Home remedies for koilonychias / spoon nails – कोईलोनीशिआस के लिए घरेलू नुस्खे

नाखूनों की ख़राब हालत का पता उनके पतले होने से लगाया जा सकता है। नाख़ून पतले हो के उंगलियों की त्वचा से अलग होने लगते है। इसे विज्ञान की भाषा में कोईलोनीशियास कहा जाता है। सामान्य भाषा में इन्हें स्पून नेल्स भी कहा जाता है। इसके होने का एक कारण खून में आयरन की कमी होना है।

नाखून रोग (nakhun ke rog), यह अनीमिया के मरीज़ो में ज़्यादातर पायी जाती है। किन्हीं लोगो को यह समस्या जन्म से होती है। इस का पतले और असामन्य नाखूनों से पता लगाया जा सकता है। इन्हें स्पून नेल्स भी कहा जाता है क्योकि यह चम्मच के आकर में आगे से खुल जाते है।

कोईलोनीशिआस होने के कारण (Causes of koilonychias)

यह समस्या के कई कारण होते है। यह नाखूनों के पतला होने पर सबसे पहले आपको सचेत करता है। इसके होने के कुछ कारण निम्न प्रकार है:

  • आयरन की कमी
  • पाटेला सिंड्रोम
  • हीमोक्रोमाटोसिस(रक्तवर्णकता)
  • थाइराइड की समस्या
  • रेनॉड सिंड्रोम
  • नाखून में दर्द, पाइका
  • मास का पतला होना

नकली नाख़ून निकालने के तरीके

लोगों को कैंसर के लिए रेडिएशन या कीमो थेरेपी करवाना पड़ती है। यह रेडिएशन के प्रभाव से स्पून नेल्स की समस्या हो सकती है। अगर भरपूर मात्रा में भोजन न किया हो या शरीर में विटामिन और प्रोटीन की कमी है तो आपको स्पून नेल्स हो सकता है। पाचन प्रक्रिया अगर सही न हो तो भी यह शिकायत आपको हो सकती है। कई लोगों को इससे घाव या चोटें भी हो सकती है। यह नाखूनों के स्वास्थ के लिए भी अच्छा नहीं होता। बच्चे को अपने पूर्वजों से इस समस्या की विरासत मिलती है जो पोषक तत्वों की कमी से होती है।

कोईलोनिशिआस के लिए घरेलू नुस्खे (Home remedies for koilonychias)

अगर समस्या इतनी बड़ी न हो तो आप इसका इलाज घर में भी कर सकते है। कुछ घरेलु नुस्खे आपकी  इस परेशानी को नाखूनों को बढाकर भी सही कर सकते है।

  • नाखूनों की देखभाल, हरी सब्ज़ियाँ या पालक खाने से शरीर को आयरन मिल सकता है
  • नाखून की देखभाल, नाखूनों को छोटा रखें
  • क्रीम से नाखूनों को नमी प्रदान करे
  • नाखूनों की देखभाल, नीबू से नाखूनों की सफाई करे
  • नाखून की देखभाल, लैवेंडर तेल से नाखूनों की मसाज करे जिससे वह मज़बूत और साफ़ रहे

अगर आप अपने हाथों के नाख़ून साफ़ रखते है तो यह समस्या होने का खतरा नहीं रहता। अगर यह समस्या आपको किसी बीमारी की वजह से हुई है तो इसका निवारण करना आवश्यक है। अगर यह आपको जीन्स के बजह से हो रहा है तो अच्छा खान-पान और देखभाल से इससे बचा जा सकता है। आपको कुछ एहतियात रखना चाहिए जिससे यह परेशानी न हो। तथा यह समस्या होते ही डॉक्टर को दिखाना चाहिए।