Summer health tips after delivery – गर्मियों में डिलिवरी के बाद इस तरह रखें अपनी सेहत का ख्याल

डिलिवरी हर माँ के लिए एक ऐसी स्थिति है, जब उनकी हालत काफी नाजुक होती है। इस दौरान बच्चे के साथ साथ माँ की तबीयत भी काफी नाजुक होती है। इसलिए इस दौरान माँ को भी बेहतरीन देखभाल और दवा की जरूरत होती है। गर्भवती महिलाओं को इस दौरान काफी ख्याल रखना चाहिए।

प्रसव के बाद गर्भवती महिला किसी भी तरह के पौष्टिक भोजन का सेवन कर सकती है। आप बाजार जाकर कई सारे फल खरीद कर उनका सेवन कर सकते हैं। रोजाना फलों का सेवन करना इस दौरान काफी अच्छा होता है। इस दौरान ऐसे ही दूध के उत्पादों का सेवन करें, जिसमें कम वसा हो, नहीं तो ऐसे में आपका वजन भी बढ़ सकता है।

इन चीजों से बचें (What to avoid?)

बच्चे के जन्म के बाद माँ को लंबे समय तक स्तनपान करवाना होता है, तो उन सभी माँओं को यह सुझाव दिया जाता है कि इस दौरान जंक फूड खाना एकदम बंद कर दें। आपको अपने बच्चे के बेहतरीन स्वास्थ्य के लिए जंक फुड (junk food) को पूरी तरह खाना बंद कर देना चाहिए। अगर आप इस दौरान जंक फुड का सेवन करती भी हैं तो ऐसे में आपके साथ साथ आपके बच्चे की तबीयत भी खराब हो सकती है।

प्रसव के बाद क्या सेवन किया जाना चाहिए (What should be consumed after delivery?)

गर्भावस्था के दौरान आने वाले विभिन्न सपने

  • लीन प्रोटीन
  • लो फैट मिल्क
  • अनाज
  • फल
  • सब्जियाँ

इंफेक्शन को रोकने के लिए (Preventing infections)

एक गर्भवती महिला और बच्चे को जन्म देने के बाद एक महिला को इंफेक्शन (infection) का खतरा अधिक होता है। इसलिए इस बात का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए कि वह किसी भी तरह से संक्रमित ना हो। आप स्वस्थ रहने के लिए विटामिन सी का सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन कर आप हर तरह के इंफेक्शन से छुटकारा पा सकते हैं। इसके अलावा आप ब्रोकली (broccoli), आलू, खट्टे फल, टमाटर आदि को अपने खाने में शामिल जरूर करें।

प्रसव के बाद देखभाल – आयरन की मात्रा को शामिल करें (Iron intake)

एक महिला को प्रसव की प्रक्रिया के दौरान काफी रक्त खो देती हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप प्रसव के बाद खत्म हुए आयरन (iron) की मात्रा को पूरी करने लग जाएँ। इसके लिए आप अपने भोजन में आयरन को जोड़े। भोजन में आयरन होने से खून का हीमोग्लोबिन (hemoglobin) का निर्माण बनने लग जाएगा। इसके अलावा इम्यून सिस्टम (immune system) के संवर्धन के लिए भी आयरन काफी जरूरी होता है। आप ऐसे में अपने खाने में मछली, मांस और फलियों का सेवन बढ़ा सकते हैं।

प्रसव के बाद भोजन – पर्याप्त तरल पदार्थ का सेवन (Adequate fluid intake)

गर्भावस्था के दौरान कब्ज से छुटकारा पाने के लिए प्राकृतिक उपचार

महिलाएँ अक्सर प्रसव के बाद तरल पदार्थ की समस्या का सामना करती हैं। लेकिन प्रसव के कुछ दिनों के बाद महिला को तरल पदार्थ की अच्छी मात्रा का सेवन करना चाहिए। ऐसे में महिला को कम से कम 8 से 10 गिलास तो पानी का ही सेवन करना चाहिए, ताकि उनका शरीर हाइड्रेट (hydrate) रह पाएँ। अगर आपका मन पानी पीने का ना हो तो ऐसे में आप जूस जैसी किसी भी तरल पदार्थ का सेवन करना शुरू कर सकते हैं। उन औरतों को पर्याप्त पानी की जरूरत होती है, जिन्होंने बच्चे को जन्म दिया है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

एक हल्के कपड़े का चयन करें (Choosing a light cloth)

प्रसव के बाद महिलाओं को सामान्य लोगों की तुलना में अधिक गर्मी महसूस होती है। इसलिए इस दौरान उन्हें हल्के कपड़े पहनने चाहिए। इस दौरान सूती कपड़े पहनने से भी काफी आराम मिलता है। भारी और तंग कपड़े पहनने से बेहतर है कि आप हल्के कपड़े पहने।

आपको अपने शरीर के तापमान को ठंड़ा रखना चाहिए, क्योंकि आपका बच्चा आपसे जुड़ा हुआ होता है। इसलिए आपके लिए खुद के शरीर के तापमान को ठंड़ा रखना काफी जरूरी होता है। इस दौरान आपको अपना और अपने बच्चे दोनों का काफी ख्याल रखना होता है क्योंकि इस दौरान आप दोनों काफी नाजुक हो जाते हैं।

गर्भावस्था एक ऐसी स्थिति होती है, जब माँ को अपने साथ उस नन्ही जान का ख्याल भी रखना होता है, जो उसके अंदर पल रही है। लेकिन प्रसव के बाद की स्थिति में भी उन्हें इतनी ही नाजुकता से अपना ख्याल रखना पड़ता है। गर्मियों के दौरान, नवजात शिशु दोनों असहज महसूस करते हैं। आइए आपको कुछ ऐसी स्वास्थ्य टिप्स के बारे में बताते हैं, जिनका ख्याल आपको बच्चे के जन्म के बाद रखना होता है।

प्रसव के बाद बेहतरीन स्वास्थ्य केयर टिप्स (Health care tips after delivery this summer)

गर्भावस्था के दौरान परहेज करने वाले भोजन और पेय पदार्थ

प्रसवोत्तर मुआयना (Post partum checkup)

प्रसव के बाद जब बच्चे का जन्म हो जाता है, उसके बाद भी माँ को कई सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर डिलिवरी (delivery) गर्मियों के मौसम में हो रही हैं, तो ऐसे में स्थिति और भी बदतर हो जाती है। आपको डिलिवरी के बाद के हेल्द टिप्स के बारे में जानकारी होनी चाहिए। अगर आपने बच्चे को नार्मल तरीके से जन्म दिया है तो ऐसे में आपको प्रसवोत्तर जाँच के लिए जाना चाहिए। इससे यह सुनिश्चित हो जाता है कि अंदर के अंग अच्छी तरह से ठीक हो रहे हैं या नहीं?

पेशाब में होने वाली समस्या ठीक होती है (Resolving urination problem)

सामान्य प्रसव में गर्भाशय ग्रीवा के साथ कई और हिस्से प्रभावित होते हैं। डिलिवरी के बाद कई माँओं को पेशाब से संबंधित समस्याएँ होने लगती हैं, कभी किसी को पेशाब में जलन महसूस होने लगती है। गर्मियों के कारण वातावरण में अत्यधिक गर्मी के कारण ऐसा हो जाता है। आपको अपने पैल्विक मांसपेशियों को 5 सेकंड के लिए पकड़ना होगा, ऐसा करने से आपका शरीर स्वस्थ्य हो पाएगा। आप स्वस्थ्य रहने के लिए ऐसा रोजाना करें।

प्रसव के बाद का भोजन – दालों का सेवन (Pulses and cereals)

गर्मियों के मौसम में दालों का सेवन करना काफी अच्छा होता है। दालों का सेवन ना केवल गर्भवती महिलाओं को बल्कि आम इंसान को भी इसका सेवन करना चाहिए। प्रेग्नेंसी (pregnancy) के बाद अगर आप दाल का सेवन कर रही हैं तो ध्यान रहे कि उसमें मसाले काफी कम होने चाहिए। यह आपको गर्मियों में स्वस्थ्य रहने में मदद करेगा। इसी के साथ आपको खाना पचाने में भी मदद मिलेगी, इसी के साथ दालों में विटामिन (vitamin), मिनरल्स (minerals) और प्रोटीन (protein) से भरपूर होता है।

हरी सब्जियाँ (Green vegetables ho delivery ke baad khana)

गर्भवती महिलाओं के शरीर में आमतौर पर प्रसव के बाद काफी रक्त की कमी होने लगती हैं। हरी सब्जियों का सेवन कर आप उस खोएँ हुए आयरन को फिर से पा सकती हैं। अगर माँ के शरीर में रक्त की कमी होगी तो नवजात शिशु आसानी से स्तनपान नहीं कर पाएगा। हरे रंग की मौसमी सब्जियाँ वास्तव में हर महिला के भोजन का हिस्सा होना चाहिए।

loading...