Foot care tips during rainy season – बारिश में पैरों की देखभाल कैसे करें, फूटकेयर टिप्स हिन्दी में

बारिश के बाद मौसम में होने वाली ठंडक का एहसास वाकई बहुत सुहावना होता है। जैसे हर मौसम के अपने अलग अलग नुकसान और फायदे होते हैं उसी तरह बरसात के भी कई नकारात्मक प्रभाव हमारी सेहत को झेलने पड़ते हैं। जब लोग घर से बाहर निकलते हैं तो अक्सर पैरों में पानी और मिट्टी के अंश लग जाते हैं जो कई बार पैरों की त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं। यहाँ इस आलेख में हम कुछ ज़रूरी बातें बताएँगे जो आपको इस बारसात के मौसम में त्वचा रोगों या बारिश की वजह से होने वाली समस्याओं से बचाकर रखने में मदद करेगा। इन घरेलू उपायों के साथ आप अपनी त्वचा, चेहरे और पैरों का ख्याल रख सकते हैं।

बारिश में पैरों का ख्याल कैसे रखें (Cleanliness tips during monsoons, Foot care in Hindi)

इस भीगे मौसम में यह सबसे ज़्यादा ज़रूरी है की आप अपने पैरों की त्वचा को हमेशा सूखा रखने की कोशिश करें। बाहर से आने के बाद अपने पैरों को गरम या गुनगुने पानी में धोकर साफ करें और सूखा लें। पैरों को धोने के लिए किसी एंटीसेप्टिक लिक्विड जैसे डेटॉल या सेवलोन आदि का प्रयोग करें, यह आपको अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने में मदद देगा। इसके अलावा गुनगुने पानी में टीडी सी मात्रा में शैम्पू, नमक और 2 बूंद तेल मिला लें। इस घोल में 5 मिनट तक अपने पैरों को भिगो कर रखें। इसके बाद पैर की त्वचा को रगड़ कर साफ करें जिससे गंदगी और डेड स्किन बाहर निकल जाए। अब साफ पानी में पैरों को धोकर सूखा लें।

मानसून में पैरों की देखभाल कैसे करें (Foot care at home Precautious for your feet and monsoon foot care tips in Hindi)

जब बारिश का मौसम आता है तो अक्सर पैरों की त्वचा ऑफिस या घर से नियमित बाहर जाने के दौरान किए जाने वाले सफर में खराब हो जाती है। नमी का बुरा प्रभाव पैरों की त्वचा पर अधिकांश दिखाई देता है इसीलिए इस मौसम में पैरों का खास खयाल रखना बेहद ज़रूरी है। इस मौसम के लिए आरामदायक और बारिश के अनुकूल फुटवेयर का इस्तेमाल करना चाहिए।  कुछ लोगों को स्नीकर्स और उसके साथ मोजे भी पहनने की आदत होती है। पर यदि इस मौसम में अचानक बारिश हो जाए तो आपके स्नीकर्स और मोजे दोनों ही भीग कर गीले हो जाएंगे और इसका दुष्प्रभाव आपकी पैरों की त्वचा को सहना पड़ता है। इसके लिए बेहतर होगा कि बारिश में खुले हुये जूते या चप्पलों का इस्तेमाल करें ताकि पैर आसानी से सूख सकें। अगर आप मोजे पहनते हैं तो यह संभावना भी रहती है कि गीले मोजों की वजह से ठंड न लग जाए जो सर्दी खांसी आदि का कारण भी बन सकता है। इसके अलावा आप किसी ऐसे जूते का इस्तेमाल कर सकते हैं जो पूरी तरह से बंद हों इसमें पानी जाने की संभावना न रहे।

अगर आपके पैरों में किसी तरह का घाव है तो यह मौसम उस घाव के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है। बैक्टीरिया और वायरस आदि भी इस मौसम में ज़्यादा सक्रिय हो जाते हैं। पैरों के नाखूनों पर खास ध्यान दें और उन्हें नियमित काटते रहें। नाखून के कोनों में मिट्टी या मैल आदि को जमने नहीं देना चाहिए।

बारिश में पैरों की सफाई के लिए खास टिप्स (Hindi Tips for healthy feet during monsoons, foot care home remedies)

बारिश के मौसम में बैक्टीरिया और वायरस बहुत जल्दी हमला कर देते हैं। इन सब बातों से बहुत सावधान रहकर शरीर और सेहत की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए। इस बचाव से मानसून में भी फिट और हेल्दी बने रहना आसान हो जाएगा। बारिश में स्वस्थ रहने के लिए उपाय दिये जा रहे हैं जिनको अपना कर आप बारिश का मजा ले सकते हैं।

  • बाहर से आने के बाद जल्द से जल्द अपने पैरों को धोकर साफ करें और सूखा लें। गर पैरों में ज़्यादा कीचड़ मिट्टी आदि लगी हो तो गुनगुने पानी के साथ साबुन का इस्तेमाल करें।
  • जितना हो सके गीले कपड़ों और जूतों आदि का प्रयोग न करें और उसन्हें जल्दी ही बादल लें, बारिश में गीले की वजह से जल्दी ही बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं और इससे फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा भी बढ़ जाता है। सामने से खुले मुंह वाले जूते पहने जिससे हवा आसानी से आर पार हो सके।
  • पैर धोने के बाद कोई अच्छा सा मोश्चराइजर पैरों की त्वचा में लगा लें। डेड स्किन को निकाल कर बाहर करें।
  • अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो पेडीक्योर करवाने के लिए सैलून में न जाएँ क्योंकि वहाँ के उपकरणों को कई लोग पर व्यवहार किया जाता है तो इन्फेक्शन आदि का खतरा आपके लिए बढ़ सकता है।
  • गीली या सीलन वाली जगहों पर खुले पैर न घूमें।

मानसून में पैरों की देखभाल के घरेलू उपाय हिन्दी में (Foot care tips during monsoon)

फुट केयर टिप्स हिन्दी में (Foot care tips in Hindi : Use Body powder)

गर्मी में जब आपको पसीना आता है तो आप ज़रूर बॉडी पाउडर का प्रयोग करते ही होंगे। पर आपको पता होना चाहिए कि मानसून के दौरान भी ये बॉडी पाउडर आपके लिए जादुई तरीके से काम कर सकते हैं। अपने पैरों को पानी से धोने के बाद तौलिये से सुखना कई बार काफी नहीं होता। अगर आप इसमें पाउडर लगा लेते हैं तो अतिरिक्त सुरक्षा के साथ पैरों की नमी भी चली जाती है। अगर आपके पैरों से दुर्गंध आती है तो भी आप पैरों को धोने के बाद पाउडर का इस्तेमाल कर सकते हैं। पसीने कि दुर्गंध हटाने के साथ यह गीले होने की वजह से आने वाली गंध को भी दूर करने में मदद करता है और आपको फ्रेश होने का अहसास दिलाता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

बारिश में पैरों को बिमारियों से कैसे बचाएं (Foot treatment at home : mask for foot)

आपके घर पर ही ऐसी कई चीज़ें हैं जो मानसून में आपको सेहतमंद रहने में मदद करती है। इसके लिए आप घर पर बनें फूट मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं। जब मानसून के दौरान ज्यादा देर पानी में रहने की वजह से त्वचा का आकार खराब और स्किन भद्दी दिखाई देती है तब इसे कुछ प्राकृतिक उपायों द्वारा फिर से सुंदर बनाया जा सकता है। फुट मास्क बनाने के लिए संतरे के छिलते का पाउडर दूध और शहद में मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे पैरों की त्वचा पर मास्क की तरह लगा लें। 20 मिनट तक रखने के बाद इसे धो लें और आप देखेंगे कि आपके पैरों की त्वचा फिर से खूबसूरत और निखरी हुई दिखाई दे रही है।

loading...