Possibility of getting pregnant one day after periods – Tips in Hindi – पीरियड्स के एक दिन बाद गर्भवती होने की संभावना

पिरियोडिक साइकिल के अंत में गर्भधारण की स्थिति को लेकर कई महिलाओं के मन में कई प्रकार की गलत धारणाएं घर कर जाती हैं। परन्तु बायोलॉजी के अनुसार कोई भी महिला अगर किसी भी समय बिना किसी सुरक्षा के सेक्स की क्रिया में सम्मिलित होती है, तो उसके गर्भवती होने की हमेशा ही संभावना रहती है। अगर आपकी नयी नयी शादी हुई है और आप दोनों एक दुसरे के साथ थोड़ा सा समय बिताने के इच्छुक हैं तो ऐसी स्थिति में हमेशा सेक्स करते वक़्त या तो कंडोम का प्रयोग करें, या फिर गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन कर लें। वैसे गर्भवती होने से बचने के कंडोम के प्रयोग और गर्भ निरोधक गोलियों के अलावा भी अन्य उपचार हैं, जिसके बारे में आप अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से विस्तार में बात कर सकती हैं।

प्रेग्नेंट होने के लिए क्या करें – महिलाओं के बारे में विभिन्न तथ्य (Diverse facts about many women)

ज़्यादातर महिलाएं अपने मासिक धर्म चक्र (menstrual cycle) के बीच में ही ओवुलेशन की प्रक्रिया शुरू कर देती हैं। यह 11 वें दिन शुरू होता है और 22 से 30 दिनों के बीच तक चलता है। सामान्य रूप से महिलाओं के लिए पीरियड्स शुरू होने के कुछ दिनों के बाद ही ओवुलेशन की प्रक्रिया शुरू होती है। फ़िज़िशियन्स तथा स्त्री रोग विशेषज्ञों के अनुसार शुक्राणु एक महिला के फैलोपियन ट्यूब में एक से दो दिनों तक रहते हैं। इसके फलस्वरूप ही फर्टिलाइजेशन की प्रक्रिया (pregnant hone ke upay) संपन्न होती है। पीरियड्स होने के तुरंत बाद ही गर्भवती होने की संभावना हालांकि काफी कम होती है, परन्तु ऐसा होने की स्थिति से इंकार भी नहीं किया जा सकता।

महिलाओं के फर्टाइल दिनों की गणना करने के तरीके

गर्भवती कैसे होती है – गर्भधारण में सफलता (Pregnancy success)

महिलाओं के लिए गर्भावस्था में सफलता प्राप्त करे की भी एक निश्चित और तय समयसीमा होती है। यह समय पीरियड्स होने के हफ्ते के तुरंत बाद आता है। अगर आप इस समय सेक्स की प्रक्रिया को पूरा करने की कोशिश करेंगी तो आपके गर्भवती होने की संभावनाएं कई गुना ज़्यादा बढ़ जाती हैं। यह वह समय होता है जब फर्टिलाइज़्ड अंडे अंडाशय (ovary) से फैलोपियन ट्यूब की तरफ बढ़ने लगते हैं। अगर आप ओवुलेशन की समयसीमा के आसपास रोज़ाना सेक्स करने में सफल हो जाते हैं तो अंडे के फर्टिलाइज़ होने के काफी ज़्यादा आसार होते हैं।

टेस्ट कराने के बारे में सोचें (Consider using test hai grabvati hone ke sign)

कई महिलाओं में मासिक धर्म की प्रक्रिया (menstruation) के दौरान कई तरह की समस्याएं पायी जाती हैं। उनके पिरियोडिक साइकिल के चलने का अंतराल सही नहीं होता। ऐसी महिलाओं के लिए गर्भावस्था की स्थिति से गुज़रना काफी कष्टकारी हो सकता है। ओवुलेशन की अगली तिथि के बारे में पहले से ही बता पाना काफी कठिन कार्य होता है। आपको एक ऐसी टेस्ट की पद्दति का प्रयोग करना चाहिए जो आसानी से आपके एस्ट्रोजन का स्तर तथा फर्टिलिटी ज़रूरी दिनों के बारे में आपको जानकारी दे सके। आपको इस बात की भी जानकारी होनी चाहिए कि नापने की यह विधि बिलकुल भी छोटी नहीं होती। अगर आप फर्टिलिटी के दिनों को बढ़ाने में सफल हो सकें तो सबसे बेहतरीन गर्भ निरोधक उपाय काफी प्रभावी सिद्ध हो सकता है।

प्रेगनेंट होने के तरीके – सुझाए गए तरीके (Recommended ways – pregnant hone ke tarike)

गर्भवती औरतें के लिए सुरक्षा के सुझाव

अगर आप अपनी माँ बनने की संभावनाओं के बारे में और ज़्यादा जानना चाहती हैं तो आपको अपने मासिक धर्म के साइकिल के समय का ख्याल रखना होगा। आप इस समय का ख्याल रखने की शुरुआत अपनी पिरियोडिक साइकिल के शुरू होने के दिन की तिथि को नोट करके कर सकती हैं। इसके बाद हर महीने अपने मेंस्ट्रुअल साइकिल के दौरान खून निकलने वाले दिनों की गिनती करें। जो भी इस तरह हर दिन का हिसाब रखेगा, उसे हर पीरियड के शुरू होने के दिन से 20 वें दिन तक इस बात का सही आभास होने लगेगा। एक आम महिला के लिए यही एक साइकिल की लम्बाई होती है।

गर्भधारण की प्रक्रिया – ब्रेकथ्रू ब्लीडिंग (Breakthrough bleeding)

महिलाओं को अपने प्रजनन अंगों (reproductive organs) में अंदरूनी रूप से कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इनमें से एक समस्या होती है ओवुलेशन के वक़्त रक्त का निकलना जिसे ब्रेकथ्रू ब्लीडिंग कहा जाता है। यह वह समय होता है, जब एक महिला सबसे ज़्यादा उर्वर या फर्टाइल होती है। कई बार आपके लिए ब्रेकथ्रू ब्लीडिंग के समय बिना किसी सुरक्षा के सेक्स करना काफी खतरनाक हो सकता है, खासकर तब जब आपके माँ बनने की काफी संभावना हो। ब्रेकथ्रू गर्भवती महिलाओं के लिए भी काफी हानिकारक हो सकता है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday