Receding gums home remedies – मसूड़ों की समस्या के घरेलू उपाय

मसूड़ों में कई तरह की समस्याएँ होती हैं जो किसी भी उम्र में हो सकती है. जिंजिवल रिसेशन ऎसी ही कुछ समस्याओं में से एक है जो मसूड़ों के उत्तकों के क्षय हो जाने की वजह से होता है. इसमें मसूड़े दांतों की जड़ों को छोड़कर ऊपर की तरफ निकल जाते हैं जिसकी वजह से दांतों का आकार लम्बा और बाहर निकला हुआ सा दिखाई देता है. दांतों और मसूड़ों के बीच गैप बन जाता है जिसकी वजह से वहां कीटाणुओं को जगह बनाने और दांतों को नुकसान पहुंचाने का मौका मिलता है.

मसूड़ों की यह समस्या दांतों की जड़ों को कमजोर कर देती है जो न केवन दर्द भरे होते हैं बल्कि नुकसानदायक भी होते हैं. कई बार यह मसूड़ों से खून निकलना और दांतों का गिरना जैसी परेशानी का कारण भी बनते हैं.मसूड़ों की यह समस्या कई कारणों से हो सकती है.

मसूड़ों के रोग के कारण (Causes of gum recession in Hindi)

इस समस्या में मसूड़ों के उत्तक नीचे की तरफ खिसकने लगते हैं और दांतों की जडें बाहर की तरफ आने लगती हैं जो साफ़ दिखाई देती हैं. यह समस्या दांतों और मसूड़ों की सही देखभाल और उपचार ना होने की वजह से होती है. बहुत तेज दबाव के साथ दांतों पर ब्रश करने की वजह से भी ऐसा हो सकता है. मसूड़ों का दांतों से अलग होता दिखाई देना एक मसूड़े का रोग है जो वंशानुगत भी हो सकता है, अगर आपके माता या पिता किसी को यह समस्या हो तो आपको भी यह परेशानी हो सकती है.

दांतों का असामान्य अवस्था में अधिक समय तक रहना या सोते समय दांत किटकिटाना भी मसूड़ों और दांतों में समस्या का कारण होता है.

गम रिसेशन का घरेलू इलाज हिंदी में (Home remedy for gum recession in Hindi)

मसूड़ों और दांतों की तकलीफ ना केवन इन्हें नुकसान पहुंचाती हैं बल्कि आपकी मुस्कान पर भी नकारात्मक प्रभाव डालती है. यहाँ कुछ घरेलू उपाय बताये जा रहे हैं जो मसूड़ों और दांतों को स्वस्थ रखने में आपकी मदद करता है.

एलो1वेरा (Aloe Vera)

एलो वेरा में दर्द और सूजन को कम करने का गुण पाया जाता है. मुंह के अल्सर तक में एलोवेरा बहुत फायदेमंद है.

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

  • एलोवेरा जेल को मसाज करते हुए मसूड़ों पर लगायें.
  • इसे 15 मिनट तक ऐसे ही रहने दें.
  • पानी से मुंह धो लें.
  • विकल्प के रूप में एलोवेरा जूस को कुछ देर मुंह में रखकर कुल्ला कर लें.
  • रोजाना 2 चम्मच एलोवेरा जूस पीना फायदेमंद होता है.
  • इस प्रयोग को नियमित रूप से करें.

टी ट्री ऑइल (Tea Tree Oil)

टी ट्री ऑइल में भी एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं. दांतों के दर्द, मसूड़ों से खून आना जैसी समस्या में यह फायदेमंद है.

  • ब्रश करने के पहले टूथ पेस्ट में कुछ बूंदे टी ट्री ऑइल मिलाकर दांतों में ब्रश करें.
  • अधिक लाभ के लिए इस विधि को रोजाना करें.

समुद्री नमक (Sea Salt)

दांतों के दर्द, दांत गिरना और मसूड़ों की समस्या में समुद्री नमक का प्रयोग अधिकांशतः किया जाता है.

  • अल्प मात्रा में समुद्री नमक लें.
  • इसे गर्म पानी में मिलाएं.
  • इसे पानी में घुल जाने दें.
  • इससे कुल्ला करें.
  • इस विधि को दिन में कम से कम तीन बार दोहराएं.

कैमोमाइल टी (Chamomile tea)

कैमोमाइल टी में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं और साथ ही यह दर्द को भी कम करता है.

  • 2 से 3 कैमोमाइल के फूलों को एक कप गर्म पानी में भिगोएँ.
  • 10 मिनट तक रहने दें.
  • इसे छानकर अलग करें और इस पानी से मुंह धोएं.
  • इसे दिन में 2 से 4 बार दोहराएं.

लौंग (Clove)

दांतों और मसूड़ों से जुडी समस्याओं के लिए पिछले कई समय से लौंग का प्रयोग घरेलू रूप से किया जा रहा है.

  • मसूड़ों में लौंग के तेल से हलकी हलकी मसाज करें.
  • अधिक लाभ के लिए कुछ हफ़्तों तक इस अभ्यास को जारी रखें.

इसके अलावा सीधे लौंग का प्रयोग भी किया जा सकता है जो लार के साथ मुंह में असर करता है.

loading...