यकता अपने शरीर के कुछ आतंरिक कार्यों के लिए होती है। एस्ट्रोजन स्किन क्रीम यह हॉर्मोन काफी आवश्यक होता है जब वे गर्भावस्था की स्थिति से गुज़र रही होती हैं। शोध के अनुसार ये पाया गया है कि महिलाओं के मासिक धर्म बंद होने की स्थिति में उनके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा कम हो जाती है। नीचे मनुष्य के शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ाने के कुछ उपाय बताए गए हैं :-

एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ाने के लिए किये जाने वाले उपाय (General practice to increase estrogen level)

एस्ट्रोजन के गुण के लिए डॉक्टर से सुझाव लेना (Doctor’s consultation)

उर्वरता बढ़ाने और जल्दी गर्भवती होने के नुस्खे

लोग आमतौर पर अपने शरीर में होने वाली कुछ समस्याओं का हल जानने के लिए डॉक्टरों की मदद लेते हैं। इसी तरह अगर आपको लगता है कि आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा कम हो रही है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा ना ज़्यादा कम होनी चाहिए न काफी ज़्यादा । एस्ट्रोजन के गुण (estrogen ke gun) अगर किसी महिला के शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा ज़्यादा है तो वह कई तरह की समस्याओं जैसे स्तन कैंसर,मासिक धर्म में गड़बड़ी तथा ओवेरियन सीस्ट का शिकार हो सकती है।

डॉक्टर आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा जानने के लिए विभिन्न प्रकार की जांच की सलाह दे सकता है। आमतौर पर एक महिला के शरीर में मासिक धर्म बंद होने की स्थिति में 50 pg /ml से 600 pg /ml की मात्रा होती है।

एस्ट्रोजन के गुण संतुलित आहार से (Healthy diet condition)

आपके लिए यह आवश्यक है कि चीनी एवं कार्बोहाइड्रेट की मात्रा वाली सारी चीज़ों से परहेज़ करें। आपको अपने भोजन में ऐसी चीज़ें शामिल करनी चाहिए जो कि फाइबर से भरपूर एवं फैट मुक्त हों। आप अपने भोजन में अतिरिक्त लीन प्रोटीन की मात्रा भी ग्रहण कर सकते हैं। इससे आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ेगी।

  • आपको उन उत्पादों का सेवन करना चाहिए जो हमें पौधों से प्राप्त होती हैं। शरीर में संतुलित मात्रा में एस्ट्रोजन की मात्रा बनाने के लिए फाइटोएस्ट्रोजन युक्त भोजन करें। ऐसे कुछ खाद्य उत्पाद हैं सोयाबीन तथा फलियां आदि। इनमें आइसो फ्लेवोनॉयड की मात्रा होती है।
  • फल, सब्ज़ियाँ, बीन्स आदि भोजन उन महिलाओं के लिए ग्रहण करना काफी आवश्यक है जिनके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा काफी कम है।
  • अगर आप अत्याधिक मात्रा में एस्ट्रोजन की मात्रा का सेवन कर रहे हैं तो आपको ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि अधिक मात्रा में एस्ट्रोजन का सेवन महिलाओं में स्तन कैंसर का कारण बनता है।

अत्याधिक व्यायाम से परहेज करें (Exercise without being fanatic)

शोध के मुताबिक़ अत्याधिक व्यायाम मनुष्य के शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा को कम कर सकता है। हालांकि रोज़ाना व्यायाम करना शरीर के लिए काफी अच्छा है एवं इससे महिलाओं में स्तन कैंसर होने की संभावना भी कम होती है।

कई महिला एथलीट भी ऐसी होती हैं जिनके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा कम होती है। इसका कारण यह है कि उनके शरीर में फैट की मात्रा कम होती है जिसके फलस्वरूप उनके शरीर में एस्ट्रोजन बनने की मात्रा कम होती है। ऐसी स्थिति में आपको किसी डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

एस्ट्रोजन के लाभ पटसन के बीज से (Flax seeds se estrogen ke labh)

आमतौर पर पटसन के बीज ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं। इनमें फाइटोएस्ट्रोजन्स एवं लिग्नंस की भी काफी मात्रा होती है।

स्तन के दूध की उत्पत्ति में सहायक सर्वश्रेष्ठ भोजन

आप हर दिन 50 ग्राम पटसन के बीजों का सेवन कर सकते हैं जिससे कि आपके शरीर में एस्ट्रोजन की संतुलित मात्रा रहेगी। इस स्थिति में सोया दूध भी काफी उपकारी हो सकता है।

मानव शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ाने के नुस्खे (Tips to boost estrogen levels in human body)

केमिकल (chemical) से युक्त दवाइयों का प्रयोग करने की बजाय ऐसे प्राकृतिक नुस्खों का प्रयोग करें, जिससे आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा में बढ़ोत्तरी हो।

एस्ट्रोजन हार्मोन के लिए सोया दूध (Soy milk estrogen hormone ke liye)

सोया दूध एक बेहतरीन घरेलू नुस्खा और काफी अच्छा उपचार है, जो मनुष्यों को उनके एस्ट्रोजन के स्तर पर नियंत्रण रखने में मदद करता है। आप अपने रोज़ाना के भोजन में भी सोयाबीन (soyabean) को शामिल कर सकते हैं, जिससे कि एस्ट्रोजन के स्तर में काफी बढ़ोत्तरी दर्ज की जा सके। क्योंकि सोयाबीन युक्त खाद्य पदार्थों में काफी मात्रा में फाइटोएस्ट्रोजन तथा आइसोफ्लावोनोइडस (phytoaestrogen and isoflavonoids) मौजूद होते हैं, जिनकी सहायता से शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा में वृद्धि करना काफी आसान हो जाता है। क्योंकि शरीर के हॉर्मोन का स्तर आसानी से सोया के दूध से नियंत्रित किया जा सकता है, अतः रोजाना सामान्य दुग्ध उत्पाद या गाय के दूध की जगह सोया दूध का सेवन करने का प्रयास करें।

एस्ट्रोजन हार्मोन के लिए चेस्टबेरी (Chasteberry estrogen hormone ke liye)

यह एक फूलों का पौधा है तथा विभिन्न जगहों के वासी इसे अलग अलग नामों से पुकारते हैं। यह पौधा काफी फायदेमंद सिद्ध होता है, क्योंकि इसमें मौजूद फ्लावोनोइड शरीर में मौजूद एस्ट्रोजन के स्तर पर नियंत्रण पाने में काफी हद तक सफल सिद्ध होता है। यह अफ्रीका का एक पारंपरिक पौधा है तथा भोजन की सुरक्षा को बढ़ाने, पोषण के स्तर में वृद्धि करने तथा अन्य प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने में यह काफी प्रभावी विकल्प सिद्ध होता है। क्योंकि यह प्राकृतिक पौधा आसानी से उपलब्ध नहीं होता, अतः आप इसके पूरक का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

धूम्रपान छोड़ें (Quit smoking)

धूम्रपान करना वैसे भी विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे लोगों के लिए सही नहीं माना जाता। अगर आप बार बार धूम्रपान करते हैं तो इससे हॉर्मोन की प्रणाली में नियमित तौर पर नकारात्मक प्रभाव देखा जा सकता है। इससे एक मनुष्य की एस्ट्रोजन प्रभावी रूप से पैदा करने की शक्ति में काफी हद तक कमी आती है। कई महिलाओं को नियमित रूप से धूम्रपान करने की बुरी आदत होती है। परन्तु इसके फलस्वरूप उन्हें मासिक धर्म में गड़बड़ी, रजोनिवृत्ति का पहले हो जाना तथा बांझपन (infertility) जैसी समस्याओं से गुज़रना पड़ता है।

विटामिन सी युक्त भोजन (Vitamin C food)

अरोमाथेरपी के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ

एस्ट्रोजन की मात्रा में बढ़ोत्तरी करने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना काफी आवश्यक है जिनमें विटामिन सी की मात्रा समाई हुई हो। ऐसे खाद्य पदार्थों में पीच (peach), टमाटर, गाजर, लिमा बीन्स (lima beans), संतरे, कीवी (kiwi) आदि मुख्य हैं। आप इन सारे खाद्य पदार्थों का पकाकर सेवन कर सकते हैं। इन्हें कच्चा भी खाया जा सकता है, क्योंकि इनमें से ज़्यादातर फल होते हैं।

विटामिन बी काम्प्लेक्स युक्त भोजन (Food rich in vitamin B complex)

आप कई तरह के प्राकृतिक फलों का सेवन कर सकते हैं, जो विटामिन बी काम्प्लेक्स से परिपूर्ण हों। ये खाद्य पदार्थ आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा में बढ़ोत्तरी करने में काफी लाभदायक साबित होते हैं। इनमें से कुछ खाद्य पदार्थ हैं लेग्युम (legume), आलू, ओट्स (oats), टूना (tuna), केले आदि। अगर आप अपने शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा को नियंत्रित रखना चाहते हैं तो इनका नियमित रूप से सेवन करें। सफ़ेद आटे की जगह साबुत अनाज वाले आटे का सेवन करें। इनका रोजाना सेवन करके भी एस्ट्रोजन की मात्रा पर काबू पाया जा सकता है।

एस्ट्रोजन के फायदे लेग्युम से (Legume se estrogen ke fayde)

ये भी एक महत्वपूर्ण भोजन है, जिसे आपके खानपान में शामिल किया जा सकता है। शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर सामान्य से कम होने की स्थिति में यह खाद्य पदार्थ आपको काफी फायदा पहुंचाता है। महिलाएं, पुरुष तथा हर आयु वर्ग के लोग आसानी से इसका सेवन कर सकते हैं और शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर के कम होने के हानिकारक प्रभावों से बचकर रह सकते हैं। बाज़ार में ऐसे कई निजी देखभाल के उत्पाद, जैसे साबुन, शैम्पू (shampoo), लोशन (lotion) आदि उपलब्ध हैं, जो कि टी ट्री ऑइल (tea tree oil) से बने होते हैं। इनके प्रयोग से भी शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा में नियंत्रण आता है। आप ऑनलाइन (online) ये उत्पाद प्राप्त कर सकते हैं और इन्हें आपके घर पर बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के भिजवा दिया जाएगा। सौन्दर्य उत्पादों की कंपनियां ऐसे उत्पाद बनाने की कोशिश कर रही हैं जिनसे एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि होती है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday