Home treatment tips in hindi to reduce muscle pain – मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने के घरेलू नुस्खे

मांसपेशियों में खिंचाव आपके द्वारा किये जाने वाले किसी भारी काम की वजह से होता है। ये भारी व्यायाम करने तथा असंतोषजनक मुद्रा में देर तक बैठे रहने की वजह से होता है। मांसपेशियों में दर्द (Muscles pain in Hindi) या खिंचाव के कई कारण हो सकते हैं। मांसपेशियों के दर्द को लक्षणों और कारणों के द्वारा सही तरीके से इलाज किया जा सकता है। अगर मांसपेशी का दर्द भरी भरकम वस्तु आदि उठाने की वजह से हो रहा है तो इसके लिए सेंक आदि की मदद से उपचार किया जा सकता है लेकिन कई बार शरीर में तरल की कमी हो जाने से भी यह दर्द या खिंचाव होता है जिसके मांसपेशी के दर्द का इलाज के अन्य तरीके प्रभावी होते हैं इसीलिए दर्द के कारण को जानकार ही उपचार किया जाना चाहिए।

आपकी मांसपेशियों में दर्द या मरोड़ें उठने की समस्या किसी मांसपेशी के ज़रुरत से ज़्यादा प्रयोग, मांसपेशियों की कमजोरी, तनाव और शरीर में पानी की कमी की वजह से पेश आ सकती है। इस दर्द का मुख्य कारण नर्वस सिस्टम (nervous system) से आता एक केमिकल सिग्नल (chemical signal) होता है, जिसकी वजह से मांसपेशियों में अकडन सी पैदा हो जाती है। इसके कुछ और कारण निम्नलिखित हैं :-

  • शरीर में रक्त के संचार में कोई परेशानी
  • शरीर में पानी की कमी होना
  • व्यायाम, चोट या ज़रुरत से ज्यादा प्रयोग
  • किसी ख़ास दवाई का बुरा प्रभाव

मांसपेशियों के खिंचाव को ठीक करने के नुस्खे (Remedies for muscle pain in Hindi)

एक्यूप्रेशर (acupressure therapy for muscles pain)

एक्यूप्रेशर एक प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति है जिसमें शरीर के कुछ खास बिन्दुओं पर दबाव बना कर दर्द या मरोड़ आदि का मांसपेशी के दर्द का इलाज किया जाता है। इससे रक्तसंचार भी तेज होता है और दर्द में आराम मिलता है। आजकल एक्यूप्रेशर चिकित्सा नैचुरल ट्रीटमेंट के रूप में बहुत लोकप्रिय हो रहा है।

थाइरोइड के लक्षण

स्ट्रेचिंग (Stretching)

दर्द भरी मांसपेशियों को हिलाने डुलाने से काफी आराम मिलता है। पर इसे करने से पहले डॉक्टरी सलाह अवश्य लें।

कंप्रेस (Compress)

मांसपेशियों में भीषण खिंचाव की स्थिति में कंप्रेस का इस्तेमाल काफी आवश्यक है। आप ठंडी या गर्म में से कोई भी कंप्रेस चुन सकते हैं। मांसपेशियों में दर्द के हिसाब से ही कंप्रेस चुनें।

आराम करें (for muscle pain – Take a rest)

मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने के लिए उन्हें पर्याप्त आराम दें। मांसपेशियों में हलके दर्द की स्थिति में ये नुस्खा अपनाएं। रात भर अच्छे से आराम करके अपनी मांसपेशियों को पूर्ण आराम दें। ऐसी मुद्राओं से बचकर रहे जिनसे पीड़ा बढ़ने के आसार हों।

सेंक का प्रयोग करें (Moist heat)

(therapy for muscles pain), मांसपेशियों में दर्द के लिए यह मांसपेशियों को आराम देने का काफी असरकारी तरीका है। सेंक देने से मांसपेशियो की नसों को काफी आराम मिलता है। गर्म पानी के टब में एक चम्मच एप्सम नमक मिलाएं और इसमें अपने शरीर को 10 से 15 मिनट तक डुबोकर रखें।

बर्फ के टुकड़े (Ice cubes)

मांसपेशियों में दर्द के लिए बर्फ के टुकड़ों की मदद से उपचार करने से दर्द से काफी राहत मिलती है। असल में अगर आपको मांसपेशियों में खिंचाव की वजह से सूजन की समस्या आ गयी हो तो ऐसे समय में बर्फ का टुकड़ा आपकी काफी मदद करता है। एक सूती के कपडे में कुछ बर्फ के टुकड़े लें तथा इसकी मदद से 20 मिनट तक प्रभावित भाग पर 20 मिनट तक मालिश करते रहे।

नीलगिरी तेल के स्वास्थ्य लाभ

गर्म पानी से नहाएं (Hot showers)

मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने का यह एक और बेहतरीन तरीका है। गर्मी से वो नसें कमज़ोर पड़ जाती हैं जो हमें दर्द का अहसास करवाती हैं। अगर आपके शरीर में बहुत दर्द है तो गर्म पानी से नहाएं। इससे दर्द से जल्दी छुटकारा मिलेगा तथा शरीर को आराम की भी प्राप्ति होगी।

हिलने डुलने का प्रयास करें (Movement)

(therapy for muscles pain) अपनी मांसपेशियों को चलायमान रखने की कोशिश करें। कभी कभी शरीर के किसी अंग के ना हिलने डुलने की वजह से भी उस जगह की मांसपेशियों में दर्द हो जाता है। कुछ आसान व्यायाम करने से ये मांसपेशियां ठीक हो जाती हैं। कुछ ख़ास प्रकार के पुनर्वासन व्यायाम करके भी आपको इस दर्द से राहत मिल सकती है।

ज़रूरी तेल (Essential oil)

(therapy for muscles pain), मांसपेशियों में दर्द के लिए आवश्यक तेल, दर्द का तेल आपकी काफी सहायता करते हैं। 1 से 2 चम्मच आवश्यक तेल को नारियल तेल जैसे किसी तेल के साथ मिलाएं और इसकी मदद से प्रभावित भाग पर दर्द का तेल अच्छे से मालिश करें।

मालिश (Massage)

(therapy for muscles pain), मालिश से मांसपेशियों के दर्द को ठीक हो जाती है। दर्द भरी मांसपेशियों पर आवश्यक तेल की मदद से कुछ मिनट तक हल्का दबाव देकर मालिश करें। यह मांसपेशियों को मजबूत कर रक्त संचार को सुचारू करके आपको आराम प्रदान करता है। एक दिशा में निरंतर मालिश करके आपको काफी राहत मिल सकती है।

एप्सम नमक (Epsom salt)

सेँधा नमक के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ

मांसपेशी के दर्द का इलाज, एक या दो कप एप्सम नमक को एक टब गर्म पानी में डुबोएं। यह नुस्खा दर्द कर रही मांसपेशियों के लिए एक तरह से रामबाण साबित होता है। इस विधि के लिए खौलते पानी का नहीं, बल्कि गर्म पानी का ही इस्तेमाल करें। हलके गर्म पानी से आपकी त्वचा ज्यादा गर्म पानी के मुकाबले कम शुष्क होगी। अपनी मांसपेशियों को 15 मिनट तक पानी में डुबोकर रखें जब तक यह पानी ठंडा ना हो जाए। इस प्रक्रिया का प्रयोग हफ्ते में कम से कम 3 बार अवश्य करें। ऐसे एप्सम नमक का प्रयोग करें जो मैग्नीशियम सलफेट (magnesium sulfate) से बना हो। मैग्नीशियम प्राकृतिक रूप से आपकी पीड़ित मांसपेशियों को काफी मात्रा में आराम पहुंचाता है। इससे आपके शरीर के तंतुओं (tissues) से अतिरिक्त द्रव्य निकालने में काफी आसानी होती है और इससे सूजन भी काफी हद तक कम हो जाती है।

हल्दी (Turmeric)

हल्दी में आपको जलन से बचाने वाले गुण होते हैं तथा यह एक जड़ीबूटी भी है। मांसपेशियों में दर्द के लिए एक चम्मच हल्दी पाउडर को एक कप दूध में मिश्रित करें तथा इसे धीमी आंच पर गर्म होने दें। अगर इस दूध का सेवन आप दिन में दो बार कर सकें तो इससे मांसपेशियों को मजबूत कर आपके शरीर की आतंरिक पीडाएं काफी आसानी से ठीक हो जाएंगी। वैकल्पिक तौर पर बराबर मात्रा में ली गयी ताज़ी किसी हुई हल्दी को नींबू के रस तथा नमक के साथ मिश्रित करके एक बेहतरीन लेप भी बनाया जा सकता है। इसे अपनी दर्द कर रही मांसपेशियों पर अच्छे से लगाएं। अब इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर गर्म पानी से धो लें। इस प्रक्रिया का प्रयोग दिन में दो बार तब तक करें जब तक कि आपका दर्द चला नहीं जाता।

अदरक (Ginger se muscle pain ke upay)

अदरक भी शरीर की जलन को दूर करने वाला तत्व है, जो आपके शरीर में रक्त के बहाव तथा रक्त संचार में बढ़ावा करता है। यह आपकी मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने में भी काफी असरदार सिद्ध होता है। कच्चा अदरक तथा गर्म किया हुआ अदरक आपकी मांसपेशियों की जलन को प्रभावी रूप से कम करने में काफी असरदार सिद्ध होता है। यह मांसपेशियों में लगी चोट की स्थिति में भी काफी असरदार साबित होता है। चार चम्मच ताज़ा किसा हुआ अदरक चारों तरफ से पूरी तरह बंद सूती के बैग में भर लें। इन्हें एक मिनट से भी कम समय तक गर्म पानी में डालकर निकाल लें। अब इसके ठन्डे होने की प्रतीक्षा करें  और फिर इसका प्रयोग 15 मिनट तक प्रभावित भागों के ऊपर करते रहें। 2 से 3 दिनों तक हर दिन इस विधि का प्रयोग कई बार करने का प्रयास करें।

दिल की सामान्य बीमारियां

वैकल्पिक तौर पर आप रोजाना तीन कप अदरक वाली चाय भी पी सकते हैं। इस आयुर्वेदिक चाय को बनाएं, इसमें अदरक का छोटा सा टुकड़ा डालें तथा इसे दो कप पानी में 10 मिनट तक उबालें। अब इस मिश्रण को छान लें और इसमें थोडा सा शहद भी मिश्रित कर लें।

सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

सेब का सिरका मांसपेशियों तथा पैरों की अकडन को दूर करने का एक काफी कारगर तरीका साबित होता है। आप एक या दो चम्मच सेब का सिरका लेकर इसे एक गिलास पानी में मिश्रित करके पी सकते हैं, या सीधे ही एक चम्मच सेब का सिरका भी पी सकते हैं। आब सिरके को सीधे अपने मांसपेशियों के प्रभावित भाग पर लगाकर भी दर्द को कम कर सकते हैं। अगर आप बेहतरीन परिणाम चाहते हैं तो 2 चम्मच सेब का सिरका, एक चम्मच शहद, थोडा सा ताज़ा पुदीना तथा ठंडा पानी लें और इन सबको आपस में मिश्रित करें।