Garbh me ladka hone ke lakshan – गर्भ में लड़का होने के संकेत

गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की, यह जान पाना हर किसी के लिए रोचक होता है। कुछ लक्षणों और चिन्हों के माध्यम से आप भी जान सकते हैं कि आपके गर्भ में पल रहा नन्हा लड़का या बेटा है। माँ बनने वाली औरत के लिए इस बात का पता करना बहुत रोचक और आनंददायी हो सकता है जब वो यह जान जाए की वह एक लड़के को जन्म देने जा रही हैं। कुछ शारीरिक लक्षणों और व्यवहार से यह पता किया जा सकता है की आप जिसे जन्म देंगी वह लड़का होगा।

इन लक्षणों को पिछले कई समय से एक गणना के रूप में इस्तेमाल में लाया जा रहा है। ये लक्षण सभी महिलाओं पर एक जैसे ही लागू होते हैं या नहीं इस बात का तो नहीं पता लेकिन इन लक्षणों पर विश्वास करने वालों की भी दुनिया में कोई कमी नहीं है। नीचे कुछ ऐसी बाते बताई जा रही है जिन्हें गर्भ में लड़का होने के प्रतीक(garbh me ladka hone ke tarike) चिन्ह के रूप में जाना जाता है, ये कुछ मिथक इस प्रकार हैं।

पेट की स्थिति (Symptoms of baby boy in Hindi by position of tummy)

ऐसा माना जाता है कि पेट की स्थिति इस बात का पता लगाने में मदद करती है कि गर्भ में पलने वाला बच्चा लड़का है। अगर पेट में लड़का हो तो आपका पेट के नीचे का हिस्सा ज़्यादा उठा हुआ दिखाई देता है अर्थात गर्भ की स्थिति नीचे की तरफ हो तो समझ लें कि लड़का होने वाला है।

व्यावहारिक बदलाव (Behavioural changes)

स्वभाव में परिवर्तन एवं व्यावहारिक बदलाव गर्भावस्था के दौरान सामान्य है। ऐसा शरीर में काफी तेज़ गति से होने वाले हार्मोनल (hormonal) बदलावों की वजह से होता है। हालांकि व्यावहारिक बदलावों का प्रकार बच्चे के लिंग का भी संकेत होता है। यदि आप गर्भावस्था के दौरान काफी उत्साही एवं आक्रामक हो जाती हैं तो इस बात की काफी संभावना है कि आपके गर्भ में पुत्र संतान है। व्यावहारिक बदलाव आमतौर पर टेस्टोस्टेरोन (testosterone) के स्तर से जुड़े होते हैं।

एक्ने (Acne outbreaks)

आमतौर पर लोगों का कहना है कि गर्भावस्था के दौरान आपके चेहरे पर आई रौनक से यह पता चल जाता है कि आपकी गर्भ में पुत्र संतान(garbh me putra hone ke sanket) है अथवा पुत्री। यदि आपके चेहरे पर काफी मात्रा में एक्ने हो गया है तो ऐसा कहा जाता है कि आपको पुत्र संतान की प्राप्ति होगी।

रूखी त्वचा (Dry skin)

कई महिलाएं गर्भावस्था के दौरान त्वचा पर अत्यंत सूखेपन का अनुभव करती हैं। यदि आपकी त्वचा रूखी है एवं हाथ-पैर फट रहे हैं, तो यह इस बात का संकेत है कि आपके गर्भ में पल रही संतान पुत्र है।

लीनिया निग्रा (Linea Nigra)

गर्भावस्था के दौरान, लीनिया निग्रा एक काली रेखा होती है जो गर्भधारक पेट के ऊपर से गुज़रती है। जैसे जैसे गर्भावस्था का समय गुज़रता रहता है, यह जानना दिलचस्प हो सकता है कि लीनिया निग्रा बच्चे के लिंग की भविष्यवाणी करने में काफी प्रभावी साबित हो सकती है। ऐसा कहा जाता है कि यदि लीनिया निग्रा पेट के निचले हिस्से से पसलियों तक विकसित होती है तो इसका अर्थ है कि आपके गर्भ में पुत्र संतान है।

बेकिंग सोडा परीक्षण (Baking soda test)

कई महिलाएं इस परीक्षण का प्रयोग करके यह पता लगाती हैं कि उनकी कोख में पुत्र पल रहा है अथवा पुत्री।  कइयों का मानना है कि यह सबसे सटीक लक्षण है जिससे पता चलता है कि आपके गर्भ में पुत्र है। गर्भवती महिला के मूत्र का बेकिंग सोडा के मिश्रण से परीक्षण किया जाता है। जब बेकिंग सोडा का मिश्रण मूत्र के साथ होता है, और यह मिश्रण सॉफ्ट ड्रिंक (soft drink) की तरह सनसनाकर बाहर आने लगता है, तो इस बात की काफी संभावना है कि आपके गर्भ में पुत्र है।

मॉर्निंग सिकनेस (Morning sickness)

गर्भावस्था के दौरान बहुत सी महिलाओं में मॉर्निंग सिकनेस एक आम बात है, जिसका मुख्य कारण हॉर्मोनल परिवर्तन हैं। पर ऐसा माना जाता है कि अगर आपके गर्भ में बेटा हो तो मॉर्निंग सिकनेस की समस्या कम होती है इसके विपरीत गर्भ में लड़की होने पर यह समस्या कुछ ज़्यादा हो सकती है। यह भी गर्भ में लड़के से जुड़ा एक मशहूर मिथक है।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,900 other subscribers

गणना कर पता लगाएँ, लड़का होगा या लड़की (Age calculation with the month you conceive)

वैसे तो हमारे भारतीय ज्योतिष में ग्रह नक्षत्रों की गणना के आधार पर लड़का या लड़की होने की संभावना को स्पष्ट किया जाता है लेकिन इस विधि के अनुसार भी आप यह जान सकते हैं की क्या आप एक लड़के को जन्म देने वाली हैं? इसके लिए अपनी उम्र में गर्भधारण के माह को जोड़ दीजिये, जनवरी से लेकर दिसंबर तक एक से बारह कि गिनती के अनुसार क्रम में रखते हुये महीने को गर्भधारण के माह में अपनी उम्र की संख्या को जोड़ने पर यदि सम संख्या (even number) प्राप्त हो तो इसका मतलब है की आपके पेट में लड़का पल रहा है।

खाने की इच्छा पर निर्भर करता है, कि लड़का होगा (Craving of food)

गर्भवती महिला की भूख या खाने की इच्छा पर यह निर्भर करता है की वह लड़के को जन्म देने वाली है। अगर गर्भवती महिला मीठे की जगह नमकीन या मसालेदार, चटपटा खाना पसंद करती है तो समझ लीजिये की वह एक लड़के की माँ बनने वाली है।

बच्चे की दिल की धड़कनें (Speed of baby’s heartbeat)

गर्भावस्था के दौरान जब आप अपने रूटीन चेक अप के लिए जाती है तब अल्ट्रा साउंड में अपने गर्भस्थ शिशु की धड़कनों पर ध्यान दें, अगर शिशु की धड़कनें एक मिनट में 140 से कम हो तो समझ लेना चाहिए ये ये लड़का है।

गर्भावस्था के दौरान उल्टियों से पाये संकेत (Vomiting se kaise jane garbh me beta hai ya beti)

अगर प्रेग्नेंसी के शुरुआती पाँच महीनों गर्भधारण की वजह से कुछ ज़्यादा मितली या उल्टियाँ आए तो इसे माना जाता है कि गर्भ में पलने वाला शिशु लड़का है।

चेहरे की चमक बताती है लड़का होगा या नहीं (Glow in the face)

अगर होने वाली माँ के चेहरे का निखार बढ़ता जा रहा है और उसमें दिन पर दिन वृद्धि हो रही है जो कि पहले नहीं थी तो मान लीजिये की आने वाला बच्चा या नया मेहमान लड़का है।

मूत्र का रंग (Garbh me ladka hone ke lakshan in hindi urine color se)

प्रेग्नेंसी के दौरान हॉरमोन के प्रभाव से मूत्र का रंग बदल जाना स्वाभाविक है। अगर मूत्र का रंग गाढ़ा या गहरे पीले रंग का हो तो यह संभावना जताई जाती है कि यह लड़का होने के संकेत हैं।

जानें ब्रेस्ट के आकार से गर्भस्थ शिशु क्या है (Breast size se garbh me ladka hone ki nishani)

सामान्य तौर पर महिलाओं में बाए स्तन का आकार दाहिने स्तन से थोड़ा बड़ा होता है, लेकिन अगर दाहिने स्तन का साइज बाएँ से बड़ा दिखे तो यह भी लड़का होने के लक्षण हैं।

ठंडे पाँव से करें गर्भस्थ शिशु की पहचान (Cold feet)

अगर प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के पैर या पैर के तलवे हमेशा ठंडे बने रहते हैं तो इसे भी पेट में लड़का होने का संकेत समझा जाता है।

सूखे हाथ (Dry hand)

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के पैर के तलवे हमेशा ठंडे बने रहने के साथ हाथ की त्वचा रूखी सूखी सी रहती है तो यह भी इस संकेत को अधिक मजबूती प्रदान करता है की माँ की होने वाली संतान लड़का है।

वजन का बढ़ना (Ladka hone ke lakshan weight increase se)

अगर आपका वजन लगातार बढ़ता जा रहा है और पेट के आस पास का हिस्सा खास तौर पर बड़ा या फुला हुआ दिखाई दे तो यह भी एक संकेत है, जिस पर ज़्यादातर लोग विश्वास करते हैं कि जन्म लेने वाली संतान लड़का ही होगी।

ये सभी कुछ आम मिथक हैं जिन पर कुछ लोग विश्वास करते हैं और कुछ लोग नहीं भी करते, यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है की आप इन संकेतों के क्या मायने निकालते हैं। गर्भ में होने वाले शिशु का लिंग हॉरमोन और प्रकृति पर निर्भर करता है, इसीलिए हम किसी ठोस सबूत के बिना यह नहीं कह सकते कि ये सभी मीठ सत्य हैं और इन पर सभी को विश्वास करना चाहिए, यदा कदा ये मिथक कई लोगों पर सटीक बैठते हैं जिसके बाद अन्य लोगों को ऐसे संकेतों पर विश्वास करने का मन करता है। गर्भ में लड़का हो या लड़की (garbh me ladka ya ladki), इस बात की चिंता किए बिना होने वाली माँ को अपने भविष्य के साथ आने वाले शिशु के लिए सपने बुनने में कोई कमी नहीं करनी चाहिए और परिवार वालों तथा रिश्तेदारों को भी प्रसव तक धैर्य के साथ इंतज़ार करना चाहिए की लड़का होगा या लड़की।

loading...