Medical and Healthy benefits of Drum stick / Moringaoleifera – सहजन के औषधीय एवं स्वास्थ्य गुण

सहजन की सब्जी भारतीय रसोइयों में काफी आम है। आमतौर पर इस पौधे के फूलों और लम्बी फलियों का सेवन सब्जी की तरह किया जाता है। इस पौधे के अन्य भाग, खासतौर पर पत्तियों तथा इसकी जड़ों का प्रयोग कई तरह की शारीरिक समस्याओं की प्रभावशाली औषधि के रूप में किया जाता है।

सहजन पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और इसके सेवन से आपके स्वास्थ्य में काफी सुधार आता है। सहजन में प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन ए, बी विटामिन्स और आयरन तथा मैग्नीशियम (protein, vitamin C, Vitamin A, B vitamins as well as Iron and Magnesium) मौजूद होते हैं। इस लेख में हम सहजन के स्वास्थ्य गुणों पर एक नज़र दौड़ाएंगे।

ड्रम स्टिक कैंसर से लड़ने में सहायक (Helps in fighting cancer)

सहजन का एक महत्वपूर्ण औषधीय गुण इसमें मौजूद उच्च मात्रा के एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) में निहित है। एंटीऑक्सीडेंट शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स (free radicals) के खिलाफ लड़ते हैं और शरीर को ऑक्सीडेटिव (oxidative) तनाव से मुक्त करती है। यह कैंसर के खिलाफ आपकी सुरक्षा करने में भी पूरी तरह सक्षम है। विटामिन सी और बीटा कैरोटीन (Vitamin C and Beta carotene) की अच्छी खुराक के अलावा यह अपने प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए भी जानी जाती है। सहजन में गुयरसेटिन और क्लोरोजेनिक एसिड (quercetin and chlorogenic acid) होते हैं जो आपको कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं तथा शरीर में कोशिकाओं की असामान्य बढ़त पर नियंत्रण करता है।

ड्रमस्टिक के गुण रक्त में चीनी की मात्रा कम करने में सहायक (Might reduce blood sugar levels)

कुछ औषधीय शोधों से यह साबित हुआ  है कि सहजन के पत्तों का एक ख़ास परिमाण में सेवन करने पर आपके रक्त में चीनी की मात्रा में काफी गिरावट आती है। हालांकि इनमें  से ज़्यादातर शोध जानवरों पर किये गए हैं और मनुष्यों पर किये गए शोधों में थोड़ी सी गुंजाइश और है। ऐसा माना जाता है कि सहजन की पत्तियों में रक्त में ग्लूकोस (glucose) की मात्रा को कम करने की शक्ति इनमें मौजूद आइसोथियोसाइनेट (isothiocynate) की मात्रा से आती है।

रक्त में कोलेस्ट्रोल के स्तर को भी कम करने में सहायक (Might be effective in lowering blood cholesterol levels hai sehjan ke fayde)

ऐसे कुछ शोध हैं जिनमें सहजन को रक्त में कोलेस्ट्रोल की कमी से जोड़कर देखा जाता है। रक्त में कोलेस्ट्रोल की मात्रा में वृद्धि होना दिल की कई बीमारियों और दिल का दौरा पड़ने का भी कारण बन सकता है। सहजन का सेवन करने से आपके रक्त का कोलेस्ट्रोल प्राकृतिक रूप से कम करने में सहायता मिलती है।

सहजन के गुण हड्डियों के स्वास्थ्य में वृद्धि करे (Promotes bone health)

सहजन मज़बूत हड्डियों के लिए भी काफी अच्छे होते हैं। ये कैल्शियम (calcium) तथा आयरन (iron) के प्रभावी स्त्रोत होते हैं और हड्डियों का घनत्व बेहतर करने पर काम करते हैं। कैल्शियम की कमी को अन्य समस्याओं जैसे दांतों के क्षय होने से भी जोड़कर देखा जाता है। अपने खानपान में सहजन को शामिल करने से आपको इन समस्याओं से निजात मिल जाएगी क्योंकि इसमें कैल्शियम तथा अन्य खनिज पदार्थों का अच्छा समूह मौजूद होता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

सहजन के स्वास्थ लाभ है स्वस्थ प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए (Promotes healthy immunity)

स्वास्थ्यकर प्रतिरोधक क्षमता स्वास्थ्यकर जीवन की कुंजी है। सहजन में मौजूद विटामिन सी की उच्च मात्रा प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है तथा इसे अन्दर से सशक्त करती है। यह सामान्य सर्दी और संक्रमणों से आपको बचाने में काफी प्रभावी साबित होती है। सहजन का सूप (soup) अपने अन्दर समय विटामिन सी की मात्रा की वजह से सर्दी खांसी को दूर करता है। यह सूप श्वास नली को खोल देता है तथा दमे के लक्षणों को कम से कम करता है।

