How to quit smoking and drinking at the same time – सिगरेट और शराब की लत एक साथ कैसे छुड़ाएँ, नशा छोड़ने के उपाय

आप यह पहले से ही जानते हैं कि, धूम्रपान और शराब की लत का असर आपके जीवन को किस तरह प्रभावित कर रहा है। इसका प्रभाव ना आपके आपसी रिश्तों पर पड़ता है बल्कि यह आपके कारी क्षेत्र को भी प्रभावित करता है। इन दोनों ही लटों को एक ही समय अवधि में छोड़ना मुश्किल लगता है लेकिन असंभव नहीं। अगर आप इन लतों को हमेशा के लिए छोड़ने के बारे गंभीर रूप से विचार कर रहे हैं तो ध्यान रखें कि यह थोड़ा मुश्किल ज़रूर है लेकिन दृढ़ इच्छाशक्ति इस काम को संभव कर सकती है।

अगर आप स्मोकिंग की आदत को छोड़ने की योजना बना चुके हैं और इस दौरान शराब की लत को बनाए हुये हैं तो यह निश्चय आपके लिए वाकई मुश्किल हो सकता है और आपको स्मोकिंग छोड़ने में कठिनाई आ सकती है क्योंकि शराब लेने के बाद स्मोकिंग तलब होना एक सामान्य बात है जो आपको वापस धूम्रपान की ओर प्रेरित करता है।

इन लतों को अलविदा कहने के लिए जब आपने एक बार योजना बना ली है तो इस मिशन के पहले आपको इस बात की जानकारी भी होनी चाहिए कि, स्मोकिंग और अल्कोहल का नशा छोड़ने के बाद किस किस तरह की परेशानियाँ उत्पन्न हो सकती है, ताकि लक्षणों को पहचान कर आप पहले से ही उनका सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहें।

अगर आप अल्कोहल का नशा करते हैं तो स्थिति आपके लिए थोड़ी ज़्यादा खराब हो सकती है लेकिन अगर आप अल्कोहल की लत का शिकार नहीं हैं लेकिन इस आदत को हमेशा के लिए दूर करना चाहते हैं तो कुछ सामान्य लक्षणों को पहचानकर उन्हें एक तरफ किया जा सकता है, अल्कोहल का नशा छोड़ने के बाद इस तरह के लक्षण दिखाई दे सकते हैं-

·जी मिचलाना

·सिर दर्द

·पसीना और झटके लगने का अहसास

·आक्रोश

·ध्यान केन्द्रित न कर पाना

·दुःस्वप्न

·डर की अनुभूति

·रोशनी और शोर के प्रति संवेदनशीलता में वृद्धि

·दौरा

यह ज़रूरी नहीं कि प्रत्येक व्यक्ति में यह सभी लक्षण दिखाई ही दें। इन लक्षणों या समस्याओं को होना प्रति व्यक्ति पर भिन्न हो सकता है। अगर आप स्मोकिंग की लत को अलविदा कह रहे हैं तो इस आदत को छोड़ने पर यह समस्याएँ सामान्यतः सामने आती हैं-

· चिंता

·बेचैनी

·अवसाद

·नींद ना आना

·ध्यान केंद्रित करने में परेशानी

·कब्ज

इन सभी समस्याओं से भली भांति परिचित होने के बाद शराब और धूम्रपान की लत को छोड़ना थोड़ा सहज हो जाता है इसके बाद आगे इन चरणों की ओर बढ़ें-

 संकल्प लें (Take a pledge)

स्मोकिंग और ड्रिंकिंग की आदत को छोड़ने के लिए यह सबसे अहम कदम है जिसमें आपको एक संकल्प लेना होता है कि अब आप कभी इन चीजों को नहीं अपनाएँगे। आपको अपने आप को ये वादा करना होगा कि जितना हो सके इन चीजों से दूर रहेंगे। उन बातों के बारे में लिखें जिनकी वजह से आपके व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन पर इनका बुरा प्रभाव पड़ा है। अपनी मानसिक और शारीरिक स्थितियों के बारे में भी लिखकर पूरा वर्णन करें।

उकसाने वाली स्थितियों को पहचानें (Find the situations that trigger the urge)

उन स्थितियों या समय को पहचानकर समझने की कोशिश करें और लिखें कि ऐसी कौन सी स्थितियाँ हैं जो आपको शराब या स्मोकिंग करने के लिये उकसाती हैं। किस समय आपको इन नशों की तलब खास तौर पर लगती है। जैसे काम के दबाव में स्मोकिंग की ज़रूरत महसूस होती है, या परिवार के लोगों से झगड़े आदि के बाद आप शराब की ओर रूख करते हैं, इन सभी कारणों को विस्तार से लिखें।

लक्ष्य तय करें (Fix your goals)

