Hindi natural tips to increase vigour and vitality in women – महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के प्राकृतिक उपाय

तनाव एवं व्यस्त जीवनशैली की वजह से महिलाओं में कामेच्छा की कमी काफी आम हो चुकी है। 30 वर्ष या इससे अधिक उम्र की महिलाएं इस समस्या का अनुभव करती हैं, क्योंकि इस समय शरीर हार्मोनल (hormonal) एवं जीवनशैली कृत परिवर्तनों से गुज़रता है। महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कुछ प्रमुख कारणों में सम्बन्ध टूटना, गर्भावस्था, बीमारी एवं रजोनिवृत्ति मुख्य है;हालांकि एक खुशनुमा सेक्स (sex) जीवन के लिए सेक्स के प्रति लम्बे समय तक हो रही अनिच्छा का इलाज आवश्यक है।

महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने वाली गोलियां (Natural women libido enhancing pills)

मुख्यतः दो प्रकार की गोलियां होती हैं जो प्राकृतिक एवं कृत्रिम, दोनों प्रकार से महिलाओं में कामेच्छा जगाने का दावा करती हैं। आपने अब तक गोलियों की वजह से सभी प्रकार के साइड इफेक्ट्स (side effects) के जितने भी किस्से सुने होंगे, उनका प्रमुख कारण कृत्रिम गोलियां होती हैं। कामेच्छा बढ़ाने वाली प्राकृतिक गोलियां कई आयुर्वेदिक अंशों के मिश्रण से बनी होती हैं, जो महिलाओं के गुप्तांगों में रक्त के संचार को बढ़ाती हैं तथा एस्ट्रोजन (estrogen) के उत्पादन में वृद्धि करती हैं। समय के साथ, ये गोलियां लेने वाली महिलाएं तनाव में कमी एवं ऊर्जा में बढ़ोत्तरी का अनुभव करेंगी। यदि आप पहले से किसी प्रकार की औषधि का सेवन कर रही हैं तो ये गोलियां इसके साथ छेड़छाड़ नहीं करती एवं इसके नकारात्मक साइड इफेक्ट्स नहीं होते। हालांकि प्राकृतिक रूप से कामेच्छा बढ़ाने वाली गोलियों का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह कर लें।

जड़ीबूटियाँ (Herbs)

कई प्रकार की जड़ीबूटियाँ महिलाओं में प्राकृतिक रूप से कामेच्छा में बढ़ोत्तरी करती हैं। नीचे कुछ प्रसिद्ध जड़ीबूटियों के नाम दिए गए हैं जिनका महिलाओं की कामेच्छा में वृद्धि करने में प्रयोग किया जा सकता है।

अवेना सतिवा (Avena sativa)

यह जड़ीबूटी शरीर की बेचैनी एवं तनाव को कम करने में सहायता करती है। यह तंत्रिका प्रणाली को सुकून प्रदान करती है एवं जननांगों में संवेदनशीलता का संचार करती है।

Avena sativa

अश्वगंधा (Ashwagandha)

अश्वगंधा शरीर को ऊर्जा प्रदान करती है एवं थकान तथा कमजोरी दूर करती है। यह जीवन जीने की ऊर्जा में वृद्धि करती है तथा तनाव के स्तर को काफी कम करती है। यह जड़ीबूटी आयुर्वेद में एक जानीमानी औषधि है एवं इसका प्रयोग प्रजनन हॉर्मोन एवं ह्रदय के स्वास्थ्य को बरक़रार रखने के लिए किया जाता है।

Ashwagandha

जिनसेंग (Ginseng)

जिनसेंग रक्त संचार पर अपने प्रभाव के लिए जाना जाता है। यह सेवन के कुछ मिनट बाद ही शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है एवं थकान एवं कमजोरी में कमी लाता है। जिनसेंग आतंरिक रूप से नाइट्रिक ऑक्साइड (nitric oxide) का उत्पादन करता है एवं मूड अच्छा करता है।

Ginseng

मेथिका का अंश (Methika extract)

मेथिका के अंश में सैपोनिन्स एवं एस्ट्रोजन (saponins and estrogen) मौजूद होते हैं जो ट्राईग्लिसराइड्स, कोलेस्ट्रोल एवं एलडीएल (triglycerides, cholesterol, and LDL) नियंत्रित करके शरीर का रक्तचाप कम करने में मदद करते हैं।

Methika extract

शतावरी का अंश (Shatavari extract)

शतावरी या ऐस्पैरागस रेकेमोसस (Asparagus Recemosus) महिलाओं के गुप्तांगों, फेफड़ों, पेट, किडनी एवं मांसपेशियों में नमी बढ़ाता है। इस जड़ीबूटी का प्रयोग पुरुषों द्वारा भी टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

Shatavari extract

अदरक (Ginger)

अदरक रक्त का संचार बढ़ाने एवं तंत्रिका प्रणाली को सुकून देने में सहायता प्रदान करता है। यह महिलाओं को ओर्गास्म (orgasm) की चरमसीमा तक पहुंचाने एवं सेक्स से संतुष्टि प्रदान करने में मदद करता है।

Ginger