Periods na hone ya aniyamit periods hone ke karan – मासिक धर्म ना आने के कारण – अनियमित माहवारी के कारण

मासिक चक्र का आमतौर पर एक सटीक समय निर्धारित होता है। औसत रूप से, पीरियड्स 28 दिनों के अंतराल में होते हैं। ये 2-3 दिन आगे-पीछे हो सकते हैं और यह कोई बड़ी बात नहीं है। परंतु यदि पीरियड्स इससे ज़्यादा देरी से या जल्दी होते हैं तो इसका अर्थ है कि आप अनियमित पीरियड्स की शिकार हैं। गर्भावस्था के समय के दौरान 30% महिलाओं का मासिक चक्र अनियमित हो जाता है। यह आमतौर पर कोई समस्या नहीं कहलाती, पर यह इस बात का संकेत है कि आपके शरीर में स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं।

How exactly is your periods irregular? – आपके पीरियड्स अनियमित कैसे कहे जाते हैं?

  • मासिक चक्र तब अनियमित कहा जाता है जब यह 21 दिन के अंतराल से पहले हो।
  • यह असंतुलित है जब यह 8 से अधिक दिनों तक चले।
  • चाहे पीरियड्स छूटा हो, देरी से हुआ हो या जल्दी, इन सभी स्थितियों को अनियमित माना जाता है।

अपने मासिक चक्र की गणना करके इसके अनियमित होने का पता लगाने के लिए अपने पिछले पीरियड के आखिरी दिन से शुरू करके आपके अगले पीरियड के शुरू होने की तिथि तक गणना करें। पीरियड्स के अनियमित होने के प्रति निश्चित होने हेतु कम से कम तीन महीने तक गणना करें। यहाँ बात सिर्फ इसकी नहीं है कि पीरियड्स कितने दिन पहले या बाद में हुआ है, पर तीन महीने के बीच की समयावधि काफी महत्वपूर्ण है। इससे भी यह पता चलता है कि आपका मासिक चक्र अनियमित है।

Reason for missed and irregular periods – छूटे या अनियमित पीरियड्स का कारण

छूटे पीरियड का संबंध आमतौर पर ‘अनओवुलेशन (an-ovulation)’ नामक स्थिति से होता है। इसका अर्थ है कि अण्डोत्सर्ग मासिक चक्र के दौरान नहीं हुआ और इसका प्रमुख कारण गंभीर हार्मोनल असंतुलन (hormonal imbalance) है। कई बार, यह गंभीर की जगह छोटा असंतुलन भी हो सकता है। उदाहरणस्वरुप, हो सकता है कि आपका अण्डोत्सर्ग हर महीने हो रहा हो पर इसकी अवधि हर महीने काफी मात्रा में बदलती है। चिकित्सकीय स्थितियों और जीवनशैली की भी ऐसी समस्याओं को जन्म देने में काफी बड़ी भूमिका होती है। नीचे ऐसे कुछ प्रमुख कारण बताये गए हैं जो अनियमित मासिक चक्र को जन्म देते हैं।

Excess exercising/dieting – अतिरिक्त व्यायाम/डाइटिंग

यदि आप नियमित रूप से व्यायाम नहीं करती और अचानक काफी जोर-शोर से व्यायाम करना शुरू कर देती हैं तो इसका सीधा प्रभाव आपके मासिक चक्र पर पड़ता है। जो एथलीट (Athlete) अपना व्यायाम जारी रखते हैं, उनके पीरियड्स आमतौर पर छूट जाते हैं। दूसरी तरफ, यदि अतिरिक्त डाइटिंग, व्यायाम या खानपान की समस्याओं के कारण आपका वज़न सामान्य से कम है तो यह पीरियड्स ना आने के कारण है। इसके फलस्वरूप आप कमज़ोरी एवं बीमारियों का भी शिकार बन सकती हैं।

Stress – तनाव

हो सकता है कि आपको जानकर आश्चर्य हो, पर तनाव भी एक पीरियड्स ना आने के कारण हो सकता है। यदि आप गंभीर रूप से तनाव की शिकार हैं तो आपके काफी जल्दी बेचैन हो जाने एवं हार्मोनल असंतुलन से गुज़रने की संभावना बढ़ जाती है। इसके फलस्वरूप आपके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं।

Birth control pills – गर्भनिरोधक गोलियां

गर्भनिरोधक गोलियां लेने से भी अनियमित पीरियड्स होने की संभावना बढ़ जाती है। यह दो महीने से अधिक समय तक चलता है, पर कुछ समय के लिए आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। आपका कुछ समय के लिए खून भी निकल सकता है, हालांकि ऐसा सामान्य पीरियड जैसा नहीं होता। आपका पीरियड काफी लंबे समय के लिए छूट सकता है, पर अंततः यह संतुलित हो जाता है।

Polycystic ovary syndrome (PCOS) – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)

यह एक चिकित्सकीय समस्या है जो किसी भी महिला के साथ पेश आ सकती है। यह उन महिलाओं में काफी देखी जाती है जिनकी जीवनशैली अनियमित होती है एवं जिनका वज़न काफी अधिक होता है। उनके गर्भाशय में छोटे सिस्ट पैदा होते हैं जो उनका सामान्य अण्डोत्सर्ग प्रभावित करते हैं। इस समस्या से प्रभावित महिलाएं पहले भी अनियमित मासिक चक्र की समस्या से प्रभावित हो चुकी होती हैं। इससे बांझपन एवं दिल तथा मधुमेह की बीमारियां होने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं।

Age – उम्र

जब आपको शुरूआती कुछ महीनों में पीरियड्स होते हैं तो आमतौर पर ये सामान्य या नियमित नहीं होते। शरीर को संतुलित होने एवं नए परिवर्तनों के अनुरूप खुद को ढालने में समय लगता है। कुछ महिलाओं को संतुलन स्थापित करने में वर्षों लगते हैं। दूसरी तरफ, जो महिलाएं रजोनिवृत्ति (menopause) के करीब होती हैं, वे छूटे, हल्के या भारी पीरियड्स की समस्या का अनुभव कर सकती हैं।

Other illnesses – अन्य बीमारियां

  • यदि आप थाइरोइड असंतुलन (thyroid disorder) की शिकार हैं तो आपको अनियमित पीरियड्स हो सकते हैं। हमारे थाइरोइड हॉर्मोन काफी ऊँचे या काफी नीचे जा सकते हैं
  • यौन संक्रामक रोग भी आपका पीरियड्स अनियमित कर सकते हैं
  • पीरियड्स ना आने के कारण है खानपान का असंतुलन
  • मधुमेह
  • फाइबरॉइड्स (Fibroids)
  • एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)

इस लेख को पढ़ने के बाद आपको इस बात का अंदाज़ा अवश्य हुआ होगा कि कई बार आपके पीरियड्स अनियमित क्यों होते हैं। यदि आपको ऐसा लगता है कि आप पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम से ग्रस्त हैं, तो कृपया किसी डॉक्टर से सलाह करके चिकित्सकीय प्रक्रिया का पालन करें। यदि आपको मधुमेह है या आप रजोनिवृत्ति के करीब हैं तो आप इस समस्या के संबंध में ज़्यादा कुछ नहीं कर सकती। तनाव कम करने एवं एक सीमा तक व्यायाम करने का प्रयास करें। इन सबसे आपको एक स्वस्थ मासिक चक्र प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।

How to get periods faster? – पीरियड्स जल्दी करवाने के उपाय

गर्भनिरोधक गोलियां

गर्भनिरोधक गोलियां लेने से ना सिर्फ गर्भ रूकता है बल्कि आपका पीरियड्स जल्दी होते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ये आपके शरीर के वर्तमान हॉर्मोन्स को नियंत्रित करते हैं। 35 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं को ये गोलियां लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए जिससे कि किसी प्रकार की समस्या ना हो।

विटामिन सी (Vitamin C)

यह प्रोजेस्टेरोन (progesterone) की कमी करने में सहायता करके पीरियड्स जल्दी करवाने के लिए जाना जाता है। वैकल्पिक तौर पर यह आपको कई बार प्रोजेस्टेरोन प्रदान ही नहीं करता जिससे कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं सामने आ सकती हैं।

जड़ीबूटियां

अदरक और अजवायन आपके पीरियड्स तेज़ी से करवाने में काफी उपयोगी साबित होती हैं। ये आपके गर्भाशय को फैलने में मदद करती है जिससे प्रवाह के लिए रास्ता बनता है। अपनी चाय में अदरक और अजवायन मिश्रित करें। इसका सेवन एक बार सुबह और एक बार रात में करें।

व्यायाम

यदि आप नियमित रूप से व्यायाम नहीं करती तो आपको कई प्रकार की शारीरिक समस्याएं घेर सकती हैं। इसमें वज़न का बढ़ना या पीरियड का देरी से होना शामिल है। हमारे लिए खुद को चुस्त-दुरुस्त रखना काफी आवश्यक है। जब आप चुस्त रहती हैं तो आपको यह पता होता है कि आपका मासिक चक्र सटीक रूप से चल रहा है। ऐसे कुछ व्यायाम हैं जिनका मूल उद्देश्य पीरियड्स की तिथि को पास लाना है। ऐसे कुछ व्यायामों के बारे में पता लगाएं और अच्छे एवं त्वरित परिणामों के लिए इनका पालन करें।

तनाव कम करें

अपने दिमाग से चिंता दूर करें क्योंकि इससे आपके शरीर में काफी परिवर्तन आ सकता है। आप इससे पीछा नहीं छुड़ा सकतीं, पर आप इससे कुछ समाय के लिए दूर रहने हेतु आप कुछ उपायों का प्रयोग कर सकते हैं। अपने दिमाग को शांत रखने के लिए योग और ध्यान करने का प्रयास करें।

वज़न घटाना

काफी कम समय में वज़न के काफी मात्रा में बढ़ने से आपके पीरियड्स में देर हो सकती है। आपके लिए अपना स्वास्थ्य बरकारार रखना आवश्यक है और इसके लिए अपने शरीर पर ध्यान देना काफी महत्वपूर्ण है।