Premature ejaculation / shighrapatan tips in Hindi – शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोकने के घरेलू उपाय

समय से पहले शीघ्रपतन (एजैक्युलेशन या वीर्य का निकलना) काफी मर्द अपने जीवन में अनुभव करते हैं। यह ज़्यादातर उन मर्दों के साथ होता है जिनकी आयु 40 वर्ष से कम है और इसके फलस्वरूप काफी लोगों के सम्बन्ध और विवाह प्रभावित होते हैं।

शीघ्रपतन एक ऐसी समस्या है जो विवाहित जीवन को भी कई बार प्रभावित कर देता है. इसकी वजह से पुरुषों का आत्मविश्वास तो कम होता ही है साथ ही शर्मिंदगी और अपराध बोध भी मन में घर कर लेता है. इस समस्या से ग्रस्त मनुष्य काफी परेशान हो जाता है और कई बार वह कुछ ऐसा भी कर जाता है जो उसे नहीं करना चाहिए। पर यह आपके जीवन का अंत नहीं है। आपको समझना चाहिए कि यह समस्या काफी सामान्य है और इसका सामना करने वाले आप अकेले नहीं हैं।

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे कि समय से पहले होने वाला शीघ्रपतन (एजैक्युलेशन) रोका जा सकता है। लेकिन यह प्रक्रिया धीरे धीरे काम करती है और जल्दी परिणामों की आशा ना करें। इस समस्या से निपटने में आपके साथी की भूमिका भी अहम होती है। उसे ही आपकी समस्या के बारे में आपको जागरूक करना चाहिए, तभी आपके बीच के सेक्स सम्बन्ध अच्छे होंगे।

मर्द सेक्स (sex) से जुड़ी कई समस्याओं का शिकार होते हैं, तथा समय से पहले शीघ्रपतन (वीर्य का निकल जाना) एक ऐसी समस्या है जो उन्हें काफी परेशान करती है। वे अपनी साथी को संतुष्ट करना चाहते हैं जिससे कि उसे भी सेक्स की प्रक्रिया में आनंद आए। परन्तु कई मर्द अपनी साथी के चरमसीमा (climax) तक पहुँचने से पूर्व ही स्खलित (ejaculate) हो जाते हैं।

आपको अपनी इन समस्याओं के बारे में अपनी साथी तथा डॉक्टर से बात करने में हिचकना नहीं चाहिए। आमतौर पर यह समस्या उम्रदराज लोगों में देखी जाती है, परन्तु आजकल जवान लोग भी इसका शिकार हो रहे हैं। परन्तु चिंता ना करें ऐसे कई तरीके हैं जिन्हें अपनाकर आप समय से पहले वीर्यस्राव रोक सकते हैं।

शीघ्रपतन रोकने के उपाय (Hindi tips to stop premature ejaculation quickly in Hindi) 

शीघपतन का इलाज एक्यूपंक्चर से (Acupuncture se premature ejaculation ka desi ilaj)

गुप्तांगों की लम्बाई बढ़ाने हेतु कुछ व्यायाम

यह एक काफी पुरानी विधि है जिसकी मदद से शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोका जा सकता है। लेकिन इस प्रक्रिया को अपनाते समय आपको अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना होगा। इनमें से कुछ नीचे दिए हुए हैं।

  • प्रेसेर्वटिव युक्त या चीनी से युक्त भोजन ग्रहण ना करें।
  • शराब, धूम्रपान और अन्य ड्रग्स से दूर रहें।
  • कैफीन युक्त पदार्थों, खासकर कॉफ़ी का सेवन ना करें।
  • काफी मात्रा में फल और हरी सब्ज़ियाँ खाने की आदत डालें।
  • क्योंकि मिनरल्स शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोकने में काफी अहम भूमिका निभाते हैं, अतः मछली तथा अन्य मिनरल युक्त भोजनों को अपने खानपान में शामिल करें।

शीघ्रपतन के इलाज के लिए प्राकृतिक तरीके / शीघ्रपतन रोकने के लिए घरेलू उपाय (Home remedies for premature ejaculation or shighrapatan ka desi ilaj hai sex tips hindi)

1. शीघ्र स्खलन का घरेलू इलाज, हरे प्याज के बीज मर्दों में शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोकने में काफी मदद करते हैं। इसके लिए इन बीजों को मसलें और पानी में अच्छे से मिलाएं। इस औषधीय पानी को दिन में तीन बार खाना खाने से पहले लें। आप सफ़ेद प्याज का भी प्रयोग कर सकते हैं। प्याज खाने से आपकी कामुक शक्ति और नियंत्रण काफी बढ़ता है।

2. शीघ्र स्खलन का घरेलू इलाज, अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है जो कि मर्दों की सेक्स आधारित समस्याओं का निदान करने हेतु सबसे प्राकृतिक औषधियों में से एक है। आप किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह कर सकते हैं और उनके कहे अनुसार यह दवाई ले सकते हैं। इससे शरीर के गुप्तांगों की शक्ति बढ़ती है और सेक्स की शक्ति तथा नियंत्रण बढ़ता है। इसकी मदद से शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन की समस्या भी हल हो जाती है।

3. शहद और अदरक का मिश्रण में मर्दों में शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (premature ejaculation) की समस्या को रोकने में काफी कारगर साबित होता है। अदरक गुप्तांग में रक्त संचार सुचारू रूप से बढ़ाता है जिससे कि एजैक्युलेशन की प्रक्रिया में ज़्यादा नियंत्रण रहता है। शहद से शक्ति बढ़ती है और अदरक का प्रभाव और भी ज़्यादा होता है। इसका सेवन करने के सबसे बेहतरीन तरीके के रूप में सोने से पहले आधा चम्मच अदरक और शहद का सेवन करें। आपको तुरंत तो परिणाम नहीं दिखेंगे, पर जल्दी ही आपको फर्क नज़र आएगा।

यौन क्षमता को बढ़ाने के लिए पुरुषों के लिए टिप्स

4. शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक उपाय, एक और प्राकृतिक औषधि के तौर पर आप लहसुन का सेवन कर सकते हैं। लहसुन गुप्तांग में रक्त का संचार बढ़ाता है तथा शरीर को गर्म करने में भी सहायता करता है। लहसुन को धीमी आंच पर गाय के घी की मदद से तब तक गर्म करें जब तक इसका रंग हल्का भूरा ना हो जाए। इसका सेवन रोज़ाना करें। वैकल्पिक तौर पर आप रोज़ाना 3 से 4 लहसुन चबाकर भी शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (premature ejaculation) और गुप्तांगों की समस्या को कम कर सकते हैं।

5. शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक उपाय, ऐस्पैरागस की जड़ें मर्दों में शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (premature ejaculation) की समस्या की रोकथाम में काफी मदद करती हैं। 3 से 4 चम्मच ऐस्पैरागस का पाउडर या जड़ लें तथा इसे एक गिलास दूध में मिलाएं। वैकल्पिक तौर पर आप दूध में ऐस्पैरागस की जड़ें डालकर इसे उबालकर जड़ों को निकाल भी सकते हैं। इस दूध को दिन में दो बार पीने से शक्ति बढ़ती है और मर्दों की सेक्स आधारित अन्य समस्याओं का भी निदान होता है।

6. जामुन की गुठलियों को छाया में सुखाकर पीस लें और चूर्ण बना कर रख लें, इस चूर्ण को गर्म दूध के साथ नियमित रूप से पीने से शीघ्रपतन की समस्या (sheeghrapatan ki samsya)  दूर हो जाती है.

सही खानपान रोके शीघ्रपतन (Diet to avoid ejaculating early)

शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने का सबसे आसान और घरेलू तरीका सही खानपान का होता है। अच्छे खानपान से ना सिर्फ आपकी सेक्स आधारित समस्या हल होगी, बल्कि आप स्वस्थ जीवन भी जी सकेंगे। मिनरल्स के अलावा आपके शरीर में विटामिन्स, जिंक, सेलेनियम, कैल्शियम और आयरन भी होना चाहिए। फोलिक एसिड रक्तसंचार बढ़ाते हैं और रक्तवाहिनियों (artery) में ब्लोकेज को भी होने से रोकते हैं। लेकिन इन पदार्थों का सेवन ज़्यादा मात्रा में ना करें क्योंकि इससे दस्त की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

वीर्य स्खलन रोकने के लिए भिन्डी का प्रयोग (Lady finger to stop premature ejaculation or shighrapatan ki dawa hindi me)

भिन्डी बाज़ार में पाई जानेवाली आम सब्ज़ियों में से एक है। भिन्डी एक पाउडर (powder) के रूप में भी उपलब्ध होती है जो समय से पहले होने वाले वीर्यस्राव को रोकने में आपकी सहायता करती है। आप इस पाउडर का प्रयोग नियमित रूप से कर सकते हैं। अगर आपने एक महीने तक इसका प्रयोग कर लिया तो आपको स्वयं ही फर्क पता चल जाएगा।

आप चीनी और गर्म पानी के साथ भिन्डी का पाउडर मिला सकते हैं। इस पानी का एक प्राकृतिक औषधि की तरह रोज़ाना सेवन किया जा सकता है। इससे किसी प्रकार के कोई साइड इफेक्ट्स (side effects) नहीं होते। आप अपने सामान्य खानपान में भी भिन्डी को आसानी से शामिल कर सकते हैं।

पुरुषों के लिए गुणों की खान बहुत लाभदायक है गाजर

वीर्य स्खलन रोकने के लिए गाजर (Carrots se virya ko jaldi girne se rokne ke upay)

गाजर पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए ही एक चमत्कारी तत्व साबित होता है। ये कई लोगों के लिए एक तरह का प्राकृतिक उपचार है, क्योंकि ये आपको हमेशा स्वस्थ बनाए रखता है। कई लोग त्वचा की टोन (tone) को अच्छा करने के लिए भी गाजर का प्रयोग करते हैं। लेकिन गाजर के गुण यहीं तक सीमित नहीं हैं। ये समय से पहले होने वाले वीर्यस्राव को प्राकृतिक रूप से रोकने में सहायता करते हैं। अगर आप बारीक कटे हुए गाजरों को आधे उबले अण्डों तथा एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर इसका सेवन करें, तो आपको कुछ हफ़्तों में ही अच्छे परिणाम दिखने लग जाएंगे। क्योंकि गाजर आपकी कामुकता (libido) को बढ़ाने में काफी कारगर सिद्ध होते हैं, अतः आप इस प्राकृतिक उपचार का अवश्य प्रयोग कर सकते हैं।

वीर्य स्खलन रोकने के लिए व्यायाम (Exercise se sex tips in hindi)

व्यायाम करने से शरीर की सारी समस्याएं हल होती हैं। रोज़ाना व्यायाम काफी आवश्यक है क्योंकि आजकल लोगों को मानसिक चिंताएं काफी होती हैं। रोज़ाना व्यायाम आपके शरीर को मज़बूत बनाता है।

व्यायाम से शीघ्रपतन रोकने के तरीके (Premature ejaculation solution in Hindi with exercise)

शीघ्र वीर्य स्खलन रोकने के लिए लम्बी सांसें (Deep breathing se virya skhalan ka ilaj)

जब भी वीर्य निकलने का समय हो, अपने साथी को लम्बी सांसें लेने को कहें। इससे धड़कनों की रफ़्तार कम होगी और वीर्य जल्दी नहीं निकलेगा। सेक्स के पहले इस प्रक्रिया के बारे में उसे अच्छे से समझाएं।

निचोड़ने की विधि (Squeeze se shigrapatan upay in hindi)

इस विधि के अंतर्गत अपने साथी के गुप्तांग को नीचे से ज़ोर से दबाएं। ऐसा तब करें जब आपके साथी का वीर्य निकलने ही वाला हो। इससे उसके गुप्तांग का इरेक्शन कम होगा और वीर्य नहीं निकलेगा।

शीघ्र वीर्य स्खलन रोकने के लिए स्टॉप एंड स्टार्ट विधि (Stop and start method)

इस प्रक्रिया के अंतर्गत अपने साथी को तीन से चार बार हस्तमैथुन करने के लिए कहें जिसमें वीर्य निकलने के समय पर उसका रूकना आवश्यक है। इससे उन्हें पता चलेगा कि किस समय एजैक्युलेशन होता है और वे इसपर अच्छे से नियंत्रण भी कर सकते हैं।

केगल व्यायाम (Kegel exercises se shighrapatan ki dawa in hindi)

शीर्ष फूड्स जो की वियाग्रा की तरह काम करते है

स्टार्ट एंड स्टॉप विधि (stop and start method) की तरह ही केगल व्यायाम सिर्फ महिलाओं तक सीमित नहीं हैं। पुरुष और महिलाएं दोनों ही इसका फायदा उठा सकते हैं पर अंत में ये मर्दों के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है। ये व्यायाम मर्दों के पेल्विक भाग (pelvic region) को मज़बूत करने के काम आते हैं और महिलाओं के क्षेत्र में ये उनके प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियों (pubococcygeus muscle) को मज़बूत बनाने में सहायता करता है। डॉक्टरों के अनुसार केगल व्यायाम समय से पहले वीर्य के स्त्राव को रोकने में काफी प्रभावी सिद्ध होते हैं। अगर आपके साथी को इस मांसपेशी के बारे में नहीं पता, तो उससे बाथरूम (bathroom) में अपने मूत्र का बहाव रोकने के लिए कहें। इसे रोकने के लिए प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियां ज़िम्मेदार होती हैं। अगर उसे मांसपेशियों को ढूंढने में सफलता हासिल हो जाए तो उससे मूत्र को रोकने जैसा व्यायाम रोज़ाना करने की सलाह दें। इसमें वे अपनी जांघें, पृष्ठ भाग तथा पेट के भाग का प्रयोग नहीं कर सकते। केगल व्यायाम के वक्त इन सारे भागों का ढीला होना काफी आवश्यक है। आदर्श तौर उन्हें यह व्यायाम रोज़ाना तीन सेट (set) में करने को कहें तथा हर सेट के बीच में 10 सेकंड का अंतराल लेने को कहें। इस व्यायाम का मुख्य उद्देश्य प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियों को सिकोड़ना है तथा जब आपका साथी चरमसीमा (orgasm) तक पहुंचे, तो उसे सारी प्रक्रिया को जितना हो सके धीमा करने का प्रयास करना चाहिए।

तांत्रिक तरीके (Tantric techniques se shighrapatan rokne ke gharelu upay)

अगर आप सेक्स के दौरान नए प्रयोग करने में यकीन रखते हैं तो सामान्य सेक्स के मुकाबले आपके लिए यह ज़्यादा आनंददायक साबित होगा। तांत्रिक तरीकों का पालन करने से आपके और आपके साथी के बीच एक गहरा सम्बन्ध स्थापित होता है। यह एक काफी आसान तकनीक है, पर अगर आप इसका सही तरीके से पालन करते हैं तो ना सिर्फ इसे शीघ्रपतन रूकता है, बल्कि आपके सेक्स जीवन में भी काफी नयापन आता है। इस तकनीक के अंतर्गत जब आपके साथी का वीर्य निकलने वाला हो, तो उसे तुरंत ये प्रक्रिया रोक देनी चाहिए। इसके बाद उसे अपनी प्युबोकोसीजियस मांसपेशियों (pubococcygeus muscle) को सिकोड़कर अपनी ठुड्डी को अपनी छाती तक लाने का प्रयास करना चाहिए। इस प्रक्रिया का पालन करने का मुख्य उद्देश्य वीर्य निकलने के स्त्राव की ऊर्जा को और बढ़ने से रोकना होता है। जब आपका साथी वीर्य निकलने से पहले ही इस प्रक्रिया को रोक देगा, तो उसे काफी अजीब महसूस होगा। यह वीर्य निकलने से रोकने के लिए काफी ज़रूरी है। अगले कदम के रूप में पुरुष को लम्बी सांसें लेकर अपनी साथी के शरीर की गर्माहट को महसूस करना चाहिए। बेहतर परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन तब तक करना चाहिए, जब तक इसमें पारंगत ना बन चुके हों।

औषधीय विकल्प (Various medical options se shighrapatan rokne ki dawa)

ऐसा नहीं है कि शीघ्रपतन होने से हर किसी के मन में तनाव की भावना उत्पन्न हो जाती है। कुछ लोग इसे लेकर ज्यादा नहीं सोचते और इसका समाधान अपने तरीके से निकालते हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि इससे आपके आनंद में कमी आ रही है तो आप ज़ोलोफ्ट और प्रोजाक (Zoloft and Prozac) जैसी दवाइयों का सेवन करने के लिए अपने साथी को कह सकती हैं। ये दवाइयां शीघ्रपतन की स्थिति के दौरान आपकी मदद करती हैं, एवं आपका साथी बिस्तर में आने से कई घंटे पहले भी इन दवाइयों का सेवन कर सकता है। यह काफी सरल प्रक्रिया है। एक बार इस दवाई का सेवन कर लेने पर जब आप दोनों अच्छा वक्त बिताना शुरू कर रहे हों, तो उस समय पुरुष की कामुकता में इजाफा होगा। इससे ना सिर्फ वीर्य निकलने से रुकेगा, बल्कि पहले के मुकाबले आपके सेक्स की प्रक्रिया भी काफी बेहतर हो जाएगी। इन दवाइयों का बिना किसी परामर्श के सेवन करने की जगह आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप किसी यूरोलोजिस्ट (urologist) या सामान्य डॉक्टर से इस विषय में सलाह कर लें। वे आपको सही परामर्श दे पाएंगे।

शीघ्र वीर्य स्खलन रोकने के लिए बेचैनी दूर करें (Reducing the anxiety during sex in hindi)

कई मर्द सेक्स की प्रक्रिया के दौरान काफी नर्वस (nervous) या बेचैन हो जाते हैं और उन्हें बिस्तर पर अपने सही प्रदर्शन ना करने का डर लगा रहता है। कई मामलों में इसी डर की वजह से समय से पहले वीर्यस्राव हो जाता है। इस समय दिमाग को ठंडा रखें तथा अपने साथी के बारे में सोचें कि वह आपसे कितना प्यार करती है। शुरुआत में ही अंतिम प्रक्रिया के बारे में ना सोचें।

संतुलित आहार जो की तनाव के स्तर को कम करे

शीघ्रपतन को रोकने के लिए योग की मुद्राएं (Yoga poses to stop premature ejaculation or yoga for shighrapatan in hindi)

सर्वंगासन (Sarvangaasana or shoulder stand)

sarvangasana

यह उन थाइरोइड ग्रंथियों (thyroid glands) को सुचारू रूप से चलाने में सहायता करती है, जो शरीर की हर क्रिया के लिये काफी ज़रूरी होते हैं। इस आसन की सबसे अच्छी बात यह है कि यह एड्रेनल (adrenal) ग्रंथियों को मजबूती प्रदान करता है तथा टेस्टिस (testis) की कार्यक्षमता को बढ़ाता है। इससे शुक्राणुओं की गुणवत्ता में निखार आता है।

  • एक चटाई पर पैर फैलाकर लेट जाएं।
  • घुटनों को मोड़कर या सीधे ही पैरों को धीरे धीरे उठाएं।
  • अपनी हथेलियों को पीठ और कूल्हों के पास रखें और पैर की उँगलियों को ऊपर की ओर करते हुए शरीर को ऊपर उठाएं। आपका वज़न आपके कन्धों पर होना चाहिए। धीरे धीरे सांस लें और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती पर रखें। आपकी कोहनियाँ फर्श को छूनी चाहिए तथा आपकी पीठ को भी सहारा मिलना चाहिए।
  • इस मुद्रा को जितनी देर हो सके बनाकर रखें तथा शुरूआती मुद्रा में धीरे धीरे लौट जाएं। इस समय लेट ना जाएं क्योंकि इससे आपकी पीठ तथा कन्धों को चोट पहुँच सकती है।

पश्चिमोतासन (Paschimotasana for sex in hindi)

pashchim1

यह शीघ्रपतन रोकने के सबसे अच्छे आसनों में से एक है। इससे आपके शुक्राणु और भी शक्तिशाली बनते हैं। इससे मेटाबोलिज्म (metabolism) में भी वृद्धि होती है।

  • सीधे बैठें और फिर ऐसे लेटें कि आपके पैर की उंगलियाँ ऊपर की ओर हों।
  • सांस लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर उठाएं। सांस छोड़ें और रीढ़ को सीधा रखते हुए अपने पैर की उँगलियों की ओर झुकें।
  • पैर के अंगूठे को तर्जनी और अंगूठे से पकड़ें और ऐसा करते हुए सांस लेते रहें।
  • अब सांस छोड़ें और धीरे धीरे अपने घुटनों की ओर झुकें। ध्यान रखें कि आपकी कोहनियाँ फर्श को ना छुएं।
  • इस मुद्रा में कम से कम 15 से 20 सेकंड तक रहें और सांस रोके रखें। अब धीरे धीरे सांस लेते हुए बैठने की मुद्रा में आ जाएं। अच्छे परिणामों के लिए इस आसन को 5 से 6 बार दोहराएं।

shighrapatan ka ayurvedic ilaj, shighrapatan ki dawa, shighrapatan rokne ke upay, shighrapatan rokne ke gharelu upay in hindi

loading...