सहजन के फायदे ये हाजमे की समस्याओं को ठीक करे (Can treat digestive disorders)

सहजन में काफी प्रभावी एंटी बैक्टीरियल (anti bacterial) गुण होते हैं और ये कई तरह की हाजमे की समस्याओं को ठीक करने के लिए जाने जाते हैं। सहजन की पत्तियों के रस के गुण आपके गुर्दे की कार्य क्षमता बढ़ाते हैं और कोलेरा (cholera), दस्त तथा जौंडिस (jaundice) की स्थितियों में काफी लाभदायक साबित होते हैं।

सहजन के लाभ ये एनीमिया का इलाज करने में मददगार (Helps in curing anemia hai drumstick ke fayde)

एनीमिया या शरीर में रक्त की कमी आपके जीवन को काफी बुरी तरह प्रभावित करती है। यह बच्चों के स्वाभाविक विकास में बाधा पैदा करती है तथा वयस्कों में कई तरह की बड़ी समस्याएं जैसे कमजोरी, ध्यान ना लगना तथा अन्य कई परेशानियों का कारण बनती है। एनीमिया को पूरक आयरन से ठीक किया जाता है और आप सहजन से आयरन की अच्छी खासी मात्रा प्राप्त कर सकते हैं। अतः बच्चों और बड़ों दोनों के लिए रोजाना सहजन का सेवन करना एनीमिया से दूर रहने के लिए काफी आवश्यक है।

गर्भावस्था के लिए आदर्श सब्जी (An ideal vegetable for pregnancy)

एनीमिया गर्भावस्था के दौरान काफी हानिकारक हो सकता है क्योंकि यह भ्रूण के सामान्य विकास को बाधित करता है और सीढ़ी तौर पर होने वाली माँ के स्वास्थ्य से भी जुड़ा रहता है। कैल्शियम भी बच्चे की हड्डियों के निर्माण के लिए काफी आवश्यक है और माँ के शरीर में कैल्शियम की कमी होने से उनकी हड्डियों के घनत्व में भी कमी आने लगती है, जिससे कि उनके स्वास्थ्य पर काफी विपरीत असर पड़ता है। सहजन आयरन तथा कैल्शियम से भरपूर होते हैं जो बच्चे और माँ के अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित करते हैं।

सहजन का उपयोग यौन शक्ति बढ़ाने में सहायक है (Enhances sexual health)

सहजन में काफी मात्रा में जिंक (zinc) होता है जिसकी स्पेर्माटोजेनेसिस (spermatogenesis) में मुख्य भूमिका होती है। यह खनिज स्त्रियों की उर्वरता के लिए भी काफी ज़रूरी होता है। सहजन के पेड़ की छाल का प्रयोग पुरातन औषधियों में नपुंसकता तथा समय से पहले स्खलित होने की समस्याओं का उपचार करने के लिए किया जाता था।

आँखों की रोशनी बढ़ाए (Promotes better eyesight hai drumstick ke gun)

विटामिन ए से युक्त होने के कारण सहजन प्राकृतिक रूप से आपके आँखों की रोशनी बढ़ाने तथा इसके स्वास्थ्य में वृद्धि करने में काफी महत्वपूर्ण साबित होता है। इसेक सेवन से आपको आँखों की समस्याओं जैसे रतौंधी से सुरक्षा प्राप्त होती है। विटामिन ए में मोतियाबिंद के खतरे को दूर करने के गुण भी पाए गए हैं और यह मैकुलर डीजनरेशन (macular degeneration) की प्रक्रिया को भी धीमा करने में मददगार साबित होता है।

बेचैनी का उपचार करने में मदद करे (Helps in treating anxiety)

सहजन में काफी मात्रा में बी विटामिन होता है और ये विटामिन मस्तिष्क में जाकर स्फूर्तिदायक एवं अच्छा लगने के भाव वाले हॉर्मोन (hormone) पैदा करते हैं। इसके अलावा ये विटामिन मस्तिष्क की ज्ञान को धारण करने की काबिलियत में काफी इजाफा करते हैं। ये आपकी नसों को भी आराम पहुंचाने में काफी प्रभावी साबित होते हैं और बेचैनी तथा चिंता दूर करने में सहायता करते हैं। बी विटामिन्स की चिंता दूर करने की काबिलियत इसे आपको अच्छी नींद प्रदान करने में भी काफी सफल बनाती है।

loading...