Hindi tips for tightening / firming breasts – स्तनों की कसावट के लिए घरेलू उपाय

ढीले स्तन महिलाओं के लिए एक बड़ी समस्या का कारण होते हैं एवं उन्हें ऐसे उत्पाद की हमेशा से आवश्यकता रही है जो उनके स्तनों को सुडौल बनाकर उनमें कसावट भर दें। स्तनों के ढीले होने का कारण हर महिला के क्षेत्र में अलग अलग हो सकता है। आपको हमेशा अपने अपने स्तनों की अच्छे से देखभाल करनी चाहिए क्योंकि ये शरीर एक उन भागों में से एक है जो एक महिला को पुरुषों से अलग करता है। मर्द भी हमेशा अपनी पत्नी या संगिनी के स्तनों के स्वास्थ्य को लेकर चिंता में रहते हैं। जब भी आप सज संवर कर कहीं जाती हैं या अपनी मनपसंद पोशाक पहनती हैं तो आपके स्तन आपकी सुंदरता में चार चाँद लगाते हैं।

शोध के अनुसार 35 की उम्र पार करने के बाद धीरे धीरे महिलाओं की त्वचा ढीली होनी शुरू हो जाती है। यह महिलाओं के उम्रदराज होने का एक प्रमाण भी है। इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान जब एक बच्चा माँ का दूध पीता है तो स्तनों से दूध निकलने के फलस्वरूप उनके स्तन झुक जाते हैं और ढीले पड़ जाते हैं। स्तनपान के कारण महिलाओं के सीने के तंतु ढीले पड़ जाते हैं। एक माँ लिए अपनी सुंदरता एवं स्वास्थ्य त्याग देती है और उसके स्तन अपना सही आकार खो देते हैं।

स्तनों की कसावट के कुछ उपाय (Home remedies for tightening and firming breasts)

ब्रेस्‍ट को लूज होने से बचाएँ योग (Yoga for toning breasts)

मासिक धर्म के घरेलू उपाय

शोध के अनुसार योग करने से शरीर के विभिन्न मांसपेशियों को नयी ऊर्जा एवं स्फूर्ति प्राप्त होती है। सांस अंदर करने एवं बाहर छोड़ने वाला व्यायाम सेहत के दृष्टिकोण से काफी अच्छा होता है पर अगर आप इस व्यायाम को सही ढंग से करें तो इससे आपके स्तनों में भी कसावट आ सकती है। शरीर के विभिन्न अंगों की परेशानियां दूर करने के लिए योग के कई प्रकार हैं। स्तनों की कसावट के लिए हाथ,कंधे,सीने एवं अन्य अंगों का व्यायाम अनिवार्य है। शीर्षासन,पैरों का व्यायाम तथा पीठ सीधी करने के लिए किये जाने वाले व्यायाम से भी आपको वक्षों में कसावट आती है।

रोज़ाना का शारीरिक परिश्रम (Vaksh tightening ke home remedies or General physical activity in Hindi )

रोज़ाना किये जाने वाले घर के कार्यों से भी आपके बिना जाने आपके स्तन कसते हैं। कुछ ऐसे काम होते हैं जो कि काफी मेहनत वाले होते हैं एवं उन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता,परन्तु कामों को करने से शरीर भी स्वस्थ रहता है एवं ढीले स्तनों में भी जान आती है। अगर ज़्यादा दौड़भाग, जॉगिंग एवं इस तरह के अन्य व्यायाम आपकी दिनचर्या में शामिल हैं तो इससे कसावट की प्रक्रिया तीव्र होती है। हालांकि ढीले स्तन होने की स्थिति में ज़्यादा दौड़भाग उचित नहीं है क्योंकि इससे स्तनों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है परन्तु इसका भी एक उपाय है। आप अपनी नाप की स्पोर्ट्स ब्रा खरीदें जिससे आपके स्तन अत्याधिक हिलने डुलने से बचे रहे।

ब्रेस्‍ट लूज के लिए ख़ास तरह की ब्रा (Pushup bras to uplift the breasts)

जिन महिलाओं को स्तन झूलने एवं ढीले होने की शिकायत रहती है वे अपने स्तनों का आकार सही रखने के लिए ख़ास तरह की ब्रा खरीद सकती हैं। पुश अप ब्रा खरीदें जो कि आपके स्तनों को झूलने से रोकता है एवं ढीला होने से बचाता है।अगर आप सही नाप की ब्रा लेने में असफल हो रही हैं तो दूकान के कर्मचारी आपकी सही ब्रा खरीदने में मदद कर सकते हैं।

देसी इलाज बर्फ की मसाज (Desi ilaj for breast tightening with ice messaging to firming the bust in Hindi )

गर्मियों में गर्भवती महिलाओं की देखभाल के नुस्खे

यह तरीका ज़्यादातर लोगों को पता नहीं है परन्तु बर्फ की मसाज करके भी आप अपने स्तनों को ढीला होने से रोक सकती हैं। बर्फ आपके स्तनों को उभार देता है और उन्हें ढीला होने से रोकता है। 2 बर्फ के टुकड़े लें और उन्हें गोलाकार मुद्रा में अपने स्तनों के आसपास घुमाएं। इसे 1 मिनट से ज़्यादा न करें क्योंकि स्तनों के पास की त्वचा काफी संवेदनशील होती है।

सुडौल स्तन के लिए मुद्राएं (Posture to avoid breast sagging)

ढीले स्तनों का एक और कारण खराब मुद्राओं में उठना बैठना भी है। अगर आपो हमेशा कंधे झुकाकर बैठी रहती हैं तो इसका आपके स्तनों पर खराब प्रभाव पडेगा। इस मुद्रा में बैठने वाली ज़्यादातर महिलाओं को ढीले स्तनों की समस्या होती है। हमेशा सीधे होकर बैठने का प्रयास करें।

स्तनों में ढीलापन के लिए तेल का प्रयोग (Olive oil massage for firming)

आप अपने स्तनों पर बाज़ार में मिलने वाले कई तरह के तेल जैसे पुदीने का तेल,सौंफ का तेल,गाजर का तेल आदि लगा सकती हैं। तेल लगाकर अपने स्तनों पर गोलाकार मुद्रा में मालिश करें। तेल को ज़्यादा मात्रा में ना लगाएं बल्कि 2-3 बूँदें एक स्तन पर लगाएं। ज़्यादा मात्रा में लगाने से यह तेल आपके स्तनों में जलन पैदा कर सकते हैं। अगर आप वनस्पति तेल में मिलाकर इसका प्रयोग करें तो ज़्यादा अच्छे परिणाम सामने आएंगे।

स्तनों का मास्क (Breast mask to firm them)

चेहरे और बालों के मास्क का प्रयोग करने के अलावा आप अपने स्तनों पर भी मास्क का प्रयोग करके उन्हें कसा हुआ और सुडौल बना सकते हैं। इस मास्क को बनाने के लिए एक खीरे को छील लें तथा इसमें अंडे का पीला भाग,प्राकृतिक मलाई और थोड़े से मक्खन का मिश्रण करें। इन सबको काफी अच्छे से मिलाएं और इसका प्रयोग अपने दोनों स्तनों पर करें। इसे करीब 15 से 20 मिनट तक इसी तरह रहने दें और फिर इसे ठन्डे पानी से धो लें। इसप्रक्रिया के माध्यम से आपकी कोशिकाओं को मजबूती मिलेगी एवं उनमें आ रहे अनावश्यक ढीलेपन में काफी कमी आएगी।

स्तनों को जल्दी बड़ा बनाने के उपाय

ब्रेस्ट लूज के लिए घरेलू उपाय (Natural remedies for firming breasts in hindi)

सुडौल स्तन के लिए अंडा और प्याज (Egg and onion se loose breast ke upay hindi me)

स्तनों का यह मास्क अंडे के सफ़ेद भाग की मदद से बनाया जाता है। अंडे को फेंटकर उसे एक क्रीमी (creamy) स्वरुप दे दें और इसे अपने स्तनों के निचले हिस्से में अच्छे से लगाएं। इसे इसी तरह आधे घंटे तक रहने दें। अब अण्डोंको काटकर पीस लें और इसका रस निकाल लें। इसमें एक गिलास पानी मिश्रित करें और स्तनों को इस पानी से धो लें। अंडे और प्याज से बना यह रस आपके स्तनों को मज़बूत और सुन्दर बनाने की क्षमता रखता है।

मेथी के बीज (Fenugreek seeds se loose breast ka ilaj)

मेथी के बीज में ऐसे गुण होते हैं, जिनकी मदद से स्तनों का विकास अच्छे से होता है एवं वे स्वस्थ बने रहते हैं। मेथी के पाउडर की मदद से एक पेस्ट तैयार करें और इससे अपने स्तनों की अच्छे से मालिश करें। 5 से 10 मिनट तकइसे छोड़ने के बाद पानी से अच्छी तरह साफ़ कर लें। यह प्राकृतिक रूप से खूबसूरत और सुडौल स्तन प्राप्त करने की एक बेहतरीन विधि साबित होती है। इसके लिए आपको किसी शल्य क्रिया की आवश्यकता नहीं पड़ती।बदसूरत और ढीले स्तनों से छुटकारा पाने के लिए इस उपचार का प्रयोग रोजाना करें।

ब्रेस्‍ट को लूज होने से बचाएँ शे मक्खन से (Shea butter se stano ko tight karne ke tarike)

बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय

यह एक और प्राकृतिक उत्पाद है, जो आपके स्तनों की कसावट में मदद करता है। यह विटामिन इ (Vitamin E ) का काफी अच्छा स्त्रोत होता है, जिससे स्तनों की त्वचा में कसावट आती है तथा इसे एक सुडौल स्वरुप मिलता है।शे मक्खन फ्री रेडिकल्स (free radicals) के फलस्वरूप कोशिकाओं को पहुंची क्षति को रोकने में सहायता करता है। इसके लिए गोलाकार मुद्रा में शे मक्खन को अपने स्तनों पर 15 मिनट तक अच्छे से मलें। इसे करीब 10 मिनटके लिए इसी तरह छोड़ दें और फिर पानी से अच्छे से साफ़ कर लें। अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए इस उपचार का प्रयोग हफ्ते में 3 बार करें।

देसी इलाज रसूल मिट्टी से (Rhassoul clay se stano ko firm karna)

यह एक प्राकृतिक उत्पाद है जिसका प्रयोग त्वचा की कसावट में किया जाता है। इस मिट्टी में सिलिका, आयरन, कैल्शियम, सोडियम और पोटैशियम (silica, iron, calcium, sodium and potassium ) पाए जाते हैं, जो कि त्वचाको कसने वाले महत्वपूर्ण खनिज होते हैं। इस मिट्टी को पानी में घोलें और एक चिपचिपा पेस्ट बनाएं। अब इस मिट्टी को अपने स्तनों पर अच्छे से लगाएं और इसे तब तक रखें, जब तक यह अच्छे से सूख ना जाए।

खीरे और अंडे के पीलेपन का मास्क (Cucumber and egg yolk mask)

यह एक बेहतरीन मास्क है, जो कि स्तनों में उभार लाने में आपकी मदद करता है। इन दोनों उत्पादों में त्वचा को टोन (tone) करने और ढीले स्तनों का उपचार करने के गुण होते हैं। यह स्तनों के तंतुओं (tissues) को मज़बूतबनाकर स्तनों को सुडौल बनाने में सहायक होता है। खीरे के गूदे, अंडे के पीले भाग तथा मक्खन को मिलाकर एक महीन पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट का प्रयोग अपने स्तनों पर करें और इसे आधे घंटे तक लगाकर छोड़ दें। इसके बादइसे ठन्डे पानी से अच्छे से साफ़ कर लें।

ब्रेस्‍ट को लूज होने से बचाएँ अनार (Pomegranate se stan ko sudol banane ke upay)

स्तनों का आकार बढ़ाने के आसान तरीके

अनार एक बेहतरीन एंटी एजिंग (anti-aging) उत्पाद है, जो ढीले स्तनों की समस्या को दूर करता है और उन्हें काफी सुडौल आकार प्रदान करता है। अनार के छिलकों और सरसों के तेल की सहायता से एक पेस्ट तैयार करें।रोजाना रात को सोने जाने से पहले अपने स्तनों पर गोलाकार मुद्रा में इस पेस्ट से मालिश करें। वैकल्पिक तौर पर नीम के तेल को अनार के छिलके के पाउडर के साथ मिश्रित करें और कुछ मिनट तक इसे गर्म करें। एक बार इसकेठंडा हो जाने के बाद इसका मालिश के तेल के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

एलोवेरा (Aloe vera for breast tightening)

एलोवेरा स्तनों के ढीलेपन को ठीक करने में सहायता करता है, क्योंकि इसमें त्वचा को कसावट प्रदान करने वाले गुण मौजूद होते हैं। एलो वेरा में एंटीऑक्सीडेंटस (antioxidants) पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स (free radicals) के फलस्वरूप तंतुओं को हुए नुकसान को रोकने में सक्षम होते हैं। ताज़े एलोवेरा जेल का प्रयोग अपने स्तनों पर करें और करीब 10 मिनट तक गोलाकार मुद्रा में अपने स्तनों की मालिश करें। इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें और फिरगर्म पानी से धो लें।

एलोवेरा जेल को एक और तरीके से प्रयोग में लाने के लिए इसे मेयोनेज़ (mayonnaise) और शहद के साथ मिश्रित करें और और स्तनों पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद इसे पहले गर्म पानी और बाद में ठन्डेपानी से धो लें। इन दोनों में से स्तनों को कसने का कोई उपचार कम से कम दो महीनों तक हफ्ते में एक बार प्रयोग में लाएं।

सुडौल स्तन के लिए बर्फ की मालिश (Ice massage for breast tightening)

बर्फ की मालिश ढीले स्तनों की समस्या से छुटकारा दिलाने में काफी कारगर साबित होती है। बर्फ का ठंडा अहसास स्तनों के तंतुओं को सिकोड़ लेती है, जिससे वे सुडौल और कसे हुए प्रतीत होते हैं। एक मिनट तक बर्फ के दो टुकड़ों की सहायता से स्तनों की मालिश करें। इसे पोंछकर एक सही नाप की ब्रा (bra) पहनें। अब झुककर आधे घंटे तक विश्राम लें। इस विधि का प्रयोग दिन में 3 बार करें।

स्तनों के व्यायाम (Exercises of breast)

छोटे स्तनों को बड़ा प्रतीत करवाने के नुस्खे

रोज़ाना व्यायाम करने से आपको ढीले स्तनों की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता। स्तनों में उभार लाने के लिए कुछ कारगर व्यायाम हैं चेस्ट प्रेसेस (chest presses), पुश अप्स (push ups), आर्म रेजिंग (arm raising) औरडम्बल उठाना (dumbbell flyes)। अपने हाथों को सामने और पीछे की तरफ बार बार गोलाकार रूप से घुमाने से स्तनों की और आसपास की त्वचा में कसावट आती है। रोजाना वज़न उठाने की प्रक्रिया से स्तनों का ढीलापन कमहोता है और उन्हें सुडौल बनने में मदद मिलती है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday