Hindi remedies for yeast infection – महिलाओं में खमीर का संक्रमण ठीक करने की विधि – योनि यीस्ट संक्रमण

मानव शरीर में कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं। इनसे बचने का सबसे अच्छा तरीका है खुद को साफ़ सुथरा बनाए रखना। खमीर एक तरह का फंगस (fungus) है, जो आमतौर पर योनि में ही थोड़ी सी मात्रा में मौजूद रहता है। अगर यह फंगस ज़्यादा मात्रा में बढ़ गया, तो इससे संक्रमण का ख़तरा बना रहता है, जो कि महिलाओं में काफी सामान्य है। यह संक्रमण इतना गंभीर तो नहीं होता, पर इससे काफी परेशानी होती है।

खमीर के संक्रमण के लक्षण (Symptoms of Yeast Infection)

  • योनि में खुजली या जलन।
  • मूत्र निकासी या सेक्स की प्रक्रिया (sexual intercourse) के दौरान दर्द या जलन का अनुभव।
  • गाढ़ा और गन्धरहित सफ़ेद द्रव्य निकलना, जो मासिक धर्म के समय से एक हफ्ते पूर्व निकल सकता है।
  • योनि के सामने के भाग के पास लालपन।

योनि में खुजली का कैसे करें इलाज – योनि में संक्रमण के उपचार (Treatments)

योनि में खुजली का इलाज ऐसे करें

बाज़ार में ऐसी एंटी फंगल क्रीम्स (anti-fungal creams) उपलब्ध हैं, जिनका प्रयोग आप अपनी योनि का संक्रमण दूर करने के लिए कर सकती हैं। ऐसी कई एंटी फंगल गोलियां भी आती हैं, जिनका सेवन किया जा सकता है। अगर यह संक्रमण काफी कम है तो ये धीरे धीरे खुद ही कम हो जाएगा। ये संक्रमण गर्भावस्था के दौरान होना काफी आम है, अतः किसी डॉक्टर को दिखाएँ तथा इसके उपचार की सही दवाइयाँ लें। अगर आप अपने संक्रमण को ठीक करने के लिए एंटी फंगल क्रीम का प्रयोग कर रही हैं तो गर्भनिरोध के लिए कंडोम या डायाफ्राम (condom or a diaphragm) पर निर्भर ना रहें, क्योंकि आपके द्वारा प्रयोग में लायी गयी क्रीम की वजह से इन गर्भनिरोधक उपायों का आर कम हो जाता है। कुछ महिलाओं को ये संक्रमण बार बार होता है, अतः तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें तथा उन्हें इसकी जड़ में जाने के लिए कहें।

योनि के संक्रमण से बचाव (Prevention)

हमेशा अपनी योनि का भाग साफ़ रखें और सौम्य तथा खुशबूरहित साबुन एवं पानी का इस्तेमाल करें। जब आप बाथरूम (bathroom) का प्रयोग करके अपनी योनि को धोती या पोंछती हैं तो हमेशा सामने से पीछे की ओर पोंछें, जिससे बैक्टीरिया (bacteria) या खमीर आपके पृष्ठ भाग से आपकी योनि तक फैलने ना पाए। पेशाब मे जलन के कारण, सूती या ऐसे कपड़ों से बने अंतर्वस्त्र पहनें, जो आपकी योनि को साफ़ और सूखा रख सकें। कसी हुई जीन्स या पेंटीहोज (pantyhose) आदि ना पहनें। इन कसे कपड़ों को लगातार पहनने से योनि में नमी तथा ताप की मात्रा काफी बढ़ जाती है। अपने सैनिटरी नैपकिन्स तथा टेम्पोंस (sanitary napkins or tampons) को निरंतर बदलते रहें और खुशबूदार टेम्पोंस, या किसी ऐसी खुशबू का प्रयोग ना करें, जिससे आपकी योनि में मौजूद बैक्टीरिया या अन्य जीवों का संतुलन खराब हो। अगर आपने कई घंटों से गीली स्विमसूट (swimsuit) पहन रखी है तो इससे आपकी योनि नमीयुक्त हो जाएगी और संक्रमण का ख़तरा बढ़ जाएगा।

योनि के संक्रमण को ठीक करने के नुस्खे (Remedies to treat yeast infection)

पीरियड्स के दौरान सेक्स सुरक्षित या नहीं?

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए सेब का सिरका (Apple cider Vinegar)

घर पर रसोई में सेब के सिरके का प्रयोग किसी ना किसी व्यंजन को बनाने तथा इसमें स्वाद डालने के लिए किया जाता है। अब आप इस घरेलू पदार्थ का प्रयोग अपनी योनि से खमीर का संक्रमण दूर करने के लिए भी कर सकती हैं। इसके लिए दो कप पानी लें और इसमें एक चम्मच सेब का सिरका मिश्रित करें। इस मिश्रण को तब तक छोड़ दें, जब तक सेब का सिरका पानी में अच्छे से घुल ना जाए। अब इस मिश्रण का प्रयोग अपनी योनि पर करें।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए लहसुन के फाहे (Garlic clove hai guptang me infection ke liye)

लहसुन में भी संक्रमण दूर करने के काफी प्रभावी गुण होते हैं। यही कारण है कि आपके पेट में किसी प्रकार का संक्रमण होने पर आमतौर पर इसका प्रयोग किया जाता है। इस विधि के अंतर्गत लहसुन के दो फाहे लें और इनके छोटे टुकड़े कर दें अब इसे एक छोटे रुई के कपड़े में बाँध लें।इस बात का ध्यान रखें कि इस कार्य के लिए प्रयोग में लाया जाने वाला कपड़ा बिलकुल साफ़ होना चाहिए। अब इस कपड़े को अपने निचले अंतर्वस्त्र के नीचे से अपनी योनि के छेद में डालें। इसे रातभर इसी तरह रहने दें और सुबह उठकर ही फर्क महसूस करें।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए करौंदा (Gooseberry se dur kare yoni me infection in hindi)

खमीर के फंगस को कम करने के लिए करौंदे का सेवन करें जिसमें महत्वपूर्ण एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं। करौंदे उन संक्रमणों का भी इलाज करते हैं जो मूत्रमार्ग एवं मूत्राशय के द्वारा शरीर में प्रवेश करते हैं। करौंदे का रस पियें। अगर ये संभव नहीं होता तो रोज़ 2 से 3 करौंदे की गोलियां खाएं। करौंदे के घाव जल्दी ठीक करने की शक्ति से खमीर के संक्रमण के निशान कुछ ही समय में दूर हो जाएंगे।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए दही (Curd hai gupt rog ke liye)

एस्ट्रोजन के बदलाव की पद्दति

दही भी खमीर के संक्रमण को ठीक करने का एक आसान घरेलू नुस्खा है। प्रभावित भाग पर सादी दही लगाएं और अच्छे परिणामों के लिए 1 घंटे के बाद धो दें। आप इसे खा भी सकते हैं पर ध्यान रखें कि दही मिठास से मुक्त और सादी हो। लैक्टोबैसिलस एसिडोफिलस, जो कि दही में मौजूद एक बैक्टीरिया होता है, संक्रमण को कम करता है।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए टी ट्री आयल (Tea Tree Oil)

खमीर के संक्रमण को आसानी से ठीक करने के लिए टी ट्री आयल का प्रयोग करें। टी ट्री आयल में मौजूद एंटी फंगल गुण खमीर के संक्रमण से जुडी समस्याओं को समाप्त करते हैं। थोड़ा सा टी ट्री आयल लें और इसे पानी या मीठे बादाम के तेल या जैतून के तेल के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को सूती के गोले की सहायता से प्रभावित क्षेत्रों में दिन में कई बार लगाएं। अगर आप योनि में खमीर के संक्रमण की समस्या से परेशान हैं तो रुई के फाहे में थोड़ा सा टी ट्री आयल लगाएं और इसे अपनी योनि में 2 से 3 घंटों तक दबाकर रखें। संक्रमण से बचने के लिए इस विधि को दिन में 2 बार प्रयोग में लाएं। यह गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा उपाय नहीं है क्योंकि टी ट्री आयल नवजात शिशु को हानि पहुंचा सकता है।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए सिरका (Vinegar for peshab ke rog in hindi)

सिरके की मदद से भी आप खमीर के संक्रमण को ठीक कर सकते हैं। सिरके में मौजूद ख़ास तत्व संक्रमण के लिए ज़िम्मेदार फंगस का बढ़ना रोकते हैं। अपने नहाने के पानी के टब में सिरके की कुछ बूँदें डालकर अच्छे से हिलाएं। अब इसमें अपने शरीर को आधे घंटे तक अच्छे से भिगोएं। इस प्रकार नहाने से जलन कम होती है तथा संक्रमण के फलस्वरूप त्वचा में होने वाली खुजली से राहत मिलती है। आप सेब के सिरके या सामान्य सिरके को पानी के साथ मिलाकर प्रभावित भागों पर लगा भी सकते हैं। इसे 30 मिनट तक छोड़ दें और त्वचा को राहत देने के लिए अच्छे से धो लें।

योनि का संक्रमण दूर करने के लिए बोरिक एसिड (Boric acid)

बोरिक एसिड का कैप्सूल के रूप में लेने से या फिर बोरिक एसिड को पानी में मिलाकर प्रभावित जगहों पर लगाने से संक्रकमांण की समस्या से राहत मिलती है। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक, एंटी वायरल और एंटी फंगल गुण आपकी संक्रमित त्वचा को तेज़ी से ठीक करते हैं।

बोरिक एसिड गर्भवती महिलाओं के लिए सही नहीं है और इसे लम्बे समय तक प्रयोग में लाना भी खतरनाक है क्योंकि यह एक तरह का ज़हरीला पदार्थ होता है।