अगर आपने शराब और सिगरेट दोनों को छोड़ दिया है तो अपने दिन के अनुभव को डायरी में नोट करें और अगर आपने एकदम से नहीं छोड़ा है और इसे धीरे धीरे कम करते हुये पूरी तरह रोकना चाहते हैं तो भी इस क्रिया का जिक्र अपने दरी या कॉपी में करना बेहद ज़रूरी है। अपने रोज छोटे छोटे सोपानों को इसमें लिखकर प्रेरणा लें इससे आपका आत्मबल बढ़ेगा।

घर में जमा चीजों को नष्ट करें (Destroy your home collections first)

ऐसा अक्सर देखा जाता है कि जिन लोगों में यह दोनों आदतें होती हैं उनको इन्हें सहेजने का शौक भी होता है जो घर के किसी कोने में सजावटी रूप में रखा जाता है। शराब और स्मोकिंग से दूर रहने के लिए शराब और सिगरेट को अपने आस पास से हटा दें या नष्ट कर दें। एक सिगरेट भी अपने घर या ऑफिस की टेबल में ना रखें।

संबंधित चीजों को हटाएँ (Discard the related items)

अगर आपने सिगरेट और शराब की बोतल और बॉक्स हटा दिये हैं तो केवल यह करना ही काफी नहीं होता। इससे जुड़ी प्रत्येक चीज को हटाना ही इन लतों से दूर रहने का एक आसान तरीका है। इन लतों से जुड़ी चीजें जैसे काँच के गिलास, ऐशट्रे, लाइटर आदि को हटा दें ताकि इनके जरिये आपको शराब या धूम्रपान का ध्यान ना आए।

दोस्तों से न मिलें (Do not mix with friends who drink or smoke)

सिर्फ इस वजह से दोस्तों को अपनी जिंदगी से ना निकालें, क्योंकि वो शराब या सिगरेट पीते हैं, यह सही तरीका या वजह नहीं है। आपके वो दोस्त जिनके साथ आप समय व्यतीत करते हैं, जब वे इन नशों को अपनाते हैं तो आपको भी इनकी ओर आकर्षण होता है और वापस नशे की ओर दिमाग जाने लगता है। लेकिन दोस्तों को छोड़ने की बजाए आप एक निश्चित समय अवधि तक उनसे दूर रहें। खास कर तब, जब आप नशा छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

उन जगहों पर ना जाएँ (Avoid that places where people drink or smoke)

किसी भी तरह का नशा छोड़ने के दौरान उन जगहों से दूरी बना लें जिन जगहों पर खास तौर पर स्मोकिंग आदि की जाती है। स्मोकिंग ज़ोन आदि पर जाने से आपको नशे की तलब लग सकती है, इसीलिए इन जगहों पर जानें से बचें।

आराम का उचित तरीका अपनाएँ (Find ways of relaxing in the right way)

बहुत से लोग इसीलिए नशे के आदि होते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनकी इंद्रियों को आराम मिलता है। अगर आप भी ऐसा ही सोचते हैं तो आराम या रिलैक्स करने का कोई अनय और अच्छा उपाय निकालें। आराम के लिए मसाज थेरेपी एक अच्छा उपाय हो सकता है।

कुछ दिलचस्प करें (Do something interesting)

कई लोग बोरियत से उबरने के लिए नशे का प्रयोग करते हैं और धीरे धीरे यह आदत बन जाती है। बोरियत से बचने के लिय एकूच ऐसा करें जो आपको पसंद हो, इस दौरान अपने किसी शौक को पूरा करें, कोई गेम खेलें। डांस, कराटे या कोई नई चीज सीखें।

नियमित व्यायाम करें (Daily exercise)

जिस समय आप स्मोकिंग या ड्रिंकिंग की लत छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं तो आपको नियमित रूप से एक्सर्साइज़ की बहुत ज़रूरत होती है। यह आपको मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने में मदद करता है और अवसाद या तनाव से भी राहत देता है।

ध्यान भंग करने वाली चीजें रखें (Keep something in hand to distract yourself)

जब आपका ध्यान नशे की तरफ जाए तो अपने आस पास ऐसी चीज़ें रखें जिनसे आपका ध्यान बंट सके। इसके लिए आप च्विंगगम, फ्रूट जूस या अन्य कुछ खाने की चीज़ें रख सकते हैं।

मदद लें (Take help)

नशे से मुक्त होने के लिए इन सभी उपायों को करने के साथ किसी ऐसे विशेषज्ञ से मिलें जिसके पास इससे संबंधित जानकारी और उपचार हो। आप ऐसे समूह में भी शामिल हो सकते हैं जिसमें आप जैसे ही अन्य लोग मौजूद हों, जो नशा छोड़ने की कोशिश कर रहे हों। उनसे अपनी समस्याओं और अनुभवों के बारे में चर्चा करें।

loading...