Eyebrow bleaching tips in Hindi – आइब्रो ब्लीचिंग

केमिकल द्वारा बालों को रंगने की विधि ब्लीचिंग कहलाती है जिसमे बाल गहरे और खूबसूरत नज़र आने लगते हैं। कई लोगों के बाल तो कई रंगों के होते हैं लेकिन इनकी भौहें काली ही रहती हैं जो कि थोड़ा भद्दा लगने लगता है। लेकिन कास्मेटिक उद्योग ने इसका हल निकाला है जिसमे केमिकल द्वारा भौंहों के रंग को बदल दिया जाता है।

आप ब्यूटी पार्लरों में जाकर अपनी भौंहों को अपने हिसाब से रंग करवा सकती हैं लेकिन यह एक खर्चे का सौदा होगा। अब यही ब्लीचिंग सामग्री दुकानों पर उपलब्ध है जहाँ से खरीदकर आप घर पे ही अपनी भौंहों को रंग सकती हैं और पारलर में होने वाले खर्चे से छुटकारा पा सकती हैं।

ब्लीच से दिखें जवां (Young looks with bleach)

आधुनिक दौर में 35 से 40 वर्ष की महिलाएं उन तरीको को अपना रही हैं जो उन्हें जवां दिखने में मदद करें। बरोनिया  की ब्लीचिंग भी उन्ही तरीकों में से एक है जो आपकी उम्र को 2 से 3 साल तक कम दिखाने में मदद करती है। आज के दौर में न सिर्फ महिलायें बल्कि पुरुष भी जवान दिखने के लिए ब्लीचिंग को अपना रहे हैं। कॉस्मेटिक्स के अलावा घरेलू सामग्री भी ब्लीचिंग के लिए अपनाई जा सकती है, जैसे कि नीबू ब्लीचिंग के लिए एक प्राकृतिक विकल्प होता है।

भौंहों की ब्लीचिंग की विधि (Procedure of bleaching eyebrows)

अगर आप घर पर ही अपनी भौंहों को ब्लीच करना चाहती हैं तो निम्न चरणों को अपनाएं। सबसे पहले ज़रूरी उपकरण और सामग्री एकत्र करें।

सामग्री (Ingredients required)

मोटी आइब्रो कैसे पाएँ?

स्पूली, अच्छे ब्रांड का फेसिअल ब्लीच, वेसलीन और लाइट शैम्पू यह हेयर टोनर।

भौहें ब्लीचिंग के स्टेप्स (Steps for eyebrow bleaching – eyebrow bleach kaise kare)

स्टेप 1 (Step 1)

पानी और शैम्पू से सबसे पहले अपनी बरोनिया को साफ़ करें। भौंहों को साफ़ करें जिससे कि उस भाग में डैन्ड्रफ (dandruff) या किसी तरह की अन्य गन्दगी ना रह जाए।

स्टेप 2 (Step 2)

अपनी भौंहों को धो लेने के बाद उन्हें सुखाना भी काफी ज़रूरी होता है। धोने के बाद इन्हें हलके कपड़े से पोंछ कर पंखे के नीचे सुखा लें।

स्टेप 3 (Step 3)

अब बरोनिया पर वैसलीन लगायें यह स्किन पर होने वाले किसी भी तरह के केमिकल रिएक्शन को रोकता है। वेसलिन (Vaseline) का प्रयोग करना काफी ज़रूरी है क्योंकि ब्लीच (bleach) में रसायन होते हैं और यह कई लोगों की त्वचा के संपर्क में आने मात्र से उन्हें चिडचिडेपन तथा एलर्जी (allergy) का अनुभव करवाता है। वेसलिन आपकी त्वचा और ब्लीच के बीच दीवार का काम करता है और आपकी भौंहों के आसपास की त्वचा को सुरक्षित रखता है।

स्टेप 4 (Step 4)

अब पैकेट में बताये गये निर्देशों को अपनाकर ब्लीच को बर्तन में मिक्स करें और ब्रश और स्पूली की सहायता से बालों में अच्छी तरह से लगायें। अगर आपका लक्ष्य अपनी भौंहों के हर एक बाल को ब्लीच करना है तो स्पूली (spoolie) को ब्रश की मदद से आगे पीछे करें जिससे कि बाल रंगने की प्रक्रिया में कोई भी कोण छूट ना जाए।

स्टेप 5 (Step 5)

अब इस क्रीम ब्लीच (cream bleach) को अच्छी मात्रा में लें और भौंहों पर मोटी परत चढ़ाएं, जिससे कि एक भी भौंहें ना दिखें।

स्टेप 6 (Step 6)

भौंह आरचिंग क्या है?

अब अगर आप हल्का रंग चाहते हैं तो 5 मिनिट और अगर गहरा चाहते हैं तो 10 मिनिट इंतज़ार करें।

स्टेप 7 (Step 7)

इच्छित समय के बाद ब्लीच को किसी कपड़े या स्पूली के माध्यम से निकालें और माइल्ड शैम्पू से धो लें, आप पायेंगे शानदार रंग।

भौहें ब्लीचिंग के फायदे और नुकसान (Pros and cons of eyebrow bleaching – bleach ke fayde aur nukshan)

आईब्रो ब्लीचिंग के फ़ायदे (Pros of eyebrow bleaching)

  • यह आपको आकर्षक बनाता है।
  • सस्ता होता है।
  • लगाना बहुत आसान है।
  • चेहरे की सुन्दरता को निखारता है।
  • आप जवां नज़र आने लगती हैं।

आईब्रो ब्लीचिंग के नुकसान (Cons of bleaching)

  • इसमें हानिकारक केमिकल होते हैं ।
  • कुछ लोगों में इससे इलर्जी भी देखी जाती है ।
  • इसके बाद बालों में चिकनाहट नहीं रहती ।
  • यह सभी स्किन टोन्स और हेयर टोन्स के लिए उपयोगी नहीं है ।
  • ब्लीचिंग के कुछ दिन बाद जब बाद बढ़ते हैं तो अन्दर के बालों का प्राकृतिक रंग नज़र आने लगता है जिससे आप भद्दे दिखने लगते हैं।
  • यह बालों के लिए एक अस्थाई तरीका है।

ब्लीचिंग के समय क्रीम का प्रयोग करने के फलस्वरूप आपको एक तरह की गुदगुदी का अहसास हो सकता है। यह हर स्थिति में काफी सामान्य बात है। परन्तु अगर किसी भी स्थिति में क्रीम लगाने के बाद आपको तीव्र पीड़ा और चिडचिडेपन का अहसास हो तो इसे तुरंत निकाल दें, क्योंकि यह आपकी त्वचा के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकता है। यह रसायन आपकी त्वचा के लिए काफी कठोर होता है। अगर ऐसी स्थिति में भी आपने क्रीम को नहीं निकाला तो आपकी त्वचा में फोड़े फुंसी और लालपन आ सकता है। पर यह काफी कम होता है। 70 प्रतिशत से भी ज़्यादा महिलाओं को bleach करवाने के दौरान कोई चिडचिडेपन का अनुभव नहीं होता। आपके लिए अच्छा यही होगा कि किसी बड़े ब्रांड (brand) की ब्लीच का ही प्रयोग करें। आपको इसके लिए थोड़े ज़्यादा पैसे अवश्य खर्च करने पड़ेंगे, पर इससे आपकी त्वचा की सुरक्षा काफी प्रभावी तरीके से होगी।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday