Hindi tips to treat and prevent skin boils – त्वचा के फोड़े ठीक करने और रोकने के घरेलू उपाय

त्वचा फोड़े / त्वचा के फोड़ों का जन्म तैलीय ग्रंथियों में और यहाँ तक कि बालों के रोमछिद्रों में भी होता है। शुरुआत में ये त्वचा पर लाल दाग की तरह दिखते हैं और बाद में धीरे धीरे फूलने लगते हैं तथा इनमें पस भी भर जाता है। ये फोड़े उन लोगों को ज़्यादा होते हैं जो कि अपने खानपान के प्रति जागरूक नहीं होते और साफ़ सफाई नहीं रखते। त्वचा के कटने तथा छिलने की स्थिति में भी कई बार ये फोड़े हो जाते हैं।

कुछ ऐसे उपाय हैं जिनकी सहायता से इन्हें ठीक किया जा सकता है तथा इनके बड़े होने की मात्रा को रोका जा सकता है। त्वचा के फोड़े ठीक करने के सबसे कारगर उपायों में साबुन तथा एंटीबायोटिक्स का प्रयोग तथा शल्य क्रिया द्वारा उपचार प्रमुख है।

त्वचा के फोड़े एक प्रकार का संक्रमण होते हैं। फोड़े बड़े और कठोर मुहांसे होते हैं जिनमें पस भरा होता है। ये फोड़े त्वचा में लालपन और नरमाहट आने के साथ शुरू होते हैं। धीरे धीरे ये बड़े होने लगते हैं और इनमें सफ़ेद रंग के द्रव्य का जमाव शुरू हो जाता है। ये छूने में काफी नरम और दर्दभरे होते हैं। ये कई प्रकार के होते हैं और सिर, गुप्तांग, पीठ, स्तनों, चेहरे, काँखों और कूल्हों में हो सकते हैं। ये छूने से फैलते हैं और इस लिहाज से काफी हानिकारक होते हैं। फुंसी का घरेलू इलाज :-

त्वचा के फोड़ों के लक्षण (Symptoms of skin boils)

रिंगवर्म या दाद का उपचार करने के घरेलू उपाय

  • ये फोड़े समय के साथ और भी बड़े होते जाते हैं।
  • इन फोड़ों के आसपास की त्वचा काफी कठोर और दर्दभरी हो जाती है।
  • त्वचा पर एक फोड़ा या कई फोड़े एक साथ भी हो सकते हैं।
  • इसकी शुरुआत सिर या शरीर के किसी अन्य भाग में लाल उभार के साथ होती है।
  • फोड़ों में पस भर जाता है जिससे इसे एक सफ़ेद स्वरुप प्राप्त होता है।
  • फोड़े कई बार काफी खुजलीदार भी होते हैं।
  • फोड़ों के दौरान कई बार लिम्फ (lymph) में सूजन भी आ जाती है।

कुछ और लक्षण भी हैं, जैसे कई दिनों के बाद भी इनका ठीक ना होना, असहनीय दर्द, सूजन, तेज़ बुखार, चेहरे पर लाल निशान, मधुमेह या दिल की परेशानी, भूख कम लगना आदि।

त्वचा के फोड़ों के कारण (Causes of skin boils)

  • प्रतिरोधक क्षमता का कमज़ोर होना
  • कसे हुए कपड़ों से घर्षण उत्पन्न होना
  • पोषण और साफ़ सफाई का अभाव
  • कठोर रसायनों के अत्याधिक संपर्क में आना
  • शराब पीना
  • मधुमेह
  • कीमोथेरेपी (chemotherapy)

त्वचा के फोड़े ठीक करने के घरेलू नुस्खे (Home remedies for healing skin boils)

हल्दी से त्वचा के फोड़ों का इलाज (How to treat with turmeric for skin boils?)

जलने के छोटे घाव ठीक करने के लिए घरेलू उपाय

हल्दी एक बेहतरीन प्राकृतिक घरेलू उत्पाद है क्योंकि इसमें काफी मात्रा में जलनरोधी गुण होते हैं। यह त्वचा के फोड़ों का प्रभावी रूप से इलाज करता है। एक गिलास गर्म दूध या गर्म पानी लें। इसमें एक चम्मच हल्दी मिश्रित करें। इन्हें अच्छे से हिलाएं और इस मिश्रण का सेवन दिन में 3 बार करें। हल्दी की जगह आप ताज़ी अदरक का भी प्रयोग कर सकते हैं। ताज़े अदरक और हल्दी का एक मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण का प्रयोग सीधे अपने फोड़ों पर करें और कुछ देर के लिए छोड़ दें। बाद में इसे पानी से धो लें।

प्याज से त्वचा के फोड़ों का इलाज (Onions to get rid of skin boils or funsi ka ilaaj)

प्याज में जीवाणुओं को दूर करने के और एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण होते हैं। यह त्वचा के फोड़ों को ठीक करने का काफी असरदार नुस्खा होता है। इसके लिए प्याज का एक मोटा टुकड़ा लें और इसे अपनी त्वचा के फोड़ों से प्रभावित भाग पर लगाएं। अब प्याज को एक कपड़े से बाँध दें, जिससे कि प्याज की गर्मी त्वचा के अंदर तक पहुँच सके। इस प्रक्रिया का पालन दिन में 3 से 4 बार करें। इससे आपके फोड़ों से निश्चित तौर पर पस निकल जाएगा और ये साफ हो जाएंगे।

फोड़े-फुंसियों के लिए साबुन (How to prevent skin boils or foode funsiyan with soap?)

फोड़ों को ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक साबुन का प्रयोग करें। यह साबुन त्वचा पर बैक्टीरिया के हमले को कम करता है तथा यह बालों के रोमछिद्रों पर भी काम करके उन्हें इन्फेक्शन से बचाता है और फोड़े होने से रोकता है। डॉक्टर की सलाह के अनुसार ऐसे साबुन का ही प्रयोग करें जो कि त्वचा पर बैक्टीरिया को उत्पन्न होने से रोकते हैं। फोड़ों के घाव को धोते तथा साफ़ करते वक़्त यह ध्यान रखें कि आप उससे गन्दगी एवं बैक्टीरिया साफ़ कर रहे हैं।

फोड़े-फुंसियों के लिए कपडे (Clothing to removes skin boils)

अपने पहनावे तथा कपड़ों पर ठीक तरह से ध्यान दें। चिपके और असुविधाजनक कपडे पहनने से भी कई बार फोड़े हो जाते हैं। ऐसे कपडे लगातार पहनने से त्वचा को काफी नुकसान पहुंचाते हैं एवं त्वचा के फोड़ों का कारण बनते हैं।

फोड़े का उपचार, कटना एवं छिलना (Ways to treat boils on skin with cuts)

शरीर की देखभाल के लिए घरेलू नमक के स्क्रब्स

कटने एवं छिलने के फलस्वारूप होने वाला इन्फेक्शन भी त्वचा के फोड़ों का कारण बनता है। इन कटने छिलने वाले शरीर के भागों से बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश करता है। आप इन कटे तथा चोट खाए भागों को निरंतर साफ़ करके इन्हें इन्फेक्शन से बचा सकते हैं। घावों को धोने के लिए गर्म पानी एवं साबुन का प्रयोग करें। अच्छे से घाव साफ़ करके उसपर कोई एंटीबायोटिक मलहम लगाएं।

फुंसी उपचार दबाव से (Pressure may be the reason for skin boils)

फोड़े फुंसी का इलाज, ज़्यादा देर तक पृष्ठ भाग के सहारे बैठने की स्थिति में भी त्वचा पर फोड़े निकल आते हैं। इस तरह के फोड़ों को उत्पन्न होने से रोकने का एक ही तरीका है कि आप शरीर के उस भाग पर कम दबाव डालें जिस भाग पर फोड़े हो रहे हैं। त्वचा के रोमछिद्रों में जलन की स्थिति में पूरी तरह त्वचा के उस भाग पर दबाव डालना बंद करें। त्वचा के ज्वलनशील भाग को गर्म पानी की सहायता से साफ़ करें एवं इसे अच्छे से सूखने दें।

फोड़े का उपचार में एंटीबायोटिक्स का प्रयोग (Use the antibiotics to cure boils)

जो लोग हाइड्राडेनिटिस सपराटीवा से पीड़ित होते हैं, उन लोगों को एंटीबायोटिक दिया जाता है क्योंकि इस स्थिति में त्वचा के फोड़ों के दुबारा वापस आने की काफी संभावना होती है। सिस्टिक एक्ने की वजह से त्वचा पर हुए फोड़ों को ठीक करने के लिए भी एंटीबायोटिक्स का सहारा लिया जाता है। फोड़ों को जड़ से समाप्त करने के लिए एंटीबायोटिक्स का लम्बे समय तक प्रयोग करें।

फोड़े फुंसी के लिए शल्य क्रिया (Go for surgery to treat and prevent skin boils)

फोड़े फुंसी का इलाज, अगर आपने उपरोक्त सारी विधियों का इस्तेमाल कर लिया है और फिर भी कोई लाभ नहीं मिल रहा है तो आपके पास एक ही उपाय बचता है-शल्य क्रिया। त्वचा के फोड़ों को ठीक करने का यह काफी कारगर तरीका है। इस क्रिया के अंतर्गत फोड़ों वाली जगह की पसीने वाली ग्रंथियों को शल्य क्रिया के माध्यम से हटा दिया जाता है। पाइलोनिडल सीस्ट से ग्रस्त मनुष्य भी इस शल्य क्रिया का प्रयोग कर सकते हैं।

उपरोक्त सारे उपचार त्वचा के सारे फोड़ों को रोकने तथा ठीक करने के काफी कारगर तरीके हैं। साधारण स्थितियों में साबुन द्वारा घाव को धो लेना ही पर्याप्त है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday