Health benefits of eating ivy gourd in Hindi – सेहत के लिए कुंदरु / आइवी लौकी है खास, कुंदरु खाने के 10 फायदे

आइवी लौकी की सब्जी काफ़ी आसानी से पाई जाने वाली सब्जी है। आइवी लौकी/तिंडोरे की परत चिकने हरे और सफेद रंग के मिश्रण से बनी होती है। यह स्वाद में और दिखने में एक ककड़ी की तरह होती है। आइवी लौकी का स्वाद तो अच्छा ही होता है पर उसके अलावा भी उसके अनेक लाभ है जो नीचे दिए गये है।

हमारे यहाँ बड़ी ही आसानी से पाने जाने वाली सब्ज़ी है, कुंदरु। यह समान्यतः सभी घरों की रसोई में इसका प्रयोग आम है। पर रोज़मर्रा के खाने में इस्तेमाल किए जाने वाले कुंदरु के ढेर सारे फायदे हैं जिससे बहुत से लोग अपरिचित हैं। कुंदरु कई तरह के विटामिनों और मिनरल्स का खज़ाना है और इसके अलावा कुंदरु में प्रोटीन तथा फाइबर तत्व भी उच्च मात्रा में मौजूद होते हैं। कुंदरु में उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट तत्व का प्रयोग सदियों से कई तरह की आयुर्वेदिक औषधियों में एंटीबैक्टीरियल (anti-bacterial) और एंटीट्राईग्लिसराइड (anti-triglyceride) एजेन्ट के रूप में किया जाता है। साफ तौर पर कहें तो कुंदरु के सेहत से जुड़े लाभ कई सारे हैं जिसे हम इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं, यहाँ हम आपको कुंदरु के सेहत से संबन्धित 10 फ़ायदों के बारे में बताएँगे जो इस प्रकार हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली की रक्षा करता है कुंदरु (Protects the nervous system)

कुन्दरू (Ivy gourd) के सेवन से होने वाले फ़ायदों में सबसे पहले हम बात करते है, कुंदरु हमारे प्रतिरक्षा तंत्र या नर्वस सिस्टम की सुरक्षा का कार्य करता है। कुंदरु में पाये जाने वाले विटामिन B (Vitamin B) के प्रभाव से हमारा मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम सामान्य और बेहतर तरीके से सुचारु रहता है। इसके साथ ही यह दिमाग से संबन्धित समस्याओं जैसे एपिलेप्सी (Epilepsy) और चिंता (Anxiety) आदि को सामान्य करने में भी मदद करता है। इन सब के अलावा कुंदरु को अल्ज़ाइमर (Alzheimer) को रोकने वाली सब्ज़ी के तौर पर भी जाना जाता है।

अच्छा खाना जो आपके मस्तिष्क शक्ति को बढ़ाये

शरीर में मेटाबोलिस्म को बढ़ता है कुंदरु (Promots metabolism in the body)

यह आम सब्ज़ी कुन्दरू या टिंडोरा थायमिन (thiamin) का बेहतर स्रोत है जो कार्बोहाइड्रेट को ग्लुकोज़ (Glucose) में बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इस ग्लुकोज़ को शरीर के लिए आवश्यक एनर्जी में परिवर्तित करने के लिए भी विशेष रूप से मदद करता है। थायमिन शरीर में मौजूद वसा (Fat) और प्रोटीन (Protein) में मेटाबोलिस्म को बढ़ाने में भी मददगार होता है। इसमें उपस्थित विटामिन B का मुख्य कार्य मेटाबोलिस्म (Metabolism) की संख्या को बढ़ाकर शरीर में ऊर्जा का संचार करने होता है।

कैंसर से बचा सकता है कुंदरु/टिंडोरा का सेवन (Might prevents Cancer)

विटामिन C और बीटा कैरोटीन (Beta keratine) की उच्च मात्रा के साथ एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर इस कुंदरु में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ने की क्षमता होती है। यह ट्यूमर सेल (tumor cells) को दबा कर उसे बढ़ने से रोकता है और क़ैसर सेल्स (cancer cells) की मृत कोशिकाओं (dead cells) को भी कम करने में सहायक होता है। इसका मतलब यह नहीं है कि, नियमित रूप से कुंदरु का सेवन करने पर आपको कैंसर नहीं हो सकता, पर इतना ज़रूर है कि इसके नियमित सेवन से आपको कैंसर से होने वाले जानलेवा कष्ट और अवस्था का सामना नहीं करना पड़ता। यह कैंसर से होने के खतरे को कम करता है।

आइवी लौकी के गुण – रेचक गुण से भरपूर (Laxative properties)

आइवी लौकी/तिंडोरे एक बहुत ही गुणकारी सब्जी है। यह सब्जी के रेचक गुण की वजह से आपके शरीर की अंतड़ियों में संचार बना रहता है। आइवी लौकी में विटामिन ए और बीटा कैरोटीन भी होता है। इसके यह गुण से सूजाक का ईलाज भी हो सकता है।

आइवी लौकी के गुण – रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में (Controls blood sugar levels)

स्वास्थ्य आँखो के लिए 6 अदभुद आहार

कुंदरु में मौजूद कुछ प्रभावकरी तत्व सीधे रूप से लिवर (Liver) की कोशिकाओं को प्रभावित करते हैं यह लिवर सेल्स को सहयोग देकर डीटॉक्सिफिकेशन (Detoxification) की प्रक्रिया को बेहतर करते हैं। शरीर में जाकर इन्स्युलीन (Insulin) के निर्माण को तेज़ कर शुगर लेवन को नियंत्रित करने में भी मदद करते हैं। अगर आपका ब्लड शुगर लेवल ज़्यादा होने की शिकायत है और इसे खाने से आपका शुगर संतुलित होता है तो आप इसे नियमित खा सकते हैं लेकिन हमेशा अपने शुगर लेवल की जाँच कर डॉक्टर की सलाह से इसका नियमित सेवन करें क्योंकि शुगर लेवल संतुलित होने के बाद कम हो जाने पर यह स्थिति सेहत के लिए काफी खतरनाक हो सकती है।

आइवी लौकी एक प्राकृतिक तरीके से रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता रखती है। आइवी लौकी के सेवन से शरीर में ग्लूकोज उत्पादन में सुधार होता है और यह सब्ज़ी शर्करा की चयापचय दर को नियंत्रित भी करती है। इसलिए यह सब्ज़ी मधुमेह के रोगियों के लिए लाभदायक है।

किडनी स्टोन या पथरी से बचाता है कुंदरु (Prevents Kidney Stone)

कैल्शियम की उच्च मात्रा में मौजूदगी इस सब्ज़ी को बहुमूल्य बना देती है। रिसर्च के मुताबिक कुंदरु में पाया जाने वाला यह सेहतमंद कैल्शियम किडनी में पथरी (stone) के बनने की प्रकीय को रोकता है। कुंदरु के अलावा आप इसके रस का सेवन भी नियमित रूप से कर सकते हैं, यह किडनी में मौजूद पथरी को गलाकर शरीर से बाहर उत्सर्जित कर देता है।

हृदय के स्वास्थ्य को बढ़ता है (Promotes heart health)

हृदय के स्वस्थ्य के लिए कुंदरु बहुत ही लाभदायक होता है। इसमें अत्यधिक मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है जो हमारे प्रतिदिन के लिए ज़रूरी होता है। यह हृदय तंत्र को सुचारु रूप से चलने में मदद करता है साथ ही दिल से जुड़ी बीमारियों जैसे हार्ट अटैक (Heart attack) और हृदय में रक्त बाधा (Ischemic) आदि से बचाता है। यह दिल की धड़कनों को संतुलित और नियंत्रित कर शरीर में रक्त का संचार करता है ताकि हम बाहर से ऊर्जावान बने रहें।

कुंदरु देता है हड्डियों को मजबूती (Strengthen bones)

जैसा कि, पहले ही बताया जा चुका है कि कुंदरु में उच्च मात्रा में कैल्शियम भी होता है जो हड्डियों का मजबूती देने के लिए बहुत असरदायक होता है। महिलाओं में 40 कि उम्र के बाद हड्डियों से संबन्धित बीमारियों का सामना करना पड़ता है, हड्डियाँ कमजोर होने कि वजह से कई तरह कि तकलीफें शुरू हो जाती हैं। कैल्शियम से भरपूर होने कि वजह से कुंदरु हड्डियों से कैल्शियम खोने कि प्रक्रिया (Bone density loss) को रोकता है। कैल्शियम के साथ उचित मात्रा में आयरन कि उपस्थिती भी कुंदरु में होती है जिस वजह से गर्भधारण के दौरान इसका नियमित और उचित मात्रा में सेवन करना फायदेमंद हो सकता है।

इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है टिंडोरा (Promotes better immunity)

कुंदरु में विटामिन C (Vitamin C) क साथ विटामिन B1,B2,B3 भी उछुट मात्रामें होते हैं विटामिन बी और विटामिन सी हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम (Immune system) को ठीक रखने और हामे सेहतमंद जीवन जीने के लिए उपयोगी होते हैं। अगर हमारा इम्यून सिस्टम सही हो तो यह हमें कई तरह की बीमारियों या रोगों से दूर रखने में भी मदद करता है और हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

चॉकलेट के स्वास्थ्य और सौंदर्य लाभ

पाचन क्रिया को सही रखता है कुंदरु (Promotes digestive heath)

कुनद्रु में विटामिन ब कॉम्प्लेक्स (VitaminB Complex) और फाइबर की उपस्थिति के बारे में हम पहले ही बात कर चुके हैं ये दोनों ही हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत उपयोगी होते हैं। विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और फाइबर भोजन को पचाने में सहयोग देते हैं, जहां विटामिन पाचन में सहायक एंज़ाइमों के प्रवाह को बढ़ाते हैं वहीं फाइबर तत्व आंतों (Bowel) की क्रिया को बेहतर करते हैं। कब्ज़ की शिकायत में कुंदरु या टिंडोरे का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

अवसाद के उपचार में फायदेमंद हो सकता है टिंडोरा (Might help in treating depression)

इस हरी सब्ज़ी में राइबोफ्लेविन (Riboflavin) और नियसिन (Niacin) तत्व पाये जाते हैं। इन विटामिनों का संबंध हमारे मस्तिष्क से निकलने वाले विभिन्न तरह के होर्मोंस से होता है जो सीधे हमारे मूड पर असर डालते हैं। ऐसा माना जाता है की राइबोफ्लेविन युक्त चीजों के सेवन से सीधे हमारे दिमाग पर असर पड़ता है और चिंता या अवसाद जैसे परेशानियों से मुक्ति मिलती है

इन सब के अलावा टिंडोरा शरीर में आयरन की कमी से होने वाले रोग जैसे एनीमिया (anemia) आदि के उपचार में सहायक होता है। शरीर को पोषण देने के साथ वज़न को भी नियंत्रित करने में कुंदरु काफी मददगार हो सकता है। कुंदरु एक एंटीहिस्टामिन (anti-histamin) की भांति कार्य करता है जो त्वचा संबन्धित संसयाओं को दूर रखने में सहायक है। इस सब्ज़ी के प्रयोग से आप त्वचा में खुजली, जलन या एलर्जी जैसे समस्याओं से दूर रह सकते हैं। आयुर्वेद में भी अरुचि (Anorexia) और खांसी के उपचार के लिए दवाओं को बनाने में कुंदरु का प्रयोग किया गया है।

आइवी लौकी के फायदे – स्वस्थ विटामिन गुणों से भरपूर (Health vitamins)

विटामिन की उच्च और भारी मात्रा के कारण यह भारत के विभिन्न भागों में स्वस्थ भोजन के नाम से जानी जाती है। शरीर कार्य के लिए और रक्षा तंत्र के लिए इसका हर एक विटामिन बहुत ही उपयोगी होता है। आइवी लौकी में भारी मात्रा में विटामिन-सी होने की वजह से हड्डियों की हालत में सुधार होता है और यह शरीर की सामान्य संरचना के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इसके अलावा इसमें बीटा-कैरोटीन, विटामिन ए, विटामिन बी 1 और बी 2 जैसे महत्वपूर्ण विटामिन भी होते है जो की संस्करण के शीर्ष पर विरोध में अच्छे साबित होते है। लोग तो यह भी कहते है कि इसके सेवन से बुखार को कम करने में मदद होती है। कुछ अध्ययनों के अनुसार यह देखा गया है कि आइवी लौकी में विभिन्न बीमारीयों को नष्ट करने की क्षमता होती है।

कुंदरू के फायदे – कई बीमारियों का उत्तम और लाभदायक हल (Heals certain diseases – ivy lauki ke labh)

आइवी लौकी का अति प्राचीन काल से अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, पीलिया और कुष्ठ रोग का इलाज करने के लिए एक दवा के रूप में उपयोग किया गया है। इस सब्जी के पौधे को तेज बुखार और आंत्र समस्याओं को नियंत्रित करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा इसे रक्त रोगों को विशिष्ट प्रकार से चंगा करने के लिए आहार में जोड़ा जाता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर और अस्थमा से पीड़ित लोगों को तिंडोरे के सेवन करने का सुझाव दिया जाता है।

सबसे बेहतरीन सौन्दर्यवर्धक भोजन

अपनी आँखें, गुर्दे, जिगर और दिल की देखभाल के लिए आइवी लौकी को अपने आहार में शामिल करें। इसके नियमित सेवन से धीरे-धीरे आपके गुर्दे पर नकारात्मक प्रभाव समाप्त हो जाता है| इसका विशेष रूप से खाँसी, यकृत समस्याओं और मधुमेह के इलाज की दवाओं की तैयारी के लिए उपयोग किया जाता है।

कुंदरू की सब्जी हमारे खून को साफ करने का आदर्श कार्य करती है। आइवी लौकी में विरोधी बैक्टीरियल गुण के साथ साथ विरोधी अल्सर गुण भी होते हैं। आइवी लौकी की पत्तिओ और जड़ो में औषधीय गुण होते हैं जिससे कि कई तरह की दवाईया बनाई जाती है। हर्बल रूप से बनाए गये पदार्थो में भी आइवी लौकी/तिंडोरा लाभदारी होती है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday