Hindi tips to treat cracked heels – फटी एड़ियों का इलाज कैसे करें?

सर्दियों में फटी एडियां (fati adiya) बिवाई एक बहुत बड़ी समस्या है। साथ में फटे होठ और सूखी त्वचा समस्या को और बढ़ा देते हैं। गर्मियों के दिनों में बहुत सारा पसीना होने के कारण आपके पैर के अंगूठे के आस पास पानी के कण रहते है लेकिन सर्दियों में यह पानी की कमी फटी एड़ियों और दर्द को पैदा करता है। बहुत सारे लोग इस समस्या से बचने के लिये ब्रान्डेड और बिना ब्रांडेड वाली क्रीम को इसतेमाल करते है। कुछ लोगों को इससे आराम मिलने के बजाय और तकलीफ मिलती है।

क्या आपको फटी एड़ियों बिवाई वाले दिन याद है जब हर कदम पर आपको दर्द की समस्या होती थी। कभी कभी यह त्वचा के अंदर जाकर बहुत दर्द को पैदा करता है। फटी एड़ियों के दिखने का एक प्रमुख कारण है ओमेगा-3, वसा अम्ल और ज़िंक की कमी है। ये फटापन खतरनाक नहीं है जब तक कि गहरा नहीं हो जाय।

फटी बिवाई, फटी एड़ियों (fati edi) से बचाने के लिये उचित देखभाल बहुत आवश्यक है। इसके लिये हम निम्न उपाय अपना सकते है। पैरों की देखभाल :-

  1. एडी फटना, पैरों को धुलने के बाद वनस्पति तेल लगाना चाहिये। जैसे ही आप तेल से मालिश कर चुके हों तुरंत मोटे मोजे पहनें।
  2. एक पका केला फटी एड़ियों से बचने का एक बेहतरीन उपाय है। केले के गूदे को 10 मिनट तक लगाये रखने के बाद धुल दें। आधा एवोकैडो या आधा कच्चा नारियल भी अच्छा परिणाम देगा।
  3. 10 मिनट तक पैरों को नींबू के रस में डुबायें। नींबू का रस प्राकृतिक अम्ल की तरह है जो मृत त्वचा को हटाता है और आपके पैर को युवा बनाता है।
  4. एडी फटना, गुनगुने साबुन पानी में 15 मिनट तक प्रतिदिन पैर भिगाना आपके पैर को स्वस्थ बनाने में मदद करेगा। एक चम्मच वैसलीन के साथ नींबू रस का मिश्रण बनाकर लगाना बहुत अधिक लाभ देगा।
  5. एडी फटना, ग्लिसरीन और गुलाब जल का मिश्रण का नियमित उपयोग त्वचा को कोमल बनाकर आराम पहुंचायेगा।
  6. पैराफिन मोम को जब पिघलाया जाता है और इसमें थोड़ा सरसों का तेल मिलाना लाभकारी होगा। संक्रमित क्षेत्र पर रातभर लगाने के बाद सुबह इसे धुल दें। इसका नियमित उपयोग आपको आपके पैरों को तेज़ी से ठीक कर देगा।
  7. बाज़ार में उपलब्ध क्रीमों के रसायन आपकी समस्या का समाधान करने के बजाय समस्या को बढ़ा देते हैं। अच्छा होगा कि आप अपनी क्रीम जैतून के तेल में लैवेंडर तेल या नींबू रस को मिलाकर बना सकते हैं।

पैरों के दर्द के कारण और उपचार

फटे पैर / फटी एड़ियों के उपचार के घरेलू तरीके (Home remedies to treat cracked heals – fati adiyo ke gharelu nuskhe in hindi)

फटे पैर – चावल का आटा (Rice flour se fati adiya ka desi ilaj)

चावल के आटे को आप किसी भी दुकान पर आसानी से उपलब्ध होता है। अगर आपको यह उपलब्ध नहीं होता है तो इसे आप घर पर मिक्सर में पीस कर भी बना सकती है। लेप को बनाने के लिये आपको एक चम्मच शहद, सेब आसव का रस और मुट्ठीभर चावल के आटे को सामग्री के रूप में प्रयोग करना होगा। इन सब को एक बर्तन में मिलाकर एक मोटा लेप बना लें। इस लेप को अपनी एड़ियों पर लगा लें और धीरे धीरे रगड़े। जिससे एड़ियों पर लगी मृत त्वचा हट जाये। कुछ लोगों को एड़ियों की बहुत अधिक समस्या होती है। ऐसी स्थिति में एक चम्मच बादाम तेल या जैतून तेल को आप लगा सकते है।

आपको गुनगुने पानी में अपने पैरों को दस मिनट तक डालने के बाद इस स्क्रब को लगायें 10 मिनट तक स्क्रब करने के बाद गुनगुने पानी से फिर धुल दें।

फटी एड़ियों का उपचार – नीम (Fati adiyo ke liye neem)

भारतीय नीम खुजली, घाव और दूसरी चोटों को हटाने में अच्छा कार्य करता है। मुंहासे और दानों में भारतीय नीम बहुत अच्छा कार्य करती है। फटी एड़ियों का उपचार करने में भारतीय नीम उच्च सामग्री है। भारतीय नीम, हल्दी और गुलाब जल सामाग्री को लेकर लेप बनायें।

मुट्ठीभर नीम को लेकर पीस लें और उसमें हल्दी पाउडर और गुलाब जल को मिलाकर लेप बना लें। इस लेप को आधा घंटा अपने पैरों पर लगाकर छोड़ दें। गुनगुने पानी का प्रयोग आप इस लेप को हटाने के लिये उपयोग करें और साफ और सूखे तौलिये से पोंछ कर अपनी एड़ियों से अतिरिक्त पानी हटा दें।

पैरों के छालों का घरेलू उपचार

बिवाई का उपचार – नारियल तेल (Coconut oil se fate pairo ka ilaj)

नारियल में कवक विरोधी गुण पाया जाता है। बिवाई का उपचार, फटी एड़ियां कवक या बैक्टीरिया संक्रमण के कारण भी हो सकता है। अपने पैरों को गर्म पानी में डालने के बाद रगड़कर मृत त्वचा हटा दें। इसके बाद नारियल तेल लगाकर मोटा मोजा पहन लें।

एप्सम नमक (Epsom salt se fati edi ka ilaj in hindi)

एक बाल्टी गर्म पानी लें और इसमें थोड़ा सा एप्सम नमक मिश्रित करें। अब इसमें अपने पैरों को 10 मिनट के लिए डुबोकर रखें और फिर एक स्पंज या सौम्य स्क्रबर (sponge or a mild scrubber) से धीरे धीरे घिसें, जिससे मृत त्वचा बाहर निकल जाए। इसके बाद अपने पैरों को दोबारा एप्सम नमक युक्त गर्म पानी में डुबो लें। धीरे धीरे अपने पैरों को तौलिये से पोंछे तथा इसे सूखने दें। इसके बाद त्वचा को नमी प्रदान करने के लिए इसपर मोइस्चराइज़र या पेट्रोलियम जेली (moisturizer or petroleum jelly) का प्रयोग करें।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday