Dark circle door karne ke upaay – डार्क सर्किल दूर करने के उपाय

आंखों के नीचे काले घेरे होने के कारणों में लंबे समय तक अनुचित आहार, कंप्यूटर पर लम्बे समय तक काम, त्वचा का सूखापन, ज्यादा रोना, नींद की कमी, शारीरिक या मानसिक तनाव, उम्र बढ़ना आदि प्रमुख होते हैं। डार्क सर्कल दूर करने के उपाय जानने के लिए हम क्या कुछ नहीं करते लेकिन इसे कई बार हटाने में बहुत लम्बा समय लग जाता है तथा यह पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करता है।

आँखों के आसपास पड़े काले घेरों को डार्क सर्कल्स (dark circles) कहा जाता है। ये हर उम्र के पुरुषों एवं महिलाओं को कई कारणों से प्रभावित करते हैं। आंखों के नीचे काले घेरों का दवाओं द्वारा भी उपचार किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए प्राकृतिक उपाय भी मौजूद हैं जिसे आप घर बैठे कर सकते हैं।

डार्क सर्कल के कारण (Causes of dark circles)

जो काले घेरे नीले से होते हैं तथा सुबह उठने के बाद ज़्यादा दिखते हैं, वे आँखों के नीचे की उस पतली त्वचा की वजह से होते हैं जहाँ खून की धमनियां अन्य भागों की अपेक्षा ज़्यादा नज़र में आती हैं। जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारी त्वचा रीजनरेशन (regeneration) की क्षमता खोती जाती है एवं ज़्यादा पतली होती जाती है। इसके फलस्वरूप नीली रंगत लिए हुए काले धब्बे और गहरे होते जाते हैं।

इसकी वजह से सारे दिन आप जो भी करें, चाहे दफ्तर में लम्बे समय तक काम करना हो, बिना चश्मे के धूप में निकलना हो या रात में ना सोना हो, सबसे ज़्यादा आपकी आँखें ही प्रभावित होती हैं और डार्क सर्कल के कारण बनती हैं।

    • रात में उचित नींद की कमी के तहत काले घेरे या डार्क सर्कल होने का बड़ा कारण है।
    • सूरज की किरणों से त्वचा में मेलेनिन बनता है जिसकी अधिक मात्र आंखों के नीचे काले घेरे बनाती है।
    • आँखों का मेकअप सही समय पर ना उतारने पर भी डार्क सर्कल्स बनते हैं।
    • एनीमिया और गुर्दे की बीमारियों जैसी कुछ बीमारियों से आंखों के नीचे काले घेरे होते हैं।
    • अतिरिक्त धूम्रपान और शराब पीना आपकी आंखों के आसपास डार्क सर्कल बनाता है।
  • शरीर में पानी की पर्याप्त राशि की कमी के कारण काले घेरे हो सकते हैं।
  • मानसिक तनाव भी डार्क सर्कल के कारण में से एक हैं।

काले घेरों-डार्क सर्कल को दूर करने के उपाय (Home remedies for dark circle)

ऑर्गन ऑइल (Argan Oil)

आंखों के नीचे की झुर्रियाँ मिटाने के लिए घरेलू उपचार

ऑर्गन ऑइल काफी हल्का तेल है जो आसानी से त्वचा में समा जाता है। इसमें विटामिन इ और एंटीऑक्सिडेंट्स (vitamin E and antioxidants) की भरपूर मात्रा होती है जो आँखों के नीचे की त्वचा की कोशिकाओं की मरम्मत करते हैं और इसकी प्राकृतिक चमक लौटाते हैं और आपको डार्क सर्कल से छुटकारा दिलाता हैं। यह झुर्रियों एवं महीन रेखाओं को कम करने में भी काफी असरदार साबित होता है। ऑर्गन ऑइल की कुछ बूँदें लें और अपनी एक ऊँगली की सहायता से इसका प्रयोग आँखों के नीचे करें। तेल को अच्छे से त्वचा में सोखने के लिए हल्के हाथों से थपकी दें। इस प्रक्रिया का प्रयोग रात में सोने से पहले करें और अपने डार्क सर्कल दूर करें।

सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)

