Medicines you shouldn’t give your baby or toddler – ये दवाइयां ना दें अपने शिशु को

अपने शिशु को खासतौर से पहली बार कोई भी दवा देने से पहले किसी डॉक्टर से अवश्य परामर्श करें। वयस्कों की तुलना में बच्चों को दवाइयों से नकारात्मक प्रतिक्रया होने की संभावना काफी अधिक होती है, अतः अपने बच्चे को औषधि नुस्खे या ओवर द काउंटर (over-the-counter) दवाइयां देना – चाहे वे “प्राकृतिक”या “आयुर्वेदिक”दवाइयां ही क्यों ना हों – काफी ज़िम्मेदारी का कार्य है।

यदि किसी दवाई के सेवन के पश्चात आपके शिशु को उल्टी या रैश (rash) होने की शिकायत होती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा, अपने फ़ोन के पास विष नियंत्रण (Poison Control) का नंबर (800/222-1222) रखना ना भूलें। कई बार माता पिता या बच्चे की देखभाल में रत लोगों को बच्चे के पास दवाई की खुली बोतल मिलती है एवं इसे देखकर यह बताना कठिन होता है कि इनका सेवन किया गया है अथवा नहीं। यदि आप इसे लेकर अनिश्चित भी हैं फिर भी मदद के लिए कॉल करें।

नीचे कुछ ऐसी दवाइयों के बारे में बताया गया है जिन्हें अपने शिशु से दूर रखना उनके एवं आपके लिए हितकर होगा :

Aspirin – एस्पिरिन

जब तक आपके शिशु के डॉक्टर ने ऐसा करने को ना कहा हो, अपने बच्चे को एस्पिरिन या एस्पिरिन युक्त कोई भी दवा कभी भी ना दें। एस्पिरिन के सेवन से आपके शिशु में रेयेस सिंड्रोम (Reye’s syndrome) का ख़तरा बढ़ सकता है, जो कि काफी असामान्य परन्तु काफी गंभीर बीमारी है।

यह ना समझें कि दवाइयों की दुकानों में उपलब्ध बच्चों की दवाइयों में एस्पिरिन का अंश नहीं होता। कई बार एस्पिरिन को “सैलिसाइलेट”या “ऐसेटीसैलिसाइलिक एसिड” (salicylate or acetylsalicylic acid) के रूप में लिखा जाता है, अतः दवाईयों के नाम एवं इनमें प्रयुक्त उत्पादों के नाम सावधानी से पढ़ें तथा खुद सुनिश्चित ना कर पाने पर अपने डॉक्टर या औषधि विक्रेता से यह सवाल पूछें।

बुखार या अन्य किसी समस्या के लिए, अपने बच्चे के डॉक्टर से उसे ऐसीटामिनोफेन (acetaminophen) या आईबूप्रोफेन (ibuprofen) देने के लिए कहें।  जब तक डॉक्टर आपको खासतौर पर इस बारे में ना कहे, अपने 3 महीने से छोटे शिशु को ऐसीटामिनोफेन ना दें, एवं अपने 6 महीने से छोटे शिशु को आईबूप्रोफेन ना दें।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

यदि आपके शिशु के शरीर में पानी की कमी हो गयी है, या उसे उल्टी या दमे, फेफड़ों, छालों या कोई अन्य गंभीर समस्या है तो आईबूप्रोफेन देने से पूर्व उसके डॉक्टर से एक बार सलाह कर लें।  (आपके बच्चे को गुर्दे की बीमारी होने की स्थिति में अपने डॉक्टर से भी ऐसीटामिनोफेन के विकल्प के बारे में बात कर लें)

Over-the-counter cough and cold medicine – ओवर द काउंटर सर्दी खांसी की दवा

अमेरिकन अकादमी ऑफ़ पीडियाट्रिक्स (The American Academy of Pediatrics) का कहना है कि ओवर द काउंटर मिलने वाली सर्दी एवं खांसी की दवाएं अपने 3 वर्ष या इससे छोटे बच्चे को ना दें।  शोधों से पता चला है कि ये दवाइयां असल में इस उम्र के बच्चों में लक्षणों को कम नहीं करती तथा हानिकारक हो सकती हैं, खासकर तब, जब एक बच्चे को गलती से प्रस्तावित खुराक से अधिक खुराक दे दी जाती है।

थकान या नींद ना आने, पेट खराब होने, एवं रैश या पित्त की समस्या के अलावा एक बच्चे को काफी गंभीर साइड इफेक्ट्स (side effects), जैसे दिल की धड़कन का तेज़ी से बढ़ना, मरोड़ें एवं मृत्यु का भी सामना करना पड़ सकता है। हर साल, सारे देश में हज़ारों बच्चे अतिरिक्त सर्दी एवं खांसी की दवाइयों का सेवन करने के फलस्वरूप हुए साइड इफेक्ट्स की वजह से आपातकालीन कक्ष में भर्ती होते हैं।

लेकिन, 2008 में निर्माताओं ने 3 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए सर्दी एवं खांसी की दवाइयों का निर्माण एवं वितरण बंद कर दिया, एवं स्वास्थ्य विशेषज्ञ मानते हैं कि इसी कारण से तब से शिशुओं में गंभीर साइड इफेक्ट्स के फलस्वरूप आपातकालीन भर्ती की संख्या में काफी कमी आयी है।

यदि आपके बच्चे को ठण्ड लगने से काफी अधिक परेशानी होती है तो आप ह्युमिडिफायर (humidifier) या अन्य घरेलू नुस्खों का प्रयोग कर सकते हैं। आप अपने बच्चे के डॉक्टर से भी उसे बेहतर महसूस करवाने के तरीकों के बारे में पूछ सकते हैं।

Antinausea medication – मतलीरोधी दवाइयां

जब तक उसका डॉक्टर खासतौर पर इसे प्रस्तावित ना करे, अपने बच्चे को ओवर द काउंटर मतलीरोधी दवाइयां ना दें। उल्टी होने की अधिकतर घटनाएं काफी छोटी होती हैं, एवं बच्चे तथा शिशु बिना किसी दवाई के भी इसका सामना काफी अच्छे से कर लेते हैं। इसके अलावा मतलीरोधी दवाइयों के खतरे एवं संभावित परेशानियां भी हैं।  (यदि आपका बच्चा उल्टी कर रहा है एवं उसके शरीर में पानी की कमी होने लगती है, तो उसके डॉक्टर से संपर्क करें एवं उनसे आगे अमल में लाने वाले उपायों के बारे में पूछें)

Adult medication – वयस्कों के लिए प्रस्तावित दवाइयां

किसी भी बच्चे को वयस्कों के लिए प्रस्तावित दवाइयों की छोटी खुराक देना उसके लिए काफी हानिकारक हो सकता है। इसके अलावा, शिशुओं के कुछ ड्रॉप्स (drops) बड़े बच्चों की दवाइयों के मुकाबले अधिक घनत्व लिए हुए होते हैं, अतः अपने बच्चे को इसकी दी जाने वाली खुराक के प्रति सावधान रहें। हमेशा दवा के साथ आए डिस्पेंसर (dispenser) का प्रयोग करें, एवं यदि लेबल (label) में आपके शिशु की आयु एवं वज़न के अनुकूल खुराक की पुष्टि नहीं की गयी है तो उसे यह दवाई ना दें।

Medication prescribed for another person or condition – किसी अन्य व्यक्ति या समस्या के लिए प्रस्तावित दवाई

ऐसी दवाइयां, जो किसी अन्य व्यक्ति (भाई बहन) या किसी अन्य बीमारियों के लिए प्रस्तावित की गयी हों, आपके शिशु को देने पर या तो काम नहीं करेंगी या काफी हानिकारक साबित होंगी।  अपने बच्चे को केवल उसके एवं उसकी समस्याओं के लिए प्रस्तावित दवाइयां ही दें।

Anything expired – दवाई जिसका नियत समय पूर्ण हो

दवाइयों, पर्चों एवं ओवर द काउंटर को इनकी नियत तिथि समाप्त होते ही फेंक दें। बेरंग या टूटी फूटी दवाइयों – या किसी भी ऐसी दवाई जो आपके द्वारा इसे पहली बार खरीदे जाने के समय से अलग दिख रही हो – को भी बाहर का रास्ता दिखाएं।  एक बार तय तिथि के समाप्त हो जाने पर दवाइयां प्रभावी नहीं रहती, बल्कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक ही होती हैं।

आमतौर पर पुरानी दवाइयों को गुसलखाने के रास्ते से पानी में बहा देना अच्छा नहीं होता, क्योंकि इससे ज़मीनी पानी प्रदूषित हो जाता है एवं पीने के पानी के साथ मिश्रित हो जाता है। लेकिन, कुछ दवाइयां बच्चों, पालतू पशुओं एवं अन्य के लिए इतनी हानिकारक होती हैं कि अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (U.S. Food and Drug Administration) ने उन्हें कूड़े में फेंकने की बजाय गुसलखाने के रास्ते बहाना प्रस्तावित किया है।

यदि आप अनचाही दवाइयों को लेकर निश्चित नहीं हैं तो अपने औषधि विक्रेता से पूछें, इस सम्बन्ध में एफडीए (FDA) की जानकारी पृष्ठ पर जाएं या खराब औषधियों को सुरक्षित रूप से ठिकाने लगाने सम्बन्धी हमारे लेख को पढ़ें।

Chewables – चबाने वाली औषधियां

चबाने वाले टेबलेट्स (tablets) या टेबलेट रुपी अन्य तरह की औषधियां बच्चों एवं शिशुओं के गले में फंसकर उनका दम घुटने का कारण बन सकती है। यदि आपका शिशु ठोस आहार का सेवन कर रहा है एवं आप एक टेबलेट का प्रयोग करना चाहते हैं तो अपने अपने बच्चे के डॉक्टर या औषधि विक्रेता से पूछें कि क्या औषधि को पीसकर नरम आहार जैसे योगर्ट (yogurt) या एप्पलसॉस (applesauce) में मिश्रित करके बच्चे को खिलाया जा सकता है। (सुनिश्चित करें कि पूर्ण खुराक के लिए वह चम्मच के पूरे आहार का सेवन करे)

Syrup of ipecac आईपीकाक सिरप

कभी भी आईपीकाक सिरप का प्रयोग ना करें। यदि आप या बच्चे की देखभाल करने वाले अन्य लोग – जैसे दादा दादी या अन्य रिश्तेदार – घर में आईपीकाक का सिरप रखते हैं तो इसे तुरंत हटा दें।

आईपीकाक के सिरप से उल्टी होती है, एवं अभिभावक विषाक्तन (poisoning) की स्थिति में घर में थोड़ा सा आईपीकाक रखा करते थे।  परन्तु अब डॉक्टर आईपीकाक का सिरप प्रस्तावित नहीं करते, क्योंकि ऐसा कोई सबूत नहीं है कि उल्टी के माध्यम से विषाक्तन का इलाज संभव है।  इसके अलावा ज़हर खाने के बाद उल्टी करना असल में हानिकारक ही होता है।

दुर्घटनावश विषपान को रोकने का सबसे अच्छा तरीका संभावित रूप से हानिकारक उत्पादों को नज़र से दूर बंद करके रख देना है।

loading...