Hinditips to lose weight with yoga – योगा से कुछ यूं करें अपना वजन कम

योगा से वजन कम करना आसान और सरल होता है, क्योंकि योगासन एक्सरसाइज की तरह आपके शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। योग करने से हमारा शरीर काफी लचीला हो जाता है। योगासन रोजाना करने से हमारा वजन काफी आसानी से कम हो जाता है, रोजाना योग का अभ्यास करने, योग के लिए समय निकाल कर अपने बढ़ने वजन को कंट्रोल (control) करना काफी आसान होता है और इससे नियमित अभ्यास से मांसपेशियां टोन होती है।

रोजाना कम से कम 1 घंटे का समय योग के लिए जरूर निकाल लें। इसी के साथ आप अच्छी डाइट (diet) भी लें। योग का अभ्यास करने से कई लोगों और अधिक वजन वाले लोगों को भी फायदा मिलता है। योग करने से आप बिना अपने शरीर पर दवाब डाले ही अपना वजन कम कर सकते हैं।

योग करने से अगर आप अपने बढ़े हुए वजन को बढ़ना चाहते हैं, तो ऐसे में आपको योग नीचे बताए गए तरीकों से करना होगा। आपको ऐसा सुबह और शाम दोनों समय करना चाहिए। योग करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप सही मुद्रा बना रहे हैं, या नहीं। तो आज से ही योग के लिए समय निकालें और अपने शरीर को आराम देकर इसका अभ्यास करें।

भले ही आप दिन में योग का एक ही आसन करते हो, लेकिन उसे पूरी पूर्णता और एकाग्रता के साथ करें, तभी आप अपने बढ़ने वजन पर नियंत्रण कर सकेंगे और आपका अच्छा खासा वजन कम होगा। योग की अगर बात की जाएं तो आपको इसे काफी आराम से करना चाहिए, इसमें एक्सरसाइज की तरह तेजी दिखाने की कोई जरूरत नहीं है।

आज हम आपके लिए एक गाइड लेकर प्रस्तुत हुए हैं। इन योग आसनों के बारे में और इन्हें करने के सही तरीकों को आप नीचे दिए गए कारगार उपायों से जान सकते हैं। योग एक विज्ञान की तरह है, जिसे आप इसके निपुण गुरु से सीख सकते हैं।

योगआसन के कई ऐसे आसन हैं, जो कि हर उम्र के लिए नहीं होता है, इसलिए इसके निपुर्ण ज्ञान प्राप्त कर चूकें गुरु से ही इसके बारे में जाने और योग करने के तरीके को भी करें। वह आपको इसके बारे में विस्तृत में जानकारी देंगे और यह आपके लिए काफी प्रभावी होता है। योग से बेहतर लाभ पाने के लिए इसे सही मुद्रा में ही करें और अपने वजन को कम कर सकते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,327 other subscribers

अधोमुख शवासन (Adho mukha savashana or downward-facing dog pose)

Adhomukhasavashana-or-downward-facing-dog-pose

अधोमुख शवासन को करने के लिए सबसे पहले अपने पेट के बल जमीन पर लेट जाएं। इसके बाद अपने हाथों और पैरों को धीरे धीरे ऊपर की तरफ रखें और फिर अपने शरीर को कमर के साथ ऊपर की तरफ लेकर जाएं। अपने शरीर को इस तरह झुकाएं कि आपके शरीर का आकार उल्के वी का हो जाए। इस मुद्रा को कम से कम 30 सेकेंड के लिए बनाएं रखें और फिर धीरे धीरे अपनी शुरुआती स्थिति में वापस आ जाएं। इस काम को कम से कम 3 से 4 बार दोहराएं और 3 से 4 बार दोहराने की कोशिश करें।

अर्थनावासन (Ardha navasana or half boat posture)

Ardha-navasana-or-half-boat-posture

इसके लिए पीठ के बल जमीन पर लेट जाएं और अपने हाथों को सिर और पैरों के बीच मोड़ कर अपने पैरो को खींचने की कोशिश करें। अब अपने शरीर और पैरों को ऊपर की तरफ करें और एक नाव का आकार ले लें। आपका उद्देश्य है कि आपको फर्श में कम से कम 45 डिग्री में रखने की कोशिश करें। इस मुद्रा में आप 30 सेकेंड तक रहे। यह थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन आप शुरुआती दिनों में कम से कम 10 सेकेंड तक इस स्थिति में बने रहें। ऐसा करने के बाद अपनी शुरुआती मुद्रा में आ जाएं। इस आसन को एक बार में कम से कम 2 से 3 बार करें।

बालासन (Balasana or child’s pose)

