How to make nipples pinker – निपल्स को गुलाबी बनाने के उपाय

वैसे तो चेहरे या बालों की देखभाल की तरह हम इसके बारे में ज़्यादा नहीं सोचते हैं, पर स्वस्थ दिखने वाले निपल्स आपके स्तनों को तरोताज़ा रखते हैं एवं आपके सेक्स जीवन (sex life) को भी काफी आनंददायक बनाते हैं। हमारे शरीर के हर भाग को देखभाल की आवश्यकता होती है और इसलिए गुलाबी रंग के निपल्स की चाहत रखना भी काफी ज़रूरी है।

निपल्स के रंग के बारे में कुछ तथ्य (Some common facts on shades of nipples)

  • निपल्स कई रंग के हो सकते हैं। ये गुलाबी, लाल, भूरे, काले आदि रंगों के होते हैं।
  • हमारे निपल्स जन्म से लेकर बचपन, बचपन से जवानी आने तक तथा गर्भावस्था एवं उम्र के बढ़ने तक विकसित होते ही रहते हैं।
  • शुरूआती तौर पर हमारे निपल्स गुलाबी रंग के होते हैं। शरीर में कई परिवर्तन होने के दौरान इनका रंग भी बदलता रहता है।
  • ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से हमारे निपल्स का रंग बदलता है। इसके कुछ आम कारण हैं आनुवंशिक स्थितियां (genetic conditions), मासिक धर्म (menstruation), गर्भावस्था, उम्र का बढ़ना, स्तनपान, दवाइयों का सेवन, त्वचा का छिलना (chafing) आदि।
  • निपल्स के रंगों से जुड़े दो मुख्य तत्वों में यूमेलेनिन (eumelanin) या भूरा रंजक तत्व तथा फियोमेलेनिन (pheomelanin) या लाल रंजक तत्व होते हैं। इन रंजक तत्वों को सही प्रकार से बांटने पर वह रंग बनता है जो हमारे एरियोला (areola) का होता है।
  • त्वचा के टोन (tone) के हिसाब से निपल्स का रंग अलग अलग हो सकता है, जो कि एक आनुवांशिक स्थिति है। गोरी महिलाओं के निपल्स गुलाबी होते हैं, दक्षिण पूर्वी एशियाई महिलाओं के निपल्स भूरे तथा अफ़्रीकी महिलाओं के निपल्स काले होते हैं।

स्तनों का आकार घटाने के घरेलू नुस्खे

  • पुरुषों को आमतौर पर वो महिलाएं ज़्यादा पसंद आती हैं जिनके निपल्स का रंग गहरा होता है। अतः इस लेख में दी गयी विधियों का पालन करने से पहले अपने साथी से अवश्य सलाह कर लें।
  • अमेरिका की 12 % खूबसूरत महिलाएं अपने निपल्स का रंग गहरा चाहती हैं क्योंकि उनके निपल्स प्राकृतिक रूप से गुलाबी रंग के होते हैं। उन्हें यह लगता है कि गहरे रंग के निपल्स ज़्यादा कामुक होते हैं।

गुलाबी निपल्स पाने की घरेलू विधियां (Home remedies for pink nipples in Hindi)

नींबू का अंश (Lemon extract se nipple pink karne ka tarika)

इस प्रक्रिया के लिए सबसे ज़्यादा प्रयोग में लाया जाने वाला तत्व है नींबू का रस। नींबू का रस निकालें तथा इसमें शहद और दही मिश्रित करें। इसे अपने निपल्स पर लगाएं तथा आधे घंटे तक सूखने दें। अब इसे पानी से धो दें तथा इस विधि का प्रयोग हफ्ते में एक बार करें। नींबू का एसिडिक (acidic) तत्व आपकी त्वचा को एक्सफोलिएट (exfoliate) करने तथा निपल्स को तरोताज़ा बनाए रखने में सहायक हैं।

मोइस्ट्नर का देसी टिप (Desi tips for pink nipples in hindi with moistener)

नींबू के अंश के साथ आप अपने निपल्स पर गोरा करने वाला मोइस्ट्नर भी लगा सकती हैं। निपल्स पर हर रात वेसलिन, लिप बाम या शे मक्खन (vaseline, lip balm or shea butter) लगाने से वे तरोताज़ा एवं स्वस्थ रहेंगे। अगले दिन सुबह नहाते समय इस भाग को अच्छे से धोना ना भूलें। इसका प्रयोग ज़्यादातर एक्ने (acne) को दूर करने के लिए किया जाता है।

निपल्स गुलाबी बनाने के लिए बादाम (Almonds se nipple pink karne ka desi ilaaj)

बादाम के प्रयोग से भी आपके निपल्स का रंग साफ़ होता है। अपने ग्राइंडर (grinder) में दूध और बादाम का मिश्रण करें तथा इसे अपने निपल्स पर लगाएं। आप सीधे बाज़ार में जाकर बादाम का तेल भी खरीद सकती हैं। इसे रोज़ अपने स्तनों पर अच्छे से लगाएं। इसे लगाने के बाद एक घंटे तक रहने दें एवं इसके बाद इसे साफ कर लें। इसका प्रयोग तब तक करें जब तक आपको प्रभावी परिणाम ना दिखने लगें।

खूबसूरत ब्रेस्ट प्राप्त करने के टिप्स

निपल्स के साथ आपके स्तन भी सुगठित होने चाहिए। नीचे स्वस्थ ब्रेस्ट पाने के नुस्खे बताये गए हैं।

व्यायाम (Exercise)

हफ्ते में 4 घंटे व्यायाम करने से एस्ट्रोजन का स्तर (estrogen levels) कम होता है एवं आप ब्रेस्ट के कैंसर से भी बची रहती हैं।

धूम्रपान छोड़ें (Stop smoking)

धूम्रपान का आपके स्वास्थ्य पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और इनमें स्तन कैंसर तथा गर्भावस्था की दिक्कतें भी शामिल हैं। धूम्रपान करने वाली महिलाओं को स्तन का कैंसर होने की संभावना अन्य महिलाओं से 30 % ज्यादा होती है।

शराब से परहेज़ (Stop drinking)

इसके सेवन में भी कमी करें। यह शरीर के अंग को नुकसान पहुंचाता है तथा आपकी मांसपेशियों को सख्त कर देता है। इसके अधिक सेवन से स्तन कैंसर का ख़तरा हो सकता है।

loading...