Hindi tips to use henna for hair – मेंहदी से सौंदर्य देखभाल – बालों के लिए मेंहदी लगाने के टिप्स

हिना एक बेहतरीन जड़ीबूटी है जिसका अगर सही प्रकार से प्रयोग किया जाए, तो यह आपको काफी खूबसूरत बाल प्रदान करने में सक्षम है। आजकल हेना का प्रयोग अस्थायी तौर पर बालों को रंगने के लिए मुख्य रूप से किया जाता है, क्योंकि अन्य रसायन से युक्त बालों को रंगने की सामग्रियों की तरह हिना बालों और त्वचा के लिए नुकसानदायक साबित नहीं होता। हेना में प्राकृतिक रूप से आपके बालों को चमकदार लाल रंग (copper red color) प्रदान करने के गुण होते हैं।

अगर इसका प्रयोग आप रोजाना करें तो यह आपके बालों पर काफी लम्बे समय के लिए टिकता है। यह आपकी आँखों या त्वचा को कोई नुकसान नहीं पहुंचाता। लेकिन नियमित रूप से हेना का प्रयोग करके बालों को खूबसूरत बनाने के लिए आपको इसे प्रयोग में लाने का सही तरीका आना चाहिए।

हिना मेहँदी के रूप में लोकप्रिय है। हिना सैकड़ों सालों से बालों को रंगने के रूप में प्रयोग की जाती रही है। प्राचीन समय में, बेगमे शक्तिशाली जड़ी बूटियों से अपने बालों (baalon ke liye mehandi) को रंगती थी। हिना एक फूलो वाला पौधा है। मेंहदी की पत्तियों में बरगंडी रंग वाले पदार्थ केंद्रित है। जिन लोगो को रसाय्निक पदार्थ इस्तेमाल करने में दिक्कत होती है, वे लोग हिना का प्रयोग करते है। हिना सूर्य और धूल से हमारे बालों की सुरक्षा करती है।

मेंहदी का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह एक उत्कृष्ट कंडीशनर है। हिना एक प्राकृतिक ढंग से बालों को रंगती है, मजबूती देती है और कई अन्य लाभों से भरी है। हिना कि वजह से बालों के समय से पहले सफेद होने से रोकने में मदद मिलती है। यह एक प्राकृतिक डाई है। हिना सिर के पीएच स्तर का संतुलन करती है और बालों को गिरने से रोकती है। हिना खुजली और रूसी जैसी आम स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। हिना बालों की खोई नमी वापस लाती है और बालों के सूखेपन को दूर करने में मदद करती है।

बालों में मेंहदी के फायदे और मेंहदी के लाभ (Benefits of henna)

बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिये मेहंदी (Henna improves hair growth)

हिना बाल गिरने से छुटकारा पाने में एक आवश्यक तेल बनाने के लिए प्रयोग की जाती है।

सामग्री (Ingredients)

  1. मेंहदी पाउडर 5 कप
  2. गिंगीली तेल (पूर्वी हिंद द्वीपसमूह का एक पौधा जिससे मीठा तेल निकलता है) 1/4 किलो

प्रक्रिया (Procedure)

बालों को बनाने वाले तंतु क्या हैं? क्या ये मेरे बालों के लिए सुरक्षित हैं?

  1. गिंगीली तेल को तब तक उबाले जब तक वह अच्छी तरह से गर्म ना हो जाये। तेल में हिना पाउडर जोड़ें और 5-6 मिनट के लिए उबाले।
  2. मिश्रण को पूरी तरह से ठंडा होने दे। इलाज के लिए बोतल में भर ले।
  3. 2 महीने के लिए एक सप्ताह में 2-3 बार इसे बालों पर लगाये।

बालों में कंडीशनर और बाल रंगने के लिये मेहंदी (Balo me heena lagana for conditioning and coloring)

यह पैक बालों के रंगने और कंडीशनिंग दोनों उद्देश्यो के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

सामग्री (Ingredients)

  • मेंहदी पाउडर
  • नींबू का रस
  • दही
  • चाय का काढ़ा

प्रक्रिया (Procedure)

  1. औसत तापमान में एक गिलास चाय का काढ़ा ले। इसमे मेहंदी पाउडर मिला ले।
  2. एक जाड़ा मिश्रण होने तक इसे अच्छी तरह से मिलाएं। अब इसमे नींबू के रस के तीन चम्मच मिलाए।
  3. 30 मिनट के लिए एक तरफ रख दें। अब इसमे दही के 2 बड़े चम्मच मिलाए।
  4. समान रूप से इसे बालों पर लगाये और 1 घंटे के लिए रह्ने दे। इसके बाद हल्के शैम्पू के साथ बालों को धो ले।
  5. बालों में चमक और बालों के विकास के लिए इस पैक को हर दो सप्ताह में एक बार लगाए।

बाल झड़ने को रोकने के उपाय है मेहंदी (Balo me mehndi lagana in hindi reduces hair fall)

केले से बने प्राकृतिक हेयर मास्क और हेयर पैक

सरसों के तेल के साथ हिना के प्रयोग से बाल गिरने की समस्या से समाधान मिलता है।

सामग्री (Ingredients)

  1. मेंहदी
  2. सरसों का तेल

प्रक्रिया (Procedure)

  1. 250 मिली लीटर सरसों का तेल ले और इसे उबाल ले। अब इसमे मेंहदी मिला ले और फिर से उबाल ले।
  2. बाल गिरने की समस्या पर काबू पाने के लिए एक सप्ताह में 2 से 3 बार इस तेल के साथ अपने सिर की मालिश करे।
  3. यह तेल एक महीने तब रह्ता है और खराब नही होता है।
  4. बेहतर परिणाम पाने के लिए और बाल गिरने की समस्या को दूर करने के लिए तेल के साथ ताजे नींबू का रस और दही का उपयोग करें।

रुसी का उपचार मेहंदी से (Henna prevents dandruff)

हिना बालों की अधिकांश समस्याए जैसे कि रूसी, खुजली और सूखेपन से बचाती है। मेंहदी के नियमित उपयोग से रूसी से राहत मिलती है और यह रूसी को वापस आने से रोकती है।

सामग्री (Ingredients)

  1. मेंहदी
  2. सरसों का तेल
  3. मेथी के दाने

मुल्तानी मिट्टी हेयर मास्क: एक प्राकृतिक देखभाल के लिए

प्रक्रिया (Procedure)

  1. मेथी के दानो को रात भर पानी में भिगो ले। अगली सुबह इसे पीस ले। अब इसमे सरसों का तेल और मेंहदी मिला लें।
  2. 30 मिनट के लिए सिर और बालों पर यह मिश्रण लग के रखे।
  3. हमेशा की तरह शैम्पू के साथ अपने बालों को धो ले। फिर कंडीशनर का इस्तेमाल करें।
  4. स्वस्थ सिर और स्वस्थ बालों के लिए इस मिश्रण का नियमित रूप से प्रयोग करें।

हिना के साथ मुख्य समास्या यह है कि यह काफी सूखे स्वरूप का होता है। अतः अगर आप इसे अपने बालों में लम्बे समय तक रखेंगे तो यह आपके हेयर शाफ़्ट (hair shafts) को सुखा देता है और बालों के झड़ने में बढ़ोत्तरी होती है। यह आपके बालों से पूरी तरह नमी को चुरा लेता है जिससे आपके बालों की जड़ें कमज़ोर हो जाती हैं और इससे डैन्ड्रफ (dandruff) की समस्या सामने आती है। हिना को बिना सुखाए बालों में इसके सारे गुणों का संचार करने के लिए आपको इस उत्पाद का प्रयोग करते समय कुछ कदमों का पालन करने की आवश्यकता होती है। नीचे कुछ ऐसे तरीके बताये गए हैं, जिनकी मदद से आप हिना का अच्छे से इस्तेमाल करना सीख पाएंगे।

  • अगर आप कंडीशनिंग (conditioning) के लिए हिना का इस्तेमाल कर रहे हैं तो हमेशा इसे लगाने से पहले इसमें अंडा और शहद मिश्रित करें। अंडा और शहद आपके बालों को पोषण प्रदान करेंगे और हेना के सूखने के प्रभाव से लड़ेंगे। इससे आपो खूबसूरत बाल प्राप्त होंगे। अगर आपका उद्देश्य बालों को सिर्फ कंडीशन करना है तो हेना को सिर में 1 घंटे से ज़्यादा ना रखें।
  • बालों को रंगने के लिए अगर आप हिना पाउडर का प्रयोग करते हैं तो एक लोहे के पात्र में चाय की शराब के साथ इस पाउडर को भिगोकर रखने से बाल काफी चमकदार बन जाते हैं।
  • हिना को रंगने के लिए आपको काफी अंतराल लेकर इस प्रक्रिया को दोहराना चाहिए। एक हफ्ते तक भिगोये हुए हेना का प्रयोग हर दूसरे दिन करें। इसके बाद इस प्रक्रिया को हर महीने 1 से 2 बार करें। बालों को अच्छे से रंगने के लिए हिना को बालों पर 5 से 6 घंटों तक रखना ज़रूरी है। जब भी हिना का प्रयोग अपने बालों पर करें तो शावर कैप (shower cap) का प्रयोग करके यह सुनिश्चित करें कि हिना सूखने ना पाए।
  • बालों को रंगने या कंडीशन करने के लिए कभी भी इसका प्रयोग अपने सिर की त्वचा पर ना करें। हिना सिर की त्वचा को सुखाकर खुजली और जलन पैदा कर सकती है।

अरंडी के तेल से त्वचा तथा बालों की देखभाल के लाभ

  • हिना का नियमित अंतराल पर प्रयोग करने के फलस्वरूप होने वाले सूखेपन से निपटने के लिए आप हिना का प्रयोग करने से पहले और बाद में सिर में तेल का प्रयोग कर सकते हैं। इससे यह सुनिश्चित होगा कि आपके बालों में पर्याप्त नमी रहे और ये हिना से ना सूखें।

अगर आप तेल लगे बालों पर हिना का प्रयोग कर रहे हैं, तो इसे धोने के लिए शैम्पू (shampoo) का प्रयोग ना करें। एक तय समय के बाद काफी मात्रा में पानी से बालों को धो लें, पर शैम्पू का प्रयोग ना करें। हेना बालों से अतिरिक्त तेल को निकालता है। अगर हिना को अच्छे से धोने के बाद भी आपके बाल रूखे रहते हैं तो तो आप इस पर सीधे तेल का प्रयोग कर सकते हैं। इससे आपको हिना का प्रयोग करने के बाद लम्बे समय तक चलने वाला रंग प्राप्त होगा। आप बालों में तेल लगाने और फिर हिना लगाने की प्रक्रिया को 3 से 4 बार दोहराएं और फिर अंत में शैम्पू का प्रयोग करके बालों को धो लें। आखिर में एक नमीयुक्त कंडीशनर (conditioner) का प्रयोग कर लें। इससे आपके बालों को रूखेपन की वजह से नुकसान भी नहीं पहुंचेगा और उनका रंग भी गाढ़ा और स्थायी होगा।

बालों में हिना का प्रयोग करते समय हमेशा दस्तानों का प्रयोग करें और बालों के नज़दीकी संपर्क में आने वाले अंगों को ढककर रखें, जिससे कि वे गंदे ना हो जाएं। अगर कोई अंग गन्दा हो जाता है तो त्वचा से पैक धो लें और एक मोइस्चराइज़र (moisturizer) लगाकर इसे शरीर में समाने दें और अंत में नींबू का टुकड़ा रगडें। इससे हिना के दाग हल्के हो जाएंगे।

अगर आप बालों में हिना लगाने की प्रक्रिया को आसान बनाना चाहते हैं तो बालों को पहले गीला करके उनपर हिना का प्रयोग करें। हिना लगाते समय बालों को सही रखने के लिए प्लास्टिक क्लिप (plastic clips) का प्रयोग करें। आप पैक को महीन बनाने के लिए हिना के साथ चीनी का मिश्रण भी कर सकते हैं।

सावधान रहने हेतु कुछ बातें (A word of caution)

प्राकृतिक हिना त्वचा के लिए बिलकुल हानिकारक नहीं होती और इसमें औषधीय गुण होते हैं। इसका सही प्रकार से प्रयोग करने पर कई प्रकार की सिर की समस्याओं से लड़ा जा सकता है। असली हिना हमेशा आपके बालों और त्वचा को लाल करती है। लेकिन आजकल बाज़ार में बिकने वाले हिना के कई उत्पाद असल से कोसों दूर होते हैं।

बालों की देखभाल के नुस्खे

सबसे आसानी से मिलने वाली काली मेहँदी हिना के पत्तों से नहीं बनती और ये डाई का इस्तेमाल करके बालों को सामान्य रंग प्रदान करते हैं। अतः अगर आप बालों की अवस्था सुधारने और बालों को लाल रंग प्रदान करने के लिए हेना का प्रयोग कर रहे हैं तो हिना पाउडर का सावधानीपूर्वक चुनाव करें। आप इसमें कॉफ़ी (coffee), चाय, शराब या अन्य चीज़ें गहरा रंग पाने के लिए मिला सकते हैं।

हिना के पौधे के पत्तों का पेस्ट रसोई के अन्य उत्पादों के साथ मिश्रित करके बालों पर लगाने से काफी फायदा होता है। हालांकि शहरों में आप हिना के पत्ते इकठ्ठा नहीं कर सकते। अतः किसी अच्छी कंपनी (company) की आयुर्वेदिक हिना खरीदना सबसे अच्छा विकल्प साबित होता है। हिना के उत्पादों को खरीदने से पहले इसमें प्रयुक्त सामग्री की जांच करना ना भूलें। इस बात को सुनिश्चित करें कि हिना के नाम पर आपको किसी प्रकार की बालों की डाई तो नहीं बेची जा रही है।