Balasana-or-child’s-pose

बालासन योग को करने के लिए सबसे पहले फ्लोर पर बैठ जाएं और अपने पैरों को मोड़कर अपने कुल्हों के नीचे दबा दें। अब अपने सिर को अपने घुटनों तक पहुंचाने की कोशिश करें। इसके बाद अपने पैरों की उंगलियों को छूने की कोशिश करें। इस मुद्रा में आप कम से कम 30 सेकेंड तक बने रहे। पहले अपने हाथों को खींचे और फिर सिर को ऊपर की तरफ ले जाने की कोशिश करें। इस मुद्रा को कम से कम 3 से 4 बार करने की कोशिश करें। इस आसन को करने से आपका वजन आसानी से कम होगा ही, इसी के साथ आपको गले और कंधे के दर्द से भी छुटकारा मिल जाएगा।

भुजंगासन या कोबरा मुद्रा (Bhujangasana or cobra pose)

Bhujangasana-or-cobra-pose

भुजंगासन करने से आपका वजन आसानी से कम होता है, इसी के साथ ही पेट, छाती, पीठ और कुल्हों के लिए भी यह काफी प्रभावी होता है। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं। इसके बाद अपने हाथों की मदद से ऊपर की तरफ को अपने छाती तक के हिस्से को खींचे। आप अपने हाथों पर शरीर के वजन को रखकर संतुलन करें। अपने शरीर को जितना हो सके, उतना ऊपर रखने की कोशिश करें। हो सकता है कि आप पहली बार में यह मुद्रा ना पा सकें, जो कि नीचे दी गई फोटो में दिखाया गया है, क्योंकि यह पहली बार में करना संभव नहीं है। लेकिन अभ्यास करते करते आप इस मुद्रा को आसानी से पा सकते हैं।

चक्रासन (Chakrasana or wheel)

Chakrasana-or-wheel

चक्रासन को पेट की चर्बी कम करने और वजन को नियंत्रण करने के लिए बेहतर आसन माना गया है। यह एक अकेला ऐसा आसन है जिसे करने से कमर कुछ सप्ताहों में ही कुछ इंच तक कम हो जाती है। आप इस अभ्यास को सोने की स्थिति से या फिर खड़े होकर भी कर सकते हैं। यह आपकी अपनी इच्छा है कि आप इस आसन को किस तरह करना चाहती हैं। शुरुआती के दिनों में आप इस आसन को सोकर ही करें। इसके लिए जमीन पर पीठ के बल लेट जाएं और अपने घुटनों को झुकाकर अपने बाकि के शरीर को ऊपर की तरफ खींचे। इसके बाद अपने शरीर का आकार एक पहिए के रूप में बना लें। ऐसा करने से आपका शरीर एक पहिए की तरह लगने लगेगा। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए रहे और फिर धीरे धीरे वापस आएं।

धनुरासन (Dhanurasana or bow)

Dhanurasana-or-bow

धनुरासन आपके शरीर को अच्छी तरह से टोन करता है, ऐसा इसलिए क्योंकि इस आसन में बड़ी मांसपेशियों शामिल होती हैं। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले पेट के बल जमीन पर लेट जाएं और फिर अपने पैरों को मोड़ कर अपने शरीर को ऊपर की तरफ लेकर जाएं और फिर अपने हाथों से पैर को छूने की कोशिश करें। जैसा कि इस तस्वीर में दिखाया जा रहा है। इस बात का ध्यान रखें कि आपके पैर एक दूसरे के समानांतर होने चाहिए। अपने सिर को सीधा रखें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड तक बनाए रखे और धीरे धीरे अपनी पहली स्थिति में आ जाएं।

गोमुखासन (Gomukhasana or cow faced pose)

Gomukhasana-or-cow-faced-pose-768x511

गोमुखासन आसन को करने के लिए सबसे पहले फ्लोर पर बैठ जाएं। आपको बता दें कि इस आसन को करने से ना केवल वजन कम होता है बल्कि इसे करने से पीठ दर्द और कंधे के दर्द से भी राहत मिलती है। इस आसन को करने के लिए फ्लोर पर बैठ जाएं, और फिर एक पैर को दूसरे के ऊपर रख दें, जैसा कि तस्वीर में दिखाया गया है। इसके बाद अपने हाथों को पीछे की तरफ ले जाएं और उंगलियों को पकड़ लें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड तक बनाएं रखें। इसके बाद पैरों और हाथों को बदलकर इस आसन को फिर से करें। ऐसा करने से इसका सेट पूरा हो जाएगा। यह आसन पेट की चर्बी को कम करने में काफी मददगार होता है। इससे पूरा शरीर का हिस्सा भी लचीला बना रहता है।

पादहस्तासन (Padahastasana or standing forward bend)

Padahastasana-or-standing-forward-bend

अपने पैरों पर सीधे खड़े हो जाएं और फिर अपनी कमर को आगे की तरफ को झुकाएं। ध्यान रहे कि ऐसा करते समय आपके घुटने ना मुड़ें। इस सर्किट को पूरा करने के लिए अपने हाथों से पैरों को पकड़ लें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए बैठे रहे और फिर वापस आ जाएं। ऐसा नहीं होगा कि पहली बार में ही आपके हाथ पैरों को छूने लग जाएं, इसे आप धीरे धीरे शुरू कर सकते हैं। सबसे पहले अपने पैर के अंगूठे को छूने की कोशिश करें, और फिर धीरे धीरे अभ्यास करते करते आप पैरों को आसानी से पकड़ पाएंगे।

शलभासन (Salabhasana or locust)

Salabhasana-or-locust

इस आसन को करने के लिए पेट के बल फ्लोर पर लेट जाएं। इसके बाद अपने ऊपरी शरीर को ऊपर धक्का दें और अपने घुटनों को मोड़ दें। अपने हाथों को पीछे की तरफ ले जाएं। कोशिश करें कि आपके शरीर के ऊपरी हिस्से और पैरों के बीच बराबर का गैप हो। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड तक बने रहे और फिर इस मुद्रा को फिर से दोहराएं।

शशाकसाना या खरगोश (Sasakasana or rabbit)

Sasakasana-or-rabbit

शशाकसाना योगा का एक ऐसा पोज है, जो कि आपके ऊपरी शरीर के लिए काफी प्रभावी होता है। इस आसन को करने के लिए फ्लोर पर घुटनों पर खड़े हो जाएं, इसके बाद अपने ऊपरी शरीर को झुका लें और सिर से जमीन को छूने की कोशिश करें। इसके बाद अपने पैर की एड़ियों को अपने हाथो से पकड़े, जैसा कि इस तस्वीर में दिखाया गया है, इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए बैठे रहे और फिर शुरुआती मुद्रा में आ जाएं। यह आसन पैरों के दर्द से भी छुटकारा दिलाने में मदद करता है।

उष्ट्रासन योग (Ustrasana or camel)

Ustrasana-or-camel

इसमें भी आपको शशाकसाना की तरह अपने घुटनों पर खड़े हुए और फिर उन्हें आगे की तरफ बढ़ा लें। इसके बाद अपनी ऊपरी शरीर को पीछे की तरफ ले जाएं और अपने एंकल्स को अपने हाथों से पकड़ें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए रहे। अगर आपको पीठ का दर्द है, या फिर किसी तरह के आसन या एक्सरसाइज (exercise) को करने से शरीर में किसी भी तरह का दर्द है, तो इस आसन को करने से आपको इस दर्द से छुटकारा मिल जाएगा। इससे आपके नीचले और ऊपरी दोनों शरीर को आराम मिलेगा।

उत्कटासन या कुर्सी मुद्रा (Utkatasana or chair pose)

Utkatasana-or-chair-pose

उत्कटासन आसान को करने के लिए सबसे पहले सीधे खडे़ हो जाएं, ऐसा करने के बाद अपने घुटनों को मोड़कर कुर्सी तक पहुंचने की कोशिश करें। इसके बाद अपनी जांघों को फ्लोर (floor) के समानांतर रखकर अपने ऊपरी शरीर को सीधा करने की कोशिश करें। इसके बाद अपने हाथों को फैला लें और अपने शरीर की सारी तनाव को दूर करने में मदद करें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए रहे और फिर सीधे खड़े हो जाएं।

सेतुबंधासन या ब्रिज मुद्रा (Setubandhasana or bridge pose)

Setubandhasana-or-bridge-pose

इस मुद्रा को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और पैरों को घुटने तक 90 डिग्री तक मोड़ लें। इसके बाद अपने हाथों बगल में रखकर, अपने शरीर को संतुलन करते हुए ऊपर की तरफ खींचना शुरू कर दें। शरीर के पूरे भार को हाथों और पैरों पर रख दें। इसके बाद पैरों को पीछे की तरफ से पकड़कर इस मुद्रा को पूरा करें। इस मुद्रा को करने के लिए आपको अपने शरीर के मध्य भाग को फ्लोर पर रखने का प्रयास करना चाहिए। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड के लिए स्थिर रखें और फिर अपनी पहले वाली स्थिति में वापस लौट जाएं, और फिर से इस उपचार को दोहराएं।

विशेष निर्देश (Special instructions)

sabasana

योगा से सबसे अच्छे लाभ पाने के लिए आपको यह सुझाव दिया जाता है कि आप शवासन मुद्रा को हर आसान को खत्म करने के बाद अवश्य करें। यह योगासन के प्रभाव को अधिकतम करने में मदद करता है। इसी के साथ कभी भी भरे हुए पेट के साथ योग ना करें। खाना खाने के 4 घंटों के बाद ही योग करें, अन्यथा योग से कोई लाभ नहीं होगा और भोजन हर 1-5 घंटे के न्यूनतम अंतराल लेना चाहिए। इसी के साथ योगा करने के एकदम बाद कभी भी पानी और खाना ना खाएं।

loading...