Sadi pahnne ka tarika – साड़ी पहनने के तरीके

साड़ी भारतीय महिलाओं के लिए सदियों से एक पारम्परिक परिधान रही है। saree bandhane ka tarika एक आकार में पाई जाती है और सबके ऊपर अच्छी लगती है। यह एक 5 मीटर लम्बा कपड़ा होता है जिसके पहले से तय किनारे और आकृति होती है। इसे सभी प्रकार के उत्सवों में पहना जा सकता है, जिसमें शादियां भी शामिल हैं।

साड़ी पहनने का पारम्परिक तरीका हर प्रदेश में अलग अलग होता है। साड़ी बांधना स्टाइल लहंगा, बटरफ्लाई (butterfly) तथा जलपरी की तरह का स्टाइल (style) प्रचलित तरीकों में से हैं। थोड़ा सा क्रियाशील होने भर से ही साड़ी साड़ी पहनने का तरीका का प्रयोग किया जा सकता है। saree kaise bandhe नीचे ऐसे ही कुछ तरीके बताये गए हैं।

साड़ी पहनने का लहंगा स्टाइल

यह साड़ी डिजाइन एक आधुनिक साड़ी बांधना स्टाइलस जो साड़ी और लहंगे के रूप में दो खूबसूरत भारतीय परिधानों का मिश्रण करती है। साड़ी को लहंगे की तरह पहना जाता है और इसके लिए चुन्नटों (pleats) की मदद ली जाती है। साड़ी को ड्रेप आमतौर पर उलटे पल्लू का प्रयोग किया जाता है। आजकल पहले से सिली हुई लहंगा साड़ी भी उपलब्ध होती है। किसी भी ख़ास उत्सव पर पहनने के लिए ये बिलकुल सही विकल्प है।

लहंगा स्टाइल में साड़ी पहनने के तरीके (Steps to drape a saree in lehenga style or saree bandhne ke tarike)

महिलाओं के शरीर तथा रंग के आधार पर साड़ियों का चुनाव

  • साडी की डिजाइन को पीठ के बीच से ओढ़ना शुरू करें। साड़ी का बिना पल्लू वाला छोर कमर में फंसा लें और इसे अपनी दाईं ओर आगे ले आएं। दाहिने कूल्हे (hip) पर आकर रूक जाएं।
  • एक चुन्नट बनाएं और इसे कमर में डाल लें। इस तरह चुन्नटें बनाकर उन्हें कमर में डालते रहें जब तक कि आप बाएं कूल्हे तक ना पहुँच जाएं। इन चुन्नटों की मदद से आपकी साड़ी लहंगा स्कर्ट (lehenga skirt) की तरह दिखेंगी।
  • बाएं कूल्हे से साड़ी का ऊपरी किनारा कमर में फंसाना शुरू करके इस तरह पीठ के बीचोंबीच तक जाएं, जहाँ से आपने साड़ी ओढ़नी शुरू की थी।
  • पल्लू उठाएं और इनसे चुन्नटें बनाएं। इसे अपने दाएं कंधे से सामने की तरफ लेकर आएं।
  • साडी की डिजाइन, अंदरूनी चुन्नट का आखिरी किनारा पकड़ें तथा अपनी कमर को ढकने के लिए इसे अपने बाएं कूल्हे के ऊपर पिन (pin) से फंसा लें।
  • आप एक लम्बी चोली भी पहन सकती हैं। पल्लू को दो बार ओढ़ें तथा इसे बाएं कंधे के ऊपर से लटकता छोड़ दें।

Lehenga-saree-draping-style-e1422949787876

निवी साड़ी ओढ़ने के तरीके (Nivi saree draping style or saree kaise bandhe)

शरीर के आकार के अनुसार साड़ी चुनने के नुस्खे

निवी साड़ी पहनने स्टाइल काफी आसान है और यह साड़ी पहनने का काफी प्रचलित तरीका है। यह साड़ी डिजाइन एक आधुनिक परिधान है जिसे आप आसानी से रोज़ाना के इस्तेमाल में या किसी उत्सव में भी पहन सकती हैं। निवी स्टाइल ने आंध्र प्रदेश में जन्म लिया था और आज saree bandhane ka tarika सारे भारत में एक प्रचलित स्टाइल है।

निवी – साड़ी बांधना स्टाइल (Nivi style)

  • इसे साड़ी बांधना स्टाइल की शुरुआत करते समय साड़ी का एक भाग कमर के पास अंतर्वस्त्र (underskirt) के अंदर डाल लें।
  • इसके बाद शरीर के निचले हिस्से में दाईं से बाईं तरफ साड़ी को लपेट लें।
  • साड़ी को 5 इंच की 6 से 7 बराबर चुन्नटों में बाँट लें और इन्हें पेट के थोड़ा नीचे स्कर्ट में घुसा लें। इससे साड़ी काफी आकर्षक लगती है और इसकी तुलना फूल की पंखुड़ियों से की जा सकती है।
  • साड़ी को दाहिने कूल्हे के ऊपर से एक बार और ओढ़ें।
  • अब इसके ढीले छोर को ब्लाउज (blouse) के ऊपर से शरीर के ऊपरी भाग पर लें और कंधे के ऊपर ओढ़ लें।
  • साडी की डिजाइन, इस ढीले छोर, जिसे पल्लू भी कहा जाता है, को कंधे के ऊपर चुन्नटों के साथ या इनके बिना झूलने के लिए छोड़ दें। पल्लू आमतौर पर साड़ी का सबसे सजावटी भाग होता है।
  • अगर आप चाहें तो पल्लू को चारों ओर लपेटकर इसे कमर में फंसा सकती हैं। इसे अपने दाएं कंधे के ऊपर लें या इससे सिर को ढक लें।

Nivi-saree-draping-style

पैचवर्क के साथ बैक ब्लाउज (गले के पीछे) के डिज़ाइन्स

बटरफ्लाई साड़ी पहनने के तरीके (Butterfly saree draping style)

saree bandhane ka tarika बटरफ्लाई स्टाइल निवी स्टाइल के जैसा होता है, लेकिन इनमें सिर्फ पल्लू का अंतर होता है। इस साड़ी स्टाइल में पल्लू को काफी पतला कर दिया जाता है जिससे कि आपके शरीर का मध्य भाग (midriff) दिखता है। इसे आदर्श रूप से भारी कलाकारी वाले स्टेटमेंट ब्लाउज (statement blouse) के साथ पहना जाता है। पल्लू अच्छी तरह से सजा हुआ होना चाहिए।

Butterfly-saree-draping-style