सेब के सिरके में मौजूद खनिज पदार्थ, विटामिन्स एवं एन्ज़ाइम्स (enzymes) आंखों के नीचे स्थित भाग को पोषण प्रदान करते हैं। इसके प्रयोग से कुछ ही दिनों में आपके काले घेरे दूर हो जाएंगे। एक चम्मच सेब का सिरका और क्यू-टिप (Q-tip) लें। सेब के सिरके में क्यू-टिप को डुबोएं एवं आँखों के नीचे इसका प्रयोग करें। इसे प्राकृतिक रूप से सूखने दें। इस प्रक्रिया का प्रयोग दिन में दो बार करें और डार्क सर्कल से छुटकारा पाए। अपनी आँखों के अंदर सिरका ना जाने दें। यदि आँखों के अंदर सिरका चला जाए तो साफ़ पानी से आँखों को अच्छे से धोएं।

नारियल का तेल (Coconut Oil)

नारियल तेल के पोषक एवं नमी प्रदान करने वाले गुण त्वचा के स्वास्थ्य में वृद्धि करते हैं, जिसके फलस्वरूप काले घेरे कम होते हैं। शुद्ध नारियल तेल की कुछ बूँदें लें और अपनी आँखों के नीचे हलके हाथों से लगाएं। इस स्थान पर सीधी एवं उल्टी मुद्रा में कुछ देर तक मालिश करें और रातभर के लिए छोड़ दें। हर रात सोने से पहले इस प्रक्रिया का पालन करें। यह डार्क सर्कल दूर करने का एक बेहतरीन उपाय है।

खीरे के नयन-नक़ाब को प्रयुक्त करके (By using cucumber as eye-mask)

खीरे की गुणवत्ता उसकी नमी और पोषण में हैं, खीरा ओरिएंटिन, विटेक्सिन और क्युकरबिटासिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट्स से युक्त होता है। इसलिए दिन में दो बार एक ठंडा खीरा (फ्रिज में लगभग 25-30 मिनट रखाव के बाद) लें और उसकी दो पतली सी फांक काट कर लगभग 10-15 मिनट के लिए आँखों की प्रभावित जगह पर रखें। ऐसा करने से वह हिस्सा तरोताज़ा होगा और इस प्रणाली के नियमित प्रयोग से धीरे-धीरे काले घेरें गायब हो जाएंगे और आपको डार्क सर्कल से छुटकारा मिल जाएगा।

पीसी पुदीनें की पत्तियों का लेप लगाने से (By applying paste of crushed mint leaves)

पुदीना ‘विटामिन-सी’ पोषक तत्व से युक्त हैं, जो डार्क-सर्कल्स (काले घेरों) को हटाने में कारगर हैं। इसकी पत्तियों को पीस कर कुछ पानी की बूंदे मिलाकर, इसका लेप तैयार कर लें और काली स्याही के भाँती लकीरों पर लगाएं, फिर 10 मिनट तक लगा हुआ छोड़ दें। समय समाप्त होने के बाद चेहरे को ठन्डे पानी से धों लें। ध्यान रखें अगर आप इस थेरेपी (चिकित्सा) का पहली बार इस्तेमाल कर रहें हैं, तो पहले थोड़ा सा हाथ पर लगाकर जांच लें। ऐसा इसलिए क्यूंकि कुछ लोग इससे एलर्जिक(प्रत्यूर्जित) भी पाएं गयें हैं।

एलो वेरा (मुसब्बर वेरा)  (By nourishment of aloe vera)

मुसब्बर वेरा (एलो वेरा) त्वचा को त्वरित कर काले घेरे के रंग को हल्का करता हैं और साथ ही आँखों के नीचे की नाजुक परतों को स्वस्थ बनाता हैं। इसे इस्तेमाल करने की परम्परागत विधि हैं। मुसब्बर वेरा की कुछ बूंदे लें और काले पड़े भागों पर हल्के हाथों से लगाते हुए कुछ क्षणों के लिए मलें। मलनें के बाद 10-12 मिनट के लिए मुसब्बर वेरा को लगा रहने दें, ताकि त्वचा उसे सोख ले, फिर गीली रुई से गहरे काले भागों को पूंछें।

पौष्टिक तैलीय तत्वों के उपयोग से (By using nutritious oily compounds)

मीठा बादाम का तेल, जोजोबा का तेल, रेंड़ी का तेल (कैस्टर ऑयल), नारियल का तेल, आर्गन का तेल, अंगूर के बीजों का तेल, कलोनजी तेल, जैतून का तेल और रोज़हिप ऑयल (गुलाब के फल से बना तेल) जैसे किसी भी पौष्टिक तैलीय पदार्थ का प्रयोग ना सिर्फ काले घेरे को कम करता हैं, बल्कि चेहरे पे एक अनोखी सी चमक भी बिखेरता हैं। आँखों के करीब के काले गड्ढों पर तैलीय तत्वों को प्रयोग करने की पद्धति लगभग समान ही हैं। सबसे पहले उपर्युक्त में से किसी भी तेल की कुछ बूंदें लें, फिर उन्हें आँखों के नीचे के काले गड्ढों से प्रभावित भाग पर लगाएं और थोड़ी देर तक हल्के हाथों से उस जगह की मालिश करें। मालिश के संपन्न हो जाने के बाद घेरों से प्रभावित वाले क्षेत्र को रात भर तक के लिए लगा हुआ छोड़ दें और अगली सुबह पानी से चेहरे को धो लें। इस मालिश प्रक्रिया को रोज़ रात को सोने के लिए जाने से पहले दोहराएं, आप अवश्य ही अच्छे परिणामों का अनुभव करेंगे और घेरों को धीरे-धीरे गायब होता हुआ पाएंगे।

ठन्डे दूध के इस्तेमाल से (By using cold milk)

दूध ‘लैक्टिक एसीड’ से प्रयुक्त होता हैं, जो त्वचा को कोमल, सेहतमंद और सौम्य बनाने में काफी असरदार हैं। इसके अतिरिक्त यह झुर्रियों और काली लकीरों को कम करने में अत्यधिक फायदेमंद हैं। दो रुई के टुकड़े और 1/4 ठंडा दूध कप में लें, फिर रुई के टुकड़ों को दूध में डूबा कर त्वरित (गीला) कर लें। जब रुई के टुकड़े तरीके से आद्र (गीले) हो जाएं, तो उसे आँखों पर इस तरह रखें की आँखों के साथ-साथ पूरा काला पड़ा हिस्सा ढक जाए। 15  मिनट तक रुई के टुकड़ों को रखा रखें और उसके बाद नरम पानी से आँखों को धोएं। लगातार दो हफ़्तों तक रोज़ाना एक-दो बार इस प्रक्रिया को प्रयोग में लाने से काले दाग़ हस्ते-हस्ते एक खुशनुमा एहसास के साथ गायब हो जाएंगे।

शहद का उप्टन लगाने से (By applying honey mask)

‘शहद’ सदियों से सौंदर्य का सदाबहार तिलिस्म रहा हैं। यह एंटीऑक्सिडेंट्स और पोषक तत्वों का भण्डार हैं। काले घेरों को उड़नछू करने के लिए शहद का प्रयोग आँखों के समीप वाले प्रभावित क्षेत्र पर पतला सा साँचा (मास्क) तैयार करके करें, फिर मास्क (सांचे) को 10-15 मिनट के लिए लगा रहने दें। समय अवधि के उपरान्त आँखों को पानी से धों लें, ऐसा करने से त्वचा की कोमलता बरक़रार रहती हैं। रोज़ाना एक से दो बार इस पद्धति को दोहराने से मनचाहे परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

ग्रीन टी बैग्स (हरी चाय के थैलों) के प्रयोग में लेने से (By usage of green tea bags)

ग्रीन टी (हरी चाय) एक प्राकृतिक औषधि हैं, जिसका निरंतर सेवन असाधारण नतीजें प्रस्तुत करता हैं। इस औषधि में एंटीऑक्सिडेंट्स तत्व पाएं जातें हैं, जो हमारे आंतरिक शरीर के विषैले पदार्थों को निकालने में सहायक होते हैं। आश्चर्यजनक बात ये हैं कि टी बैग्स से बनी हरी चाय के सेवन से ना सिर्फ हमारे शरीर और खून की सफाई होती हैं, बल्कि चाय पान के तदुपरांत भी ये टी बैग्स हमारी आँखों के समीप के अनचाहें कालेपन के लिए दवाई का काम करते हैं। इसलिए चाय पीने के बाद इन टी बैग्स को सम्हालकर कर फ्रिज में रखना चाहिए, जिससे ठन्डे टी बैग्स को आँखों के नीचे के प्रभावित भाग में रखकर प्रयोग में लिया जा सकें।

टीवी, कंप्यूटर का उपयोग कम करें

अगर आपको डार्क सर्कल्स की शिकायत हो रही है जो लम्बे समय से नहीं जा रही तो अपने टेलीविज़न और कंप्यूटर आदि पर बिताये जाने वाले समय पर भी जरा गौर करें। अधिक समय तक स्क्रीन के सामने बैठने से आँखों पर असर पड़ता है और यह असर काले घेरे के रूप में नज़र आता है। इसके उपचार में आप स्क्रीन के सामने बैठने के समय में कटौती कर सकते हैं। अगर यह संभव न हो तो पर्याप्त अंतराल लेते हुए स्क्रीन पर काम करें। बार बार आँखों में पानी के छीटें मारें। रात को सोने के पहले किसी मोइस्चराइज़र से आँखों के आसपास हलकी मसाज भी करें।

