Signs of caffeine addiction – कैफीन की लत लगने के लक्षण

क्या आप सुबह कॉफ़ी ना पी पाने की वजह से सिर दर्द का अनुभव कर रहे हैं या कैफीन की मात्रा ना लेने की वजह से बेचैनी महसूस कर रहे हैं ! अगर ऐसा है तो आप कैफीन की लत के शिकार हैं। कॉफ़ी पर वैसे तो कोई भी पाबंदी नहीं है,पर यह सारी दुनिया में प्रयोग किये जाने वाले सबसे आम ड्रग्स में से एक है। कैफीन आपको कॉफ़ी के अलावा सोडा, चाय, स्वास्थ्यवर्धक पेय, चॉकलेट, विटामिन्स कफ्फेिनेटेड नट्स और कुछ अन्य ड्रग्स में भी मिल सकता है। पिछले साल कैफीन ड्राबैक सिंड्रोम को स्टैटिस्टिकल इनफार्मेशन ऑफ़ साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर्स में शामिल किया गया है। कैफीन आपका मूड और बर्ताव दोनों बदल सकती है। इसके अलावा कैफीन न लेने से सोने में, काम करने में और मुख्य रूप से कुछ भी करने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है।

आमतौर पर लोग कैफीन को कोई लत लगाने वाला ड्रग नहीं मानते क्योंकि इसके ना मिलने पर मनुष्य में ऐसे कोई चिन्ह मौजूद नहीं होते जो दूसरे ड्रग्स की अनुपस्थिति में देखे जाते हैं।

कुछ लोग इसकी हलकी कमी महसूस करते हैं और रात को इसे ग्रहण न करने पर महसूस की जाने वाली कमी सुबह 1 कप कॉफ़ी मिलने पर दूर हो जाती है। कुछ लोग कॉफ़ी के बिना तरोताज़ा नहीं हो सकते। असल में ऐसे लोगों को कॉफ़ी की आदत पड़ चुकी होती है।

शोध के अनुसार केवल 100 मिलीग्राम कैफीन, कैफीन चाय रोज़ाना लेने पर ही बाद में इसे छोड़ने में दिक्कतें पेश आती हैं। सिर्फ कॉफ़ी में मौजूद कैफीन भर से ही नहीं बल्कि किसी भी प्रकार के कैफीन को त्यागने में लोगों को परेशानी होती है।

कैसे तुरंत ऊर्जा प्राप्त करे

कैफीन छोड़ने के बाद के लक्षण या साइड इफेक्ट्स लोगों में 24 से 48 घंटे में दिखना प्रारम्भ हो जाते हैं। इनमें मुख्य है सिरदर्द, नींद आना, चिड़चिड़ा रहना, बेचैनी, उलटी, मांसपेशियों में दर्द तथा ध्यान लगाने में मुश्किल होना आदि। अगर आपको कैफीन की कुछ ज़्यादा ही लत लगी हुई है तो इसके लक्षण आपमें 3 घंटे बाद से ही दिखना शुरू हो जाएंगे जो कि पूरे एक हफ्ते तक चलेंगे।

कॉफ़ी की लत से भी ज़्यादा खतरनाक होती है उसे छोड़ने में होने वाली मुश्किल। यह उस व्यक्ति में देखी जा सकती है जो इस लत को छोड़ने की कोशिश कर रहा है। यह एक मान्यता प्राप्त चिकित्सकीय सिंड्रोम हैं जिसके लक्षण हैं बेचैनी, नींद ना आना, पेट में दर्द, धड़कनें तेज़ होना आदि। इससे आदमी की मृत्यु भी हो सकती है।

सौभाग्य से यह आदत छोड़ी जा सकती है। डॉक्टरों के अनुसार कैफीन की मात्रा लेना धीरे धीरे कम करें और शुरुआत में कॉफ़ी का एक छोटा कप या सोडा का एक कैन कम पियें। इससे आपके शरीर को कैफीन के कम हुए स्तर से तालमेल बिठाने में मदद मिलेगी। आप डीकैफ कॉफ़ी या ग्रीन टी भी पी सकते हैं। कैफीन छोड़ने के बाद के कुछ लक्षण :- 

  • सिरदर्द – कैफीन के खतरे, यह आमतौर पर आँखों के पीछे से शुरू होकर सिर के सामने की तरफ होता है। य़ह कैफीन की अंतिम खुराक लेने के 12 घंटे बाद आरम्भ होता है और धीरे धीरे सारे सिर में फ़ैल जाता है। इस दर्द की मात्रा हर इंसान में अलग अलग होती है।
  • नींद आना – इसमें आपको थकान होती है और सोने का मन करता है। इसके अंतर्गत आपको इतनी थकान होती है कि आप अपनी आँखें खुली नहीं रख पाते हैं।
  • आलस – कैफीन के खतरे, आप कुछ भी करने के लिए खुद को प्रोत्साहित नहीं कर पाते हैं तथा किसी भी महत्वपूर्ण कार्य को करने में आत्मविश्वास का अनुभव नहीं करते।

7 महत्वपूर्ण खनिजों का उपयोग

  • कैफीन के साइड इफेक्ट, चिड़चिड़ापन – आपको छोटी छोटी बातों का गुस्सा आ जाता है। एस स्थिति में आपको खुद को सारे महत्वपूर्ण कार्यों से खुद को दूर कर लेना चाहिए।
  • कब्ज़ – कैफीन के साइड इफेक्ट, आपका मलाशय ठीक से काम नहीं करता क्योंकि उसे कैफीन की आदत पड़ जाती है।
  • मांसपेशियों एवं जोड़ों में दर्द – इस स्थिति में ऐसा लगता है कि मांसपेशियों के ऊपर काफी भार है। ऐसा तब होता है जब आपकी मांसपेशियों को तेज़ काम करने के लिए कैफीन नहीं मिलता।
  • ध्यान न लगना – कैफीन के साइड इफेक्ट, आपको पता चलेगा कि कोई भी ध्यान लगाकर करने वाला काम आपके बस का नहीं है,अतः ऐसे कामों से दूर रहे।
loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday