How to treat eye twitching naturally at home? – आँखों के फड़कने को प्राकृतिक रूप से कैसे कम करें?

आँखों का फड़कना काफी परेशानी भरा होता है, चाहे यह कुछ मिनटों के लिए हो या और भी अधिक समय के लिए।  ऐसे कई घरेलू नुस्खे एवं उपचार हैं, जिनकी मदद से आप डॉक्टर के पास जाने से बच सकते हैं।  इनमें से कुछ उपचारों का प्रयोग सुनिश्चित करें जिससे की फड़कन के गंभीर हो जाने या किसी चिकित्सकीय सहायता की आवश्यकता पड़ने से पहले ही आपको इससे छुटकारा मिल सके।

पूरक पदार्थ एवं औषधियां (Supplements and medicine)

आई फ्लोटर्स क्या हैं एवं इन्हें कैसे कम करें?

आँखों की फड़कन कम करने के सबसे अच्छे तरीकों में से एक कई प्रकार के पोषक पूरक पदार्थ लेना हैं, जिससे इसके लक्षण कम हो जाते हैं एवं आपके स्वास्थ्य में भी सुधार आता है।  नसों के लिए मैग्नीशियम (magnesium), फड़कन रोकने हेतु न्यूरोट्रांसमीटर्स (neurotransmitters) की गतिविधि बढ़ाने के लिए कैल्शियम (calcium) एवं मांसपेशियों को नियंत्रित करने तथा अकड़न को रोकने के लिए पोटैशियम (potassium) का सेवन सुनिश्चित करें। चिकित्सकीय शोधों से साबित हुआ है कि ये सभी पूरक पदार्थ आपके द्वारा अनुभव की जा रही फड़कन को दूर या नियंत्रित करने में सहायता करते हैं।

आँखों की मालिश (Eye massage)

आँखों की फड़कन दूर करने के एक अच्छे उपाय के रूप में ऐसा होने के समय आँखों की मालिश करें। सुनिश्चित करें कि इस तरीके के प्रयोग से पूर्व आपके हाथ पूरी तरह साफ़ हों। अपनी मध्य एवं तर्जनी उँगलियों की मदद से आँखों की पलकों पर धीरे से दबाव दें और फिर गोलाकार एवं छोटी मुद्रा में इनपर उँगलियाँ घुमाएं। इससे मांसपेशियों को आराम मिलेगा।  ध्यान रखें की ऊपरी पालक को ना रगड़ें क्योंकि इससे पूरी आँख को पीड़ा होगी।

पलकें झपकना (Blinking to stop it)

एक बार फड़कन शुरू होने के बाद इसे बंद करने के लिए पलकें झपकना शुरू करें। आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि करीब 30 सेकंड तक तेज़ी से पलकें झपकाएं, क्योंकि धीरे पलकें झपकाने से कोई फायदा नहीं होगा। पलकें झपकाना अपनी आँखों को नियंत्रित करने के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण गतिविधि है एवं यह आपकी आँखों की अधिकाँश मांसपेशियों को राहत पहुंचाती है।  इसके अलावा यह आँखों की पुतली को साफ़ करता है जिससे फड़कन रूकती है।  फड़कन के और गंभीर होने या आपके पीड़ा का अनुभव करने की स्थिति में तेज़ी से पलकें ना झपकाएं।

सेंक (Compresses)

आप खुद को सेंक भी प्रदान कर सकते हैं जिससे मांसपेशियों को सुचारू रूप से कार्य करने में सहायता मिलती है।  रूमाल या तौलिये का प्रयोग करके गर्म सेंक लें एवं इसे हल्के गर्म पानी में डुबोएं।  अपनी आँखों में इसका प्रयोग करने से पहले अतिरिक्त पानी को निचोड़ लें एवं इसके ठंडा होने तक इसे लगाए रखें।  दिन में 5 से 6 बार इस तरीके का प्रयोग करें।

सही खानपान (Eating right and food remedies)

यह भी सुनिश्चित करें कि आप सही खानपान कर रहे हों, क्योंकि कई बार किसी पोषक तत्व की कमी से भी फड़कन होती है।  विभिन्न पूरक पदार्थों के अलावा आप एक केला खा सकते हैं क्योंकि इनमें पोटैशियम होता है जो फड़कन रोकने में फायदेमंद साबित होता है।  आप खीरे का एक टुकड़ा लेकर प्रभावित आंख पर लगा भी सकते हैं, क्योंकि यह मांसपेशियों को प्राकृतिक रूप से राहत पहुंचाती है। आप यही तरीका आलू के पतले कटे हुए टुकड़ों के साथ भी आज़मा सकते हैं और इन्हें अपनी प्रभावित आँख पर लगा सकते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,129 other subscribers

आप कई तरीकों से आँखों की फड़कन का इलाज कर सकते हैं। आपको इलाज के लिए डॉक्टर के पास नहीं जाना पड़ेगा, पर आपको यह जानकारी अवश्य होनी चाहिए कि आप क्या कर सकते हैं।  उपरोक्त उपाय उन अनेक उपायों में से हैं जिनका आप प्रयोग कर सकते हैं, अतः प्रतीक्षा न करें एवं इनका प्रयोग करके फड़कन को रोकें।

loading...