Best home remedies for delayed menstruation tips in Hindi – पीरियड टिप्स – अनियमित मासिक धर्म

पीरियड क्या है, एक औरत जिसे प्रत्येक 4 सप्ताह पर मासिक आता हो नियमित मासिक कहलाता है और यदि ऐसा नहीं है तो उसे अनियमित मासिक / माहवारी कहते हैं। अनियमित माहवारी के कारण, इस अनियमित मासिक या मासिक समय में देरी बहुत सारी महिलाओं में गम्भीर विषय बन जाता है। यह हमारी ज़िंदगी में कई असामान्य चीज़ों का कारण बन जाता है। माहवारी न होने के कारण, आजकल इसका इलाज़ करने के लिये बहित सारी चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध है। उनमे से कई घर पर स्वयं प्रभावी रूप से की जा सकती है। इन घरेलू उपचारों को करके हम अपना नियमित मासिक / माहवारी पा सकते हैं। अगर आप इन निम्न तरीकों को अपनाते हैं तो आप अनियमित मासिक (periods aane ke liye kya kare) से आसानी से छुटकारा पा सकते है।

Masik dharm me dard ke upay

  1. पीरियड की समस्या, एक कच्चा पपीता, यह आसानी से अनियमित मासिक का इलाज कर सकता है।
  2. 10 मिनट तक बरगद के पेड़ की जड़ को एक कप पानी में उबालें। दो चम्मच गाय के दूध को इसमें मिलायें और बिस्तर पर जाने से पहले पियें।
  3. नियमित मासिक को पाने के लिये, प्रतिदिन सौंफ बीज को खायें।
  4. पीरियड की समस्या, अपने दैनिक आहार में अंगूर के रस को शामिल करने की कोशिश करें।
  5. अंगूर का उपभोग आपके अनियमित मासिक / माहवारी का इलाज़ आसानी से कर सकते हैं। अपने मासिक धर्म को नियमित करने के लिये अंगूर खायें। लेकिन इसके दुष्प्रभाव भी हैं। अंगूर का अधिक उपभोग डायरिया का कारण बन सकता है।
  6. मासिक धर्म में देरी, करेले की जड़ को एक कप पानी में 10 मिनट तक उबालें। इस काढ़े को दिन में एक या दो बार पियें।
  7. मासिक धर्म में देरी के लिये अजमोद एक अन्य दवा है। प्रतिदिन अजमोद के रस को पियें, यह आपकी अनियमित माहवारी को आसानी से ठीक करेगा।
  8. माहवारी की जानकारी, मूली को लें और घिस कर, इसमें थोड़ा पानी मिलाकर चिकना लेप बना लें और इसमें दूध का मक्खन मिलायें। इसके बाद एक दिन के लिये रख दें और नियमित उपयोग करें।
  9. अंजीर भी प्रभावी है। अंजीर की जड़ को लें और 10 मिनट तक इसे उबालें। इसके बाद छानकर प्रतिदिन इसे पियें।
  10. प्रतिदिन एक गिलास पपीते के रस को पीने की कोशिश करें। यह आसानी से आपके मासिक धर्म को नियमित करेगा।
  11. पीरियड्स की समस्या, गाजर के रस का उपभोग भी काफी प्रभावी होगा।
  12. मासिक धर्म के घरेलू उपाय, घृतकुमारी के रस का प्रयोग करें और यह आपके मासिक धर्म को आसानी से नियमित करेगा।
  13. अपने मासिक धर्म चक्र से एक या दो सप्ताह पहले गन्ने के रस को लेने की कोशिश करें। इस रस को पीना आपकी माहवारी को नियमित करने में सहायता करेगा।
  14. धनिया पत्ती को उबालें और एक दिन में तीन बार इसको पियें। मासिक धर्म का न आना, यह आसानी से आपके मासिक को सामान्य करेगा।
  15. पीरियड्स की समस्या, आधा चम्मच दालचिनी को एक कप दूध में मिलायें और प्रतिदिन इसे सोने से पहलें दें।
  16. एक चम्मच पुदीना पत्ती को एक चम्मच शहद के साथ मिलायें। एक दिन में इसे तीन बार लें।
  17. अदरक को एक कप पानी में उबालें। मासिक धर्म का न आना, इसे दिन में तीन बार चीनी के साथ लें।

ये आपके मासिक को नियमित करने के लिये कुछ बहुत प्रभावी घरेलू उपचार हैं। अगर आपको ऊपर बताये गये किसी उपचार का दुष्प्रभाव मिलता है तो तुरंत उसे छोड़ दें। इसके बाद किसी अन्य उपचार को करने की कोशिश करें। अनियमित मासिक हमारे स्वास्थ्य के लिये अच्छा नहीं है। इसे डॉक्टर के पास जाने वाली गंभीर बिमारी बनने से पहलें घरेलू उपचारों को अपनायें।

गर्भधारण के लिए महीने का सबसे सही दिन कौन सा?

मासिक धर्म चक्र हर महिला के लिए काफी ज़रूरी होता है, क्योंकि यह आपके प्रजनन की प्रणाली एवं स्वास्थ्य को दुरुस्त बनाये रखता है। हर 4 हफ्ते में मासिक धर्म की प्रक्रिया होना काफी सामान्य होता है और ऐसा होना एक महिला के स्वास्थ्य के लिए भी काफी अच्छा होता है। पर अगर किसी कारण से इस प्रक्रिया में बढ़ा पड़ी तो उसे अनियमित मासिक धर्म का सामना करना पड़ता है, जो उसके लिए काफी हानिकारक होता है। यह एक काफी गंभीर समस्या बन गयी है और तरुणाई में कदम रखने वाली हर महिला के लिए चिंता का विषय है। इस स्थिति के फलस्वरूप मासिक धर्म की समस्या के अतिरिक्त भी कई अन्य समस्याएं जन्म ले सकती हैं। अगर आप दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहती हैं, तो नीचे दिए गए घरेलू नुस्खों का प्रयोग करें।

अदरक माहवारी की समस्या के लिए (Ginger)

अदरक मासिक धर्म को नियंत्रित करने का एक प्रभावी माध्यम है। अदरक मासिक धर्म के स्त्राव में इज़ाफ़ा करता है तथा आपको असहनीय दर्द से छुटकारा दिलाता है।

  • 1 कप पानी में ताज़ा कटे अदरक के 2 टुकड़े 8 से 10 मिनट तक उबालें।
  • इसे उबालने के बाद इसके स्वाद में इज़ाफ़ा करने के लिए इसमें शहद या चीनी का मिश्रण करें।
  • अब इस मिश्रण को छान लें तथा इसका सेवन 1महीने तक दिन में 3 बार करें।

तिल के बीज और गुड़ (Sesame seeds and jaggery)

अनियमित मासिक धर्म को ठीक करने के लिए तिल के बीज और गुड़ का मिश्रण कमाल का काम करता है।

  • थोड़े से तिल के बीज लें और इन्हें भुन लें।
  • अब इन भुने हुए बीजों को 1 चम्मच गुड़ के साथ पीस लें।
  • इस चूरे का सेवन रोज़ाना दिन में 1 बार करें।
  • अपने मासिक धर्म की तिथि के 2 हफ्ते पहले से खाली पेट में इसका सेवन शुरू कर दें।
  • अच्छे परिणामों के लिए कुछ महीनों तक इसका सेवन करें।
  • मासिक धर्म के दौरान इस विधि का पालन ना करें।

अनियमित पीरियड के लिए हल्दी (Turmeric hai desi nuskhe for irregular periods)

हल्दी आपके मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करती है और इसमें मौजूद गर्माहट प्रदान करने के गुणों की बदौलत हॉर्मोन की असामान्यता को भी ठीक करती है। इसके आराम प्रदान करने वाले और जलन दूर करने वाले गुण मरोड़ों को ठीक करते हैं।

काले निपल्स को उजला बनाने के उपाय

  • एक गिलास हल्के गर्म दूध में एक चौथाई चम्मच हल्दी मिश्रित करें और इसे अच्छे से हिलाएं।
  • इस मिश्रण का सेवन कुछ महीनों तक रोज़ाना करें।

धनिये के बीज (Coriander seeds)

  • एक पात्र में 2 कप पानी लें।
  • इसमें धनिये के बीज को मिश्रित करें और इसे उबालें।
  • जब पानी का स्तर आधा हो जाए तो इसे छान लें।
  • इस मिश्रण का सेवन मासिक धर्म शुरू होने से कुछ दिनों पहले से करना शुरू कर दें तथा इसका सेवन दिन में 3 बार करें।
  • इस प्रक्रिया का पालन 1 या 2 महीनों तक करें।

अनियमित माहवारी के उपाय के लिए गाजर का रस (Carrot juice)

गाजर हॉर्मोन की अतिरिक्त कार्यशीलता को नियंत्रित करने का काम करता है, क्योंकि यह आयरन (iron) का काफी अच्छा स्त्रोत होता है। 3 महीनों तक रोज़ाना गाजर के रस का सेवन करें।

तुलसी की पत्ती (Basil leaf)

  • तुलसी की कुछ ताज़ा पत्तियों को पीसकर इनका रस निकाल लें।
  • अब 1 चम्मच तुलसी के रस और 1 चम्मच शहद को आपस में मिश्रित करें।
  • इसमें काली मिर्च पाउडर मिलाएं और 1 महीने तक दिन में 2 बार इसका सेवन करें।

सौंफ (Fennel hai desi nuskhe for menses)

सौंफ अनियमित मासिक चक्र एवं मरोड़ों को ठीक करने का एक प्रभावी उपाय साबित होता है।

  • एक गिलास पानी में 2 चम्मच सौंफ के बीज को रातभर भिगोकर रखें।
  • सुबह इस मिश्रण को छानकर पी लें।
  • इस प्रक्रिया का पालन 1 या 2 महीनों तक करें।

अनियमित मासिक धर्म के कारण के लिए अंगूर (Grapes)

अंगूर भी मासिक धर्म की समस्या का अच्छा उपचार साबित होते हैं। अपने खानपान में अंगूर को शामिल करके आप अनियमित मासिक धर्म की समस्या से निजात प्राप्त कर सकती हैं। हालांकि अंगूर का अतिरिक्त सेवन करने से दस्त की समस्या हो सकती है।

कुछ साइड इफेक्ट के साथ शीर्ष गर्भनिरोधक गोलियां क्या हैं?

अनियमित पीरियड्स में केसर (Saffron)

  • आधे कप पानी में 1 चम्मच केसर डालकर उबाल लें।
  • इसे तब तक उबालते रहें, जब तक कि पानी का स्तर 1 चम्मच तक ना आ जाए।
  • इस मिश्रण को 3 बराबर भागों में विभाजित करके दिन में 3 बार पियें।
  • इस प्रक्रिया का पालन 2 दिनों तक करें।

छाछ और मूली के बीज (Buttermilk and radish seeds)

  • एक कप छाछ में 2 चम्मच मूली के पिसे हुए बीज डालें।
  • इस मिश्रण को 2 मिनट के लिए हिलाएं और इसके बाद इसे पी लें।
  • मासिक धर्म की अनियमितता की समस्या को दूर करने के लिए इस प्रक्रिया का पालन कम से कम 3 महीनों तक करें।

मासिक धर्म का रुकना दालचीनी दूर करें (Cinnamon)

दालचीनी का गर्माहट प्रदान करने वाला प्रभाव मासिक धर्म से पहले की स्थिति और मरोड़ों को दूर करने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें मौजूद हाइड्रोक्सीचालकोन (hydroxychalcone) शरीर के इन्सुलिन (insulin) के स्तर को नियंत्रित करता है।

  • आधे चम्मच दालचीनी पाउडर को एक गिलास हल्के गर्म दूध में डालें।
  • इसका सेवन 2 हफ़्तों तक रोज़ाना करें।
  • वैकल्पिक तौर पर आप कुछ हफ़्तों तक दालचीनी की चाय पी सकती हैं, या फिर इसके टुकड़ों को चबा सकती हैं।

कच्चा पपीता (Unripe papaya)

कच्चा पपीता अनियमित मासिक धर्म चक्र का काफी अच्छा उपचार साबित होता है। कच्चा पपीता गर्भाशय में मौजूद मांसपेशियों के फाइबर (fibers) को सिकोड़ने में मदद करता है, जिसके फलस्वरूप मासिक धर्म की प्रक्रिया शुरू होती है।

  • आप इस समस्या का उपचार करने के लिए 1 महीने तक पपीते के रस का सेवन कर सकती हैं।
  • आप एक महीने तक पपीते को काटकर भी इसका सेवन कर सकती हैं।
  • मासिक धर्म के दौरान पपीते का सेवन ना करें।

मासिक धर्म अनियमित होना करेला दूर करें (Bitter gourd)

अनियमित मासिक धर्म की समस्या को दूर करने के लिए आप करेले का सेवन भी कर सकती हैं। ऐसा पाया गया है कि अगर कुछ समय तक करेले का सेवन किया जाए तो यह इस समस्या का समाधान कर सकता है। करेले का रस भी काफी प्रभावी होता है, क्योंकि यह आपकी मधुमेह और मासिक धर्म की समस्या से रक्षा करता है। 2 से 3 हफ़्तों तक दिन में 2 बार करेले के रस का सेवन करें।

मिसकैरेज के लिए क्या कारण हैं? गर्भपात से कैसे बचा जाए?

अजवाइन (Parsley)

अजवाइन भी आपकी मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं का समाधान करने में काफी कारगर सिद्ध होता है। यह मासिक धर्म से जुड़ी बाज़ार में मिलने वाली दवाइयों का काफी अच्छा विकल्प सिद्ध होता है।

  • सबसे पहले अजवाइन लेकर और इसे ब्लेंडर (blender) में डालकर पीस लें।
  • अब इसमें 1 कप पानी मिश्रित करें।
  • इसे अच्छे से हिलाकर अजवाइन का रस बनाएं।
  • इसका सेवन कुछ हफ़्तों तक रोज़ाना करें।

अंजीर (Figs se dur ho masik dharm ka aniyamit)

  • 5 से 6 अंजीर लें और इन्हें 1 कप पानी में कुछ मिनट तक उबालें।
  • अब इसे छान लें और रोज़ाना इसका सेवन करें।
  • आपको कुछ ही हफ़्तों में अपने मासिक धर्म चक्र में सुधार दिखना शुरू हो जाएगा।

सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

सेब का सिरका मासिक धर्म की समस्याओं से काफी प्रभावी रूप से निपटता है। यह इन्सुलिन एवं रक्त में चीनी के स्तर को भी नियंत्रित करने में सहायक होता है।

  • रोज़ाना इस मिश्रण के 1 से 2 चम्मच का सेवन पानी में मिलाकर करें।
  • अपनी मासिक धर्म की समस्या को दूर करने के लिए भोजन करने से पहले इसका सेवन करें।

जीरा और तिल के बीज (Cumin and sesame seeds)

  • जीरे और तिल के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्रित करके अच्छे से पीस लें।
  • इसका चूरा बनाकर इसमें थोड़ा सा शहद मिश्रित कर लें।
  • रोज़ाना इस मिश्रण के 1 चम्मच का सेवन करें।

गर्भनिरोधक गोलियों से पीरियड्स को कैसे टालें

विटामिन सी (Vitamin C se mahwari ki samasya kare sahi)

गर्भाशय के बनने में जिस दीवार का हाथ होता है, उसे बनाने में एस्ट्रोजेंस (estrogens) काफी सहायता करते हैं एवं इसके पैदा होने में विटामिन सी का काफी बड़ा हाथ होता है।

  • अगर आपका मासिक धर्म छूट गया है या फिर पिछले 25 से 30 दिनों में आपके मासिक धर्म की प्रक्रिया नहीं हुई है तो जितना हो सके विटामिन सी का सेवन करें।
  • आप विटामिन सी से भरपूर फल जैसे सेब, बेर, संतरे और टमाटर जैसी सब्ज़ियों का सेवन कर सकती हैं।

बरगद के पेड़ की जड़ें (Banyan tree roots)

  • बरगद के पेड़ की कुछ ताज़ा जड़ें जमा करें।
  • एक कप पानी में इसे 8 से 10 मिनट तक उबालें।
  • इसमें 3 चम्मच गाय का दूध भी मिश्रित करें।
  • इस मिश्रण का सेवन हर रात सोने जाने से पहले करें।

भारतीय नीम (Indian lilac se irregular menses ka ilaj)

  • 3 कप नीम की छाल को 2 कप पानी में 15 से 20 मिनट तक भिगोकर रखें।
  • इसे छान लें और इस मिश्रण का एक कप दिन में 3 बार पियें।
  • इस विधि का प्रयोग 1 या 2 हफ़्तों तक करें।

हमने मासिक धर्म की समस्या से ग्रस्त होने की स्थिति में घरेलू नुस्खे बताये एवं उनके इस्तेमाल के तरीके का भी उल्लेख किया। ये सारे नुस्खे बिल्कुल घरेलू हैं। अगर इनमें से किसी भी नुस्खे का प्रयोग करने पर आपको तकलीफ होती है, तो तुरंत इसका प्रयोग बंद कर दें। ऐसी विधि अपनाएं जो आप पर कारगर साबित हो। मासिक धर्म की अनियमितता काफी खतरनाक होती है। अगर ऊपर दिए गए नुस्खे काम नहीं करते तो अपने डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करें।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday