Karwachauth information and providing ideas for men to gift their wifes something special on karwachauth – करवाचौथ की जानकारी और इस मौके पर पुरुषों के लिए अपनी पत्नियों को तोहफा देने के कुछ सुझाव

करवाचौथ एक ख़ास एक दिन का त्यौहार होता है जिसे शादीशुदा हिन्दू महिलाएं मनाती हैं। इस त्यौहार को ज़्यादातर भारत के उत्तरी भागों में मनाया जाता है। करवाचौथ व्रत के अंतर्गत शादीशुदा महिलाएं एक दिन का उपवास रखती हैं, जो कि सूरज उगने से लेकर रात को चाँद निकलने तक चलता है। ऐसा वे अपने पतियों का लंबा जीवन और उनके लिए भगवान् से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए करती हैं। यह त्यौहार कार्तिका महीने के चौथे दिन मनाया जाता है।

करवाचौथ को फिल्मों और टीवी के कार्यक्रमों (TV serials) ने काफी प्रसिद्ध कर दिया है, पर असल में यह काफी साधारण त्यौहार होता है जिसको मनाने का कारण भी अलग है। हिन्दू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार करवा एक छोटी मटकी को कहते हैं और इस त्यौहार के अंतर्गत सारे परिवार की सुख शान्ति के लिए करवा दान करने की प्रथा होती है।

अतः जहां यह सबको पता है कि करवाचौथ एक शादीशुदा महिला द्वारा अपने पति की लम्बी उम्र की प्रार्थना करने के लिए रखा जाता है, असल में यह व्रत पुत्रों, नाती पोतों और पूरे परिवार की सुख समृद्धि के लिए भी रखा जा सकता है।

करवा चौथ की शुरुआत (Origin of KarwaChauth)

अन्य कई पुराने हिन्दू रीति रिवाजों की तरह करवाचौथ का असल इतिहास ठीक से ज्ञात नहीं है। लेकिन क्योंकि इस त्यौहार की तिथि गेहूं की बुआई के समय आती है जो कि उत्तर भारत की सबसे प्रमुख फसलों में से एक है, अतः यह माना जा सकता है कि इस त्यौहार की मदद से भगवान् को अच्छी फसल के लिए आभार जताया जाता है।

दूसरी तरफ एक और तथ्य यह कहता है कि पुरातन समय में एक ऐसी प्रथा थी जिसके अंतर्गत अक्टूबर -नवम्बर (October-November) के महीनों में लम्बी यात्राएं करनी पड़ती थी और इस यात्रा में अपने पतियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पत्नियां पतियों के यात्रा शुरू करने से पहले ही कुछ रीति रिवाज़ अपनाती थी। यही रीति रिवाज आज करवाचौथ का रूप ले चुके हैं।

वर्तमान समय में यह त्यौहार परिवारजनों और दोस्तों के एक साथ मिलकर जमा होने की ख़ुशी में और शादीशुदा दंपती के रिश्ते की ख़ुशी के रूप में मनाया जाता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,330 other subscribers

त्योहारों तथा पर्वों के दौरान सुन्दर दिखने के नुस्खे

करवाचौथ में भगवान् शिव, देवी पार्वती, भगवान् गणेश और कार्तिकेय पूजे जाते हैं। देवी पार्वती को इस दिन चौथ माता के रूप में पूजा जाता है क्योंकि उन्हें अखंड सौभाग्यवती माना जाता है। देवी पार्वती के अलावा देवी गौरा की भी इस दिन पूजा की जाती है।

करवा चौथ के व्रत – करवाचौथ की तैयारी (The preparation of KarwaChauth)

वैसे तो करवाचौथ एक दिन का त्यौहार है, पर आमतौर पर इस त्यौहार की तैयारी एक हफ्ते पहले से शुरू हो जाती है। महिलाएं बाज़ार से पूजा के कई दिनों पहले नए कपड़े, आभूषण और पूजा का सामान खरीदती हैं। करवाचौथ का यह ख़ास दिन एक साथ जमा होकर, उपवास और पूजा के द्वारा मनाया जाता है।

भोर के नियम (The early morning rituals)

जो महिलाएं करवाचौथ का व्रत रखना चाहती हैं, उन्हें इस दिन सूरज उगने के काफी पहले उठना पड़ता है। वे अपना भोजन तैयार करती हैं और सूरज निकलने से पहले ही खाना खा लेती हैं। वे सुबह उठकर नहा भी जल्दी लेती हैं। अगला नियम होता है उपवास का संकल्प लेना जिसे व्रत के काफी महत्वपूर्ण भागों में से एक समझा जाता है।

संकल्प (Sankalp – karwa chauth ki vidhi)

स्नान करने के बाद महिलाओं को सारे दिन अपने पति और परिवारजनों की सुख शान्ति के लिए उपवास रखने का संकल्प लेना पड़ता है। संकल्प के दौरान यह बात दोहराई जाती है कि उपवास के दौरान आप भोजन और जल ग्रहण नहीं कर सकती तथा एक बार शाम के समय चाँद को देख लेने के बाद ही आपका व्रत पूरा होगा।

करवाचौथ का दिन (The day – karwa chauth ka vrat)

एक बार सुबह संकल्प ले लेने के बाद सारा दिन महिलाओं द्वारा शाम की पूजा की तैयारी करने और शाम के लिए सजने संवरने में ही बीत जाता है। कई महिलाएं इस दिन को अन्य उपवासरत महिलाओं के साथ बिताना पसंद करती हैं।

करवा चौथ व्रत की पूजन विधि – करवाचौथ की पूजा (The KarwaChauth Puja)

करवाचौथ की पूजा का आदर्श समय शाम के वक्त होता है। आमतौर पर शाम का एक ख़ास समय ऐसा होता है जब पूजा करना सबसे शुभ माना जाता है। यह पूजा एक ख़ास घर या जगह या रिश्तेदारों के मध्य की जाती है। इस समय सारी महिलाएं जिन्होनें उपवास रखा है इस पूजा में एक साथ शामिल होती हैं। जैसा कि पहले ही बताया गया है, इस पूजा में मुख्य रूप से माँ पार्वती को पूजा जाता है जिससे कि वह सुख समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करें।

घर के लिए श्रेष्ठ दिवाली सजावट

यह पूजा चौथ माता की मूर्ति या तस्वीर के साथ की जाती है और पार्वती पूजा के मंत्र पढ़े जाते हैं। पूजा के बाद करवाचौथ की कहानी सुनाई जाती है जिसमें करवाचौथ के व्रत का महत्त्व बताया जाता है। पूजा के दौरान करवा या मटकी को पानी या दूध के साथ सिक्कों और मणि रत्नों से भरा जाता है और करवा चौथ की कहानी सुना रहे ब्राह्मण या किसी अन्य योग्य महिला को दान कर दिया जाता है। करवा को दान करते समय भी एक ख़ास मंत्र पढ़ा जाता है।

करवाचौथ का व्रत तोड़ना (Breaking the KarwaChauthfast)

एक बार जब पूजा समाप्त हो जाए और करवा को किसी योग्य महिला को दान में दे दिया जाए, तो व्रत का पालन कर रही महिलाएं चाँद की पहली झलक का इंतज़ार करने लगती हैं। अंत में वे चन्द्र देवता की आराधना करती हैं और अपना उपवास तोड़ती हैं। ऐसे और भी कई अन्य रीति रिवाज़ हैं जिनका पालन अलग अलग परिवारों और उत्तर भारत के विभिन्न हिस्सों में व्रत को तोड़ने के लिए किया जाता है।  परन्तु ये सारे नियम अपनाने से पहले चन्द्र देवता की पूजा अवश्य होती है।

इस साल करवाचौथ 19 अक्टूबर को पड़ी है जो बुधवार का दिन है। जो महिलाएं इस साल करवाचौथ के व्रत का पालन करने वाली हैं, वे कृपया अपना स्थानीय कैलेंडर (calendar) जांच लें जिससे कि उन्हें अपने शहर के हिसाब से करवाचौथ की पूजा का सही समय ज्ञात हो सके।

अब जबकि हमने आपको वो सारी जानकारी उपलब्ध करवा दी है जिसकी आपको इस साल करवाचौथ में ज़रुरत होगी, आइये अब पतियों के लिए कुछ बेहतरीन तोहफे के बारे में चर्चा करें। करवाचौथ हर व्रत कर रही महिला के जीवन का काफी ख़ास दिन होता है और इस ख़ास दिन अपने पति से कोई प्यारा तोहफा पाने से वे काफी खुश हो जाती हैं और उनका दिन बन जाता है। पतियों की सहायता करने के लिए हमने कुछ ख़ास और श्रेष्ठ तोहफों की सूची बनाई है।

अपनी प्रियतमा के लिए एक खूबसूरत साड़ी (A beautiful saree for your beloved)

जी हाँ, हम जानते हैं कि हम पारंपरिक उपहार की बात कर रहे हैं, पर करवाचौथ जैसे पारंपरिक मौके पर साड़ी एक बेहतरीन तोहफा साबित होती है। अपनी पत्नी के पसंदीदा रंग की साड़ी और उसके साथ ख़ास आभूषण आपकी पत्नी के लिए इस करवाचौथ काफी सुन्दर तोहफे साबित हो सकते हैं। आप काफी आसानी से लाल रंग की एक खूबसूरत एवं आकर्षक साड़ी का चुनाव कर सकते हैं जैसी कि तस्वीर में इस महिला ने पहनी है।

सोने से जड़ित चूड़ियाँ (Gold Plated Bangles)

हर महिला को आभूषण पसंद होते हैं और अगर वह आभूषण आकर्षक एवं खूबसूरत हो तो वह इसे अन्य तोहफों की तुलना में अधिक पसंद करेगी। इस तरह की सोने जड़ित आकर्षक चूड़ियां जिसमें पत्थर और मीना का काम है, किसी भी खूबसूरत महिला की पहली पसंद साबित होंगी। इन खूबसूरत चूड़ियों की एक और ख़ास बात यह है कि ये किसी भी उत्सव में बेहतरीन साबित होते हैं। अतः चूड़ियों की इस जोड़ी को आज ही उनके लिए करवाचौथ के उपलक्ष्य में खरीदें और इस बात को लेकर सुनिश्चित रहें कि वह इनसे ज़रूर प्रभावित होगी।

आकर्षक ब्रेसलेट्स (Exquisite bracelets)

बेहतरीन रंगोली डिज़ाइन, स्वागत के लिए रंगोली के डिज़ाइन

क्या आप अपनी पत्नी को एक आकर्षक तोहफा देने के लिए तैयार हैं ? अगर हाँ तो इस आभूषण जड़ित जिरकोनिया (Zirconia) ब्रेसलेट को इस करवाचौथ के मौके पर लें। यह ख़ास ब्रेसलेट दिल के आकार के सोहरे रंग के पत्थरों से सज्जित है और आपकी पत्नी के हाथों में निश्चित रूप से काफी सुन्दर लगेगी। यह खूबसूरत ब्रेसलेट खरीदें और यह करवाचौथ उनके लिए वाकई ख़ास बनाएं।

क्रिस्टल पेंडेंट (Crystal pendant)

अगर आपकी पत्नी को भारी आभूषण पहनना पसंद नहीं हैं और वह ज़्यादातर पश्चिमी परिधान पहनती हैं तो यह ख़ास क्रिस्टल पेंडेंट उनपर ना सिर्फ खूबसूरत लगेगा बल्कि काफी गरिमामय तोहफा साबित होगा। फूलों के आकार का यह पेंडेंट जिसमें अदभुत दिल के आकार की रंग बिरंगी पंखुड़ियां बनी हुई हैं आपकी पत्नी के लिए एक बेहतरीन तोहफा सिद्ध होगा।

सोने और हीरे की उँगलियों की अंगूठी (Gold and diamond finger ring)

दुनिया में शायद ही ऐसी कोई महिला होगी जो करवाचौथ के तोहफे के रूप में इस खास सोने और हीरे की अंगूठी को पसंद नहीं करेगी। अगर आपको तोहफे देने में पैसों की चिंता नहीं है तो आप इस बेहतरीन सोने और हीरे की अंगूठी के बारे में सोच सकते हैं। इससे वह निश्चित रूप से प्रसन्न होंगी और इस दिन को हमेशा याद रखेंगी।

सलवार सूट (Salwar-Suit)

खूबसूरत अनारकली सलवार सूट इस करवाचौथ उनके लिए बेहतरीन तोहफा साबित हो सकता है अगर वह ख़ास मौकों और उत्सवों में पारंपरिक परिधान पहनना पसंद करती हैं। सलवार सूट के कई प्रकार होते हैं और ऊपर दी गयी तस्वीर में दर्शाए बारीक काम वाले अनारकली सूट जैसा तोहफा बिलकुल सही विकल्प साबित होता है।

लेडीज़ पर्स (Ladies purse)

लेडीज़ पर्स एक ऐसी चीज़ है जिसका प्रयोग आपकी पत्नी रोजाना करती है और इसे तोहफे के रूप में प्राप्त करने पर वह अवश्य ही काफी खुश होंगी। लेकिन कभी भी उनके लिए सस्ते उत्पाद का चुनाव ना करें। अच्छी company के पर्स जैसे फर्ला डोल्च (Furla Dolce) का तोहफा पाने पर आपकी पत्नी काफी खुश होंगी और उन्हें यह तोहफा बेहतरीन लगेगा।

15 बेहतर अरेबिक मेहँदी की डिज़ाइन हाथों के लिए

महिलाओं की कलाई घड़ी (Ladies wrist watch)

कई महिलाओं को कलाई घड़ियों का काफी शौक होता है और वे अपने संग्रह में हमेशा ही नयी और ख़ास घड़ियाँ जोड़ने को व्याकुल रहती हैं। अगर आपकी पत्नी को भी घड़ियों का शौक है तो यह ख़ास एनालॉग (analog) घड़ी जो बुलोवा (Bulova) के महिला संग्रह में से एक है उसे करवाचौथ के मौके पर भेंट स्वरुप दें और उसके चेहरे पर आई ख़ुशी को महसूस करें।

loading...