How to stop NOSE PICKING habit in children? – बच्चों में नाक में उंगली डालने की आदत कैसे रोकें?

माता पिता अपने बढ़ते हुए बच्चों में कई तरह कि आदतों को देख सकते हैं. बच्चों की ऐसी ही कुछ आदतें अच्छी लगती हैं जबकि कुछ आदतों को हम बिल्कुल पसंद नहीं करते. नाक में उंगली डालने की आदत बच्चों में साधारणतया देखी जाती है और यह एक बुरी आदत के रूप में किसी के लिए मान्य नहीं होती. अगर बच्चे में यह आदत आप हाल ही में देख रहे हैं तो इसे जल्दी ही नियंत्रित करने की कोशिश करनी चाहिए.

बाचों में तनाव की स्थिति में देखा गया है कि ऐसी कुछ आदतें अपने आप विकसित होनें लगती है. बच्चों का नाक में ऊँगली डालना मानसिक चाप की एक लक्षण है. इसके अलावा थकान की वजह से भी कुछ बच्चे ऐसा करते हैं. यह बहुत कुछ अंगूठा चूसने जैसा ही है, जब बच्चा तनाव या चिंता में होता है या किसी तरह का डर उसके मन में होने से इस तरह की आदतें अपने आप विकसित होने लगती हैं.

कई बार नाक बंद होने की वजह से या नाक में किसी तरह का अवरोध होने के कारण बच्चे नाक में उंगली डालते हैं. इसके अलावा आसपास के वातावरण का असर बच्चे पर होता है जिसकी वजह से ये आदतें जन्म लेती हैं.

नाक में उंगली डालने की आदत को रोकने के उपाय (Tips to stop nose picking habits in kids)

बात करें (Speak to him)

बच्चे बहुत छोटी अवस्था में ये आदतें अपनाते हैं उन्हें इसके नुकसान के बारे में पता नहीं होता, आप उनसें बात कर समझाने की कोशिश करें कि यह गलत आदत है. दोस्त की तरह उसे इसके नुकसान के बारे में बताएं.

बार बार दोहराएं (Repeated reminder)

आपने एक बार कह दिया कि ये मत करो ये एक गलत आदत है. बस यहीं आपकी ड्यूटी ख्जतं नहीं हो जाती बल्कि आपको इस बात कि निगरानी रखनी पड़ती है कि बच्चा आपकी बात मान रहा है या नहीं, ज़रूरत पड़ने पर अपनी बात को दोबारा से उससे कहें. उसे बार बार यह अहसास दिलाएं कि आपकी नज़र उस पर है और उसको इस तरह की आदतों को फिर से नहीं करना चाहिए.

काम में व्यस्त रखें (Get something else instead of nose)

ऐसा कई बार देखा गया है कि बच्चे खाली समय में जब उनके हाथ में कुछ नहीं होता, तब नाक में उंगली डालना शुरू कर देते हैं और यह एक आदत बन जाती है. उसके हाथों को व्यस्त रखने की कोशिश करें. खाली समय में उसे कोई काम या कोई चीज दे दें.

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

नाख़ून काटें (Cut the finger nails)

अभिभावक होने के नाते आपका यह कर्तव्य है कि आप बच्चे के प्रति पूरी तरह जिम्मेदार रहे. आपको उसकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना होगा. इसके लिए उसके नाख़ूनों पर गौर करें और उन्हें काट कर छोटा कर दें. हो सकता है कि बच्चे को यह अच्छा ना लगे लेकिन कुछ समय बाद वह सामान्य हो जायेगा.

परिस्थिति को पहचानें (Identify the situation)

बच्चा किन परिस्थितियों में इस आदत को अपना रहा है इस बात पर ध्यान दें. हो सकता है कोई खास परिस्थिति में ही बच्चे में यह आदत दिखे. उस समय या परिस्थिति की पहचान करें.

नाक साफ़ रखें (Clearing nostrils)

नाक का साफ़ न हों अभी एक अहम् कारण हो सकता है जिसकी वजह से बच्चे नाक में ऊँगली डालते हैं. अगर काफ आदि की वजह से नाक में किसी तरह का अवरोध हो तो उसे साफ़ करें और अगर गंभीर स्थिति हो तो डॉक्टर से संपर्क करें.

पानी पिलाएं (Drinking water)

पानी शरीर के तरल को संतुलित करने में मदद करता है, ऐसे बच्चे जिनको बलगम या नाक बंद होने की समस्या होती है उन्हें दिन में 2 से 5 गिलास तक पानी अवश्य पिलाना चहिये. इससे नाक बंद होने की समस्या भी ठीक होती है.

एलर्जी की जांच करें (Check the allergy)

अपने घर और आसपास के वातावरण की जांच करें. पता करें कि किसी चीज की वजह से बच्चे को एलर्जी तो नहीं हो रही जिसके कारण वह नाक में ऊँगली डालकर राहत महसूस कर रहा है.

रुमाल का उपयोग कराएँ (Asking to use handkerchief)

अगर बच्चे को कुछ कारणवश नाक में ऊँगली डालने की आदत बनी हुई है या एलर्जी आदि के कारण यह समस्या है तो उसे रुमाल का इस्तेमाल करने को कहें. इससे धुल आदि से भी बचाव होगा और अगर नाक से गाढ़ा तरल निकल जाए तो रुमाल की वजह से संक्रमण का ख़तरा भी कम होगे.

loading...