अच्छी नींद लें (Get proper sleep)

अच्छी नींद ना लेना आमतौर पर काले घेरों का काफी बड़ा कारण बनता है। तनावपूर्ण जीवन, आराम में कमी तथा थकान हर उम्र के व्यक्तियों में काले घेरों के मुख्य कारक होते हैं। काम के दबाव की वजह से शारीरिक और मानसिक थकान भी काले घेरों का कारण बनता है, अतः डार्क सर्कल को दूर करने का सबसे कारगर उपाय  यही है की सबसे पहले अपनी नींद पूरी करें।

धूप से त्वचा को बचाएं (Save your skin from sun exposure)

सुन्दर एवं बड़ी आँखों के लिए विभिन्न असरदार उपाय

जब भी आप बिना सनस्क्रीन (sunscreen) लगाए बाहर निकलते हैं तो हानिकारक अल्ट्रा वायलेट किरणें (ultra violet rays) आपकी त्वचा पर हमला करती हैं। जैसा कि आपको पता है कि आँखों के आसपास की त्वचा काफी नाज़ुक होती है, अतः इस प्रक्रिया के अंतर्गत पैदा हुए मेलेनिन (melanin) से काले घेरों की संभावनाएं बढ़ती हैं।

अच्छी गुणवत्ता वाला मेकअप ( good quality Make-up in the right way)

अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो मेकअप के उत्पादों का सही प्रकार से इस्तेमाल ना करने पर भी काले घेरे पैदा हो सकते हैं। आँखों के पास किसी उत्पाद का प्रयोग करने से पहले एक पैच टेस्ट (patch test) प्रयोग करें तथा सिर्फ ऐसे ही उत्पाद चुनें जो आपकी त्वचा को सहन हो सकें। सोने से पहले याद से अपना मेकअप उतार लें।आँखों के नीचे काले घेरे के उपाय में मेकअप की भी अहम भूमिका होती है अगर मेकअप त्वचा पर लम्बे समय तक रहता है तो भी यह काले घेरे का कारण  बनता है। आँखों के नीचे काले घेरे के उपाय में मेकअप की भी अहम भूमिका होती है। अगर मेकअप त्वचा पर लम्बे समय तक रहता है तो भी यह काले घेरे का कारण  बनता है।

बीमारियों का उपचार (Treating diseases)

एनीमिया (anemia) और किडनी (kidney) से जुड़ी समस्याओं से भी आँखों के नीचे काले घेरे पड़ सकते हैं। अगर आपको ऐसी कोई समस्या है तो अपने डॉक्टर से इस बीमारी का इलाज करवाने के लिए तुरंत संपर्क करें। लम्बी बीमारी के बाद आँखों के नीचे काले घेरे पड़ना स्वाभाविक है, पर सही देखभाल से ये जल्दी ही ठीक हो जाते हैं।

शरीर में पानी की कमी ना होने दें (Prevent dehydration)

खूबसूरत आंखों के लिए ग्रीष्मकालीन नेत्र देखभाल टिप्स

शरीर में पानी की कमी हो जाने से भी आँखों के नीचे काले घेरों की समस्या (dark circles) उत्पन्न होने का ख़तरा रहता है। डिहाइड्रेशन शरीर में तनाव पैदा करता है और त्वचा को रूखा बनाता है, जिसकी वजह से आँखों की नाज़ुक त्वचा सबसे ज़्यादा प्रभावित होती है और काले धब्बे उभरकर सामने आते हैं। अतः नियमित अंतराल पर पर्याप्त मात्रा में पानी पीना ना भूलें जिससे कि आपका शरीर और त्वचा कभी भी पानी की कमी महसूस ना करे।

एंटी-ग्लेयर स्क्रीन या चश्मे का प्रयोग (By using anti-glare screens or spectacles)

तकनीकी उपकरणों से निकलने वाली हानिकारक तरंगें, जो की आज के कंप्यूटर युग में युवाओं के लिए परेशानियों का सबब हैं। कभी घंटो कंप्यूटर आधारित कार्यों की मांग के चलते, तो कभी मोबाइल जैसें सहायक उपकरणों की जरूरतों के चलते ना चाहते हुए भी ऐसी तरंगें झेलनी पड़ती हैं। इनसे निपटनें के लिए तरंगो को सोखने वाली चमक विरोधी झिल्लियों (एंटी-ग्लेयर स्क्रीन्स) और चश्मों को प्रयोग में लेना पड़ता हैं।

जीवनशैली बदलें (Change your lifestyle)

स्वस्थ जीवनशैली से आपका शरीर स्वस्थ रह सकता है। अतिरिक्त धूम्रपान या शराब का सेवन करने से आँखों के आसपास काले घेरे पैदा हो जाते हैं, अतः इनसे दूर रहें। स्वस्थ खानपान करें तथा नियमित व्यायाम भी शुरू करें।

सझाव एवं समीक्षा (Suggestions and Reviews)

  • हर एक उपाय का अनूठा स्वभाव और ढंग हैं, इसलिए उपभोक्ता अपनी सहजता के अनुकूल उपचार करने के उपायों का चुनाव करें।
  • बेकिंग सोडा का लेप, नींबू का रस, हल्दी का लेप, टमाटर का जूस इत्यादि अनेक तरीकें और भी हैं, जो काले घेरों की समस्या को दूर करने में सक्षम हैं।
  • जिस किसी भी प्रक्रिया में आँखों और उसके समीप के भागों का ‘मलना’ हो। उन विधियों को अत्यंत सतर्कता और कोमलता से करना आवश्यक हैं, अन्यथा आँखों और उसके नीचे की नाज़ुक त्वचा पर घाव पड़ सकते हैं।

डार्क सर्कल के लिए घरेलू उपाय/उपचार (Dark circle ke upay)

  • अनानास के रस में हल्दी पाउडर मिलाकर पेस्ट बनायें और आँखों के नीचे लगायें।
  • एक छोटा चम्मच फ्रीज़र में १०-१५ मिनट रखें और फिर आँखों के नीचे लगायें।
  • रात को सोने से पूर्व बादाम एक्रिलिक से दो महीने मालिश करें।
  • नींबू के रस के बराबर मात्रा के साथ ककड़ी का रस मिलाएं और काले घेरों पर लगायें। १० से १५ मिनट के लिए छोड़ दें और फिर सादे पानी से धो लें। एक सप्ताह या दस दिनों के लिए यह उपाय करें।
  • १ छोटे कच्चे आलू का रस निकालें। रूई के पैड रस में डुबोकर काले घेरों पर रखें। १५ मिनट के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धो लें।
  • रूई के २ छोटे गोले गुलाब जल में डुबोकर अपनी बंद आंखों पर रखें। दिन में दो बार कुछ हफ्तों के लिए के लिए इस उपाय का पालन करें।
  • १ चम्मच बादाम का पेस्ट और थोडा दूध मिलाएं। प्रभावित क्षेत्र पर यह पेस्ट लगाकर १० से १५ मिनट के लिए छोड़ दें। फिर ठंडे पानी से धो लें।
  • २ बड़े चम्मच दही में नींबू के रस का १ बड़ा चम्मच अच्छी तरह से मिलाएं और घेरों पर लगायें। सूखने पर दूसरी बार लगायें और कुछ देर के लिए छोड़ दें। सादे पानी से धोकर तौलिया से थपथपाकर साफ़ करें।
  • मकई का आटा और दही मिलाएं। आंखों के आसपास इस पेस्ट से मालिश करें।
  • आंखों के आसपास ठंडी चाय बैग लगाकर १० मिनट के लिए छोड़ दें। यह हर दिन करें।
  • बादाम का तेल और शहद मिलाएं और आंखों के नीचे लगायें।
  • नींबू के रस के साथ टमाटर का रस मिलाएं और आंखों के आसपास लगायें।
  • कुछ ताजा गुलाब की पंखुड़ियों लें और उन्हें मसलकर पेस्ट बनायें। इसमें दूध मिलाकर आँखों के आसपास लगायें।
  • सुबह खाली पेट २ गिलास पानी पियें।
  • दिन में एक बार और हो सके तो सुबह में १ गिलास पानी में १ नींबू का रस और शहद मिलाकर पीए।
  • आसपास के पौधों, धूप, नीला आकाश और प्रकृति की हरियाली को निहारें।

शोधकर्ताओं के अनुसार केशिकाओं से बहुत छोटी मात्रा में खून के रिसाव से काले घेरे दिख सकते हैं। आंख के आसपास की त्वचा बहुत पतली होने से खून काले घेरों के रूप में दिखाई देता है। आंखों के नीचे डार्क सर्कल दिखना (Visibility of dark circles)